रविवार, 20 दिसंबर 2020

अनूपगढ़ बठिंडा, सूरतगढ-गंगानगर, बीकानेर दिल्ली सराय रोहिल्ला रेलों के संचालन की मांग

 



 * करणी दान सिंह सिंह राजपूत *


 सूरतगढ़ कोरोना संक्रमण बचाव के तहत इलाके की बंद की गई रेलों के पुन: संचालन की मांग जोर पकड़ रही है।

अनूपगढ़ सीमांत स्टेशन है जो अभी पूरी तरह से रेल सेवाओं से कटा हुआ है।

अनूपगढ़ रेलवे समिति ने मांग की है कि अनूपगढ़ से बठिंडा वाया सूरतगढ़ गाड़ी को शीघ्र ही चलाया जाए।

 अनूपगढ़ बठिंडा वाया सूरतगढ़ गाड़ियां साधारण और एक एक्सप्रेस गाड़ी थी  जो सभी बंद हैं। रेलवे चाहे तो अनूपगढ़ बठिंडा एक्सप्रेस रेल सेवा का संचालन शीघ्र कर सकती है। अभी पूरा क्षेत्र  रेल आवागमन से कटा हुआ है।  बसें नागरिकों की मांग को पूरा नहीं कर पाती और किराया भी रेलवे से बहुत अधिक है। इसके अलावा सुविधाएं रेल यात्रा में ही है। 


सूरतगढ़ में 18 दिसंबर 2020 को दो रेल समितियों ने मंडल प्रबंधक संजय श्रीवास्तव से भेंट करके अनूपगढ़ बठिंडा वाया सूरतगढ़, बीकानेर दिल्ली सराय रोहिल्ला वाया सूरतगढ़ बठिंडा शीघ्र संचालन की मांग की है।

 रेल विकास संघर्ष समिति के अध्यक्ष अमित कड़वासरा सचिव प्रियंका कल्याणा एडवोकेट ललित शर्मा सतनाम वर्मा अमित कल्याणा आदि ने ने मंडल प्रबंधक से मांग में लोकल गाड़ी और लोकल खिड़की खोली जाए का आग्रह किया। 

 सूरतगढ़ से श्रीगंगानगर,सूरतगढ़ से अनूपगढ़, सूरतगढ़ से बठिंडा वाया सूरतगढ़  गाड़ियां जो साधारण गाड़ियां है उनका संचालन भी शुरू संचालन भी शुरू गाड़ियां है उनका संचालन भी शुरू संचालन भी शुरू उनका संचालन भी शुरू करवाया जाए। इस समिति ने अनूपगढ़ - सूरतगढ़, बीकानेर दिल्ली सराय रोहिल्ला वाया सूरतगढ़ बठिंडा गाड़ियों की मांग की।


नागरिक संघर्ष समिति रेल के प्रतिनिधिमंडल ने संयोजक लक्ष्मण शर्मा संयुक्त सचिव राम प्रताप तिवारी तिवारी बार संघ राजस्व धनवीर सिंह हुंदल महावीर भोजक गोपी राम शर्मा पवन तावनिया आदि के नेतृत्व में रेल मंडल प्रबंधक को ज्ञापन सौंपा और विभिन्न रेलों के संचालन की मांग की।  समिति ने ज्ञापन में कहा कि बीकानेर दिल्ली सराय रोहिल्ला सुपरफास्ट, जम्मू तवी एक्सप्रेस, श्री गंगानगर सूरतगढ़ पैसेंजर ट्रेनें संचालन शुरु हो। 

 रेल महाप्रबंधक से रेल यात्री सलाहकार समिति की सदस्य श्रीमती रजनी मोदी ने भी मंडल प्रबंधक से विभिन्न मांगों पर चर्चा की।

मंडल प्रबंधक से सूर्योदय नगरी और शहर की ओर और शहर की ओर पहुंचने वाले यात्रियों और नागरिकों के लिए भी रेल पुल पर से आने जाने की अनुमति शुरू की जाने की मांग की। सूर्योदय नगरी के नागरिकों को आरक्षण के लिए मुख्य द्वार पर ही आना जाना पड़ता है जिसके पड़ता है जिसके लिए पहले ढलान फुटओवर ब्रिज बना हुआ था जो ब्रिज बना हुआ था जो बना हुआ था जो विद्युतीकरण योजना में तोड़ दिया गया, अब नया पुल बनाया गया है जहां से आने जाने का रास्ता  दिया जाए।0









कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें