शनिवार, 22 मई 2021

श्रीगंगानगर-कोविड-19 निगरानी कमेटी बनी- रेमडिसीविर इंजेक्शन जरूरत पर उपलब्ध होंगे.



* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 22 मई 2021.

राजस्थान सरकार के शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं जयपुर की अनुपालना में जिला श्रीगंगानगर के प्रत्येक उपखण्ड  ब्लाॅक स्तर पर केन्द्रीय रूप से स्थित एक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को कोविड केयर व कन्सलटेशन सेंटर बनाया गया है।


 जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन ने बताया कि

 श्री हुसैन ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोविड-19 रोगियों के उपचार हेतु संबंधित कोविड केयर व कन्सलटेशन सेंटर द्वारा प्राप्त मांग के अनुसार रोगी के फाॅर्म-बी प्राप्त कर डीडीसी से रेमडिसीविर इंजेक्शन इश्यू कर उपखण्ड, ब्लाॅक स्तर पर स्थित कोविड केयर व कन्सलटेशन सेंटर को भिजवाए जाएंगे। 

उन्होंने बताया कि उपखण्ड व ब्लाॅक स्तर पर संबंधित उपखण्ड अधिकारी की अध्यक्षता में रेमडिसीविर इंजेक्शन की जिला स्तर से मांग एवं संबंधित कोविड केयर कन्सलटेशन सेंटर को इश्यू करने के लिए तीन सदस्यों की एक कमेटी (त्रिसदस्यीय कमेटी) गठित की गई है।

 आयोजित कमेटी में संबंधित उपखण्ड अधिकारी को अध्यक्ष, संबंधित ब्लाॅक मुख्य चिकित्सा अधिकारी (बीसीएमओ) को तथा संबंधित प्रभारी कोविड केयर, कन्सलटेशन सेंटर को सदस्य बनाया गया है।


 उन्होंने बताया कि इस कमेटी द्वारा रेमडिसीविर इंजेक्शन के उपयोग हेतु लागू प्रोटोकाॅल के हिसाब से केस बाई केस एवं रोगी की गंभीरता के आधार पर संबंधित रोगी को रेमडिसीविर इंजेक्शन लगाने का निर्णय लिया जाएगा।


 संबंधित कोविड केयर व कन्सलटेशन सेंटर की रेमडिसीविर इंजेक्शन की मांग निर्धारित प्रपत्र में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को उपलब्ध करवाई जाएगी। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला स्तर से उक्त रेमडिसीविर इंजेक्शन डीडीसी से इश्यू करवाकर आयोजित त्रिस्तरीय समिति के माध्यम से कोविड केयर व कन्सलटेशन सेंटर को उपलब्ध करवाए जाएंगे। 

उन्होंने बताया कि संबंधित त्रिसदस्यीय दल द्वारा कोविड केयर कन्सलटेशन सेंटर को वितरित की जाने वाली औषधियों के स्टाॅक, मांग व पूर्ति से संबंधित प्रतिदिन रिकार्ड का नियमित रूप से संधारित किया जाएगा। 

राज्य सरकार के निर्देशानुसार ई-उपकरण पोर्टल पर रेमडिसीविर इंजेक्शन से संबंधित रिकार्ड की प्रतिदिन एन्ट्री की जाएगी, साथ ही उक्त समिति के द्वारा रेमडिसीविर इंजेक्शन के दुरूपयोग को रोकने हेतु निगरानी रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू होंगे।

--------



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें