बुधवार, 2 सितंबर 2020

सूरतगढ़ कॉटन सिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय कोरोना संक्रमित- रिपोर्ट मिलने में देरी जांच का विषय है


* करणी दान सिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 2 सितंबर 2020.


कॉटन सिटी प्रेस क्लब सूरतगढ़ के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय के कोरोना पॉजिटिव पाई जाने की रिपोर्ट देरी से मिली। जिला प्रशासन स्थानीय प्रशासन को शिकायत करने के बाद में मिली जो बहुत ही आश्चर्यजनक और जांच का विषय है।

राजेंद्र उपाध्याय से रात्रि करीब 10:45 बजे मेरी बात हुई तब उन्होंने बताया कि कोरोना के शक में जांच करवाई थी। सैम्पलिंग 26 अगस्त और 31 अगस्त को हुई और रिपोर्ट नहीं मिली। रिपोर्ट नहीं मिलने से परेशानी हो रही थी। आज 2 सितंबर को बहुत ही महत्वपूर्ण और आश्चर्यजनक मानते हुए जिला कलेक्टर से बात की। एडीएम सूरतगढ़  से बात की।इनके बाद एसडीएम का फोन आया तब उनसे बात की।

सभी ने हैरानी प्रकट की कि ऐसा कैसे हो सकता है कि अब तक जांच रिपोर्ट नहीं आई।  

इतने प्रशासनिक अधिकारियों से संपर्क के बाद में जब रिपोर्ट मिली तो उसमें कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट मिली।

राजेंद्र उपाध्याय ने बताया कि रिपोर्ट नहीं आने की भी भारी परेशानी झेलनी पड़ी।

* आश्चर्य यह है कि प्रशासनिक अधिकारियों को जो कोरोना संक्रमण बचाव में लगे हुए हैं। जिला कलेक्टर रोजाना डायरेक्शन दे रहे हैं।सूरतगढ़ के एडीएम एसडीएम इंसीडेंट कमांडर हैं। 


राजेंद्र उपाध्याय ने कहा कि देरी से रिपोर्ट मिलने से परेशानी तो हुई है। राजेंद्र उपाध्याय से बातचीत में यह स्पष्ट हुआ कि कोरोना सैंपल लेने के बाद में संबंधित व्यक्ति को तुरंत जल्दी से जल्दी जांच रिपोर्ट उपलब्ध कराई जानी चाहिए,क्योंकि कोरोना संक्रमण यदि है तो उसका समुचित इलाज शीघ्र हो सके।

राजेंद्र उपाध्याय ने अपनी फेसबुक वॉल पर नजदीकी लोगों से अपील की है कि पिछले 10 दिनों में जो मित्र परिचित जानकार व अन्य संपर्क में आए हैं,उन्हें अपनी जांच तुरंत करवानी चाहिए।

 उपाध्याय ने विश्वास से कहा है कि  इसका इलाज करवा कर इससे शीघ्र ही मुक्त होंगे।

राजेंद्र उपाध्याय ने बताया कि जिस घर में निवास कर रहे हैं वहां रहने वाले प्रत्येक परिवार जन की भी सैंपलिंग आज हुई है। 

नगर पालिका की ओर से जो गली आदि में व्यवस्था की जाती है और अवरोधक लगाकर वह की गई है।


 **कोरोना संक्रमण बचाव में सबसे बड़ी व्यवस्था यह होनी चाहिए कि सेम्पलिंग होने के बाद में अति शीघ्र जांच रिपोर्ट सैंपल देने वाले को उपलब्ध करवाई जानी चाहिए। प्रशासन इस देरी पर जांच करके क्या कमी पाता है, रिजल्ट निकालता है? यह महत्वपूर्ण बिंदु होगा। इससे भविष्य के लिए भी सीख लेनी होगी।

** राजेंद्र उपाध्याय से संपर्क में आए लोगों को अपनी जांच तुरंत करवानी चाहिए*


👌👌👌राजेंद्र उपाध्याय की कीमती बात*
भाई साहब,यह तो गनीमत है कि मैं एक जागरूक पत्रकार होने के नाते पिछले 10 दिनों से घर पे हूं। कोरोनावायरस की वजह से बाकी प्रशासन की ओर से जो व्यवस्था की गई है उसके हिसाब से अगर मैं आज बाहर होता तो मैं समझता हूं मेरे संपर्क में आने से कम से कम 1000 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित होते।  मैंने केवल अपनी जागरूकता का परिचय दिया और 10 दिनों से मेरे घर पर था।*
*******
करणीदानसिंह राजपूत,
स्वतंत्र पत्रकार( राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)
सूरतगढ़.
94143 81356.
******

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें