सोमवार, 17 अगस्त 2020

जगदीश चन्द्र शर्मा मोटरमार्केट व्यवसायी का स्वर्गवास:

श्रद्धांजलि



अंतिम संस्कार आदर्श कल्याण भूमि किया गया: गणमान्य अंतिम संस्कार के समय उपस्थित थे।
- करणीदानसिंह राजपूत -
सूरतगढ़ 18 अगस्त 2016. मोटर मार्केट के प्रसिद्ध व्यवसायी जगदीशचन्द्र शर्मा का 17 अगस्त शाम को निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार आज 18 अगस्त को आदर्श कल्याण भूमि/ अरोड़ वंश/ बाईपास रोड पर किया गया। अंतिम यात्रा उनके निवास स्थान बसंत विहार से सुबह 10 बजे रवाना हुई। उनके अंतिम संस्कार में गणमान्य शामिल हुए। पुत्रों मनीष व पंकज ने मुखाग्रि दी।
जगदीश चन्द्र शर्मा भरा पूरा परिवार छोड़ गए। उनके दो पुत्र मनीष और पंकज भी व्यवसायी हैं। उनका बड़ा पुत्र मनीष बसंत विहार में ही जनरल स्टोर मालिक है। लघु पुत्र पंकज शर्मा पुराने मोटर मार्केट में शर्मा मोटर स्टोर चलाते हैं। स्वयं जगदीश चन्द्र शर्मा न्यू मोटर मार्केट में स्पेयर पाटर््स की शॉप करते थे।
वे कुछ दिन पूर्व बुखार से पीडि़त हुए और बाद में रोग अधिक बढता चला गया जो कंट्रोल नहीं हो पाया। सोलह अगस्त को सूरतगढ़ के प्राईवेट नर्सिेंग होम में उनकी कई जाँचें हुई तथा बाद में श्रीगंगानगर ले जाया गया। श्रीगंगानगर में ईलाज के दौरान 17 अगस्त की शाम को वे संसार छोड़ गए। उनके
शर्मा मोटर मार्केट में स्पेयार पार्ट्स व्यवसायाी के अलावा कुशल लेखक भी रहे। कई साल तक सामाजिक व आधुनिकता में आने वाली सामग्री से होने वाले लाभ व हानि पर उनके लेख पत्र पत्रिकाओं में छपते रहे। आकाशवाणी सूरतगढ़ से भी उनकी वार्ताएं प्रसारित हुआ करती थी।
सन 1972 के आसपास मेरी उनसे मित्रता हुई। वे इंजीनियरिंग में डिपलोमाधारी थे। राज्य सरकार अकाल राहत में उनकी ड्यूटी लगी हुई थी लेकिन वहां की कार्य प्रणाली से वे खुश नहीं थे। उनका मानना था कि वहां पर सिवाय भ्रष्टाचार के कुछ नहीं है। वे नौकरी छोड़ कर स्वतंत्र व्यवसाय में उतरे और जीवन के अंतिम समय तक ईमानदारी की मिसाल बने रहे।

* श्रद्धांजलि*
*****
प्रथम लेखन 18-8-2016.
अपडेट 17-8-2020.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें