सोमवार, 31 अगस्त 2020

भारतीय जनता पार्टी का सूरतगढ़ में बिजली बिलों पर हल्लाबोल धरना प्रदर्शन



* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 31-8-2020.
को 11बजे कार्यालय ,अधिशाषी अभियन्ता, विद्युत वितरण विभाग सूरतगढ़ पर राज्य सरकार ने आम जनता के बिजली बिलों में भारी बढ़ोतरी की है जिस को लेकर प्रदेश व्यापी आंदोलन हल्लाबोल के तहत धरना व प्रदर्शन किया गया।
इस आंदोलन में विधायक  रामप्रताप कासनियां, विधायक अशोक नागपाल ,प्रदेश मंत्री विजेन्द्र पुनियां,नगर मंडल अध्यक्ष सुरेश मिश्रा,जिला उपाध्यक्ष श्रीमतीआरती शर्मा,स.शरनपालसिंह,मंडल प्रभारी विनोद विश्नोई ,महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष श्रीमती नीलम सांगवान,मंडल उपाध्यक्ष,श्रीमती शर्मिला कंवर,सुरेश सुथार ,प्रेम सिंह राठौड़ ,मंडल महामंत्री गौरव बलाणा,जगदीश मेघवाल जी ,मंडल मंत्री विनय चंदेल जी,प्रेम चांगरा,स.मोहन सिंह,श्रीमती नीरज कामरा,जिला कार्यकारिणी सदस्य महेश शेखसरिया,विजय गोयल, सुभाष गुप्ता,मंडल कोषाध्यक्ष अंकुर लडोईया,  महिला मोर्चा अध्यक्ष श्रीमती करूणा रतन, श्रीमती बसन्ती शर्मा ,पार्षद श्रीमती तारा ताखर,पार्षद पं.हरिश,हंसराज स्वामी,राजीव चौहान, संजय अग्रवाल जी, श्रीमती सरला नायक, पूर्व पार्षद पवनऔझा , नगर मंडल कार्यकारिणी के सदस्य  एडवोकेट आनन्द शर्मा,एडवोकेट श्रीकान्त सारस्वत , लीलाधर,राजकुमार सैन, महावीर  झंवरिया,बजरंगसिंह जी,संदीप मिश्रा, कुलदीप सेतिया,विक्रमसिंह, राजेश भादू,भागीरथ सिंह पड़िहार,विनोद सारस्वत, विष्णु विश्नोई, मनोज  मिश्रा ,पतराम सुशील गुप्ता, गोपीराम दगल,राधेश्याम खटीक, सरफूदीन तैली,लालचंद शर्मा आदि पार्टी के कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
विधायक रामप्रताप कासनिया ने कहा कि ,करोना काल और लोकडाऊन में सरकार ने बिजली बिलों को स्थगित कर प्रदेश की जनता को गुमराह किया, अब आम लोगों के बिलों में तरह-२ के सरचार्ज लगाकर बिलों में बहुत वृद्धि कर दी गयी है ,महामारी के समय में वैसे भी लोग पीड़ित हैं ऊपर से कांग्रेस सरकार ने प्रदेश की जनता को बिजली बिलों के रूप में प्रताड़ित किया जा रहा है, किसानों का दस दिन में कर्जा माफ व बेरोजगार युवाओं को भी झूठ बोल कर गुमराह किया, आज तक सरकार ने किसी वर्ग के साथ न्याय नहीं किया।
पूर्व विधायक अशोक नागपाल ने बोलते हुए कहा कि किसानों,युवाओं,गरीबों सबके साथ धोखा हुआ है,भाजपा प्रदेश मंत्री विजेन्द्र पुनियां ने अपने सम्बोधन में कहा कि गहलोत सरकार जो 40दिन हॉटल में बन्द रही ,मस्त रही और प्रदेश की जनता महामारी में तड़फती रही , सरकार ने जनता पर कोई ध्यान नहीं किया,जिला उपाध्यक्ष श्रीमती आरती शर्मा ने कहा कि अशोक गहलोत सरकार ने कोई वादा पूरा नहीं किया है इस सरकार ने सस्ती दरों पर बिजली देने का वादा किया, उल्टा बिजली बीलों में बढ़ोतरी    कर दी ,विनोद जी विश्नोई ने भी कार्य कर्ताओं को सम्बोधित किया।
विधायक रामप्रताप कासनियां,अध्यक्ष सुरेश मिश्रा,अशोक नागपाल,विजेन्द्र पुनियां,श्रीमती आरती शर्मा शरनपालसिंह के साथ ,सहायक अभियन्ता ग्रामीण के मार्फत, मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन,बिजली के बिलों में वृद्धि को कम करने का सौंपा गया।००


बरखा की बयार कहती पेड़ लगाओ पौधे रोपो - काव्य करणीदानसिंह राजपूत




आओ!आओ!!

सब मिल आओ।

पेड़ लगाएं  पौधे रोपें 

मैं गड्ढे खोदूं तुम पानी लाओ।

सरपंच जी को बुलाओ

 स्कूल की घंटी बजाओ 

लड़के लड़कियों को पुकारो

आवाज देकर नाम लेकर।


कोई नीम लगाओ कोई बरगद

कोई पीपल खेजड़ी लगाओ

तालाब के किनारे कतार में रोपें।

गौशाला की चारदीवारी

पाठशाला का परिसर

कोई स्थान बाकी न बचे

कोई जमीन खाली न बचे।


ग्राम पंचायत का परिसर 

स्वास्थ्य केंद्र की भूमि

सब में हो हरियाली।


हंसते हंसते गाते गाते

पौधे रोप डालो पौधे रोप डालो 

मां बहन बेटी करेंगी सिंचाई

पौधे बनेंगे पेड़।

कोई देगा फल तो कोई देगा छाया।


कोई दादा कोई पोता पोती

कहीं नाना तो कहीं दोयता दोयती

इनकी छाया में सुस्ताएंगे।


बच्चे बच्चियां खेलेंगे नाचेंगे
गाएंगे और धूम मचाएंगे।


गायें भैंसे रंभाएंगी छाया में और

भेड़ बकरियां मिमयाएंगी।


पेड़ों के पत्ते डालिया करेंगे प्रेम

लिपट चिपट कर इठलाते।

मंदिर की घंटियां टन्नाएंगी 

ढोल नगाड़े ढमा ढम होंगे 

मन हर्षित होगा तन हर्षित होगा।


एक पुकार होगी एक आवाज होगी

 आओ आओ सब मिल आओ 

पेड़ लगाओ पौधे रोपो।


सावन का महीना कितना सुहाना 

बरखा की रिमझिम बूंदों का 

धरती से मधुर मिलन।


सुनो,सब सुनो।

बरखा की बयार कहती 

पेड़ लगाओ पौधे रोपो 

वह ऊंचा आसमान छूता

सोनेरी बालू रेत का टिब्बा

कितना मीठा मीठा पुकार रहा

आओ आओ सब आओ।

मेरे सोनेरी रूप में 

हरियाला सिंगार करो

पेड़ लगाओ पौधे रोपो।


देखो समझो गांव की रीत 

तीज मनाती लड़कियां 

नाचती गाती गीत।

गड्ढे खोदती लड़कियां

पौधे रोपती लड़कियां

पानी देती लड़कियां।


कितना सुहावना मौसम 

और कितना अनूठा संयोग है

वो पुराने पेड़ पुकार रहे 

सुनो ध्यान से कान लगाकर

कुछ कह रहे हैं 

इशारा भी कर रहे हैं।

हमारे तनों के पास देखो 

जमीन पर निहारो। 

हमारे वंश को देखो।

छोटे-छोटे बहुत पौधे 

उगे हैं अपने आप

ये मर नहीं  जाएं।

इनको भी संभालो।

मिट्टी को साथ रखते गट्टे निकालो।

 इनके गट्टों को भी कहीं दूर लगादो।

ये बच्चे हैं हमारे, 

प्राणों से ज्यादा प्यारे 

इनको कहीं लगा दो

इनके प्राण बचालो

इनका जीवन भी होगा बलिदानी 

जब ये पेड़ बनेंगे फल देंगे खट्टे मीठे

और छाया देंगे सुहानी।

मन हरसाएगा गीत गाएगा

जब पक्षी घोंसले बनाएंगे।

उनके अंडों से निकलेंगे चूजे

चहचहाहट होगी उनकी।


मंद मंद बहती सुगंधित हवा

प्यार का संदेश देगी।

धरती बोलेगी मधुर वाणी

आओ आओ सब मिल आओ

पौधे रोपो पेड़ लगाओ।००

*****

करणी दान सिंह राजपूत,

पत्रकार,

सूरतगढ़ (राजस्थान)

( यह कविता 2006-7 के आसपास रची गई। आकाशवाणी केन्द्र सूरतगढ़ में रिकॉर्ड हुई और प्रसारित हुई।**


👌 कपड़े क्यों उड़ते भीगते हैं? काव्यशब्द-करणीदानसिंह राजपूत.


मौसम गर्मी हो या बरसात

आंधी में उड़ते बरखा में भीगते

अपने कपड़ों को कैसे संभाले

दूर सैर करते या गचागच होते।


भतूलिया उड़ा देता है जब तुम

गर्मी में दुपहरी की नींद में होते

बरखा भिगो देती है जब तुम

रात को गहरी नींद में सोते हो।


आंधी में उड़े कपड़े तुम्हारे

पड़ोसी के घर में मिलते हैं

या झाड़ियों में पड़े हुए

घर से दूर कचरे में मिलते हैं।


मौसम का इसमेँ दोष नहीं

मौसम तो आएगा जाएगा

इसमें कपड़ों का ही है दोष

वे क्यों उड़ते और भीगते हैं।


**

करणीदानसिंह राजपूत,

सूरतगढ़।

शनिवार, 29 अगस्त 2020

राजस्थान में रेप और महिला अत्याचार बढे -भाजपा सांसद ने ट्वीट किए-अशोक गहलोत सरकार फेल बताई



* करणीदानसिंह राजपूत *


अशोक गहलोत और सचिन पायलट का विवाद थम गया है और हाल ही में विश्वास मत से सरकार जीतकर बच भी गई है लेकिन अनेक आरोपों में तीर चल रहे हैं।

राजस्थान के दौसा से भाजपा सांसद जसकौर मीणा ने राज्य के मुख्य मंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ जमकर हमला बोला है।

सांसद जसकौर मीणा ने राज्य के मुख्य मंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ 83 ट्वीट किए। मीणा ने गहलोत पर हमला करते हुए 15 मिनट में अपने आधिकारिक ट्विटर अकॉउंट से 83 ट्वीट किए हैं जो शनिवार 29 अगस्त को चर्चाए आम बन गए हैं।


 सांसद जसकौर मीणा ने लगभग सभी ट्वीट्स में हैश टैग ‘गहलोत सरकार होश में आओ’ का उपयोग किया।

मीणा के ज़्यादातर ट्वीट्स महिला अत्याचारों से जुड़े हुए रहे। इसके अलावा पानी-बिजली-रोज़गार सहित अन्य कई मुद्दों पर उन्होंने सरकार पर निशाना साधा। 

उन्होने गहलोत सरकार पर हमला करते हुए लिखा “अपना काम बनता, भाड़ में जाए जनता।” इसके अलावा सांसद ने प्रदेश में बढ़ते महिला अपराधों पर चिंता जताते हुए कई ट्वीट्स किये। उन्होंने लिखा, ‘प्रदेश में बढ़ रही बलात्कार की घटनाएं और अपराध सरकार के लिए बनी भारी चुनौती प्रदेश में कांग्रेस सरकार हुई फेल!!”


एक ट्वीट में राहुल और प्रियंका गांधी पर भी निशाना साधा गया। मीणा ने लिखा “UP के दलित दलित हैं लेकिन कांग्रेस शासित राजस्थान में दलितों पर अत्याचार चरम पर है बलात्कार रेप हत्याएं हो रही हैं। लेकिन वह राजस्थान में दलितों पर  हो रहे अत्याचारों पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी चुप क्यों है? क्या राजस्थान के दलित नहीं है?

राजस्थान में बिजली बिलों पर भी सांसद ने निशाना साधा है। 

उन्होने लिखा “राज्य में बिजली के बिल करंट मार रहें है , सरचार्ज में बढ़ोतरी से राज्य की जनता प्रताड़ित है, अतिरिक्त फ्यूल चार्ज से जनता परेशान है और सरकार अपनी तानाशाही में मस्त है। बिजली के बिल माफ करो, जनता के साथ इंसाफ करो।”

सांसद ने कहा सरकार ना केवल आम व्यक्ति को बोझ दे रही है बल्कि प्रदेश के औद्योगिक कारखानो को बंद करने के कगार पर ला रही है। उन्होंने सरकार को हर मोर्चे पर विफल करार दिया। मीणा ने लिखा “देश का सबसे महंगा डीजल राजस्थान में .. हर जरूरी वस्तुओं के टैक्स बढ़ाकर जनता को लूटने में नंबर 1 राजस्थान सरकार .. राजस्थान त्रस्त है दुखदायक जी।”

उन्होने कहा कि सरकार की नीतियों के खिलाफ भाजपा के कार्यकर्ता आवाज़ उठाएंगे। मीणा ने ट्वीट कर लिखा “राजस्थान सरकार के खिलाफ जनहित के मुद्दों को लेकर प्रदेश सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ 28 अगस्त 2020 से 4 सिंतबर 2020 तक भाजपा के कार्यकर्ता उठाएंगे जनता की आवाज।”

राजस्थान की सरकार के रवैये से परेशान जनता को सांसद मीणा द्वारा की गई खिंचाई से खुशी मिली है वहीं जनता भी इन मुद्दों पर सरकार से जवाब मांगने को आगे आ सकती है। सांसद के आरोपों से सरकार कंडम साबित हो रही है।००


मंगलवार, 25 अगस्त 2020

सूरतगढ़ पालिका करोड़ों की घोटाला योजना-व्यावसायिक भूमि को आवासीय भूमि रूप में नीलाम करेगी.

* करणीदानसिंह राजपूत *


नगर पालिका सूरतगढ़ बाजार के बीच में शहरकी मुख्य सड़क से सटी हुई चारों तरफ बाजार से दुकानों से घिरी हुई भूमि को आवासीय रूप में नीलामी करके बहुत बड़ा घोटाला करने को उतावली हो रही है।


बाजार के बीच यह भूमि 15 आवासीय प्लाटों के रूप में नीलाम की जाएगी। इस जमीन की व्यावसायिक कीमत करीब 10  से 15 करोड़ रुपए की लगभग बनती है, जो आवासीय के रूप में करीब एक - दो करोड़ में ही बेचने का बहुत बड़ा सोचा समझा घोटाला है। 


बीकानेर रोड पर जहां पहले पीडब्ल्यूडी का श्रमिक विश्राम गृह था। वह स्थान जो सब रजिस्ट्रार कार्यालय के सामने है। पूर्व विधायक हरचंद सिंह सिद्धू की कोठी के सामने हैं। यह अत्यंत महत्वपूर्ण व्यवसायिक क्षेत्र है इसे आवासीय रूप में आज के समय बेचा जाना योजना बनाना सरकारी कोष को बहुत बड़ी चोट पहुंचाना है।


इस 10 -15 करोड़ रुपए की जमीन को अब सोचते समझते आवासीय रूप में नीलाम करने की योजना साधारण बुद्धि से नहीं बनाई गई है।


नगर पालिका में इस समय कांग्रेस पार्टी का बोर्ड है और मास्टर ओमप्रकाश कालवा अध्यक्ष हैं। जो दावा करते रहे हैं कि ईमानदारी से कार्य करेंगे, हर कार्य ईमानदारी से होगा, पारदर्शिता से होगा, लेकिन यहां पर उनके कथन और कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

नगर पालिका पर पूर्व विधायक गंगाजल मील और पिछले चुनाव 2018 के प्रत्याशी हनुमान मील जो गंगाजल मील के भतीजे हैं का दबदबा है और उनके कथन या इशारे पर कार्य होते हैं। गंगाजल मील और हनुमान मील को इस पर तत्काल ही ध्यान देना चाहिए।

नगर पालिका मैं इस समय मिल्खराज चुघ अधिशासी अधिकारी हैं और सरकार के प्रतिनिधि हैं। इस ईओ ने यह नीलामी कैसे निकाल दी?

अध्यक्ष और ईओ को नीलामी का यह फैसला तुरंत निरस्त कर देना चाहिए ताकि ईमानदारी की छाप या संकल्प कायम रह सके। 

बाजार में स्थित यह जमीन आवासीय रूप में 15 भूखंडों में नीलामी का विज्ञापन राजस्थान पत्रिका श्रीगंगानगर संस्करण में 25 अगस्त 2020 को पृष्ठ 6 पर प्रकाशित हुआ है।

इसमें भूखंडों का विवरण है और आश्चर्यजनक रूप से साइज में अनुमानित शब्द लिखा हुआ है। नगर पालिका में इंजीनियर बैठते हैं उन्होंने माप लिया होगा हर प्लॉट का साइज लिखा हुआ होते हुए भी उसमें अनुमानित लिखा जाना भी गोलमाल है। यह विज्ञापन 20 अगस्त को जारी हुआ है। नीलामी 14 सितंबर 2020  से 17 सितंबर को घोषित है।


नगर पालिका ने कुछ माह पूर्व राष्ट्रीय उच्च मार्ग 62 पर डेयरी के सामने आवासीय और व्यावसायिक भूखंडों की नीलामी निकाली थी जो भारी विरोध के बाद हो नहीं पाई थी। जिला कलेक्टर और राज्य सरकार तक वह मामला पहुंचा था। उस समय पूर्व पालिका अध्यक्ष बनवारी लाल मेघवाल और पूर्व विधायक हरचंद सिंह सिद्धू सहित कई लोगों ने जबरदस्त विरोध किया था।

वह भी बहुत बड़ा गोलमाल काआरोप लगाया गया था। वह नीलामी भी सिरे नहीं चढ़ पाई थी। 

अब यह बाजार के बीच में फिर बहुत बड़ा घोटाला है। नगरपालिका को अपनी आय करनी है तो इस जगह को व्यावसायिक रूप में नीलामी निकाले।०० 


**********




शुक्रवार, 21 अगस्त 2020

नगरपालिका ने भादू कटले की सील हटाई- आठ माह तक सील रहा।



* करणीदानसिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 21 अगस्त 2020.
नगर पालिका सूरतगढ़ की ओर से आज दोपहर को पूर्व विधायक राजेंद्र सिंह भादू और उनके दो भाइयों देवेंद्र और रविंद्र के कटले की सील मोहर हटा दी गई। नगरपालिका कर्मचारी कालूराम सेन व अन्य ने दोपहर में सील हटाई। 

नगरपालिका ने 13 दिसंबर 2019 को निर्माण स्वीकृति अनुसार नहीं होने का नोटिस देते हुए 6 माह के लिए सील लगा दी थी।
अधिशासी अधिकारी लालचंद सांखला के नेतृत्व में नगरपालिका अधिकारियों व कर्मचारियों ने 13 दिसंबर 2019 को कटला सील किया था। नगरपालिका ने कार्यवाही कर फाईल क्षेत्रीय उप निदेशक स्वायत शासन विभाग बीकानेर को सौंपी थी।
क्षेत्रीय उप निदेशक के समक्ष नगरपालिका की कार्यवाही के नापजोख को सही नहीं बताते हुए अन्य एजेंसी से रिपोर्ट करवाने की मांग की गई। इसके बाद नगरपरिषद श्रीगंगानगर के स्टाफ ने जांच की और रिपोर्ट सौंपी। उस रिपोर्ट के जो बाद निर्णय हुआ और कटले की सील हटाई गई। निर्णय होने की चर्चा कुछ माह पहले शुरू हो चुकी थी। निर्णय की विस्तृत रिपोर्ट मिलेगी तब लगाने का प्रयास होगा। कांग्रेस का बोर्ड आने के बाद नगरपालिका ने यह एक ही कटला सीज किया था जबकि आसपास कई निर्माण सही नहीं हुए।ओमप्रकाश कालवा अध्यक्ष ने 2 दिसंबर 2019 को कार्यग्रहण किया था और कुछ दिन बाद ही नोटिस जारी हुए और फिर कटला सीज कर सील लगादी गई थी। सभी निर्माण में 50 से अधिक दुकानें हैं।००






बुधवार, 19 अगस्त 2020

मोबाइल बिगाड़ रहा है अपराध बढा रहा है. * करणीदानसिंह राजपूत *

****

अपराध बढ रहे हैं और उसके पीछे अब साधन बन गया है स्मार्ट मोबाइल फोन। जी हां यही सच्च है। अपनी संतानों को स्मार्ट फोन देना दिलाना फैशन हो गया है। अपराध बढ रहे हैं मगर संतानों का किन किन से संपर्क हो रहा है? यह चिंता किसी को नहीं। समय नहीं। 

अपने संतान और खास का मोबाइल में क्या है? किसका फोन आया किसको फोन गया? वे कौन हैं? फोन कब कब हुआ? कितने समय तक हुआ? 

आपके घर आने जाने वाले,आसपास रहने वालों के नंबर मोबाइल में क्यों हैं? इनसे भी क्या बात हुई? किस किस को फोटो मैसेज विडिओ क्लिप भेजी गई या आई?किस से चैटिंग हुई?


अपराध रोकने गलत बातें संपर्क रोकने के लिए जरूरी है कि घर आने जाने वालों,आसपास के रहने वाले पुरुषों,लड़कों के नं केवल परिवार के पुरुषों के ही मोबाइल में हों। 

अनावश्यक नं और अज्ञात नं किसी भी नाम से हो आप जानते नहीं हो तो परिवार के अन्य फोनों से नंबर हटाने में ही भलाई है। किसी नाम से नंबर सेव भी है तो मालूम तो करें कि यह कौन है?


इससे अनावश्यक बातचीत नहीं हो पाएगी। अपराधों के बढने का कारण भी है। 

संतान के विवाह से पहले कोई भी गलत बात होती है तब मां बाप छिपाते हैं। विवाह के बाद सास ससुर भी छिपाते हैं ताकि पति पत्नी में कलह न हो। संतान अविवाहित हो चाहे विवाहित हो उस पर ध्यान तो होना ही चाहिए क्योंकि जमाना खराब है।

बातें छुपाने का खेल तनाव पैदा करता है और अपराध को फलने फूलने का मौका देता रहता है। 

आजकल लड़कियों और महिलाओं के साथ अपराध बढ रहे हैं। लड़कियों और महिलाओं को फुसलाने, बहकाने और अपहरण के अपराध पुलिस में बहुत दर्ज हो रहे हैं तथा अखबारों तथा टीवी चैनलों में प्रकाशित प्रसारित हो रहे हैं। ये घटनाएं चिंता में डालती हैं। 

स्मार्ट फोन के जरिए आने जाने वाले संदेश,बातचीत,चैटिंग,वीडियो चैटिंग सभी रिकॉर्ड किए जा सकते हैं और बाद में ब्लेकमेल के लिए इस्तेमाल हो सकते हैं। आज जो खास है वही कल ब्लेकमेल कर सकता है।


परिवार में भी मोबाइल चैक करके देखने में यदि हिचक है तो उसे खत्म करें और बढते अपराधों में सावधानी के लिए कदम उठाएं। 

००

आपको अच्छा लगा हो तो अन्य को भेजें। अखबार में भी प्रकाशित कर सकते हैं -

 लेखक करणीदानसिंह राजपूत, पत्रकार, सूरतगढ़। 94143 81356.

**-**









शनिवार, 15 अगस्त 2020

*यहां फांसी चूमे सेनानी चप्पे-चप्पे में बलिदानी* कविता: करणी दान सिंह राजपूत*



यह देश हमारा भारत
दुनिया में सबसे न्यारा
यहां फांसी चूमे सेनानी
चप्पे-चप्पे में बलिदानी।

आओ फूलों से महकाएं
गीत वीरों के हम गायें
बलिदानों की गाथा
कभी भूले न बिसराएं।

यह देश हमारा भारत..

स्वर्ग सिरमौर  कश्मीर हमारा
हिम शिखरों  बीच में  छाया
गंगा यमुना का निर्मल जल
अमृत बन कर सबको भाया।

आजादी का जश्न मनाएं
गीत तिरंगे के हम गाएं
वीर जनों की कुर्बानी
सब गाएं और दोहराएं।

फूलों से महकाएं....

आधी शती का विकास हमारा
कुछ नया करने की ठानें
इलाका रहे न कोई खाली
सब और करें हरियाली।

आकाश ऊंचाइयां छूते रहें
मन साफ रहे घर साफ रहे
भाई भाई का प्यार रहे
जन जन में प्रीत संचार रहे।

यह देश हमारा भारत...

गांवों की चौपालों पर
नगरों के चौराहों पर
देशभक्ति का भान रहे
तिरंगे की शान रहे।

सीमा पर सीना ताने सैनिक
सुरक्षा का भार लिए
आने नहीं देंगे संकटकाल
खतरे में बन जाएं खुद हथियार।

अग्नि नाग और पृथ्वी
प्रक्षेपास्त्रों में नए निराले
अर्जुन टैंक की है दूर मार
दुश्मन की देते आंख निकाल।

अब्दुल कलाम का शस्त्र विज्ञान
भाभा ने परमाणु ज्ञान पसारा
भारत को दी नई रोशनी
विश्व में ऊंचा स्थान दिलाया।

यह देश हमारा..

गांधी चरखा झोपड़ में चलता
कल कारखानों में माल है बनता
नित नित नए-नए उत्पादन
विश्व में नाम कमाते जाते।

पंचशील की नीति हमारी
सत्यमेव जयते का नारा
अहिंसा का संदेश हमारा
दुनिया में है भारत न्यारा।

फूलों से महकाएं..

सूर्य चंद्र और असंख्य तारे
मीठी सुगंध रंगीन नजारे
रंग रंगीली धरती प्यारी
जगह जगह की छटा निराली।

छह ऋतुओं का देश हमारा
मीठे झरने मधुर समीरा
वन जंगल में मोर नाचते
राजस्थान में सोनचिड़ी गाती।

यह देश हमारा...

तेतीस कोटि हैं देवी देवता
दसो दिशाओं में पूजे जाते
वाहन इनके जीव जंतु हैं
सब लोको में जाते आते।

रामायण गीता संदेश सुनाते
कर्म गति का उपदेश बताते
घर में है पूजे जाते
चहुं ओर कीर्ति फैलाते।

फूलों से महकाएं..
भाई-बहन का स्नेह अनोखा
रक्षाबंधन का त्यौहार मनोरम
मीठे खीर बताशे मीठे
स्नेह बंधन में मिश्री घोले।

नाना भेष आंखों को भाए
नाना बोलियां कर्ण सुहाए
उच्च संस्कृति ऊंचे आदर्श
चरण स्पर्श और अभिवादन।

यह देश हमारा भारत...

कबीर रसखान नानक हुए यहां
मीरा ने है कृष्ण नाम पुकारा
प्रताप शिवा से वीर यहां पर
पन्ना को है सब ने गाया।

पद्मिनी के जौहर की याद
रानी लक्ष्मी की कुर्बानी
आल्हा उदल हुए यहां पर
कैसे भुलाए उनकी कुर्बानी।

फूलों से महकाएं...
भगत सिंह सुखदेव राजगुरु
फांसी के फंदे हंस हंस चूमे
आजाद की सिंह दहाड़ से
अंग्रेजों के दिल भी कांपे।

नेता सुभाष का जय हिंद नारा
लाल बहादुर ने जय किसान पुकारा
राम मोहन की चेतन आवाज
 विधवाओं की हो सार संभाल।

यह देश हमारा भारत...

बुध का शीतल प्रकाश
महावीर की मीठी वाणी
जीव जंतु से करो प्यार
धर्म नीति संदेश सुनाती।

मंदिरों में होती है आरती
मस्जिदों में होती है कुरान
चर्चों में बंटता है यीशु संदेश
गुरुद्वारों में गूंजे है गुरुवाणी।

फूलों से महकाएं...

यह देश हमारा भारत
दुनिया में सबसे न्यारा
यहां फांसी चूमे सेनानी
चप्पे-चप्पे बलिदानी।

ये देश हमारा भारत...

****

भारत की स्वतंत्रता 15 अगस्त 1947 को हुई। स्वतंत्रता की अर्धशती 1997-98 में मनाई गई तब यह कविता रची थी। आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र से इसका प्रसारण हुआ। इसकी अवधि पंक्तियों के पुन: दोहराए बिना ही 14 मिनट 20 सैकंड रिकॉर्ड हुई। एक चंक दस मिनट में आठ मिनट देते हैं और दो मिनट उदघोषणा आदि में लगते हैं। इस कविता के लिए विशेष अवधि 15 मिनट दी गई थी। आकाशवाणी के विशेष सहयोग से यह प्रसारित हुई।*


करणीदानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
सूरतगढ़.
94143 81356.
******




मंगलवार, 11 अगस्त 2020

👌 सास और बहू * काव्य- करणीदानसिंह राजपूत.


बहू ने ससुराल को सराहा
सास ने बहु को भला और
बहु ने सास को भला बताया।

बहु अपनी मां को भूली
सास अपनी बेटी को भूली
पीहर भी खुश ससुराल भी खुश।

बहु पीहर जाए तो
सास की आंखें भर आए
सास को हो सर दर्द तब
बहु का चैन खो जाए।

हमारी सोच के विपरीत हैं
ये मधुर संबंध
हमने वर्षों से टकराव ही सोचा
अब जुड़ाव है तो कैसे सुहाए
सास बहू का मां बेटी सा यह संबंध।

अड़ोस पड़ोस में हलचल हुई
कुछ बहुएं कुछ सासूएं
अलग खोजने लगी।

पूरे मोहल्ले में सास बहू
एक दूजे को विष पिलाए तो
एक घर में प्रेमकी 

वर्षा क्यों सुहाय?
अड़ोस पड़ोस में झूठ 
फैलाई जाने लगी
सास ने बहू को पाबंद कर रखा है
बहू ने सास को तंग कर रखा है।

अफवाहें किसी का 
भला नहीं कर सकती
न इस घर का 
न उस घर का।

सासुओं ने मिल कर
उस सास को पटाया
बहु पर  कुछ नियंत्रण लगवाया।

बहुओं ने मिल कर 

उस बहु को सिखाया
बहु ने सास को डायन बताया।


सास बहू के बीच होने लगी तकरार
कभी दिन में कभी रात में 
कभी कमरे में कभी बाहर
अड़ोस पड़ोस में
दूर तक आने लगी आवाजें।


मोहल्ले की सांसुएं खुश
मोहल्ले की बहुएं भी खुश
सभी ने अपना अपना 

मोर्चा फतह किया।

नया बगीचा सींचना था मीठे जल से

उसमें खारा कड़वा पानी उड़ेल दिया
खारे पानी से फूल नहीं मुस्काते
खारे पानी से तो सूखते हैं बगीचे।


सास बहू पास बैठ भोजन करती थी
अड़ोस पड़ोस ने उनको दुश्मन बना डाला।
सास बहु के बीच झगडे़ का
क्या खेल रचा डाला।


एक दिन भड़काऊ खेल खत्म हुआ
अड़ोस पड़ोस की बहुओं और 

सासुओं में एकता भंग हो गई।

उनमें तू तू मैं मैं शुरू हो गई 

तब भेद खुला
सास बहु में झगड़ा किसने करवाया?


सास ने बहू को और बहू ने सास को निहारा
बहू ने पुकारा मां मेरी प्यारी मां
सास ने पुकारा बेटी मेरी प्यारी बेटी।


सास बहु दोनों की आंखें नम हो गई
दोनों एक दूसरे के गले मिल गई
बहू ने फिर सास को सराहा
सास ने फिर बहू को गुणवान बताया।


हमारी सोच के विपरीत सास बहु में प्रेम संबंध फिर कायम हो गए
टकराव  खत्म हुआ
दोनों में मजबूत जुड़ाव हो गया।


****
यह कविता  करीब  सन 2000-5 के बीच में लिखी गई थी। यह आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र से प्रसारित हुई थी।**
करणीदानसिंह राजपूत
स्वतंत्र पत्रकार,
सूरतगढ़।
94143 81356.
*******





सोमवार, 10 अगस्त 2020

एक बूंद सबको हर्षा गई - काव्य :करणीदानसिंह राजपूत



एक बूंद
आकाश से टपकी
धूल में जा मिली
पल भर का जीवन था
सबको हर्षा गई।

एक बूंद
स्वाति नक्षत्र में टपकी
सीप में जा समाई
पल भर में जीवन बदला
सच्चा मोती बन गई।

एक बूंद शीशी से टपकी
नाड़ी में समा गई
पल में जीवन को संभाला
सांसे दिला गई।

एक बूंद
दवात से टपकी
पेन में समा गई
पल में उतरे शब्द
चेतना जगा गई।

एक एक से नदियां बनती
एक एक से बनता जीवन
एक एक से बनती शक्ति
एक एक से दुनिया रचती।

****
* यह कविता 1987 -88 के करीब लिखी गई थी। आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र से प्रसारित हुई थी।
*******
करणीदानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
सूरतगढ़.
94143 81356.
*********



भाजपा राजस्थान प्रदेश मंत्री विजेन्द्र पूनिया में सूरतगढ़ का राजनैतिक भविष्य देखती जनता **



*  करणीदानसिंह राजपूत *


भाजपा की राजस्थान प्रदेश कार्यकारिणी में श्रीगंगानगर जिले के सूरतगढ़ क्षेत्र के ग्रामीण अंचल से  विजेन्द्र पूनिया को मंत्री पद पर पहुंचाना बहुत महत्ता रखता है। सूरतगढ़ से इतने शिखर पर पहले कोई नहीं पहुंचा था या इसे यूं कहें कि भाजपा ने इस पद का कार्य करने का दायित्व नहीं सौंपा था।

प्रदेश मंत्री बनने को अहम माना जाने के कारण राजनीति में गंभीर सोच रखने वाले लोग विजेन्द्र पूनिया में सूरतगढ़ का राजनैतिक भविष्य देख रहे हैं। 

राजनीति में भविष्य वाणी या दावा करना भी अहम होता है। लोग साफ सुथरी छवि वाले विजेन्द्र पूनिया में सूरतगढ़ का राजनैतिक भविष्य देखते हैं तो पूनिया को भी इसे गंभीरता से लेते हुए आगे के तीन साल में बहुत कुछ करना होगा। प्रदेश मंत्री पद काम करने कराने के लिए बहुत मजबूत आधार स्तंभ है और भाजपा की देश में मजबूत स्थिति है। 

विजेन्द्र पूनिया को संघ में और भाजपा संगठन में कार्य की पद्धति को उत्तम मानते हुए यह पद सौंपा गया है। कार्यकारिणी के गठन में अन्य नेताओं कार्यकर्ताओं पर भी निश्चित रूप से चर्चा हुई है। 

विजेन्द्र पूनिया के संघ में यानि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भाजपा संगठन में कार्य करने के काल पर दृष्टि डालें तो समझ में आ सकता है कि इस पद पर चयन कैसे हुआ और लोग राजनैतिक भविष्य भी क्यों मान रहे हैं? 

सूरतगढ़ तहसील के संघर गांव में साधारण किसान परिवार में जन्मे विजेन्द्र पूनियां ने स्वयं की मेहनत एवं कार्य के दम पर भारतीय जनता पार्टी राजस्थान की टीम में प्रदेश मंत्री जैसा महत्त्वपूर्ण दायित्व प्राप्त किया है।


विजेन्द्र पूनियां की दसवीं तक स्कूली शिक्षा गांव में ही हुई। 

नौंवी कक्षा में पढाई के दौरान ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक बने। संघ के प्रशिक्षण वर्ग कर सन् 2000 में पूर्णकालिक कार्यकर्ता के रुप में प्रचारक बने। बाङमेर एवं नागौर जिले में संघ के प्रचारक रहे। 2008 तक नागौर जिला प्रचारक रहे। जुलाई 2008 में प्रचारक जीवन से छुट्टी लेकर अपने गांव संघर आ गये ।


राजनीति में स्वच्छ छवि के कारण प्रवेश हुआ। पंचायती राज के चुनावों में 2010 में जिला परिषद के जोन नम्बर 13 से सदस्य निर्वाचित हुए। यहां प्रभावशाली ग्रुप से टक्कर हुई जिसमें जीत हुई।

इसके बाद भारतीय जनता पार्टी के विभिन्न दायित्वों का निर्वहन करते हुए मार्च 2018 में भाजपा की विस्तारक योजना में बीकानेर संभाग के प्रभारी नियुक्त हुए।

पार्टी के प्रति समर्पण, लग्न, कार्यकुशलता को देखते हुए प्रदेश नेतृत्व ने साधारण ग्रामीण परिवेश के कार्यकर्ता को प्रदेश मंत्री जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी। 

पूनिया की पारीवारिक स्थिति पर भी दृष्टि डालें।

किसान बद्रीराम जी और सावित्री देवी के यहां 14 नवम्बर 1980 को संघर में जन्में विजेन्द्र पूनियां ने MBA तक पढाई की है। इनका विवाह श्रीमती कौशल्या से हुआ। ससुराल धौलीपाल जिला हनुमानगढ में है। 

संतान  में दो बेटियां  लक्षिता और  किट्टू  हैं। माता पिता दोनों अभी परिवार और खेती की सार संभाल में पूरा समय देते हैं जिससे विजेन्द्र पूनिया को राजनैतिक और सामाजिक कार्यों के लिए बहुत समय मिल जाता है।

पूनिया की कार्यकुशलता, व्यवहारिकता, पार्टी में अच्छी छवि पहुंच के चलते सूरतगढ़ विधानसभा की जनता इनमें राजनीतिक भविष्य देखती है।oo






रविवार, 9 अगस्त 2020

राजस्थान में भ्रष्टाचार की चुप्पी पर बढती रिश्वतखोरी * सरकार और विपक्ष दोनों ही सख्त नहीं-


** जरूरत मंद पर दबाव डाल कर ली जाती है रिश्वत**

* करणीदानसिंह राजपूत *
राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की भ्रष्टाचार के विरुद्ध कार्रवाईयां बड़े बड़े अधिकारियों की गिरफ्तारियां होने के समाचार आए दिन समाचार पत्रों में और टीवी चैनलों में सचित्र प्रकाशित प्रसारित हो रहे हैं।
आश्चर्य यह है कि इतना कुछ होने के बावजूद कोई रोक-टोक नहीं। कोई जागृति नहीं। रिश्वत का लेना और देना निरंतर जारी है।
बड़े बड़े अधिकारी जिनका वेतन प्रतिमाह लाखों रुपए में है वे भी रिश्वत लेने में अपनी मान मर्यादा का ध्यान नहीं रख रहे।
राजस्थान में रोजाना ही कहीं ना कहीं भ्रष्टाचार के विरुद्ध कार्रवाई होती है, गिरफ्तारियां होती है लेकिन मुख्यमंत्री अन्य मंत्री गण बड़े अधिकारी और जिले के अंदर जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक के मुंह से भ्रष्टाचार करने वालों के विरुद्ध एक शब्द भी सुनने को नहीं मिलता।
यह भी आश्चर्य है कि जब जब गिरफ्तारियां होती है तब तब मंत्रियों अधिकारियों की छोड़ें अन्य राजनीतिक दलों के पदाधिकारी गण बुद्धिजीवियों की तरफ से भी कोई वक्तव्य देखने को पढ़ने को नहीं मिलता।
भ्रष्टाचार में रिश्वत लेना और देना सामान्य भोजन जैसा मान लिया गया है।यह शिथिलता जरूरतमंद लोगों के लिए अभिशाप बनी हुई है। अधिकारीगण काम नहीं करते इसलिए जरूरतमंद व्यक्ति को मजबूरी में और दबाव में रिश्वत के पैसे जुटाने और देने पड़ रहे हैं।
चाहे सामान्य प्रशासन हो शिक्षा विभाग हो पुलिस विभाग हो और अन्य विभागों में भी मॉनिटरिंग होती है अधिकारी होते हैं लेकिन इन अधिकारियों की नजरों में फाईलें नहीं आती। फाईलें पूर्ण होने के बाद भी हस्तक्षरों के लिए पड़ी रहती हैं।
यह भी होता है कि संबंधित बाबू काम पूरा कर लेता है लेकिन इसके बावजूद अधिकारी फाइल पेश करने के लिए आदेश नहीं देता। अधिकारी रिश्वत का दबाव देता है। यदि बाबू फाइल पेश कर देता है तो भी अधिकारी कहता है कि कागजात मांगे जाने पर ही पेश करें और अपनी मनमर्जी से फाइल पेश कैसे कर दी। इस तरीके से यह फाइल संबंधित बाबुओं के ही पास पड़ी रहती है।
एक सुझाव काफी समय से चलता रहा है कि हर संबंधित बाबू और अधिकारी इंजीनियर का
हस्ताक्षर पूरा हो उसके नीचे उसकी मोहर हो और तारीख और समय हो। ऐसी हालत में फाइल जहां रुकेगी वह जिम्मेदार होगा लेकिन भ्रष्टाचार के चकाचौंध में यह सुझाव सिरे नहीं चढ़ पाय। इस सुझाव में हस्ताक्षर की घुग्गी मार कर बचने वाले भी जांच आदि में बच नहीं सकते।
इस सुझाव में कोई कमी नहीं है लेकिन इस पर सरकार के दिग्गज मंत्री और प्रशासनिक अधिकारी भी जानबूझकर कार्य करना नहीं चाहते। सरकार ऐसे निर्देश के सर्कुलर जारी नहीं करना चाहती।
अधिकारियों के निरीक्षण के समय सभी प्रकार के निर्देश समाचार पत्रों में छपते हैं लेकिन किसी भी अधिकारी का यह निर्देश नहीं छपता कि उसने रिश्वत नहीं लेने का निर्देश दिया है।
उसने कठोरता से कहा है कि भ्रष्टाचारियों को बख्शा नहीं जाएगा।
*राजस्थान के हर जिले के लिए प्रभारी मंत्री और प्रभारी सचिव  है। ये भी जिलों में एक दो दिन के लिए साल भर में पांच छह बार पहुंचते हैं,मगर इनके मुख और कार्वाई से भ्रष्टाचार रिश्वतखोरी पर रोक लगाने जैसा समाचार नहीं मिलता।*

मंत्रियों,अधिकारियों और राजनीतिक नेताओं और अन्य बुद्धिमानों की यह शिथिलता भी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रही है।००
9 अगस्त 2020.
लेख- 


करणीदानसिंह राजपूत
स्वतंत्र पत्रकार( सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)
सूरतगढ़
94143 81356.
*********




मंगलवार, 4 अगस्त 2020

* राम राज के सूर्योदय को नमन करें: काव्य- करणीदानसिंह राजपूत.



रामराज की सोच से ही 

दूर होगा अमावस्या जैसा अंधकार।


अंधकार में देव जैसे लोग पीड़ित 

और पीड़ित हैं देवी जैसी नारियां।

युवा वर्ग भटकता घूम रहा

छाया है चारों और भ्रष्टाचार।


आपाधापी और 

भाई भतीजावाद का 

अंधियारा

देश की उन्नति और विकास की

राह से कोई सरोकार नहीं।


एकदूजे को पछाड़ने में लगे 

सभी को है कुर्सी प्यारी

उसके धोखे में जी रहे हैं।


दीप जलाने की आड़ में भी

काले ही काले कर्म 

करते जा रहे हैं।

दूसरों को नीचा दिखलाते

सब हड़प करते जा रहे हैं।


राम का सा कार्य नहीं

रावण का अभिनय 

सुखद लगता है।

वे ऐसी विचारधारा को

पनपाने लगे हैं।


ऐसे दुष्कर्मों  से समाज और

राष्ट्र को हो रही हानि।

घरों में भी राम जैसे विचार की 

बातें रुक गई।


कहते हैं कलयुग,

घोर कलयुग खत्म 

हो रहा है।


सतयुग आ रहा है

यह कब कैसे आएगा

रामराज की सोच से 

यह परिवर्तन छाएगा।


दूर होगा घनघोर अंधकार

मुक्त होंगे पीड़ित प्राणी

बढे़गा प्रेम चारों ओर

मिटेगी आपाधापी।


समाज चहकेगा 

राष्ट्र महकेगा

राम की सोच से 

मिटेगा अंधियारा।


आओ,

घर घर,डगर डगर 

राम की सोच कायम करें।


रामराज से ही होगा कायापलट। 

आओ,

देश और दुनिया का 

निर्माण करें।


आओ, दूर करें अंधियारा

राम राज के 

सूर्योदय को 

नमन करें।


राम राज के

सूर्योदय को 

नमन करें।

********

करणीदानसिंह राजपूत,

पत्रकार,
सूरतगढ़।

*****


यह कविता 20 जनवरी 2004 को आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र पर  रिकॉर्ड हुई और 29 जनवरी 2004 को प्रसारित की गई थी।००

***





रविवार, 2 अगस्त 2020

रक्तदान महादान मरणोपरांत देहदान सबसे महान* काव्य- करणीदानसिंह राजपूत.


रक्तदान महादान
मरणोपरांत देहदान सबसे महान।

आओ इनकी अलख जगाएं
चेतन सबको करें
अग्रसर करें मानव सेवा को।
जीवन संघर्ष के अनमोल क्षणों में 
आवश्यकता पड़ जाए
जब लाल रक्त की
बीमार घायल प्रसूता और नवजात
सब के सब लाचार।

कहां से आए रक्त
कहां से लाएं रक्त
पीड़ा और बेबसी में
कहां से खोजे रक्तदाता।

जीवन के इन अनमोल क्षणों में
विनती हो जब रक्तदान की
कई बार परिजन भी कर देते बहाना।

ऐसे विकट काल में करें रक्तदान
किसी को करें जीवनदान
कौन अपना है कौन पराया
यह तो होता समय का फेरा।

निस्वार्थी बन करदें सेवा
विकट काल में कर देंं सेवा।
आओ जन,
जीवनदाता बनने को
रक्तदान करने को
घर-घर में अलख जगाएं।
इस धरती पर अनेक लोग हैं
और हैं अनेक संस्थाएं
कामकाज उनका देवदूत सा
अलख जगाती जीवनदान का।
अलख जगाती रक्तदान का,
मरणोपरांत देहदान का।
रक्तदान महादान
मरणोपरांत देहदान सबसे महान।
आओ,
 रक्तदान की अलख जगाएं
 लोगों को प्रेरित करें आगे लाएं।
रविवार हो या कोई अवकाश
कोई त्यौहार हो या जन्मदिन
जयंती हो पुण्यतिथि हो
रक्तदान का शिविर लगाएं
पीड़ितों की जान बचाएं।

मेरा इलाका दानी महादानी
सबसे आगे सबसे महान
आओ,पूजें उन लोगों को
जो करते हैं रक्तदान
जो कर गए देहदान
शरीर संरचना शिक्षा के खातिर
कर गए देहदान।

मैं कैसे उनके नाम गिनाऊं
उनके नाम तो यहां गली गली
कूचे कूचे में भरे पड़े हैं।

मेरा इलाका दानी महादानी
किस-किस के मैं नाम बताऊं।
आओ,
अलख जगाएं रक्तदान की
अलख जगाएं मरणोपरांत देहदान की।*
*****

करणीदानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
सूरतगढ़
9414381356.
******

यह कविता आकाशवाणी के सूरतगढ़ केन्द्र से 2007-8 के करीब प्रसारित हुई थी।( मामूली सा संशोधन). 
मैं सूरतगढ़ की संस्थाओं का आभारी हूं जिनकी प्रेरणा से यह कविता उत्पन्न हुई लिखी गई। आकाशवाणी केंद्र और स्टाफ का भी आभारी हूं जिन्होंने इसे रिकॉर्ड किया और प्रसारित किया।
********
आपके आसपास के रक्तबैंक में रक्तदान करें। शिविर लगे उसमें रक्तदान करें। अन्य जन को भी प्रेरित करें।
- करणीदानसिंह राजपूत.

यह ब्लॉग खोजें