रविवार, 6 सितंबर 2020

भारत विकास परिषद की फरीदसर में जंगल योजना-वृक्षारोपण का अनूठा अभियान. कैसे किया जानें।


** करणीदानसिंह राजपूत **


👌 वृक्षारोपण का यह कार्य रविवार को सायं 4 बजे से 6 बजे के मध्य संपादित किया।*




* कार्यक्रम में राष्ट्रीय सदस्य पर्यावरण प्रकल्प प्रभारी श्री घनश्याम शर्मा थे *


*प्रांतीय वित्त सचिव श्री विश्वबंधु एवं श्री राहुल  श्रीगंगानगर से कार्यक्रम में पहुंचे।



पर्यावरण प्रकल्प प्रभारी मनीष कालरा ने बताया कि भविष्य में फरीदसर गांव में यह एक पर्यटन स्थल बने, ऐसा कार्य होगा। इसके बाद हम गांव के दो अन्य स्थानों पर भी यह कार्य करवाएंगे

प्रांतीय ग्राम विकास प्रकल्प प्रभारी श्री एम. आर चाचान ने बताया कि इस जंगल निर्माण में लगभग 200  पौधे लगाए गए।  

इस पौधारोपण में खेजङी, अमरूद, किन्नू, आलूबुखारा, आवंला, चांदनी, नींबू, नीम, बेलपत्र, बोगनबेलिया, टाहली, जामुन, बेर, शहतूत, कचनेर, कनेर, लेसुआ आदि हैं।

शाखा सचिव श्री विरेन्द्र  ने बताया कि गांव से पूर्व सरपंच फतेह सिंह जी, किशन जी, प्रहलाद जी, बलबीर जी, श्योपत जी, ओम जी, जगनाराम जी, रणजीत कुमार जी, मांगी लाल जी व ग्रामीण बच्चों सहित गांव वासियों ने इस पर्यावरण प्रकल्प में पौधारोपण में बढ़ चढ़कर भाग लिया।**

गांव विकास योजना प्रभारी श्री शशिकांत ने कार्य के बारे में जानकारी दी कि इसमें हम 20 गुणा 40 वर्गफुट के क्षेत्र पर 14 प्रजाति के पौधे लगाए, घने जंगल का एक छोटा रूप है, जिसमें फलों, फूलों और देशी व छायादार वृक्ष हैं। इस जंगल रूप के विकसित होने पर पक्षियों को संपूर्ण प्राकृतिक परिवेश मिलेगा।

थर्मल शाखा की ओर से वृक्ष मित्र बसंत जी, राकेश वर्मा जी, संजय जैन जी व रीजनल मंत्री विनोद आढा जी का सहयोग रहा।

शाखा अध्यक्ष गोपाल मित्तल जी ने कार्य को सफल बनाने के लिए सभी ग्रामवासियों को हृदय से, इस ईश्वरीय कार्य में, मां प्रकृति के लिए, सहभागी बनने के लिए सादर धन्यवाद ज्ञापित किया।००




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें