रविवार, 20 सितंबर 2020

सरकारी कार्यालयों में अनुपस्थिति रोकने को मूविंग रजिस्टर प्रणाली लागू हो

 


* करणीदानसिंह राजपूत *


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सरकारी कार्यालयों में अधिकारियों कर्मचारियों की अनुपस्थिति पर रोक लगाने को मूविंग रजिस्टर व्यवस्था पुन: लागू करनी चाहिए। 

आज से करीब 25 साल पहले सरकारी दफ्तरों में एक मूवींग रजिस्टर संधारण किया जाता था जिसमें छुट्टी पर जाने वाले किसी कार्य से कार्यालय से बाहर जाने वाले अधिकारी और कर्मचारी का स्पष्ट वर्णन होता था कि वह कितने दिन की छुट्टी गया है कब आएगा? अगर सरकारी ड्यूटी पर शहर में ही इधर-उधर गए हैं तब भी उसमें  इंद्राज होता कि किस काम से बाहर गए हैं और कितनी देर रुकेंगे और वापसी कब होगी? सरकारी कार्य से शहर से बाहर जाने पर भी रजिस्टर में लिखना होता था। 

इस मूविंग रजिस्टर की व्यवस्था अब नहीं है।  किसी भी कार्यालय में यह रजिस्टर संधारण नहीं होता। यह व्यवस्था गुपचुप खत्म कर दी गई। 

सरकारी नौकरी पाने के लिए एक तरफ तो युवा तड़पते हैं लेकिन सरकारी नौकरी पाने के बाद ड्यूटी के प्रति कर्तव्यनिष्ठता नजर नहीं आती।००

शनिवार, 19 सितंबर 2020

पश्चिमी रेलवे चलाने जा रहा 150 और ट्रेन- उत्तर पश्चिम रेलवे कब चलाएगा

 

* करणीदानसिंह राजपूत *

 18 सितंबर 2020.

भारतीय रेलवे राजस्थान के अलावा क ई राज्यों को जोड़ती हुई गाड़ियां चला रहा है और उनकी संख्या भी उतरोत्तर बढा रहा है। 

राजस्थान में उत्तर पश्चिम रेलवे से गाड़ियां चलाने की मांग हो रही है लेकिन निर्णय नहीं हो रहे। अनेक स्थानों पर प्रदर्शन और ज्ञापन भी दिए गए हैं। राजस्थान सरकार को गाड़ियां चलाने के लिए जनता की मांग को समर्थन देना चाहिए।


*पश्चिम रेलवे का यह समाचार पढें। *


भारतीय रेलवे कोरोना वायरस को देखते हुए सोशल डिस्टेंशिंग का पालने करने और ट्रेनों में भीड़भाड़ कम करने के लिए अब पश्चिमी रेलवे 150 नई ट्रेन चलाने जा रहा है। पश्चिमी रेलवे 350 ट्रेन पहले से ही चला रहा है अब 150 ट्रेन और चलाने जा रहा है। यह ट्रेनें 21 सितंबर से चलनी शुरू हो जाएंगी। इनके अलावा भारतीय रेलवे ने 21 सितंबर से 20 जोड़ी क्लोन ट्रेन चलाने की घोषणा की थी। इनमें से ज्यादातर ट्रेनें बिहार के लिए हैं। जबकि इन ट्रेनों के 19 जोड़े के टिकट हमसफर एक्सप्रेस की दरों के अनुसार होंगे, लखनऊ और दिल्ली के बीच क्लोन ट्रेन जनशताब्दी एक्सप्रेस की दरों के बराबर होगी।


रेलवे अधिकारियों की मानें तो, क्लोन ट्रेनें वर्तमान में चल रहीं 310 जोड़ी ट्रेनों के अलावा हैं। इन 40 ट्रेनों में सबसे ज्यादा 22 ट्रेन बिहार को या तो जाएंगी या वहां से यात्रियों को लेकर जाएंगी या यूं कहें की वहां से खुलेंगी। यही नहीं इसके अलावा भी कई ट्रेनें बिहार से होकर चलेंगी। इंडियन रेलवे देशभर में मौजूद अपने करीब 7000 रेलवे स्टेशनों में से करीब 1000 स्टेशनों पर यूजर चार्ज लगाने की योजना बना रहा है। ऐसा होने पर ट्रेन का टिकट महंगा हा जाएगा। यह चार्ज एयरपोर्ट की तरह होगा। दिल्ली मुंबई की तरह बड़े स्टेशनों पर ऐसा संभव है लेकिन यूजर फीस कितनी होगी ऐसा अभी तक तय नहीं किया गगया है। स्टेशन संवारने के पैसे लेगा; यात्रियों को देना होगा ‘यूजर फी’, रेलवे बोर्ड चेयरमैन बोले- ज्यादा बोझ नहीं पड़ेगा


एयरलाइसं कंपनियों की तर्ज पर प्राइवेट ट्रेनें भी अपना किराया खुद तय कर सकेंगी। देश में प्राइवेट ट्रेनें शुरू होने के बाद सरकार उन ट्रेनों को आपरेट करने वाली कंपनियों को इस तरह की छूट देने जा रही है। भारत के रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि निजी कंपनियों को प्राइवेट ट्रेनों के लिए अपनी तरह से किराया तय करने की छूट होगी। हालांकि उन रूट पर अगर एसी बसें और प्लेन की भी सुविधा है तो किराया तय करने के पहले कंपनियों को इस बात का ध्यान रखना होगा।

 स्टेशन संवारने के पैसे लेगा; यात्रियों को देना होगा ‘यूजर फी’, रेलवे बोर्ड चेयरमैन बोले- ज्यादा बोझ नहीं पड़ेगा००


रेलवे स्टेशनों पर सीसीटीवी कैमरे शुरू.सूरतगढ़ गंगानगर हनुमानगढ सहित 20 स्टेशनों पर।




 * करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 18 सितंबर 2020.

उत्तर पश्चिम रेलवे के बीस स्टेशनों पर स्थापित हुई विडियों सर्विलांस 

प्रणाली।

उत्तर पश्चिम रेलवे जीएम आनन्द प्रकाश ने किया उद्धघाटन, यात्रियों की सुरक्षा के दृष्टिगत रेलवे का कदम

श्रीगंगानगर, 18 सितम्बर। रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए वीडियो सर्विलांस प्रणाली उत्तर पश्चिम रेलवे के स्टेशनों पर स्थापित की जा रही है। पूर्व में चार मण्डल मुख्यालय स्टेशनों-जयपुर, जोधपुर, बीकानेर तथा अजमेर स्टेशनों पर यह प्रणाली स्थापित की गई थी। अब सर्विलांस प्रणाली का विस्तार करते हुए उत्तर पश्चिम रेलवे के 20 अन्य स्टेशनों पर यह प्रणाली स्थापित की गई है।

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुनील बेनीवाल के अनुसार उत्तर पश्चिम रेलवे के 20 स्टेशनों पर लगाये गये सीसी टीवी कैमरों से सुरक्षा की निगरानी उत्तर पश्चिम रेलवे प्रधान कार्यालय पर नव स्थापित वीडियो सर्विलांस प्रणाली से की जा सकेगी। इस सर्विलांस प्रणाली का उद्घाटन श्री आनन्द प्रकाश, महाप्रबन्धक उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा किया गया। इस अवसर पर श्रीमती अरूणा सिंह-अपरमहाप्रबन्धक, श्री मोहन डुडेजा-प्रमुख मुख्य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर, सुश्री अरोमा सिंह ठाकुर-प्रमुख मुख्य सुरक्षा आयुक्त, श्री के. सी. बैरवा-महाप्रबन्धक, रेलटेल, श्रीआर. के. गुडेशर-मुख्य संचार इंजीनियर, श्री पवन शर्मा-उपमुख्य सिगनल एवं दूर संचार इंजीनियर, तथा उत्तर पश्चिम रेलवे के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

नव स्थापित वीडियो सर्विलांस प्रणाली के अंतर्गत जयपुर मण्डल के 5 स्टेशनों जिनमें अलवर, बांदीकुई, गांधीनगर जयपुर, फुलेरा, रेवाड़ी, अजमेर मण्डल के 6 स्टेशनों जिनमें भीलवाड़ा, फालना, मारवाड़ जं., आबूरोड, उदयपुरसिटी, रानी, जोधपुर मण्डल के 3 स्टेशनों जिनमें जैसलमेर, नागौर, पाली मारवाड़ तथा बीकानेर मण्डल के 6 स्टेशनों जिनमें हनुमानगढ, लालगढ, श्रीगंगानगर, सूरतगढ, भिवानी, हिसार स्टेशनों पर सीसी टीवी कैमरों के माध्यम से यात्रियों, उनके सामान एवं रेल सम्पत्ति की सुरक्षा व्यवस्था की निगरानी बेहतर तरीके से रखी जा सकेगी। उत्तर पश्चिम रेलवे के सभी स्टेशनों को चरणबद्ध तरीके से सर्विलांस प्रणाली से जोड़े जाने की योजना है।००

****








सुनील बेनीवाल ने उत्तर पश्चिम रेलवे के नये मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी का पदभार ग्रहण किया

 

श्रीगंगानगर, 18 सितम्बर 2020.

 श्री सुनील बेनीवाल ने उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी का कार्यभार ग्रहण किया। श्री सुनील बेनीवाल, भारतीय रेल यातायात सेवा के 2005 बैच के अधिकारी है। इससे पूर्व श्री सुनील बेनीवाल वरि. मण्डल वाणिज्य प्रबंधक-दिल्ली मण्डल के पद पर कार्यरत थे।

श्री सुनील बेनीवाल ने एमएनआईटी, जयपुर से विद्युत अभियान्त्रिकी में स्नातक शिक्षा प्राप्त की है। श्री सुनील बेनीवाल उत्तर रेलवे पर विभिन्न पदों पर कार्य कर चुके है। इन्हें वाणिज्य तथा परिचालन के क्षेत्र में विशिष्ठ अनुभव प्राप्त है। श्री बेनीवाल प्रतिनियुक्ति पर छतीसगढ़ सरकार में अपर आवासीय आयुक्त के पद पर अपनी सेवायें प्रदान कर चुके हैं। 


शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

सूरतगढ़ कॉटन सिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय पीबीएम बीकानेर में भर्ती सांस की तकलीफ


* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 18 सितंबर 2020.

राजेंद्र उपाध्याय को आज सांस में तकलीफ होने से बीकानेर पीबीएम हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।
राजेंद्र उपाध्याय को बातचीत करने के लिए मना किया गया है।
आज सूरतगढ़ से उनके पुत्र बीकानेर लेकर पहुंचे।पुत्र की स्थानीय पत्रकार से बात हुई है सांस की तकलीफ बताई गई है।
पत्रकार की सूचना है कि संबंधित चिकित्सक ने पूर्ण इलाज की सलाह दी है। यह मानना है कि सांस की तकलीफ में स्वस्थ होने में कुछ दिन लग सकते हैं।
राजेंद्र उपाध्याय पहले कोरोना संक्रमित थे जिनकी रिपोर्ट 15 सितंबर को नेगेटिव आई थी इस पर चिकित्सकों और मित्रों का आभार प्रकट करते हुए फेसबुक में पोस्ट भी डाली थी।
कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद वे सूरतगढ़ आ गए और घर में विश्राम पर थे।
खुद राजेंद्र ने फेसबुक पर सूचना दी कि चिकित्सकों ने कम से कम दस पन्द्रह दिन तक विश्राम और बातचीत नहीं करने की सलाह दी। उपाध्याय 16 तारीख को सूरतगढ़ पहुंचे और विश्राम में थे कि 17 को कुछ सांस में परेशानी महसूस हुई और 18 तारीख को पुन: बीकानेर जाकर चेकअप कराया गया। तब सांस की तकलीफ का इलाज शुरू हुआ है। उनके पुत्र वहीं पास में हैं।००

बुधवार, 16 सितंबर 2020

सूरतगढ़ जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग के सहायक अभियंता सहित 20 कर्मचारी अनुपस्थित मिले

 

प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई

 


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 16 सितंबर 2020.
प्रेस क्लब सूरतगढ़ कॉटन सिटी के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय की कोरोना रिपोर्ट 15 सितंबर रात्रि में आने पर हर्ष।
पीबीएम हास्पिटल बीकानेर में उपचार मिला है।
राजेंद्र ने ईश्वर मित्रोँ आदि का आभार व्यक्त किया है। पिछले 23 दिनों से कोरोना से संघर्ष चल रहा था। पत्रकार होने के कारण जागरूकता अपनाते हुए अंदेशा होते ही घर में रहे। सेम्पल दिया और संक्रमित घोषित होते ही अन्य संपर्क में आए लोगों को जांच कराने को प्रेरित किया।
कोरोना संक्रमण के बाद पहले घर पर फिर श्रीगंगानगर जिला चिकित्सालय कोरोना सेंटर में कुछ दिन रहे। उसके बाद पीबीएम हास्पिटल बीकानेर में रेफर हुए। वहां एक सप्ताह के उपचार में कोरोना पर विजय प्राप्त हुई।

* राजेंद्र ने अपने फेसबुक वाल पर दि. 16 सितंबर को इसका वर्णन इस तरह से किया है।*

👌 प्रिय दोस्तों चुनौती चाहे बीमारी के रूप में मिले या किसी और रूप में अगर हमने पूरी मजबूती के साथ उसका मुकाबला कर लिया तो समझे हम सफल हुए।

पिछले 23 दिनों के इस संघर्ष में आपके इस भाई ने कल रात कोरोना पर विजय प्राप्त कर ली और मेरी रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है।
यहां मैं आप सब लोगों का धन्यवाद करना चाहूंगा जिनकी आशीर्वाद और ईश्वर से मेरे लिए की गई कामना का यह परिणाम मुझे मिला।
हालांकि कोरोना ने मुझे काफी डैमेज करने का प्रयास किया लेकिन अब चिंता की बात नहीं है क्योंकि पहले मुझे दो फ्रंट पर लड़ना पड़ रहा था।
एक कोरोना से और दूसरा उस की ओर से दिए गए संक्रमण से। अब जब करोना को भगा दिया है तो फिर दूसरे फ्रंट की औकात ही क्या है।  खैर जो भी है।
**चलते चलते एक बात और कहना चाहूंगा कि कि मुझे मिले इस जीवनदान में भाई राजा मोहम्मद के प्रयासों की मैं दिल की गहराइयों से प्रशंसा करता हूं। इन्हीं की बदौलत मुझे बीकानेर में न केवल चिकित्सालय में हर तरह की सुविधाएं मिली बल्कि उच्च स्तर का इलाज भी हो सका।
एक बार पुनः सभी मित्र दोस्त रिश्तेदार परिजन सभी का आभार
*

मंगलवार, 15 सितंबर 2020

👌 बिना मास्क प्रवेश वर्जित.* ’’नो मास्क नो एन्ट्री‘‘ लिखाना जरूरी* चलाई लाएगी मुहिम


*  करणीदानसिंह राजपूत *


श्रीगंगानगर 15 सितम्बर। कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को आयोजित वीसी के माध्यम से निर्देशित किया कि कोविड-19 से बचाव के लिए समस्त सुरक्षात्मक उपायों को प्रभावी ढंग से राज्य भर में लागू किया जाए।

 इसे देखते हुए श्रीगंगानगर जिला कलक्टर श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने सभी रजकीय कार्यालयों, प्रतिष्ठानों व संस्थानों, परिवहन विभाग, जिला न्यायलय, समस्त व्यापार संगठनों, होटल, बैंक, स्कूलए हाॅस्पिटल्स, केमिस्ट और मेडिकल एशोसिएशन में सफेद बैकग्राउण्ड में लाल अक्षरों से हिन्दी में ’’बिना मास्क प्रवेश वर्जित‘‘ तथा ’’नो मास्क नो एन्ट्री‘‘ को आॅयल पेंट से लिखवाकर सभी मुख्य जगहों सहित प्रवेश द्वार पर प्रदर्शित किया जाए ताकि कोई भी व्यक्ति बिना मास्क प्रवेश नहीं करे एवं आमजन में फेस मास्क व फेस कवर पहनने की जागृति पैदा हो। 

 जिला कलक्टर ने निर्देशित किया है कि सभी जिला स्तरीय विभाग इसकी पालना करते हुए अपने अधीनस्थ कार्यालयों में भी इसकी पालना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने कहा कि जिन कार्यालयों के नियंत्रण में प्रतिष्ठान, संस्थाएं आदि आते हैं, वे संबंधित प्रतिष्ठानों, संस्थाओं आदि में उक्त आदेश की पालना सख्ती से करवाएं। सभी विभाग इसकी पालना कर जिला कलक्ट्रेट कार्यालय को सात दिवस में इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करें।

 जिला कलक्टर श्री वर्मा द्वारा राज्य सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों की पालना के तहत इसे एक अभियान के रूप में चलाया जाएगाए ताकि जनता स्वयं जागरूक हो और इस महामारी पर विजय प्राप्त कर एसकें। 

----------





पूर्व सांसद ओमपाल सिंह ‘निडर‘ उद्यान आभा तूफान एक्सप्रेस ट्रेन को चालू रखने के पक्ष में.



श्रीगंगानगर, 15 सितम्बर 2020.

 

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद से भाजपा के पूर्व सांसद श्री ओमपाल सिंह ‘निडर‘ ने वर्षों  पुरानी उद्यान आभा तूफान एक्सप्रेस ट्रेन को स्थाई रूप से बन्द करने के फैसले पर आश्चर्य व्यक्त किया हैं। 

उनका कहना हैं कि इस ट्रेन को स्थाई रूप से बन्द करने की बजाय इसमे संचालन सम्बन्धी सुधार की आवश्यकता है।

 अनेक कवि सम्मेलनों की शान  प्रख्यात कवि श्री निडर का मानना हैं कि आभा आम आदमी की ट्रेन हैं। इसमें प्रत्येक वर्ग का आदमी यात्रा करता रहा है। 

 जेडआरयूसीसी के पूर्व सदस्य पत्रकार भीम शर्मा श्रीगंगानगर के साथ फोन पर बातचीत में उन्होंने कहा कि ट्रेन का संचालन यथावत रहे इसके लिये वे श्रीगंगानगर सांसद श्री निहालचंद के साथ हैं व फिरोजाबाद के वर्तमान सांसद सहित अन्य सांसदों से भी बात करेंगे। किसी भी सूरत में ट्रेन बन्द नही होनी चाहिये।

---------


सोमवार, 14 सितंबर 2020

श्रीगंगानगर जिले में कोरोना इंसीडेन्ट कमाण्डर्स कितने सजग हैं?


* करणीदानसिंह राजपूत*
जिला कलक्टर ने कोरोना वायरस संक्रमण एवं बचाव के लिए जिले में मार्च 2020 के अंतिम सप्ताह 27-28 मार्च को जिला मुख्यालय और उपखण्ड पर एडीएम और एसडीएम  को इन्सीडेन्ट कमाण्डर नियुक्त किया था।
इनकी ड्यूटी और जिम्मेदारी निर्धारित की गई थी की ये सभी अपने अधिकारित क्षेत्र में कोरोना वायरस रोकथाम उपायों की सम्पूर्ण क्रियान्विति के लिए उत्तरदायित्व होंगे।
अन्य सभी लाईन विभागों के अधिकारी इंसीडेन्ट कमाण्डर्स के अधीन कार्य करेंगे। 
ये इंसीडेंट कमांडर घोषित हुए पांच माह से अधिक हो चुके हैं। इनकी अलग अलग स्तर पर सजगता कार्य जिम्मेदारी की समीक्षा तुरंत ही होनी चाहिए।
जिले में चिकित्सालयों बैंकों बीमा आदि सहित कई क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण का विस्तार होने और प्रतिदिन संख्या भी बढने से यह समीक्षा की जानी जरूरी है।
कोरोना सैंपलिंग लेने में चार पांच घंटे तक की चिकित्सालयों में प्रतीक्षा क्यों करनी पड़ती है?
सैम्पल की जांच श्रीगानगर प्रयोगशाला में केवल चार घंटे में मिलने की घोषणा थी,लेकिन जांच रिपोर्ट असल में कितने घंटों में मिल रही है?
कोरोना चिकित्सा के जिला मुख्यालय व उपखंड स्तरीय सेंटरों में क्या व्यवस्था और व्यवहार हैं?
जिला कलेक्टर स्वयं और इंसीडेंट कमांडर व्यक्तिगत रूप में क्या इनको देखने के लिए उपस्थित हुए हैं? यह उपस्थिति कितने दिन की अवधि में आवश्यक रूप में और जरूरी हो तब निर्धारित अवधि से पहले भी होने की ड्यूटी हो।
सेंटरों पर भोजन व्यवस्था कैसी है? भोजन गरिष्ठ अधिक चिकनाई वाला देरी से पचने वाला है या सुपाच्य है?कोरोना में और किसी भी बीमारी में भोजन विशेष होता है कि सुपाच्य हो।
निर्धारित दवाईयां आदि समुचित और समय पर दी जाती है या नहीं? कोई भूल चूक हुई हो तो उसे सुधारने और दुबारा नहीं होने के लिए क्या अनुभव और सीख लागू किए गए?
जिन संक्रमित लोगों को घरों में रखा गया। उनको बाहर नहीं निकलने और घरों के बाहर सूचना चिपकाने में पाबंदियां कितनी प्रभावी रही और ढील हुई तो किसकी गलती से हुई?
कोरोना संक्रमण और बचाव में सभी को सजग सतर्क रहना जरूरी है। चाहे अधिकारी हो,जनता हो,पीड़ित हो।
इस लेख में किसी भी स्तर में गलती कमी पर दंडित करने का नहीं लिखा गया है। असल में इस रोग से मुक्ति और नहीं फैले इसलिए सभी की सजगता को महत्वपूर्ण माना है।००
* करणीदानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
(राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)
सूरतगढ।
94143 81356.
**********





शुक्रवार, 11 सितंबर 2020

पंचायती राज आम चुनाव- 14 से 16 सितम्बर तक मतदान दलों को प्रशिक्षण दिया जायेगा



श्रीगंगानगर, 11 सितम्बर 2020.


 राज्य निर्वाचन आयोग राजस्थान जयपुर के निर्देशानुसार पंचायत आम चुनाव 2020 चरणवार सम्पन्न करवाये जाने है। मतदान से पूर्व मतदान दलों को चुनाव का प्रशिक्षण दिया जायेगा। 

जिला कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने बताया कि पंचायती राज आम चुनाव 2020 के दौरान मतदान दलों को प्रशिक्षण के लिये 13 सितम्बर से 16 सितम्बर तक अरोड़वंश सीनियर सैकण्डरी स्कूल श्रीगंगानगर, श्री अरोडवंश महाविधालय श्रीगंगानगर एवं अरोडवंश संस्थान के आॅडिटोरियम को प्रशिक्षण हेतु अधिग्रहित किया गया है। संबंधित संस्थान के अध्यक्ष, प्रधानाचार्य को निर्देशित किया गया है कि वे निर्धारित तिथियों में संस्थान प्रशिक्षण हेतु प्रभारी अधिकारी प्रशिक्षण (राजस्व अपील अधिकारी  श्रीगंगानगर) को उपलब्ध करावें। उन्होंने बताया कि 14 सितम्बर को आरओ, एआरओ, 15 सितम्बर को पीआरओ तथा 16 सितम्बर को पीओ प्रथम को सैद्धांतिक व प्रायोगिक प्रशिक्षण दिया जायेगा।००

पंचायती राज आम चुनाव 2020 निर्वाचन क्षेत्र में धारा 144 प्रभावी- क्या नहीं कर सकते


* करणीदानसिंह राजपूत *

श्रीगंगानगर, 11 सितम्बर 2020.

 जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिले की पंचायत समिति सूरतगढ, अनूपगढ, घडसाना में सरपंच व पंच पद हेतु चुनाव शान्तिपूर्णक, स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं सुव्यवस्थित ढंग से सम्पन्न कराये जाने व ग्राम पंचायत क्षेत्रों में सभी मतदाता विशेषकर कमजोर वर्ग के मतदाता बिना किसी आंतक व भय के अपने संवैधानिक मताधिकार का प्रयोग कर सकें, इस हेतु शांति एवं कानून व्यवस्था सुनिश्चित किया जाना नितान्त आवश्यक है। इसके लिये दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए आदेश जारी किये है। 

आदेशानुसार कोई भी व्यक्ति निर्वाचन क्षेत्र में अपने पास विस्फोटक पदार्थ, आग्नेय शस्त्र जैसे रिवाल्वर, पिस्तौल, राईफल, बन्दूक एवं एम.एल.गन आदि एवं अन्य हथियार जैसे गंडासा, फरसा, तलवार, भाला, कृपाण, चाकू, छुरी, बरछी, गुप्ती, खाखरी, बल्लभ, कटार, धारिया, बघनख (शेरपंजा) जो किसी धातु से शस्त्रा के रूप में बना हो आदि एवं मोटे घातक हथियार लाठी आदि सार्वजनिक स्थलों पर प्रदर्शन नही करेगा। परन्तु वे व्यक्ति जो निशक्त अथवा अतिवृद्ध है जो लाठी के सहारे के बिना नही चल सकते, वे लाठी का प्रयोग सहारा लेने हेतु कर सकेंगे एवं सिख समुदाय के व्यक्तियों को उनकी धार्मिक परम्परा के अनुसार नियमांतर्गत निर्धारित कृपाण रखने की छूट रहेगी।

कोई भी व्यक्ति साम्प्रदायिक सद्भावना को ठेस पहुंचोन वाले नारे नही लगायेगा, न ही इस प्रकार का भाषण, उद्बोधन देगा, न ही ऐसे पेम्पलेट, पोस्टर चुनाव सामग्री छपवायेगा या वितरण करेगा या वितरित करवायेगा, न ही ऐसे आॅडियों, विडियों कैसेट के माध्यम से किसी प्रकार का प्रचार-प्रसार करेगा अथवा करायेगा। 

कोई भी व्यक्ति किसी भी सार्वजनिक स्थान पर मदिरा का सेवन नही करेगा, न ही अन्य व्यक्ति किसी को सेवन करवायेगा तथा अधिकृत विक्रेताओं को छोड़कर कोई भी व्यक्ति निजी उपयोग के कारण छोड़कर किसी अन्य उपयेाग हेतु सार्वजनिक स्थलों में से मदिरा लेकर आवागमन नही करेगा। यह आदेश पर्वों के दौरान पुलिस स्वीकृति के तहत आयोजित धार्मिक समारोह, जुलूसों व कार्यक्रमों पर लागू नही होगा। 

कोई भी व्यक्ति संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की लिखित पूर्व अनुमति के बिना जुलूस, सभा एवं सार्वजनिक मिटिंग का आयोजन नही कर सकेगा, परन्तु यह प्रतिबंध विवाह समारोह, शवयात्रा पर लागू नही होगा। कोई भी व्यक्ति संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति के बिना लाउड स्पीकर, एम्पलीफायर, रेडियो, टेप अथवा अन्य ध्वनि प्रसारक यंत्रों का उपयोग नही कर सकेगा। यह आदेश उन व्यक्तियों पर जो राजकीय डयूटी के दौरान अपने पास हथियार रखने को अधिकृत है, पर लागू नही होगा। सभा, रैली के दौरान कोई भी व्यक्ति धर्म, जाति सम्प्रदाय, भाषा आदि के आधार वैमनस्य फैलाने, तनाव बढाने या उकसाने का कार्य नही करेगा। सभा, रैली के दौरान कोई भी व्यक्ति किसी व्यक्ति के निजी जीवन या निजता पर कोई लांछन लगाने संबंधी कोई गतिविधियां या कार्य नही करेगा तथा किसी उम्मीदवार एवं राजनैतिक व्यक्ति के घर के आगे किसी प्रकार का प्रदर्शन नही करेगा। 

कोई भी व्यक्ति किसी वैधानिक स्वीकृत किसी कार्यक्रम या मीटिंग में विघ्न, बाधा या किसी प्रकार का अवरोध पैदा नही करेगा। कोई भी व्यक्ति सभा, रैली के दौरान साम्प्रदायिक सद्भावना को ठेस पहूंचाने वाले नारे नही लगायेगा, न ही भाषण उद्बोधन देगा, न ही ऐसे पम्पलेट, पोस्टर चुनाव सामग्री छपवायेगा, छापेगा या वितरण करेगा या वितरित करवायेगा। न ही ऐसे आॅडियों, विडियों कैसेट के माध्यम से किसी प्रकार का प्रचार-प्रसार करेगा अथवा करवायेगा। उम्मीदवार, राजनैतिक व्यक्ति हेतु संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की लिखित पूर्व अनुमति के बिना जुलूस, सभा, रैली एवं सार्वजनिक मीटिंग का आयोजन नही कर सकेगा, परन्तु यह प्रतिबंध विवाह समारोह, शवयात्रा पर लागू नही होगा। साथ ही इस प्रकार की प्रत्येक सभा, जुलूस एवं सार्वजनिक मीटिंग की अनुमति आदर्श आचार संहिता एवं निर्वाचन आयोग के निर्देशों की पालना के अंतर्गत होगी, जिसका स्पष्ट उल्लेख अनुमति देने वाले अधिकारी द्वारा किया जायेगा एवं सक्षम मजिस्ट्रेट व पुलिस अध्किारी उसकी पालना सुनिश्चित करवायेगें। ऐसे प्रत्येक आयोजन की विडियोग्राफी भी उपखण्ड, तहसील स्तरीय आदर्श आचार संहिता टीम द्वारा करवानी भी प्राधिकृत अधिकारी (उपखण्ड अधिकारी) द्वारा सुनिश्चित की जायेगी। यह आदेश 5 अक्टूबर 2020 को रात्रि 12 बजे तक श्रीगंगानगर जिले की सीमा में प्रभावशील रहेगा। 

----------




बुधवार, 9 सितंबर 2020

सूरतगढ़-किशनपुरा आबादी में कॉलोनी के आवंटीयों द्वारा रजिस्ट्रेशन कराने निशान व देने की मांग।



* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 9 सितंबर 2020.

प्रतिनिधिमंडल आज नगरपालिका के चेयरमैन श्री ओम प्रकाश कालवा से मिला और उन्हें आवंटित किए गए भूखंडों की रजिस्ट्री करवाने, निशान व कब्जा देने तथा सड़क, बिजली, पानी आदि की व्यवस्थाओं को शुरू करने बाबत ज्ञापन दिया।

आवंटियों ने बताया कि नगर पालिका द्वारा 2018 में आवासीय कॉलोनी काटी गई थी।

 अधिकांश नागरिकों ने पूरी राशि जमा करवा दी है किंतु लगभग 2 वर्ष बीतने के बाद भी ना तो उन्हें कब्जा दिया गया है और ना ही रजिस्ट्री करवाई गई है। 

नागरिकों में इस बात का रोष था कि नगर पालिका द्वारा विवादास्पद होने के बावजूद भूखंडों की नीलामी कर दी गई जबकि पहले काटी गई कॉलोनीयां अभी तक विकसित नहीं हुई है।

 नगर पालिका व्यावसायिक जगह के भूखंडों को आवासीय बता कर उन्हें बेचकर राजकोष को हानि पहुंचा रही है I

नागरिकों ने नगर पालिका द्वारा भविष्य में की जाने वाली नीलामी का विरोध करने का निर्णय लिया।


 प्रतिनिधिमंडल में देवेंद्र सिंह कलेर,संजय बैद, बुधराम,कालू राम बिश्नोई,अमन रांका, बाबूलाल देराश्री, भंवर लाल स्वामी, अमित पेड़ीवाल, संतोष बोरड़, श्रवण चौहान, धनपत, महेंद्र कुमार सहित अनेक आवंटी शामिल थे।

प्रतिनिधिमंडल ने उपखंड अधिकारी से मिलकर भी उन्हें वस्तु स्थिति से अवगत करवाया।००





मंगलवार, 8 सितंबर 2020

श्रीगानगर जिले में किन्नू व गाजर का बनेगा कलस्टर- राष्ट्रीय योजना-पीएम मोदी शुभारंभ कर चुके


* करणीदानसिंह राजपूत *


श्रीगंगानगर, 8 सितम्बर 2020.

देश भर मे अगले पाँच वर्षो मे 10 हजार किसान उत्पादक संगठनों  के संवर्धन एवं गठन के लिये बनाई गई योजना में श्रीगंगानगर के किसानों को भी लाभ मिलेगा। 

भारत सरकार द्वारा बनाई गई इस योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 29 फरवरी 2020 को किया जा चुका है।

इस योजना के तहत जिले के लिए बनी जिला स्तरीय माॅनिटरिंग समिति (डी-एमसी) की प्रथम बैठक 07 सितम्बर 2020 को मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद श्रीमती टीना डाबी की अध्यक्षता मे जिला परिषद भवन मे आयोजित की गयी। 

 

सीईओ जिला परिषद श्रीमती टीना डाबी ने बताया कि इस योजना के उद्देश्यों मे कृषि क्षेत्र की उत्पादकता एवं किसानो की आय को बढ़ावा देना, नए एफपीओ की 5 वर्ष तक इनपुट, उत्पादन, प्रसंस्करण और मूल्य संवर्धन, बाजार लिंकेज, क्रेडिट लिंकेज एवं तकनीकी हस्तांतरण के द्वारा हेण्डहोल्डिंग एवं सहयोग प्रदान करना, इत्यादि शामिल है । 

श्रीमती टीना डाबी ने सभी सम्बंधित विभागों को आगामी समय में बनने वाले कृषक उत्पादक संगठनों हतु एक्शन प्लान बनाने हेतु निर्देश  भी दिए। 


जिला विकास प्रबन्धक नाबार्ड श्री चंद्रेश कुमार शर्मा से बताया कि इस योजना के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए राष्ट्रीय स्तर पर तीन संस्थाओ यथा नाबार्ड, राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम एवं लघु कृषक कृषि व्यापार संघ का चयन किया गया है। एफपीओ को बनाने और बढ़ावा देने के लिए राज्य, क्लस्टर स्तर पर क्लस्टर आधारित व्यावसायिक संगठन कार्य करेगी जिसके द्वारा एफपीओ का निर्माण, एफपीओ का पंजीकरण, एफपीओ सदस्यो के बीच समंजस्य को बढ़ावा देना, पूंजी जुटाना, व्यवसाय योजनाए तैयार करना एवं उनका निष्पादन करना, इत्यादि शामिल है ।


श्रीगंगानगर जिले मे इस वित्तीय वर्ष 2020-21 मे नाबार्ड के माध्यम से एफपीओ बनाने के लिए दो क्लस्टर का चयन इस समिति द्वारा किया गया है जिस हेतु श्रीगंगानगर ब्लाॅक का चयन किन्नू एवं गाजर उत्पादों के लिए किया गया। 


इस बैठक में उपनिदेशक (कृषिविस्तार) डाॅ. जी आर. मटोरिया, संयुक्त निदेशक, कृषि विपणन विभाग श्री डी एल कालवा,एलडीएम श्री सतीश जैन, सहायक निदेशक उद्यान विभाग श्री अमर सिंह, संयुक्त निदेशक पशुपालन विभाग  डाॅ. हुकमा राम, परियोजना निदेशक आत्मा श्री हरबंस सिंह, वरिष्ठ वैज्ञानिक कृषिविज्ञानकेंद्र श्री भूपेंद्र शेखावत, उपरजिस्ट्रार सहकारी समितियां श्री जी एस बंसल एवं जिला मत्स्य अधिकारी श्री इरशाद खान भी उपस्थित रहे। बैठक का संयोजन जिला विकास प्रबन्धक नाबार्ड श्री चंद्रेश कुमार शर्मा द्वारा किया गया।००




सोमवार, 7 सितंबर 2020

👌 राजस्थान- लोकतंत्र सेनानियों की सम्मान निधि बाबत राजस्थान और केन्द्र सरकार को वैधानिक नोटिस*

^^ करणीदानसिंह राजपूत ^^

* अलवर के 3 सेनानियों ने उच्च न्यायालय में रिट के लिए पहल की। एडवोकेट मोहित गुप्ता ने नोटिस भेजे*

सूरतगढ़ 7 सितंबर 2020.
राजस्थान में आपातकाल 1975-77 के लोकतंत्र सेनानियों को बंद की गई सम्मान निधि को शुरू करने बाबत राजस्थान उच्च न्यायालय के एडवोकेट मोहित गुप्ता की ओर से राजस्थान सरकार को और केंद्र सरकार को वैधानिक नोटिस भेजे गए हैं।
यह नोटिस राजस्थान सरकार के सामान्य शाखा के प्रिंसिपल सचिव को भारत सरकार के सचिव को और अलवर स्थित पेंशन विभाग को भेजे गए हैं तथा प्राप्ति के 7 दिन में इनका उत्तर मांगा गया है। 
यह नोटिस लोकतंत्र सेनानियों सर्वश्री रघुनाथ बवेजा,राधेश्याम शर्मा वशिष्ठ और कमल सिंह निवासी अलवर की ओर से भिजवाए गए हैं। मीसा रासुका और सीआरपीसी कानूनों में जेलों में बंद रहे का हवाला है।

राजस्थान सरकार 16 अक्टूबर 2019 को बंद की गई पेंशन को पुन: शुरू करेगी अन्यथा राजस्थान उच्च न्यायालय में सरकार के विरुद्ध रिट पेश की जाएगी।
राजस्थान के लोकतंत्र सेनानियों में काफी समय से राजस्थान उच्च न्यायालय में याचिका दायर करने के समाचार ग्रुपों  में लिखे जा रहे थे,लेकिन पहल करने में हिचक हो रही थी।
यह कदम अलवर के 3 सेनानियों की तरफ से उठाया गया है यह कदम आने वाले समय में निश्चित रूप से सम्मान और सम्मान निधि दोनों दिलवाएगा। यह आशा करते हुए आगे बढ़ेंगे। 
राजस्थान के सवाई माधोपुर के कुछ सेनानी भी याचिका लगाने के लिए तैयारी पर हैं। 
इससे भी पहले कुछ अन्य स्थानों पर भी बातचीत चल रही थी।
अब पहल होने से आशा है कि जयपुर जोधपुर व अन्य स्थानों से भी रिट की कार्यवाहियां शुरू होंगी।**
दि. 7 सितंबर  2020.
* करणीदानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
आपातकाल जेलयात्री,
सूरतगढ़.
**********


रविवार, 6 सितंबर 2020

भारत विकास परिषद की फरीदसर में जंगल योजना-वृक्षारोपण का अनूठा अभियान. कैसे किया जानें।


** करणीदानसिंह राजपूत **


👌 वृक्षारोपण का यह कार्य रविवार को सायं 4 बजे से 6 बजे के मध्य संपादित किया।*




* कार्यक्रम में राष्ट्रीय सदस्य पर्यावरण प्रकल्प प्रभारी श्री घनश्याम शर्मा थे *


*प्रांतीय वित्त सचिव श्री विश्वबंधु एवं श्री राहुल  श्रीगंगानगर से कार्यक्रम में पहुंचे।



पर्यावरण प्रकल्प प्रभारी मनीष कालरा ने बताया कि भविष्य में फरीदसर गांव में यह एक पर्यटन स्थल बने, ऐसा कार्य होगा। इसके बाद हम गांव के दो अन्य स्थानों पर भी यह कार्य करवाएंगे

प्रांतीय ग्राम विकास प्रकल्प प्रभारी श्री एम. आर चाचान ने बताया कि इस जंगल निर्माण में लगभग 200  पौधे लगाए गए।  

इस पौधारोपण में खेजङी, अमरूद, किन्नू, आलूबुखारा, आवंला, चांदनी, नींबू, नीम, बेलपत्र, बोगनबेलिया, टाहली, जामुन, बेर, शहतूत, कचनेर, कनेर, लेसुआ आदि हैं।

शाखा सचिव श्री विरेन्द्र  ने बताया कि गांव से पूर्व सरपंच फतेह सिंह जी, किशन जी, प्रहलाद जी, बलबीर जी, श्योपत जी, ओम जी, जगनाराम जी, रणजीत कुमार जी, मांगी लाल जी व ग्रामीण बच्चों सहित गांव वासियों ने इस पर्यावरण प्रकल्प में पौधारोपण में बढ़ चढ़कर भाग लिया।**

गांव विकास योजना प्रभारी श्री शशिकांत ने कार्य के बारे में जानकारी दी कि इसमें हम 20 गुणा 40 वर्गफुट के क्षेत्र पर 14 प्रजाति के पौधे लगाए, घने जंगल का एक छोटा रूप है, जिसमें फलों, फूलों और देशी व छायादार वृक्ष हैं। इस जंगल रूप के विकसित होने पर पक्षियों को संपूर्ण प्राकृतिक परिवेश मिलेगा।

थर्मल शाखा की ओर से वृक्ष मित्र बसंत जी, राकेश वर्मा जी, संजय जैन जी व रीजनल मंत्री विनोद आढा जी का सहयोग रहा।

शाखा अध्यक्ष गोपाल मित्तल जी ने कार्य को सफल बनाने के लिए सभी ग्रामवासियों को हृदय से, इस ईश्वरीय कार्य में, मां प्रकृति के लिए, सहभागी बनने के लिए सादर धन्यवाद ज्ञापित किया।००




उद्यान आभा को बंद किए जाने से बचाया जाए- पंजाब व हरियाणा के सांसद भी प्रयास करें-भीम शर्मा




** श्रीगंगानगर, फिरोजपुर, फरीदकोट, बठिण्डा, सिरसा, सोनीपत व रोहतक संसदीय क्षेत्र की जनता होगी प्रभावित **


*श्रीगंगानगर सांसद की ओर से सुपरफास्ट का दर्जा देने का भेजा गया था प्रस्ताव*


-- करणीदानसिंह राजपूत --


श्रीगंगानगर, 5 सितम्बर 2020.


श्रीगंगानगर व दिल्ली को रेलसेवा से सीधा जोड़ने वाली अनेक दशकों पुरानी ट्रेन उद्यान आभा तूफान एक्सप्रेस गाड़ी संख्या 13007/13008 को स्थायी रूप से बन्द किये जाने की प्रक्रिया लगभग अंतिम चरण में लग रही हैं, लेकिन श्रीगंगानगर सांसद श्री निहालचंद को छोड़कर पंजाब व हरियाणा के 6 सांसदों के प्रयास नाकाफी लग रहे हैं।

 

जेडआरयूसीसी के पूर्व सदस्य श्री भीम शर्मा के अनुसार तत्कालीन केंद्रीय मंत्री, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष चैधरी श्री बलराम जाखड़ ने अनेक दशकों पूर्व इस ट्रेन को श्रीगंगानगर से शुरू करने में अपनी महती भूमिका निभाई थी। उस समय की यह पहली  ट्रेन थी, जिसने इस पूरे इलाके की जनता को बड़ी खुशी प्रदान की थी। ऐसा माना जाता हैं कि श्रीगंगानगर आने से पूर्व यह ट्रेन दिल्ली व हावड़ा के मध्य ही संचालित होती थी। इस ट्रेन को लेकर यात्रियों के अच्छे-बुरे सभी तरह के अनुभव रहे है।

      श्री भीम शर्मा के अनुसार लाॅक डाउन के दौरान ईस्टर्न रेलवे की ओर से इस ट्रेन को स्थाई रूप से बन्द करने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेज दिया था। इस बात की भनक लगने के बाद उन्होंने सांसद श्री निहालचंद से सम्पर्क किया व सांसद की ओर से इस ट्रेन को सुपरफास्ट का दर्जा देते हुए श्रीगंगानगर से हावड़ा के मध्य मात्र 25 ठहराव देने का प्रस्ताव रेल मंत्री पीयूष गोयल को भेजा गया, लेकिन ईस्टर्न रेलवे के सूत्रों से जो जानकारी मिली हैं, उसके अनुसार रेलवे बोर्ड की ओर से इस पर ईस्टर्न रेलवे से बोर्ड की कोई चर्चा नही हुई हैं, जिसका अर्थ यही लगाया जा रहा हैं, कि रेलवे इसे बन्द करने का पूरा मन बना चुका हैं।


* यह रहा मुख्य कारण*


     ईस्टर्न रेलवे के सीपीटीएम की ओर से रेलवे बोर्ड को भेजे गये प्रस्ताव में इस ट्रेन को स्थाई रूप से बन्द करने के पीछे जो मुख्य कारण बताये गये थे उसमे श्रीगंगानगर से हावड़ा के मध्य 1973 किलोमीटर के सफर में यह ट्रेन 112 स्टेशन पर ठहराव करती हैं। दूसरा बड़ा कारण कोहरे के दौरान इसे लम्बे समय तक रद्द करना पड़ता हैं। ऐसा अनेक बार हुआ है जब इस गाड़ी को रद्द करना पड़ा हैं। ईस्टर्न रेलवे को इस ट्रेन को बन्द करने से हावड़ा में मेंटिनेंस के एक स्लाॅट व 5 रैक की बचत होगी। रेलवे की ओर से दिल्ली से मुम्बई व हावड़ा रुट पर लम्बी दूरी की सभी ट्रेनों को 130 किलोमीटर की रफ्तार से ट्रेन चलाने की योजना भी बड़ा कारण हैं।

सांसदों को करने चाहिये प्रयास

     श्री भीम शर्मा के अनुसार इस ट्रेन के बन्द होने से बिहार आने जाने वालों को सबसे ज्यादा नुकसान होगा। यह इस रूट की एकमात्र ट्रेन है जो श्रीगंगानगर, पंजाब व हरियाणा के अनेक स्टेशनों को बिहार व बंगाल से सीधा जोड़ती हैं। इसमें  श्रीगंगानगर स्टेशन जहां  से ट्रेन शुरू होती हैं वह सांसद श्री निहालचंद के संसदीय क्षेत्र में आता हैं। इसके अलावा दिल्ली से पहले फिरोजपुर, फरीदकोट, बठिण्डा, सिरसा, सोनीपत व रोहतक सांसदों के क्षेत्र आते है। इसके बाद दिल्ली से तो हावड़ा के लिये ट्रेनों की कोई कमी नही हैं। ऐसे में इन 7 सांसदों के लिये जरूरी हो जाता हैं कि ये सभी रेलमंत्री से इस ट्रेन को सुपरफास्ट का दर्जा दिलाकर लाखों यात्रियों के हित का काम करे। रेलमंत्री 7 सांसदों की मांग को नजर अंदाज नही कर सके। *

👌 पूर्वांचल के लोग जो राजस्थान पंजाब हरियाणा दिल्ली में काम करते हैं उन्हें भी अपने इलाके के सांसदों से दबाव डलवाना चाहिए ताकि यह पुरानी ट्रेन बंद नहीं हो सके*

-----------




शनिवार, 5 सितंबर 2020

सूरतगढ़ में गिरी आसमानी बिजली- खेलते बच्चे भागे.

* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 5 सितंबर 2020. 

किशनपुरा आबादी में राजकीय विद्यालय के पास एक विशाल कीकर के पेड़ आसमानी बिजली गिरी। यह घटना दिन में करीब एक बजे घटित हुई। कीकर की बड़ी बड़ी डालें बिजली गिरने से टूट कर बिखर गई।

बिजली गिरने की भयानक कड़कड़ाहट शहर में दूर तक सुनाई पड़ी। किशनपुरा बस्ती में यह कड़कड़ाहट अत्यधिक थी। लोग कुछ समय बाद घरों से निकले और तुरंत मालूम हो गया जब विशाल कीकर पेड़ को छिन्न भिन्न देखा। 

बताया जा रहा था कि बिजली गिरी तब बच्चे आसपास खेल रहे थे। बच्चे घबरा गए और साईकिलें छोड़ कर भाग गए। घटना के बाद लोगों को ज्यों ज्यों मालूम होता रहा त्यों त्यों टूटे पेड़ को देखने लोग पहुंचने लगे।

बिजली आबादी के मकान आदि पर गिरती तो नुकसान हो सकता था।

******



 


शुक्रवार, 4 सितंबर 2020

सूरतगढ़ कोरोना क्वारेटाईन सेंटर में निर्देशित सभी प्रबंध रहेंगे- पालिकाध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा




*नगर पालिका से संचालित है एसडीएम का डायरेक्शन है*


* करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 4 सितंबर 2020.


सूरतगढ़ में कोरोना संक्रमित को उनके घरों में ही आइसोलेट रख रहे हैं मगर जिनके घर में एकेले रखे जाने की समुचित व्यवस्था नहीं है उनको इलाज के लिए सामुदायिक भवन दमकल विभाग के पास वाले में 

 क्वारेटाईन सेंटर बनाया हुआ है।


क्वारेटाईन सेंटर में असुविधाओं को लेकर फोन आते हैं।


आज इस विषय पर नगर पालिका अध्यक्ष ओमप्रकाश कालवा के पास भी संदेश पहुंचे।

कालवा ने उपखंड अधिकारी से बात की।

कालवा ने अधिशासी अधिकारी मिल्खराज चुघ को विशेष रुप से निर्देश दिया कि सामुदायिक भवन कोरोना क्वारेटाईन सेंटर में साफ सफाई भोजन आदि सभी की अच्छी व्यवस्था हो,अच्छी देख रहे हो। वहां पर संक्रमित व्यक्तियों को स्वस्थ करने के लिए ले जाया जाता है वहां पर हर व्यवस्था सही होनी चाहिए।

पालिकाअध्यक्ष ने फोन पर बातचीत में बताया कि अधिशासी अधिकारी से बात हुई है और सभी प्रबंध वहां रहेंगे और किसी को भी परेशानी सामने नहीं आएगी।

भविष्य में हर एक बात के ऊपर ध्यान रखा जाएगा।


👌 कोरोना सेंटर में पहुंचने वाले नागरिकों से विशेष अनुरोध मेरा भी है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से जो डायरेक्शन है उनका पूरा पालन करें। यदि कोई बात समझ में नहीं आ रही है तो उसके लिए पूछ लिया जाना सबसे बड़ा अधिकार है।

सभी शीघ्र स्वस्थ होकर अपने घर परिवार में लौटें यही सभी की कामना रहती है।*





बुधवार, 2 सितंबर 2020

सूरतगढ़ कॉटन सिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय कोरोना संक्रमित- रिपोर्ट मिलने में देरी जांच का विषय है


* करणी दान सिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 2 सितंबर 2020.


कॉटन सिटी प्रेस क्लब सूरतगढ़ के अध्यक्ष राजेंद्र उपाध्याय के कोरोना पॉजिटिव पाई जाने की रिपोर्ट देरी से मिली। जिला प्रशासन स्थानीय प्रशासन को शिकायत करने के बाद में मिली जो बहुत ही आश्चर्यजनक और जांच का विषय है।

राजेंद्र उपाध्याय से रात्रि करीब 10:45 बजे मेरी बात हुई तब उन्होंने बताया कि कोरोना के शक में जांच करवाई थी। सैम्पलिंग 26 अगस्त और 31 अगस्त को हुई और रिपोर्ट नहीं मिली। रिपोर्ट नहीं मिलने से परेशानी हो रही थी। आज 2 सितंबर को बहुत ही महत्वपूर्ण और आश्चर्यजनक मानते हुए जिला कलेक्टर से बात की। एडीएम सूरतगढ़  से बात की।इनके बाद एसडीएम का फोन आया तब उनसे बात की।

सभी ने हैरानी प्रकट की कि ऐसा कैसे हो सकता है कि अब तक जांच रिपोर्ट नहीं आई।  

इतने प्रशासनिक अधिकारियों से संपर्क के बाद में जब रिपोर्ट मिली तो उसमें कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट मिली।

राजेंद्र उपाध्याय ने बताया कि रिपोर्ट नहीं आने की भी भारी परेशानी झेलनी पड़ी।

* आश्चर्य यह है कि प्रशासनिक अधिकारियों को जो कोरोना संक्रमण बचाव में लगे हुए हैं। जिला कलेक्टर रोजाना डायरेक्शन दे रहे हैं।सूरतगढ़ के एडीएम एसडीएम इंसीडेंट कमांडर हैं। 


राजेंद्र उपाध्याय ने कहा कि देरी से रिपोर्ट मिलने से परेशानी तो हुई है। राजेंद्र उपाध्याय से बातचीत में यह स्पष्ट हुआ कि कोरोना सैंपल लेने के बाद में संबंधित व्यक्ति को तुरंत जल्दी से जल्दी जांच रिपोर्ट उपलब्ध कराई जानी चाहिए,क्योंकि कोरोना संक्रमण यदि है तो उसका समुचित इलाज शीघ्र हो सके।

राजेंद्र उपाध्याय ने अपनी फेसबुक वॉल पर नजदीकी लोगों से अपील की है कि पिछले 10 दिनों में जो मित्र परिचित जानकार व अन्य संपर्क में आए हैं,उन्हें अपनी जांच तुरंत करवानी चाहिए।

 उपाध्याय ने विश्वास से कहा है कि  इसका इलाज करवा कर इससे शीघ्र ही मुक्त होंगे।

राजेंद्र उपाध्याय ने बताया कि जिस घर में निवास कर रहे हैं वहां रहने वाले प्रत्येक परिवार जन की भी सैंपलिंग आज हुई है। 

नगर पालिका की ओर से जो गली आदि में व्यवस्था की जाती है और अवरोधक लगाकर वह की गई है।


 **कोरोना संक्रमण बचाव में सबसे बड़ी व्यवस्था यह होनी चाहिए कि सेम्पलिंग होने के बाद में अति शीघ्र जांच रिपोर्ट सैंपल देने वाले को उपलब्ध करवाई जानी चाहिए। प्रशासन इस देरी पर जांच करके क्या कमी पाता है, रिजल्ट निकालता है? यह महत्वपूर्ण बिंदु होगा। इससे भविष्य के लिए भी सीख लेनी होगी।

** राजेंद्र उपाध्याय से संपर्क में आए लोगों को अपनी जांच तुरंत करवानी चाहिए*


👌👌👌राजेंद्र उपाध्याय की कीमती बात*
भाई साहब,यह तो गनीमत है कि मैं एक जागरूक पत्रकार होने के नाते पिछले 10 दिनों से घर पे हूं। कोरोनावायरस की वजह से बाकी प्रशासन की ओर से जो व्यवस्था की गई है उसके हिसाब से अगर मैं आज बाहर होता तो मैं समझता हूं मेरे संपर्क में आने से कम से कम 1000 लोग कोरोनावायरस से संक्रमित होते।  मैंने केवल अपनी जागरूकता का परिचय दिया और 10 दिनों से मेरे घर पर था।*
*******
करणीदानसिंह राजपूत,
स्वतंत्र पत्रकार( राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)
सूरतगढ़.
94143 81356.
******

पूर्व विधायक वरिष्ठ वकील स. हरचंद सिंह सिद्धु के बड़े भाई गुरदेव सिंह का स्वर्गवास.


करणी दान सिंह राजपूत


सूरतगढ़ 2 सितंबर 2020.

पूर्व विधायक हरचंद सिंह सिद्धू के बड़े भाई गुरदेव सिंह का  करीब 87 वर्ष की उम्र में चक थिराजवाला( तहसील पीलीबंगा) में 30 अगस्त को स्वर्गवास हो गया। 

उसी दिन अंतिम संस्कार किया गया।  स्वर्गीय गुरुदेव सिंह का परिवार का कृषि कार्य है। ००

यह ब्लॉग खोजें