गुरुवार, 12 नवंबर 2020

दिवानचंदजी डागा सूरतगढ़ का परलोक गमन-( आनंद विजय जैन पत्रिका वितरक के पिता)

 


* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 12 नवंबर 2020.
मूर्ति पूजक जैन समुदाय के विशाल कुटुंब डागा परिवार है जिसके एक परिवार प्रमुख दिवानचंद डागा का करीब 86 साल की उम्र में परलोक गमन हो गया। उन्होंने श्री गंगानगर चिकित्सालय में अंतिम सांस ली।  सूरतगढ़ मुख्य कल्याण भूमि में आज 12-11-2020 को अंतिम संस्कार किया गया।
राजस्थान पत्रिका ग्रुप प्रकाशन के सूरतगढ़ में सबसे बड़े वितरक आनंद डागा विजय डागा के पिता थे दिवानचंद डागा।
* मेरे बहुत नजदीकी मित्र परिवारों में हैं। इन्ही के छोटे भाई ओमप्रकाश जी डागा जयपुर बस गए थे। वे कुछ वर्ष पूर्व संसार छोड़ गए।
* एक भाई गजानंद डागा श्री गंगानगर में व्यवसाय करते हैं।
* दिवानचंद जी डागा मेरे लेख और समाचार पढने वाले सबसे बड़े पाठक रहे। सूरतगढ़ आने वाले सारे अखबार पढ कर भी संतुष्ट नहीं हो पाते। "करणीदान जी वाला अखबार लाओ।" मेरे लेख आदि आजकल सूरतगढ़ के ब्लास्ट की आवाज में अधिक छपते हैं। वे मेरा अखबार ही कहते। दिवानचंद जी तक अखबार पहुंचे। यह ध्यान हम रखते। पुत्र आनंद डागा भी यह ध्यान रखते। ऐसे पारीवारिक पाठक हमें छोड़ गए।
परमब्रह्म उन्हें मोक्ष प्रदान करे। यही कामना करते हैं।
*******

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें