बुधवार, 19 अगस्त 2020

रेलवे भवनों की सार संभाल में कमी से छतों पर उगते झाड़ झंखाड़



*  करणीदानसिंह राजपूत *


सूरतगढ़ 19 अगस्त 2020.

रेलवे में भवनों के रखरखाव के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की कोई कमी नहीं है, मगर उनकी ड्यूटी के प्रति लापरवाही के कारण भवनों की सार संभाल नहीं हो रही।




सूरतगढ़ के प्लेटफार्म नंबर 4 से सटे हुए रेलवे चिकित्सालय भवन की छत  पर घास फूस झाड़ झंखाड़ उग गए हैं जो छत को कमजोर करेंगे।

छत की सफाई नहीं होने से जमी मिट्टी पर और उखड़े हुए पलस्तर पर घासफूस और झाड़ झंखाड़ उग जाते हैं। चिकित्सालय के चिपते ही सड़ांध मारता गंदापानी और गंदगी भरी है।


रेल कर्मचारियों के आवासों  पर भी पीपल के पेड़ तक उगे हुए हैं।  आवासों पर टंकियों के भरने पर उनमें से पानी एक  घंटे तक  बहता रहता है, उनके बंद करने के तरीके नहीं है।

रेलवे को हो रही हानि को कौन बचाएगा जब संबंधित अधिकारी और कर्मचारी ही ध्यान नहीं देंगे। 

००





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें