शुक्रवार, 1 जनवरी 2021

आरपीएफ का महिला यात्रियों के लिये ’’मेरी सहेली-स्मार्ट सहेली‘‘ अभियान- 2020 की विशेष रिपोर्ट

 

* करणीदानसिंह राजपूत *

एक जनवरी। उत्तर पश्चिम रेलवे पर महिलाओं की सुरक्षा हेतु मेरी सहेली-स्मार्ट सहेली कार्यक्रम का क्रियान्वयन 22 अक्टूबर 2020 से किया गया है। उत्तर पश्चिम  रेलवे के जयपुर, जोधपुर, अजमेर एवं बीकानेर मण्डल में कुल 12 प्रमुख सवारी गाडियों को नामित किया गया है। 

 उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी ने बताया कि मेरी सहेली योजना के तहत 22 अक्टूबर 2020 से 30 दिसम्बर 2020 तक उत्तर पश्चिम रेलवे क्षेत्राधिकार मे कुल 845 सवारी गाडियों को रेलवे सुरक्षा बल स्टाफ द्वारा चैक करके, कुल 5041 महिला यात्रियों को मदद की गई। मेरी सहेली-स्मार्ट सहेली कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य रेलवे से अकेले यात्रा कर रही महिला यात्रियों को सुरक्षित उनके गंतव्य तक पहुंचाना है। 

उन्होने बताया कि सुरक्षा हेल्प लाईन 182 के माध्यम से वर्ष 2020 के दौरान यात्रियों से सुरक्षा संबंधित कुल 163 शिकायतें प्राप्त हुई है। सभी शिकायतों पर रेलवे सुरक्षा बल स्टाफ द्वारा मौके पर तुरन्त उपस्थित होकर शिकायतों का उचित निवारण किया गया तथा यात्रियों को हरसंभव सहायता प्रदान की गई। रेलवे सुरक्षा बल के सभी पोस्ट एवं कंट्रोल रूम की ट्विटर आईडी पर वर्ष 2020 के दौरान कुल प्राप्त 75 शिकायतों व सुझावों पर का अविलम्ब निपटारा किया गया। रेल मदद के माध्यम से वर्ष 2020 के दौरान कुल 840 शिकायते प्राप्त हुई है, जिसमे सभी शिकायतों का निपटारा व निवारण किया गया। उत्तर पश्चिम रेलवे रेलवे सुरक्षा बल द्वारा उक्त शिकायतों के निस्तारण का औसत समय 36 मिनट रहा है, जो अन्य जोनों के तुलना में अत्यन्त उत्कृष्ट है। महिला यात्री उत्तर पश्चिम रेलवे पर यात्रा के दौरान सुरक्षा हेल्प लाईन 182 ट्वीटर तथा रेल मदद के माध्यम से सहायता प्राप्त कर सकती है। ( पीआरओ)

*****




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें