सोमवार, 15 जून 2020

आगे आएं. स्वयं बताए. जांच कराएं. कोरोना से खुदको, परिवारको व समाजको बचाएं



श्रीगंगानगर, 15 जून 2020.

 जिला कलक्टर  ने कहा है कि  कोविड-19 के दौरान जिले में जो भी नागरिक यात्रा कर आ रहे है, वे आगे आए, स्वयं बताए तथा जांच कराए, जिससे वे स्वयं इस महामारी से बचेंगे व परिवार व समाज को बचाने में सहयोग करेंगे। 


जिला कलक्टर ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के दौर में विशेष रूप से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा से आने वाले नागरिकों को स्थानीय प्रशासन को सूचना देनी होगी, जिससे उन्हें उचित जांच व परामर्श देकर संक्रमण से बचाया जा सके।

 उन्होंने कहा कि जो नागरिक कन्टेनमेन जोन में है या कोरोना के कोई लक्षण है, तो नजदीक के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर जांच करवानी चाहिए। अन्य राज्यों से आने वाले नागरिकों को आवश्यक रूप से सूचना देकर जांच करवानी होगी। 

राज्य के अन्य जिलों से आने वाले नागरिकों में कोरोना के कोई भी लक्षण हों तो उन्हे जांच करवानी चाहिए। 

जिला कलक्टर ने बताया कि जिले में 25 कोरोना संक्रमित नागरिकों में 23 नागरिकों की ट्रेवल्स हिस्ट्री है, जिनमें से 20 संक्रमित दिल्ली से, दो मुम्बई से व एक बीकानेर से है। उन्होने कहा कि विशेष रूप से दिल्ली से आने वाले नागरिकों को बिना किसी देरी व एक जागरूक नागरिक की तरह तत्काल जानकारी देनी चाहिए, जिससे उन्हे इस महामारी से बचाया जा सके। 

श्री नकाते ने बताया कि सादुलशहर क्षेत्र में अमरगढ, अलीपुर व पतली के रास्ते से होकर आने वाले नागरिकों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सादुलशहर में नमूने लेने की व्यवस्था की गई है, ऐसे नागरिकों को सीएससी में जाकर जांच करवानी होगी। इसके पश्चात उन नागरिकों को होम क्वारनटाईन में रहना होगा। साधुवाली सड़क मार्ग से आने वाले नारिकों के जांच नमूना लेने की व्यवस्था प्रेरणा हास्पीटल में की गई है। बाहरी नागरिकों को होम क्वारनटाइन में रहना होगा। होम क्वारनटाईन के समय परिवार के सदस्यों से जरूरी सावधानियां रखनी होगी। किसी नागरिक के घर में होम क्वारनटाईन की जगह नही है, ऐसे नागरिकों को संस्थागत क्वारनटाईन किया जाएगा। उन्होने कहा कि दिल्ली क्षेत्र में संक्रमण ज्यादा होने के कारण दिल्ली से आने वाले नागरिकों पर विशेष निगरानी रखने के निर्देश दिए है।

 जिला कलक्टर ने समस्त एसडीएम को निर्देश दिए है कि शहरों व गांवों में बीएलओ, गठित समितियों को भी अलर्ट रखे। जिन नागरिकों के नमूने लिए जाएंगे, उनमें से संक्रमित पाए जाने पर उपचार के लिए बुलाया जाएगा, अन्यथा नागरिक अपने घर पर ही रहेंगे। कुछ लोगों द्वारा संस्थागत क्वारनटाईन में भुगतान के आधार पर होटल की सुविधा चाहने पर उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होने कहा कि कुछ समय पूर्व जो प्रवासी आए है तथा उनकी जांच नेगेटिव है, उन्हे भी शेष दिन के लिए होम क्वारनटाईन में रहना होगा। किसी व्यक्ति का संक्रमण पाॅजिटिव आने के बाद नेगेटिव आने पर कफ्र्यू क्षेत्र से आते है, तो उन्हे होम क्वारनटाईन में रखा जा सकता है। किसी नागरिक में लक्षण में नही है और जांच रिपोर्ट भी नेगेटिव है, उन्हे होम क्वारनटाईन की अवधि पूरी करनी होगी। 

*****

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें