सोमवार, 24 मई 2021

हनुमानगढ़- श्री गंगानगर रेल खंड में विद्युतीकरण कार्य जून महीने में शुरू होने की संभावना



* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 24 मई 2021.


इलाके में रेल विद्युतीकरण का कार्य जल्द से जल्द शुरू करने के प्रयास जारी हैं। जेडआरयूसीसी सदस्य भीम शर्मा ने बताया कि इस सम्बंध में इरकाॅन के संयुक महाप्रबंधक श्री गुरनाम सिंह से फोन पर बातचीत करने पर उन्होंने बताया कि जून माह में किसी भी दिन हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर रेलखंड को विद्युतीकरण किये जाने का कार्य शुरू किया जा सकता हैं। कार्य शुरू करने की जो भी तिथि निर्धारित की जायेगी, उस दिन सांसद श्री निहालचंद पूजा अर्चना कर इस कार्य शुभारम्भ करेंगे। 

वर्ष 2023 तक इस रेलखंड पर कमिश्नर आॅफ रेलवे सेफ्टी का निरीक्षण करवाकर इस पर इलेक्क्ट्रिक इंजन से ट्रेन भी संचालित करने का लक्ष्य हैं। गौरतलब है कि इस इलाके में विधुतीकरण का कार्य इरकाॅन (इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन कम्पनी) की देखरेख में होगा। इरकाॅन के अधिकारियों की टीम जल्द ही पहुंचेगी। गौरतलब हैं कि इसके लिये आईआरएसईई (इंडियन रेलवे सर्विस आॅफ इलेक्ट्रिकल इंजीनियर) के अधिकारी श्री गुरनाम सिंह को इरकाॅन में संयुक्त महाप्रबंधक इलेक्क्ट्रिक के पद पर पदस्थापित किया गया हैं। श्री गुरनाम सिंह की टीम को हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर-सरूपसर-सूरतगढ़, सरूपसर-अनूपगढ़, मदार-पुष्कर, डेगाना-रतनगढ़ व हिसार-सूरतपुरा रेलखंड को विद्युतीकरण करने का जिम्मा सौंपा गया हैं।

उत्तर पश्चिम रेलवे के उपहाप्रबंधक (सामान्य) व मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार उत्तर पश्चिम रेलवे पर रेल विद्युतीकरण के कार्य तीव्र गति से किये जा रहे है। इस रेलवे पर विद्युतीकरण के कार्य को विगत वर्षों के बजट में प्राथमिकता प्रदान की गई है तथा सम्पूर्ण उत्तर पश्चिम रेलवे पर विद्युतीकरण का कार्य स्वीकृत हो गया है। अब तक 2190 किलोमीटर रेल लाइन पर विद्युतीकरण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2020-21 में 566 किलोमीटर रेलखण्ड के विद्युतीकरण का कार्य पूरा किया गया। उत्तर पश्चिम रेलवे के महत्वपूर्ण रेलखण्ड रेवाडी-अजमेर वाया फुलेरा तथा रेवाडी-अजमेर वाया जयपुर रेलखण्डों पर इलेक्ट्रिक ट्रेक्शन पर यात्राी रेलसेवाओं का संचालन किया जा रहा है। इसके साथ ही अजमेर से उदयपुर मार्ग का भी विद्युतीकरण कार्य पूर्ण हो गया है तथा राजस्थान के प्रमुख पर्यटक स्थल उदयपुर का जुडाव अजमेर, जयपुर तथा दिल्ली से इलेक्ट्रिक ट्रेक्शन से सम्पर्क स्थापित हो गया है।

  उत्तर पश्चिम रेलवे पर वर्ष 2021-22 में 980 किलोमीटर ब्राॅडगेज लाइनों को विद्युतीकृत किये जाने का लक्ष्य रखा गया है। इस वर्ष रींगस-सीकर-चूरू, सीकर-लोहारू, चूरू-रतनगढ-लालगढ, सूरतगढ-लालगढ, मारवाड-लूनी-जोधपुर, ब्यावर-गुडिया, मदार-पुष्कर रेलमार्ग के विद्युतीकरण का कार्य किया जाना प्रस्तावित है। इसके अतिरिक्त फुलेरा-जोधपुर व हनुमानगढ-श्रीगंगानगर रेलमार्ग के विद्युतीकरण का कार्य प्रारम्भ कर वर्ष 2023 तक पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।

 जयपुर-सवाई माधोपुर मार्ग पर, अजमेर पुलिया पर विद्युतीकरण से सम्बंधित विशेष कार्य पूर्ण हो जाने पर जयपुर से मुम्बई की ओर जाने वाली ट्रेनों का संचालन इलेक्ट्रिक ट्रेक्शन पर किया जा सकेगा साथ ही ब्यावर से गुडिया मार्ग का विद्युतीकरण होने से दिल्ली से अहमदाबाद मार्ग वाया जयपुर, अजमेर भी पूर्णतया विद्युतीकृत हो जायेगा। 

---------





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें