गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

फिल्म प्रचारक धारा विराट पोपट का जोश:पिता स्व.राजू कारिया के कदमों पर बेटी

 



* फिल्म प्रचारक रहते मजबूत प्लेटफार्म छोड़कर गये हैं राजू कारिया* 




प्रस्तुति - करणीदानसिंह राजपूत.

श्रीगंगानगर, 31 दिसम्बर 2020.
बेटियां भी बेटों से किसी भी मायने में कम नही होती हैं। ऐसे अनेक उदाहरण हम अपने जीवन मे देखते हैं जो बेटियों के महत्व को किसी भी सूरत में कम नही होने देते। इन बेटियों के हौसले भरे काम उन दम्पतियों को बहुत बड़ी तसल्ली भी देते हैं जिनके बेटा नही होता, सिर्फ बेटियां ही होती हैं। ऐसे ही उदाहरणों में एक नया नाम जुड़ रहा हैं धारा विराट पोपट। बाॅलीवुड में पिछले करीब 50 सालों से ज्यादा समय तक फिल्म प्रचारक व अनेक नामचीन अभिनेताओं, अभिनेत्रियों के पर्सनल पीआरओ के तौर पर अपनी पहचान बनाने वाले स्वर्गीय राजू कारिया की छोटी बेटी धारा अपने पिता के नाम और काम को जिंदा रखने के मामले में पूरी तरह से गम्भीर नजर आ रही हैं। धारा की गम्भीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता हैं कि छोटे से प्रयास से ही फिल्म निर्माता, निर्देशक व अन्य लोग धीरे-धीरे धारा से लगातार जुड रहे हैं। श्रीमती धारा ने अपने नये प्रोडक्शन ‘आर.के.प्रोडक्शन हाउस‘ के माध्यम से पिता राजू कारिया की विरासत को आगे बढ़ाने का काम हाल ही में शुरू किया हैं। धारा की यह राह आसान इसलिये भी मानी जा रही हैं कि अपने सफल कार्यकाल के दौरान राजू कारिया ने न सिर्फ रिलेशनशिप का मजबूत प्लेटफार्म तैयार किया बल्कि फिल्म इंडस्ट्री में देशभर के कोने-कोने से आने वाले नवोदित लोगों को स्दैव सहयोग किया हैं।इसके अलावा जो सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात हैं वो हैं फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े मीडियाकर्मियों के बीच राजू की जबरदस्त पैठ। अनेक मंचों पर उन्होंने सदैव अपनी सफलता का श्रेय मीडिया को ही दिया।गौरतलब हैं कि बाॅलीवुड के नामचीन फिल्म प्रचारक राजू कारिया का करीब 70 वर्ष की आयु में विगत 3 नवम्बर को दिल का दौरा पड़ने के बाद मुम्बई में निधन हो गया था। अपने पिता के निधन के एक माह बाद श्रीमती धारा विराट पोपट ने अपने पिता के मोबाइल काॅन्टेक्ट लिस्ट में शामिल फिल्म इंडस्ट्रीज से जुड़े तमाम मीडिया कर्मियोंए प्रेस फोटोग्राफर व फिल्मी हस्तियों को संदेश दिया हैं कि वह अपने पिता राजू कारिया के फिल्म प्रचार के काम को जारी रखने के लिये सभी से सहयोग की अपेक्षा करती हैं। धारा के इस हौसले को देखकर सभी ने उसे हर सम्भव सहयोग देने का आश्वासन दिया हैं। राजू कारिया जमीन से जुड़े हुए सेल्फमेड व्यक्ति थे। यह बड़े ही गौर करने वाली व नवोदित लोगों के लिये प्रेरणादायक बात हैं कि बहुत ही कम शिक्षित राजू कारिया ने वर्षो पूर्व महाराष्ट्र के यवतमाल से मुम्बई आकर दिनरात मेहनत कर मीडिया जगत में एक बड़ा मुकाम हासिल किया था। जैसा कि खुद राजू कारिया बताया करते थे कि शुरुआती दिनों में वे मुम्बई में गुजारे के लिये  रात के समय आॅटो रिक्शा चलाया करते थे व दिन में फिल्म स्टूडियो आते-जाते थे। यह वह दौर था जब मोबाइल तो बहुत दूर की बात आम आदमी के पास लैंडलाइन फोन भी नही होता था। अपने 50 वर्ष के करियर में राजू कारिया ने करीब सात सौ फिल्मों के प्रचार का काम किया। फिल्म प्रचारक के तौर पर एक ही दिन में 15 फिल्मों के मुहुर्त करने का रिकार्ड भी स्व राजू कारिया के नाम ही रहा हैं। राजू कारिया ने अनेक मंचों पर हमेशा अपनी सफलता का श्रेय मीडिया को ही दिया। यही सोच लेकर उनकी लाडली बेटी धारा भी फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े मीडिया कर्मियों से लगातार मजबूत सम्बन्ध बना रही हैं। धारा के अनुसार पापा ने अपने समय में जो संघर्ष किया था वैसा अब नही हैं। अब बहुत कुछ आसान हो गया हैं। हम धारा के हौसले को देखते हुए इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं।
----------00
करणीदानसिंह राजपूत
स्वतंत्र पत्रकार ( राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत) सूरतगढ़ ( राजस्थान)
94143 81356.
------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें