मंगलवार, 16 फ़रवरी 2021

नहर में गिरी 54 यात्रियों से भरी बस, 42 की मौत,मृतकों में 12 छात्र भी शामिल-7 बचाए गए.

  



मध्य प्रदेश के सीधी में एक तेज रफ्तार बस के नहर में गिरने से बेहद दर्दनाक हादसा हुआ है। अपने घरों से परीक्षा देने या अन्य कामों से निकले 42 लोगों की मौत हो गई है। 

बचाव और राहत कार्य जारी है। मृतकों का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है। बताया जा रहा है कि बस में 54 लोग सवार थे, जिनमें से 7 को जिंदा निकालने में सफलता मिली है और 42 शव निकाले गए हैं। यह बस सीधी से सतना की ओर जा रही थी। मृतकों में 12 छात्र भी थे। ये सभी रेलवे की परीक्षा देने सतना जा रहे थे।


 सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपये के मुआवजे का भी ऐलान किया है। सीएम शिवराज सिंह ने ट्वीट किया, 'इस दुर्घटना में हमारे जो भाई-बहन नहीं रहे, उनके परिजनों को पांच लाख रुपये की सहायता राशि तत्काल दी जाएगी। मेरी अपील है कि सभी धैर्य रखें। दुःख की इस घड़ी में मैं और प्रदेश की जनता आपके साथ है।'

शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'नहर काफी गहरी है। हमने तत्काल बांध से पानी बंद करवाया और राहत और बचाव दलों को रवाना किया। कलेक्टर, SP और SDRF की टीम वहां है। बस निकालने के प्रयास हो रहे हैं। मैं राहत और बचाव कार्य करने वाली टीम के संपर्क में हूं। 7 साथी बचाए जा चुके हैं।' 


सीएम ने कहा कि आज हम बड़े उत्साह से 1 लाख 10 हजार घरों में गृह प्रवेश का कार्यक्रम सम्पन्न करने वाले थे लेकिन सुबह 8 बजे ही मुझे ये सूचना मिली कि सीधी ज़िले के बाणसागर नहर में यात्रियों से भरी एक बस गिर गई है इसलिए आज कार्यक्रम करना उचित नहीं होगा।

बस जिस नहर में गिरी है वह सीधे बाणसागर डैम से जुड़ी हुई है, इसलिए नहर में पानी भी तेज रफ़्तार के साथ बह रहा रहा है और पानी की मात्रा भी अधिक है। जिससे बचाव कार्य में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। 


SDRF की टीम और गोताखोरों की मदद से सात लोगों को बचा लिया गया है। टीम के मुताबिक़ बचाए गए लोगों की हालत काफी गम्भीर है और उन्हें रीवा के अस्पताल में भर्ती कराने के भेज दिया गया है। बस के नहर में गिरने के बाद लोगों को बचाने और बस को नहर से बाहर निकालने के लिए मदद ली जा रही है। साथ ही यह नहर बाणसागर डैम से जुड़ी हुई है, जिसके लिए नहर का पानी रोकने के निर्देश दिए गए हैं।

* अभी बस चालक की गलती सामने आ रही*

 इस दर्दनाक हादसे के पीछे बस ड्राइवर की गलती निकलकर आई है। दरअसल, स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है कि ड्राइवर ने ही जाम से बचने के लिए शॉर्टकट रास्ता चुना था, जो नहर के किनारे से गुजरता है। रास्ता काफी संकरा था इसके बावजूद ड्राइवर ने बस इसी रूट से निकाली और आखिरकार नियंत्रण बिगड़ने से वह नहर में जा गिरी। इस हादसे में अब तक 42 लोगों की मौत हो चुकी है। यह आंकड़ा बदल भी सकता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बस में 32 लोगों को बैठाने की क्षमता थी लेकिन इसके बावजूद इसमें करीब दोगुने यानी पचास से ज्यादा यात्रियों को बैठाया गया। सीधी से निकलते के बाद छुहिया घाटी से होते हुए बस को सतना तक जाना था। झांसी-रांची स्टेट हाईवे की सड़क खराब है और पूरी बनी नहीं है, जिसके कारण आए दिन जाम लगता है। ड्राइवर ने इसी जाम से बचने के लिए रास्ता बदल लिया था।00

*****







कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें