गुरुवार, 28 जनवरी 2021

उत्तर पश्चिम रेलवे को राष्ट्रीय स्तर पर रोलिंग स्टाॅक शील्ड प्रदान।

 


* करणीदानसिंह राजपूत *

* महाप्रबंधक ने क्षेत्रीय रेल सप्ताह समारोह में किया सम्मानित* 

श्रीगंगानगर, 25 जनवरी 2021.

रेलवे द्वारा उत्कृष्ट कार्य करने के लिये विभिन्न जोन को राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया है। इस अवसर पर वर्ष 2020 के लिए राष्ट्रीय स्तर पर उत्तर पश्चिम रेलवे को राष्ट्रीय स्तर पर रोलिंग स्टाॅक, सिविल इंजीनियरिंग निर्माण, तथा समपार एवं रोड ओवर/अण्डर ब्रिज संरक्षा कार्य शील्ड प्रदान की गई है।

 उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री गौरव गौड़ ने बताया कि उत्तर पश्चिम रेलवे को राष्ट्रीय स्तर पर रोलिंग स्टाॅक शील्ड प्रदान की गई है। उत्तर पश्चिम रेलवे के यांत्रिक विभाग द्वारा रोलिंग स्टाॅक से सम्बंधित अनेक कार्य किये गये है, जिसको राष्ट्रीय स्तर पर पहचाना गया और सम्पूर्ण भारतीय रेलवे पर उत्तर पश्चिम रेलवे को रोलिंग स्टाॅक शील्ड से सम्मानित किया गया। राष्ट्रीय स्तर पर रोलिंग स्टाॅक शील्ड प्राप्त करने पर उत्तर पश्चिम रेलवे पर आयोजित रेल सप्ताह समारोह में उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आनन्द प्रकाश ने उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य यांत्रिक प्रमुख इंजीनियर श्री सुधीर गुप्ता, तथा यांत्रिक विभाग की सम्पूर्ण टीम को बधाई दी एवं उनको सम्मानित किया।

 उत्तर पश्चिम रेलवे पर श्री आनन्द प्रकाश महाप्रबंधक उत्तर पश्चिम रेलवे के मार्गदर्शन में रोलिंग स्टाॅक के बेहतर रख.रखाव व अनुरक्षण क्षमता में वृद्धि करने के साथ-साथ नई तकनीक का समावेश किया गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा उत्कृष्ट कार्य निष्पादन किये गये है, जिसके तहत ट्रेनों के समयपालन में सुधार, उत्तर पश्चिम रेलवे ने वर्ष 2020-21 में दिसम्बर माह तक मेल/एक्सप्रेस के संचालन में 98.5 प्रतिशत के समय पालन को प्राप्त कर भारतीय रेलवे के सभी जोन में प्रथम स्थान पर हैं। नवीन तकनीक के एलएचबी कोच के साथ ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। इसी प्रकार यात्रियों की सुरक्षा के लिये कोच के समयबद्ध ओवरहालिंग (पीओएच और आईओएच) सुनिश्चित की गइ, रोलिंग स्टाॅक के अप्रभावी प्रतिशत में सुधार किया गया। बेहतर यात्री सुविधाएं प्रदान करने के लिएए प्रोजेक्ट उत्कर्ष के तहत 23 रेक अपग्रेड किए गए हैं। सभी कोचों को पर्यावरण के अनुकूल बायो. टाॅयलेट्स से सुसज्जित किया गया है। स्वच्छता, पानी, बिजली, लिनन तथा आॅन बोर्ड आवश्यकताओं आदि के समाधान पर ध्यान देते हुये ट्रेनों में कोच मित्र ऐप के माध्यम से आॅन बोर्ड हाउसकीपिंग सर्विसेज (ओबीएचएस) सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होने बताया कि 8 डिपो में आॅटोमैटिक कोच वाशिंग प्लांट स्थापित किये गये है, जोधपुर व बीकानेर स्टेशनों पर पानी की सुगम उपलब्धता के लिये क्विक वाटरिंग सिस्टम लगाया गया है। हाॅट एक्सल मामलों की पहचान करने के लिये 7 स्टेशनों पर (हाॅट एक्सल बाॅक्स डिटेक्टर) प्रणाली स्थापित की गई है। व्हील और व्हील बेयरिंग की वास्तविक स्थिति की जानकारी के लिये (आॅन लाइन माॅनिटरिंग आॅफ रोलिंग स्टाॅक) प्रणाली गेगल-किशनगढ़ स्टेशनों के मध्य स्थापित की गई है। फुलेरा डिपो में आॅटो कार वैगन के अनुरक्षण कार्य प्रारम्भ किया गया है।00

******




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें