मंगलवार, 7 जुलाई 2020

भाजपा और कांग्रेस के प्रदर्शन,धरना स्वागत आदि पर लाकडाउन नियमों के मुकदमें हों- मुख्यमंत्री को पत्र.


* विशेष समाचार
राजस्थान में कोरोना संक्रमण निरंतर फैल रहा है। संक्रमण प्रभावितों की संख्या बढ रही है।
पिछले एक माह से भारतीय जनता पार्टी और इंडियन नेशनल कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा किसी घटना पर विरोध,अपनी पार्टी निर्देश पर स्वागत,पैम्फलेट्स,अपील,आदि भीड़ एकत्रित कर प्रदर्शन,ज्ञापन,धरना आदि लगाए जा रहे हैं। उनके फोटो भी अखबारों में छपते रहे हैं। सोशल साइटों पर भी प्रसारित होते रहे हैं।
* हर स्थान का प्रशासन और पुलिस इन दोनों ही पार्टियों के नेताओं पर कानून तोड़ने पर कार्यवाही नहीं कर रहा। राज्य सरकार के निर्देशों को प्रशासन और पुलिस की ढील ने मजाक बना कर रख दिया है।
** संबंधित क्षेत्र स्थान के एसडीएम,एडीएम,जिला कलेक्टर को और स्थानीय पुलिस थाना,पुलिस उप अधीक्षक और जिला पुलिस अधीक्षक को सख्त कार्यवाही करने भारतीय संहिता के तहत मुकदमें दर्ज करने का सख्त निर्देश दिया जाए।
*** भीड़ इकट्ठी हो वहां सरकारी अधिकारियों के जाने ज्ञापन लेने के कार्यप्रणाली पर तुरंत रोक लगाई जाए। ऐसे मौकों पर पुलिस को भेजा जाए और उपस्थित जनों पर कानूनी कार्यवाही हो। पुलिस अपने कैमरों आदि से वीडियोग्राफी करवाए।
**** सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के पीआरओ की ड्यूटी भी लगाई जाए कि भीड़ और ऐसी न्यूज की कटिंग और ब्यौरा बिना विलंब के जिला कलेक्टर को प्रस्तुत करे।
***** भीड़ भाड़ से कोरोना फैलने का खतरा है।सरकार प्रचार कर रही है तो अधिकारी व पुलिस नींद में क्यों हैं? ऐसे मामलों की सूचना देने पर भी अधिकारी कानूनी कार्यवाही करने के बजाय सूचनाएं दबाते हैं। कितनी ही सूचनाएं प्रमाणित और फोटोज के होते हुए भी फाईलों में पड़ी हैं,उनको भी दिखवालें और अधिकारियों पर कार्यवाही करें।
****** राजस्थान में कोरोना रोकना है खत्म करना है तो शीघ्र ही सख्त आदेश जारी करें। यह पत्र स्वतंत्र पत्रकार करणीदानसिंह राजपूत ने सात जुलाई 2020 को लिखा और मेल भिजवा दिया।०००

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें