शनिवार, 27 जून 2020

रेलगाड़ियां चलाने की मांग को लेकर 4 जुलाई से आंदोलन की चेतावनी



*करणीदानसिंह राजपूत*
सूरतगढ़, 27 जून 2020.
विभिन्न राजनैतिक सामाजिक संगठनों से जुड़े हुए चुनिंदा नेताओं कार्यकर्ताओं ने कोरोना लाकडाउन के चक्कर में बंद की गई रेलों को शुरू करने की मांग को लेकर रेलवे प्रशासन को एक चेतावनी पत्र दिया है।
इस चेतावनी पत्र में लिखा गया है कि पहले एक पत्र 2 जून को दिया गया था और अब रेलें  चलाई जाए अन्यथा 4 जुलाई से आंदोलन की शुरुआत की जाएगी।
लॉकडाउन काफी खुल गया। श्रमिक ट्रेनों को चलाया गया है।
ऐसे में इस इलाके में रेलवे बंद है और श्रीगंगानगर जिले में राजस्थान के कई स्थानों पर बसों का आना-जाना शुरू हो चुका है।
आज 27 जून को प्रबुद्ध नागरिकों की ओर से स्टेशन अधीक्षक को ज्ञापन उत्तर पश्चिम रेलवे के बीकानेर मंडल अधीक्षक को भेजा गया है और महाप्रबंधक को इसकी कॉपी दी गई है।


नागरिकों की ओर से श्री गंगानगर हनुमानगढ़ सूरतगढ़ क्षेत्र में चलने वाली पैसेंजर और एक्सप्रेस गाड़ियों का तथा दूरस्थ जाने वाली सूरतगढ़ को क्रॉस करने वाली एक्सप्रेस रेलगाड़ियों का भी हवाला दिया गया है। गाड़ियों के नंबर दिए गए हैं जिनके चलाने की मांग की गई है।
यह गाड़ियां श्री गंगानगर हनुमानगढ़ और सीमा क्षेत्र के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं।
इन गाड़ियों में
बाड़मेर हरिद्वार लिंक एक्सप्रेस, हनुमानगढ़ कोटा सुपरफास्ट जो श्रीगंगानगर से भीलवाड़ा तक चलती है,
अहमदाबाद जम्मू तव्वी जिसका भी विस्तार हुआ है। 
इनके अलावा सूरतगढ़ से जयपुर पैसेंजर गाड़ी,श्री गंगानगर सूरतगढ़, सूरतगढ़ अनूपगढ़ आने जाने वाली पैसेंजर गाड़ियों के चलाने की मांग की गई है। मुद्दा यह दिया गया है की बसें चल रही है।
स्टेशन अधीक्षक को यह ज्ञापन बलराम वर्मा के नेतृत्व में दिया गया। बलराम वर्मा वर्तमान में कांग्रेस के जिला उपाध्यक्ष हैं। इनके अलावा कांग्रेसी अंकुश गाबा, नौरंगसिंह राजपूत,विमलसिंह राजपूत,एडवोकेट ललित शर्मा, हरनेक सिंह मान
,बसपा के अमित कल्याणा, ब्लॉग राइटर हेमंत चांडक,कुलदीप सिंह, पवन कुमार, गुरचरण सिंह कंबोज, राजेश कुमार और संजय की ओर से दिया गया।००





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें