शुक्रवार, 28 मई 2021

हनुमानगढ़- चिकित्सा विभाग सतर्क ताकि बच्चे रहें सुरक्षित : बच्चों को घरों में रखें

 




* करणीदानसिंह राजपूत *


हनुमानगढ़ 28 मई 2021.


कोरोना संक्रमण से बच्चों को बचाने के लिए चिकित्सा विभाग की तैयारियों जारी है। जिले में बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बैड रिजर्व कर दिए हैं। इसके तैयारियों का जायजा लेने के लिए कोविड प्रभारी डॉ. रविशंकर शर्मा एवं एसीएमएचओ डॉ. पवन कुमार ने आज रावतसर, नोहर व भादरा में चिकित्सा संस्थानों का जायजा लिया। 

एसीएमएचओ डॉ. पवन कुमार ने बताया कि बच्चों में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के दुष्प्रभाव से पहले चिकित्सा विभाग ने तैयारियां शुरु कर दी हैं। इसके लिए आज उन्होंने एवं कोविड प्रभारी डॉ. रविशंकर शर्मा ने रावतसर, नोहर व भादरा में चिकित्सा संस्थानों का निरीक्षण कर वहां बच्चों के इलाज के लिए बैड रिजर्व रखवाए। उन्होंने बताया कि भादरा में बच्चों के लिए 10 बैड, नोहर में 6 बैड, रावतसर में 5 बैड, संगरिया में 9 बैड व पीलीबंगा में 4 बैड रिजर्व रखवा दिए गए हैं। जिला अस्पताल में बच्चों के लिए 10 बैड पहले ही रिजर्व रख दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने आज रावतसर, नोहर व भादरा में पीडियाट्रिक वार्ड के लिए व्यवस्थाएं सुनिश्चित की एवं गाइडलाइन के अनुसार वार्ड को तैयार करने के निर्देश दिए। इसके लिए दवाइयां व नर्सिंग स्टॉफ भी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई। उन्होंने कहा कि अभी तक जिले में कोरोना संक्रमित बच्चे नहीं है। केवल नार्मल खांसी, जुकाम व बुखार के हैं, जो नियमित उपचार से सही हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि चिकित्सा विभाग की ओर से पूरी सतर्कता बरती जा रही है। इंतजाम किए जा रहे हैं, ताकि बच्चे सुरक्षित रहे। अहतियात बरतने के लिए अभिभावकों को भी जागरुक किया जा रहा है। 

अभिभावक घबराएं नहीं... इन बातों का ध्यान रखें 

कोविड प्रभारी डॉ. रविशंकर ने बताया कि कोरोना संक्रमण से अभिभावक घबराएं नहीं। स्कूल ना जाने की वजह से बच्चे घर पर ही हैं। ऐसे में सावधानी बरतने से हम अपने बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि अभिभावक बच्चों में हाथ धोने की आदत बनाएं और स्वच्छता पर दें। अभिभावक संक्रमित हैं, तो बच्चों से दूरी बनाएं रखें। बच्चों में खांसी, जुकाम, बुखार आदि की शिकायत होती है, तो तुरंत डॉक्टर के पास पहुंचकर परामर्श प्राप्त करें। 

पौष्टिक आहार दें, बाजारी चीजों से रखें परहेज

डॉ. रविशंकर ने बताया कि बच्चों को पौष्टिक आहार दें, बाजार की चीजें नहीं खिलाएं। बच्चों को पूरी नींद लेने दें। टीवी, मोबाइल का उपयोग कम करने दें। शारीरिक व्यायाम, खेल गतिविधियां बढ़ाएं। बच्चों को अभी घर से बाहर नहीं निकलने दें। बच्चों में कोरोना के लक्षण दिखने पर घबराएं नहीं डॉक्टर से परामर्श प्राप्त करे।०0०





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें