गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

श्रीगंगानगर- अन्य राज्यों की सहमति से ही वाहन रवाना करे. मुख्यमंत्री की हुई वीसी


श्रीगंगानगर, 30 अप्रैल 2020.
जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने कहा कि अन्य राज्यों के श्रमिकों को संबंधित राज्य से स्वीकृति के पश्चात ही नागरिकों को रवानगी दे। श्रीगंगानगर जिले से होकर पंजाब, हरियाणा की तरफ जाने वाले वाहन संबंधित राज्य की सहमति के बिना श्रीगंगानगर सीमा पर अनावश्यक समय लग सकता है।
जिला कलक्टर गुरूवार को माननीय मुख्यमंत्री एवं राजस्थान सरकार के उच्च अधिकारियों की वीसी के दौरान यह बात कही। उन्होने कहा कि जैसलमेर व अन्य जिलों से आए अधिकांश नागरिक संबंधित राज्यों में चले गये है। जिला कलक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिले में राजस्थान के अन्य जिलों के नागरिक अगर जाना चाहे तो उन्हे जाने की अनुमति दी जाए।
जिला कलक्टर ने कहा कि अन्य जिलों व राज्यों से आने वाले नागरिकों का सीमा पर शत प्रतिशत स्वास्थ्य परिक्षण किया जाए। कोई नागरिक में लक्षण नजर आते है तो उसे सीएससी में आवश्यक जांच की जाए तथा शेष नागरिकों को अपने-अपने घर जाने व 14 दिन होम क्वारनटाइन की पालना सुनिश्चित करने के लिए पाबंद किया जाए तथा उनके माबाईल में कोविड-19 राजस्थान एप डाउनलोड करवाया जाए। जिन नागरिकों के घरों में जगह नही है, उन्हे संस्थागत क्वारनटाइन किया जाएगा।
उन्होने कहा कि जिले की चिकित्सा व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक भवन, उपकरण इत्यादि संसाधनों के प्रस्ताव तैयार किये जाए। आमजन की सुरक्षा के लिए
त्रिस्तरीय चिकित्सा सुविधा विकसित करनी होगी। उन्होने कहा कि जिले में 250 रेण्डम सैंपल लिए जाने है। चिकित्सा अधिकारी विभिन्न क्षेत्र में रेण्डम नमूने ले।
*ई-मित्रा पर घर बैठक ही पंजीयन किया जा सकता है*
  जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोविड-19 के दौरान ई-मित्रा पोर्टल पर कोविड-19 प्रवासी पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध है। प्रवासी नागरिक को पोर्टल पर सर्वप्रथम पंजीकरण करवाना होगा। राज्य से बाहर के नागरिक, अन्य जिलों के नगारिक, मजदूर व छात्र कोविड-19 माईग्रेट रजिस्ट्रेशन ई-मित्रा पोर्टल पर घर बैठे पंजीयन कर सकते है।
उन्होने बताया कि माईग्रेट रजिस्ट्रेशन सर्विस फार्म में सर्वप्रथम माईग्रेट मूवमेंट में अगर कोई राजस्थान में आना चाहता है, तो इन वर्ड (टू राजस्थान) आॅपशन का, अगर कोई राजस्थान से आहर जाना चाहता है तो आउट वर्ड (टू अदर स्टेट) आॅपशन का चयन करेंगे। इसमें आॅन ट्रांसपोर्ट अवलेबल का मतलब है कि अगर नागरिक स्वयं के साधन से आना चाहता है, तो यश पर क्लिक करे और वाहन की सूचना दर्ज करे। मूवमेंट डेट में वो दिनांक डाली जाएगी जिस दिन परिवहन करना चाहता है और इसमें सरकार द्वारा बदलाव भी किया जा सकता है। पते का स्रोत का मतलब होता है कि नागरिक वर्तमान में कहा रह रहा है तथा नागरिक को डेस्टीनेशन एड्रेस का मतलब नागरिक को कहां जाना है। अगर नागरिक माईग्रेट मूवमेंट में इनवर्ट आॅपशन का चयन करता है तो डेस्टीनेशन एड्रेस में राजस्थान का पता आएगा। अगर आप माईग्रेट मूवमेंट में आउट वर्ड का चयन करते है तो पता स्रोत में राजस्थान का पता आएगा।
जिला कलक्टर ने बताया कि ई-मित्रा पोर्टल पर प्रार्थना पत्र की वस्तु स्थिति की भी जानकारी मिलती रहेगी।
उन्होने बताया कि ई-मित्रा पोर्टल पर पंजीयन के लिए नागरिक को ई-मित्रा पर जाने की आवश्यकता नही है, स्वयं घर बैठे ही पंजीयन कर सकते है।
पंजीकरण के पश्चात संबंधित राज्यों से बात होगी तथा वे अपने नगारिकों को लेना चाहते है कि स्वीकृति मिलने के बाद स्वयं के वाहन से, बस या अन्य साधन से संबंधित राज्य के शिविर स्थल तक की व्यवस्था होगी। मोबाईल पर किसी प्रकार की सूचना नही आने तक नागरिक अपने घर से बाहर नही जाएंगे। जिस राज्य या जिले में जाएंगे, वहां 14 दिन का क्वारनटाइन समय होगा। इस जिले से संबंधित नागरिकों को भी जिले में आने पर मेडिकल स्क्रीनिंग के साथ-साथ 14 दिन का होम क्वारनटाइन किया जाएगा। 
ई-मित्रा पोर्टल शुरू
कोविड-19 माईग्रेट रजिस्ट्रेशन के लिए सर्विस के लगाए गए फार्म का वर्तमान स्टे्टस लिंक पर देखा जा सकता है। लिंक में आवेदक के माबाईल नम्बर या रिसिप्ट नम्बर डालने पर वर्तमान स्टे्टस की जानकारी मिल सकेगी। लिंक http://reportsemitraapp.rajasthan.gov.in/emitraReportsApps/covid19MigrentRegistration है।
वीसी में पुलिस अधीक्षक श्री हेमन्त शर्मा सहित प्रशासनिकि अधिकारी उपस्थित थे।
------------

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें