रविवार, 28 जून 2020

तीस करोड़ रुपए की लागत वाला कॉम्प्लेक्स सीज। स्वीकृति के अनुसार निर्माण नही.

👌


* एस.पी.मित्तल*


कॉम्प्लेक्स में भाजपा सांसद के पुत्र की सांझेदारी। 

कानून से ऊपर कोई नहीं-विधायक टाक। 

विधायक सुरेश टाक की बिल्डिंग भी अवैध है-सांसद भागीरथ चौधरी।

कांग्रेस की श्रद्धांजलि सभा में हंगामा। 

==============

26 जून को अजमेर के किशनगढ़ उपखंड में कोई 30 करोड़ रुपए की लागत वाले 103 दुकानें के कॉम्प्लेक्स को नगर परिषद ने सीज कर दिया। परिषद के आयुक्त विकास कुमावत ने बताया कि यह कॉम्प्लेक्स निर्माण स्वीकृति के विपरीत बना है। कुमावत ने कहा कि जांच के बाद शहर के अन्य अवैध कॉम्प्लेक्स भी सीज किए जाएंगे। 

इस कॉम्प्लेक्स के सीज होने के साथ ही किशनगढ़ के राजनीतिक माहौल में अचानक गर्मी आ गई।

 

असल में मैसर्स एचएम एंटरप्राइजेज ने मिल चौराहे पर दो भूखंड खरीदे। इन्हीं भूखंडों पर 103 दुकानों का कॉम्प्लेक्स बनाया। 

 अब इस कॉम्प्लेक्स की दुकानों को 10 लाख से लेकर 50 लाख रुपए तक में बेचा जा रहा है। आरोप है कि कॉम्प्लेक्स के सांझेदारों ने नगर परिषद से एक मंजिल के निर्माण की अनुमति ली, लेकिन मौके पर तीन मंजिल का कॉम्प्लेक्स खड़ा कर लिया। मैसर्स एचएम एंटरप्राइजेज में अजमेर के भाजपा सांसद भागीरथ चौधरी के पुत्र सुभाष चौधरी की भी सांझेदारी है। 

इसलिए सीज की कार्यवाही को राजनीतिक नजरिए से देखा जा रहा है। कॉम्प्लेक्स में सुभाष चौधरी के साथ साथ किशनगढ़ के अमित कुमार जैन, संजय पालड़ीवाल, पुनीत कुमार जैन व लक्ष्मण भी सांझेदार है। 

यह काम्प्लेक्स भाजपा के शासन में तैयार हो गया था, लेकिन तब प्रशासन के किसी भी अधिकारी ने कॉम्प्लेक्स के निर्माण को रुकवाने की हिम्मत नहीं दिखाई। जबकि यह कॉम्प्लेक्स किशनगढ़ के एसडीएम के सरकारी बंगले से सटा हुआ है। आरोप है कि एसडीएम के बंगले की ओर भी नियमानुसार सेटबैक नहीं छोड़ा गया है।

इस संबंध में किशनगढ़ के विधायक सुरेश टाक का कहना है कि कोई भी व्यक्ति कानून से ऊपर नहीं है। जनप्रतिनिधियों से यह अपेक्षा की जाती है कि नियमों के अनुरूप ही काम करें। यदि कोई जनप्रतिनिधि कानून के विरुद्ध काम करेगा तो जनता के बीच गलत संदेश जाएगा। टाक ने कहा कि कॉम्प्लेक्स को सीज करवाने में उनका कोई दबाव नहीं रहा है। नगर परिषद ने नियमों के अनुरूप कार्यवाही की है। यदि किशनगढ़ में इस तरह के और अवैध निर्माण है उन्हें भी सीज किया जाना चाहिए। 


विधायक की बिल्डिंग भी अवैध-सांसद:

वहीं सांसद भागीरथ चौधरी ने कॉम्प्लेक्स को सीज किए जाने की कार्यवाही को राजनीति से प्रेरित बताया। चौधरी ने कहा कि यह कॉम्प्लेक्स कॉमर्शियल भूखंड पर बना हुआ है। हो सकता है कि कुछ निर्माण स्वीकृत नक्शे के अतिरिक्त हो। लेकिन किशनगढ़ में ऐसे बहुत से निर्माण है, जो सरकारी जमीन पर हैं या फिर कृषि भूमि पर बने हुए हैं। चौधरी ने कहा कि किशनगढ़ के ऐसे कॉम्प्लेक्सों को लेकर विधायक सुरेश टाक ने लिखित में शिकायत की है। जबकि टाक की बिल्डिंग भी नियमों के विपरीत बनी है। 

सांसद ने कहा कि नगर परिषद को अब सभी अवैध निर्माणों पर कार्यवाही करनी चाहिए। जहां तक कॉम्प्लेक्स में उनके पुत्र की सांझेदारी का सवाल है तो मेरा पुत्र स्वतंत्र रूप से अपना व्यवसाय करता है। नियमानुकूल व्यवसाय करना कोई गुनाह नहीं है। सांसद चौधरी ने कहा कि वे दो बार किशनगढ़ के विधायक रहे लेकिन उन्होंने कभी भी औछी राजनीति नहीं की। 

(एस.पी.मित्तल) (26-06-2020.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें