गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

श्रीगंगानगर-अन्तराज्यीय नागरिक आवागमन-नागरिक भेजने वाले व प्राप्त करने वाले क्षेत्र की सहमति जरूरी


श्रीगंगानगर, 30 अप्रैल 2020. भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबन्धन कानून के तहत विभिन्न राज्यों से श्रमिक, पर्यटक व छात्रों के अन्तराज्यीय आवागमन को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश जारी करने के साथ-साथ कडाई से पालना करने के निर्देश दिए है।

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने बताया कि लाॅकडाउन के दौरान धारा 17 के तहत नागरिकों के मूवमंेट को लेकर जारी निर्देशों की पालना करनी होगी। अन्य राज्यों से आने वाले नागरिकों एवं जिले से बाहर जाने वाले नागरिकों का पंजीयन करना होगा। समूह के रूप में कोई नागरिक किसी दूसरे राज्य में जाना चाहते है तो भेजने वाले व प्राप्त करने वाले के मध्य विचार-विमर्श के बाद आपसी सहमति से ही नागरिकों का सड़क पर आवागमन हो सकेगा। नागरिकों को भेजने व लेने में निर्धारित प्रोटोकाॅल की पालना करनी होगी।

उन्होने बताया कि नागरिकों के समूह को भेजने के लिए काम में ली जाने वाली बस, वाहन को पूरी तरह सेनेटाइज करना होगा तथा सुरक्षित सोशल डिस्टेंसिंग की पालना सीटों के मध्य करनी होगी। जो नागरिक जिस क्षेत्रा में पहुंचेेंगे वहां स्थानीय चिकित्सा दल द्वारा स्क्रीनिंग करने के साथ-साथ उन नागरिकों को होम क्वारनटाइन किया जाएगा तथा आने वाले नागरिकों का पूरा रिकार्ड संधारित किया जाएगा तथा समय-समय पर इनका स्वास्थ्रू परिक्षण भी किया जाना चाहिए। बाहर से आने वाले प्रत्येक नागरिक के एण्ड्रोयड मोबाईल पर आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करवाए, जिससे उनके स्वास्थ्य स्टे्टस को मानिटर्रिंग व ट्रेस किया जा सकेगा। 

-----------


श्रीगंगानगर- अन्य राज्यों की सहमति से ही वाहन रवाना करे. मुख्यमंत्री की हुई वीसी


श्रीगंगानगर, 30 अप्रैल 2020.
जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने कहा कि अन्य राज्यों के श्रमिकों को संबंधित राज्य से स्वीकृति के पश्चात ही नागरिकों को रवानगी दे। श्रीगंगानगर जिले से होकर पंजाब, हरियाणा की तरफ जाने वाले वाहन संबंधित राज्य की सहमति के बिना श्रीगंगानगर सीमा पर अनावश्यक समय लग सकता है।
जिला कलक्टर गुरूवार को माननीय मुख्यमंत्री एवं राजस्थान सरकार के उच्च अधिकारियों की वीसी के दौरान यह बात कही। उन्होने कहा कि जैसलमेर व अन्य जिलों से आए अधिकांश नागरिक संबंधित राज्यों में चले गये है। जिला कलक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार जिले में राजस्थान के अन्य जिलों के नागरिक अगर जाना चाहे तो उन्हे जाने की अनुमति दी जाए।
जिला कलक्टर ने कहा कि अन्य जिलों व राज्यों से आने वाले नागरिकों का सीमा पर शत प्रतिशत स्वास्थ्य परिक्षण किया जाए। कोई नागरिक में लक्षण नजर आते है तो उसे सीएससी में आवश्यक जांच की जाए तथा शेष नागरिकों को अपने-अपने घर जाने व 14 दिन होम क्वारनटाइन की पालना सुनिश्चित करने के लिए पाबंद किया जाए तथा उनके माबाईल में कोविड-19 राजस्थान एप डाउनलोड करवाया जाए। जिन नागरिकों के घरों में जगह नही है, उन्हे संस्थागत क्वारनटाइन किया जाएगा।
उन्होने कहा कि जिले की चिकित्सा व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक भवन, उपकरण इत्यादि संसाधनों के प्रस्ताव तैयार किये जाए। आमजन की सुरक्षा के लिए
त्रिस्तरीय चिकित्सा सुविधा विकसित करनी होगी। उन्होने कहा कि जिले में 250 रेण्डम सैंपल लिए जाने है। चिकित्सा अधिकारी विभिन्न क्षेत्र में रेण्डम नमूने ले।
*ई-मित्रा पर घर बैठक ही पंजीयन किया जा सकता है*
  जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार कोविड-19 के दौरान ई-मित्रा पोर्टल पर कोविड-19 प्रवासी पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध है। प्रवासी नागरिक को पोर्टल पर सर्वप्रथम पंजीकरण करवाना होगा। राज्य से बाहर के नागरिक, अन्य जिलों के नगारिक, मजदूर व छात्र कोविड-19 माईग्रेट रजिस्ट्रेशन ई-मित्रा पोर्टल पर घर बैठे पंजीयन कर सकते है।
उन्होने बताया कि माईग्रेट रजिस्ट्रेशन सर्विस फार्म में सर्वप्रथम माईग्रेट मूवमेंट में अगर कोई राजस्थान में आना चाहता है, तो इन वर्ड (टू राजस्थान) आॅपशन का, अगर कोई राजस्थान से आहर जाना चाहता है तो आउट वर्ड (टू अदर स्टेट) आॅपशन का चयन करेंगे। इसमें आॅन ट्रांसपोर्ट अवलेबल का मतलब है कि अगर नागरिक स्वयं के साधन से आना चाहता है, तो यश पर क्लिक करे और वाहन की सूचना दर्ज करे। मूवमेंट डेट में वो दिनांक डाली जाएगी जिस दिन परिवहन करना चाहता है और इसमें सरकार द्वारा बदलाव भी किया जा सकता है। पते का स्रोत का मतलब होता है कि नागरिक वर्तमान में कहा रह रहा है तथा नागरिक को डेस्टीनेशन एड्रेस का मतलब नागरिक को कहां जाना है। अगर नागरिक माईग्रेट मूवमेंट में इनवर्ट आॅपशन का चयन करता है तो डेस्टीनेशन एड्रेस में राजस्थान का पता आएगा। अगर आप माईग्रेट मूवमेंट में आउट वर्ड का चयन करते है तो पता स्रोत में राजस्थान का पता आएगा।
जिला कलक्टर ने बताया कि ई-मित्रा पोर्टल पर प्रार्थना पत्र की वस्तु स्थिति की भी जानकारी मिलती रहेगी।
उन्होने बताया कि ई-मित्रा पोर्टल पर पंजीयन के लिए नागरिक को ई-मित्रा पर जाने की आवश्यकता नही है, स्वयं घर बैठे ही पंजीयन कर सकते है।
पंजीकरण के पश्चात संबंधित राज्यों से बात होगी तथा वे अपने नगारिकों को लेना चाहते है कि स्वीकृति मिलने के बाद स्वयं के वाहन से, बस या अन्य साधन से संबंधित राज्य के शिविर स्थल तक की व्यवस्था होगी। मोबाईल पर किसी प्रकार की सूचना नही आने तक नागरिक अपने घर से बाहर नही जाएंगे। जिस राज्य या जिले में जाएंगे, वहां 14 दिन का क्वारनटाइन समय होगा। इस जिले से संबंधित नागरिकों को भी जिले में आने पर मेडिकल स्क्रीनिंग के साथ-साथ 14 दिन का होम क्वारनटाइन किया जाएगा। 
ई-मित्रा पोर्टल शुरू
कोविड-19 माईग्रेट रजिस्ट्रेशन के लिए सर्विस के लगाए गए फार्म का वर्तमान स्टे्टस लिंक पर देखा जा सकता है। लिंक में आवेदक के माबाईल नम्बर या रिसिप्ट नम्बर डालने पर वर्तमान स्टे्टस की जानकारी मिल सकेगी। लिंक http://reportsemitraapp.rajasthan.gov.in/emitraReportsApps/covid19MigrentRegistration है।
वीसी में पुलिस अधीक्षक श्री हेमन्त शर्मा सहित प्रशासनिकि अधिकारी उपस्थित थे।
------------

बुधवार, 29 अप्रैल 2020

कोविड-19-मिशन लाईफ सेविंग-जिला कलक्टर ने चिकित्सा विभाग को दिये निर्देश



^^ करणीदानसिंह राजपूत ^^
श्रीगंगानगर, 29 अप्रैल2020.
जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा संयुक्त राष्ट्र द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण को महामारी घोषित करने से उत्पन स्थिति के परिपेक्ष्य में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव, रोकथाम, इसके संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने तथा इसके संक्रमण को न्यूनतम किये जाने हेतु व्यापक लोकहित में केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा सभी संभव प्रयास किये जा रहे है।
श्री नकाते ने बताया कि इस क्रम में कंटेनमेंट जोन में आईसीएमआर गाईड लाईन के अनुसार की जा रही जांचों को पूर्व की भांति यथावत जारी रखते हुए राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 संक्रमण से होने वाली मौतों की संख्या, मृत्युदर को न्यूनतम रखने, संक्रमण से ग्रस्त रोगियों व हाईरिस्क गु्रप के व्यक्तियों के जीवन को बचाने हेतु मिशन लाईफ सेविंग प्रारम्भ किया जा रहा है। जिला कलक्टर ने प्रमुख चिकित्सा अधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया है कि कोविड-19 संक्रमण से होने वाली मौतों की संख्या को न्यूनतम रखने, संक्रमण से ग्रस्त रोगियों व हाईरिस्क गु्रप के व्यक्तियों के जीवन को बचाने हेतु मिशन लिसा के अंतर्गत कार्यवाही संपादित करें।
**हाई रिस्क ग्रुप की पहचान**
हाई रिस्क गु्रप में 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति, उच्च रक्तचाप से पीड़ित, ह्दय रोगी, मधुमेह, अस्थमा, सीओपीडी, किडनी संबंधित रोग, कैंसर, टी.बी. व अन्य गंभीर रोगों से प्रभावित व्यक्ति, गर्भवती महिलाये तथा 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे सम्मिलित है।
हाई रिस्क ग्रुप की सूचना का संकलन
जिले में इसके लिये हाई रिस्क ग्रुप के व्यक्तियों की पहचान विभिन्न माध्यमों से की जा सकती है, उदाहरण के तौर पर महात्मा गांधी आयुष्मान भारत स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभार्थी, एनसीडी डेटाबेस, वृद्धावस्थ पेंशन प्राप्त करने वाले व्यक्ति, जनाधार केन्द्र, मतदाता सूची, राशन कार्ड, सरकारी पेंशनर्स का रिकाॅर्ड इत्यादि से सूचना का संकलन कर ग्राम या वार्डवार सूची तैयार की जावे। 
**कंटेनमेंट जोन में सर्वे **
चिन्हित कंटेनमेंट जोन में आशा, एएनएम, बीएलओ अथवा अन्य कार्मिकों, निर्वाचित जन प्रतिनिधियों, विभिन्न राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों, स्वयं सेवी संगठनों तथा अन्य सामाजिक संस्थाओं की मद्द से लगभग 20 घरों पर एक स्वयं सेवक का चयन कर उनको कोविड-19 से संबंधित प्रशिक्षण देकर हाईरिस्क वाले रोगियों की पहचान कर सूची अपडेट की जावे। ऐसे व्यक्तियों के सर्वें की विस्तृत सूचना निर्धारित प्रपत्र में संकलित की जावे, जिसे बाद में डिजीटाईज किया जावे। साथ ही सर्वे के दौरान सर्वे दल द्वारा हाईरिस्क वाले व्यक्तियों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव तथा संक्रमण होने की स्थिति में खतरे के लक्षणों के बारे में संबंधित जानकारी पेम्फलेट के माध्यम से एवं व्यक्तिगत रूप से उपलब्ध करवाई जावे। संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र या जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 0154-2440988, जिला स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के 0154-2445071 पर संपर्क करने बाबत जानकारी दी जावे। सर्वें के दौरान किसी व्यक्ति में कोविड-19 संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर अथवा कोई तकलीफ होने पर नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर उसका स्वास्थ्य परीक्षण करवाया जाये। ऐसे व्यक्तियों से टेलीफोन, मोबाईल के माध्यम से उनके स्वास्थ्य के बारे में प्रतिदिन जानकारी प्राप्त की जावे। ऐसे व्यक्तियों को आरोग्य सेतु ऐप के माध्यम से स्वयं की स्थिति का आंकलन करने हेतु प्रेरित किया जावे। यह गतिविधि निरंतर रूप से संपादित की जावे। 
**चिकित्सक दल द्वारा जांच**
कंटेनमेंट जोन में आने वाले राजकीय अथवा निजी चिकित्सालयों को चिन्हित किया जाकर हाईरिस्क वाले रोगियों की चिकित्सक द्वारा जांच की जाये। यदि इन क्षेत्रों में कोई चिकित्सा केन्द्र स्थापित नही है तो अस्थाई रूप से मुख्य-मुख्य स्थानों पर मोबाईल ओपीडी वैन, एम्बूलेंस का उपयोग इस हेतु किया जाकर हाईरिस्क ग्रुप वाले व्यक्तियों की पल्स आॅक्सीमीटर के माध्यम से जांच की जाकर उन्हें आवश्यकतानुसार निकटतम डेडिकेटेड कोविड अस्पताल में एम्बूलेंस के माध्यम से भर्ती किया जाये। 
**एम्बूलेंस सुविधा**
चिन्हित कंटेनमेंट जोन में स्थाई रूप से एक से दो किलोमीटर के दायरे के भीतर एक एम्बूलेंस की व्यवस्था की जावे। एम्बूलेंस पर कार्यरत कार्मिकों को कोविड-19 से संबंधित प्रशिक्षण प्रदान किया जावे ताकि वह उच्च जोखिम वाले रोगियों की पहचान कर उन्हें तुरन्त डेडिकेटेड कोविड अस्पताल में पहुंचा सकें। इस हेतु ट्राईऐज गाईडलाईन की पालना की जावे।
**पैसिव सर्वेलन्स**
राजकीय एवं निजी चिकित्सा संस्थानों पर आने वाले हाईरिस्क ग्रुप के मरीजों को कोविड-19 के बचाव एवं खतरों के लक्षणों के बारे में आईईसी गतिविधियों के माध्यम से जानकारी दी जाये तथा आईएलआई/एसएआरआई के मरीजों विशेषतौर पर हाईरिस्क ग्रुप के व्यक्तियों की पल्स आक्सीमीटर के द्वारा spo2 एवं श्वसन दर की जांच तथा आवश्यकतानुसार कोविड-19 की जांच करवायी जाये एवं जिला स्तर पर साप्ताहिक रूप से विश्लेषण किया जाये।
**आई.ई.सी. गतिविधियां**
कंटेनमेंट जोन के साथ अन्य क्षेत्रों व जिलों में भी हाईरिस्क ग्रुप के सदस्यों के साथ-साथ आमजन को भी नियमित रूप से कोविड-19 से बचाव जोखिम वाले लक्षणों की जानकारी दी जावे तथा संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र, जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर पर संपर्क करने बाबत जानकारी दी जावे।
**सूचना संधारण एवं प्रेषण**
गतिविधियों की सूचना का संकलन निर्धारित प्रपत्र में जिला स्तर पर किया जाये तथा उक्त सूचनाएं निदेशालय की ई-मेल आईडीrajcovid19@gmail.com  पर प्रतिदिन प्रेषित की जावे तथा निरोगी राजस्थान कार्यक्रम के अंतर्गत बनाये गये ऐप में भी सर्वें के दौरान प्राप्त सूचनाओं का इन्द्राज किया जावे। ऐप में सूचना दर्ज करने का प्रशिक्षण पृथक से वीसी के माध्यम से प्रदान किया जावेगा। 
निर्देशों में स्पष्ट किया गया है कि जांच में उपयोग में लिये जा रहे पल्स आॅक्सीमीटर व अन्य उपकरणों को एक व्यक्ति की जांच करने के पश्चात निर्धारित प्रोटोकाॅल के अनुसार सेनेटाईज कर ही अगले मरीज की जांच हेतु उपयोग में लाया जाये। ( पीआरओ माध्यम)
--------------



मंगलवार, 28 अप्रैल 2020

सूरज शर्मा पत्रकार के भाई राजू का निधन-अंतिम संस्कार.

* करणीदानसिंह राजपूत*

सूरतगढ़ 28 अप्रैल 2020.

पत्रकार सूरज शर्मा के सबसे छोटे भाई राजू का आज दोपहर बाद निधन हो गया। राजू की तबीयत अचानक बिगड़ने पर एपेक्स हास्पीटल ले जाया गया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। राजू का अंतिम संस्कार भी शाम को कर दिया गया।  कोरोना लोकडाउन में अंतिम संस्कार में भी एक दूसरे से दूरी रखनी होती है और प्रशासन का निर्देश भी परिजनों व खास तक सीमित है, इसलिए शाम को अंतिम संस्कार कछ लोगों की उपस्थिति में कर दिया गया।

राजू गुड्स ट्रांसपोर्ट व्यवसाय में था।

ईश्वर इस आपदा की घड़ी में परिवार जनों पर कृपा रखे दुख सहने की शक्ति प्रदान करे।


वह अवतरित हुई,आनंदित हुए हम

दिव्यता
विजयश्री:रिंकु
जन्म 9 अप्रेल 1981 गमन 28 अप्रेल 1984.


 
















वह अवतरित हुई
आनन्दित हुए
हम
सब।
उसके 
हाव भाव
देते रहे

दिव्य संदेश।
परी सी उड़ गई
एक दिन
विलीन हो गई
आकाश में।

छोड़ गई
स्मृतियों में
अनन्त
संदेश।

.........
श्रीमती विनीता सूर्यवंशी-करणीदानसिंह राजपूत  :  माता-पिता
योगेन्द्र प्रतापसिंह-रीतिका-अनाया  :(  लघु भ्राता-भाभी-भतीजी,)

रवि प्रतापसिंह-साक्षी:( लघु भ्राता-भाभी)

सोमवार, 27 अप्रैल 2020

सूरतगढ़ की मृतक महिला कोरोना संक्रमित नहीं थी- जा़ंच रिपोर्ट की मेल सूचना आ गई-डा.मनोज अग्रवाल.


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 27अप्रैल 2020.

सूरतगढ़ के ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. मनोज अग्रवाल ने जानकारी दी कि सूरतगढ़ वार्ड नं 32 की मृतका के सेम्पल की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आ गई है। उक्त महिला कोरोना रोग से प्रभावित नहीं थी।
‌इस रिपोर्ट के आने से वार्ड में राहत मिली है वहीं प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।
‌ सूरतगढ़ में एपेक्स हास्पीटल में भी ईलाज हुआ था वहां के एक डॉक्टर और संबंधित नर्सिंग स्टाफ को घरों में रहने को पाबंद किया गया था। उन्होंने भी राहत की सांस ली है।
सूरतगढ़ की उक्त औरत को 25 अप्रैल देर रात श्रीगंगानगर जिला चिकित्सालय में लाया गया था जो ब्रेन डेड थी। मृतक महिला को कोरोना संदिग्ध मानते हुए सेम्पल लिया गया था।

जांच रिपोर्ट 27 अप्रैल शाम को यहां प्राप्त हुई।

बाहर से आने वालो की स्क्रिनिंग व14 दिन का होम क्वारनटीन जरूरी- श्रमिकों का रिकार्ड संधारित हो

श्रीगंगानगर, 27 अप्रैल 2020.

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने बताया कि राज्य सरकार के गृह विभाग के निर्देशानुसार लाॅकडाउन के दौरान अन्य राज्यों व जिलों से गंगानगर में आ रहे राजस्थान के मूल निवासियों के लिये दिये गये महत्वपूर्ण निर्देशों की पालना सुनिश्चित की जाये।

श्री नकाते ने बताया कि लाॅकडाउन की अवधि के दौरान अन्य राज्यों से राजस्थान के मूल निवासी अपने राज्यों से परमिट आदि लेकर वाहनों से राज्य में प्रवेश कर रहे है एवं अपने शहर, गांव जा रहे है, एवं इस प्रवृत्ति की आगामी दिनों में बढ़ने की संभावना है। इस स्थिति में जिले के लोगों की कोरोना संक्रमण से बचाव करने के उद्देश्य से विभिन्न व्यवस्था तत्काल प्रभाव से स्थापित की जाये। जिले की सीमा वाले एसडीएम एवं पुलिस अधिकारी स्थापित चैक पोस्ट के माध्यम से निगरानी रखेगें। जहां समस्त आगन्तुकों का रजिस्ट्रीकरण हो, जिसमें उनका नाम, पता, मोबाईल नम्बर आदि अंकित किया जाये। 

आने वाले नागरिक अपने निजी साधनों से सीधे अपने घर पहुंच सकते है, जिसकी सूचना प्रशासन को न हो, अतः यह आवश्यक है कि स्थानीय स्तर पर मौहल्ला एवं गांव में सुदृढ़ सूचना तंत्र हो, जिससे कि इस अवधि में कोई भी नया व्यक्ति आये तो उसके बारे में सूचना स्थानीय प्रशासन को मिल सकें, जिससे कि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ऐसे व्यक्ति आगामी 14 दिनों तक होम क्वारनटीन में रहें। प्रत्येक पटवारी अपने पटवार हल्का क्षेत्र के लिये उत्तरदायी होगा कि उसके पास ऐसी सूचना तत्काल उपलब्ध हो जो वह तहसीलदार, उपखण्ड अधिकारी को नियमित रूप से देगा। पटवारी को इस कार्य में बीएलओ सहायता करेगें। शहरी क्षेत्र के लिये भी इसी प्रकार की व्यवस्था स्थापित की जाये।  

उन्होंने कहा कि स्थानीय समुदाय में जन चेतना विकसित की जाये कि वे भी अपने हित के लिये यह सुनिश्चित करें कि कोई भी बाहर का व्यक्ति आता है तो उसकी सूचना स्थानीय प्रशासन को हो एवं वे 14 दिनों के लिये अपने घर के अंदर क्वारनटीन में रहें। साथ ही यदि कोई ऐसा व्यक्ति इसका उल्लंघन करता है तो उसकी भी सूचना वह तत्काल स्थानीय प्रशासन को दें, जिससे कि ऐसे व्यक्ति को घर से हटाकर प्रशासन के आईसोलेशन सेन्टर में रखा जा सकें। 

ग्रामीण क्षेत्र में कुछ ऐसे नागरिक हो सकते है जो उस गांव के निवासी न हो, ऐसी स्थिति में वहां किसी स्कूल आदि भवन में क्वारनटीन सेन्टर बनाया जाये, जहां पर बाहर से आये व्यक्तियों को ठहराया जा सकें एवं खाने पीने की व्यवस्था का उत्तरदायित्व भी स्थानीय लोगों को दिया जाये। 

-----------

* हवलदारजी,ड्यूटी पर बीड़ी सिगरेट का धुंवा उड़ाते हो,लोकडाउन में कहां से लाते हो?




* हवलदारजी,ड्यूटी पर बीड़ी सिगरेट का धुंवा उड़ाते हो,

लोकडाउन में कहां से लाते हो?

म्हारे शहर के सबते बड़े 

अर लोगां नै सबते घणी सीख

देवण आलै हवलदार जी।

तम से एक बात पूछण का जी कर आया।

ड्यूटी अर उपर ते पुलिस वर्दी पहनी,

बीड़ी सिगरेट के सुट लगाते धुआँ उड़ाते हो। ड्यूटी पर ऐसा नहीं न करते।

मेरा सवाल ड्यूटी पर धुंआ उड़ाने पर ना है जी।ये सवाल डिप्टी करे अर सीआई करते अच्छे लागै।

म्हारा सवाल तम से ये है जी।

लोकडाउन लाग रया सै। 

आपणे शहर में भी लाग रैया सै। 

बीड़ी सिगरेट गुटखा तम्बाकू की तमाम दुकानें रेहड़ियां स्टालें बंद सै।

तम बीड़ी सिगरेट गुटखा कहां तै

कबाड़ लातै हो जी। 

तम लोगां नै सारै दिन सीख देते हो जी

तम नै इतना मालम होवैगा अर होणा भी चाहिए कै इण तै कैंसर हो जाता है जी। फेफड़े,लीवर,गला आंते डैमेज हो जावै है।

तम तो परयावण परेमी भी हो।

 पौधे बांटते कितनी फोटू संस्थाओं कै साथ फेसबुक पर लगाते रहे हो जी।

 बीड़ी सिगरेट गुटखा सारै परयावण नै खराब करते हैं जी। 

तम लोगां गे चालान काटो हो,

थारा चालान कट जावेगा जी।

हम नहीं काटेंगे जी वो काट देगा जी।

तम पढ कै मान जावो जी।

बीड़ी सिगरेट के सुट तमने खराब करेंगे जी। 

ना मानोगे जणा कोई दूसरा हवलदार चौक पर सीख देता मिलेगा जी।

कहणा मान ही लो जी।

*****

करणीदानसिंह राजपूत,

स्वतंत्र पत्रकार( राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत)

सूरतगढ़, भारत.

******





रविवार, 26 अप्रैल 2020

बीएस-4 मानक वाहनों का पंजीयन 30 अप्रैल 2020 तक किया जाएगा.


श्रीगंगानगर, 26 अप्रैल 2020. माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की अनुपालना में 31 मार्च 2020 तक विक्रित बीएस-4 मानक वाहनों का पंजीयन 30 अप्रैल 2020 तक किया जाना है। ऐसे वाहनों के पंजीयन हेतु वाहन डीलर्स के स्तर पर  बीएस-4 मानक वाहनों के पंजीयन से पूर्व संबधित पंजीयन एवं जिला परिवहन अधिकारी द्वारा सिस्टम बसेड अप्रोवल किया जायेगा।
 जिला परिवहन अधिकारी सुमन ने समस्त डीलर्स व वाहन स्वामियों को माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय की अनुपालना में 31 मार्च 2020 से पूर्व विक्रित व खरीदशुदा एवं एफएडीए की सूची में वर्णित एवं जिले में पंजीकृत होेने योग्य सभी वाहनों के संबंध में आवश्यक नियमानुसार दस्तावेज एवं अन्य औपचाकितायें तत्काल पूर्ण करते हुए ऐसे वाहनों के पंजीयन हेतु कार्यालय के समक्ष सिस्टम बसेड अप्रोवल हेतु तत्काल प्रस्तुत करें। उन्होने कहा कि 30 अप्रैल 2020 के बाद ऐसे किसी वाहन का पंजीयन नहीं किया जा सकेगा। इस कार्यालय में नियमित रूप से (अवकाश के दिनों में भी) खुला रखते हुए पंजीयन की कार्यवाही की जा रही है। उन्होने सभी वाहन डीलर्स व वाहन क्रेता से आग्रह किया है कि 30 अप्रैल 2020 से पूर्व वाहन का पंजीयन आवश्यक रूप से करवा लें। अधिक जानकारी के लिए कार्यालय के कंट्रोल रूम नम्बर 0154-2463432 एवं ईमेल आईडी dto.sgnr.em@gmail.com anddto.ganganagar.tport@rajasthan.gov.inके माध्यम से प्राप्त की जा सकती है।
-----------

श्रीगंगानगर जिला अस्पताल में सूरतगढ़ की महिला की मृत्यु-संदिग्ध मान सेम्पल लिया- रिपोर्ट 27 सुबह तक संभावना.

* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 26 अप्रैल 2020.

सूरतगढ़ की उक्त  औरत को 25 अप्रैल देर रात श्रीगंगानगर जिला चिकित्सालय में लाया गया था  जो ब्रेन डेड थी। महिला को अस्पताल,

मृतक महिला को कोरोना संदिग्ध मानते हुए  सेम्पल लिया गया। 

मृतका के साथ में चिकित्सालय पहुंचे 4 जनों को भी आईसोलेसन में  किया गया है। मृतका की जांच रिपोर्ट नआने के बाद ही शव सौंपा जाएगा। जिला मुख्यालय पर PMO डॉ केएस कामरा द्वारा दी यह जानकारी जारी हुई। 

सूरतगढ़ के ब्लॉक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. मनोज अग्रवाल ने जानकारी दी कि यहां सूूचना मिलने पर 26 अप्रैल को सुबह मेडिकल टीम उक्त मृतका के आवास वार्ड नं 32 पर पहुंची और परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य की जांच की। परिवार वालों के मोबाइल नं लेेकर  उनके संपर्क  व आने जाने का भी मालूम किया  जा रहा है। अग्रवाल ने बताया कि सेम्पल रिपोर्ट जिला मुख्यालय पर आधी रात तक आती है  और यहां 27 अप्रैल को सुबह तक आ सकती है।

उक्त मृतका की उम्र करीब 36 वर्ष थी। वह करीब एक साल से अधिक समय से क्षय रोग से पीड़ित थी। उसके एक पैर में लकवा भी होया हुआ था। सुरक्षा और बचाव के तहत स्वास्थ्य विभाग ने सभी अग्रिम कार्यवाही जांच आदि की है।


कोरोना वायरस से सुरक्षा बचाव के लिए अपने घरों में ही रहें तथा प्रशासन का सहयोग करते हुए नियमों का पालन करें।बीमारी में सरकारी चिकित्सालय में जांच और दवाओं के लिए पहुंचे। ००





शनिवार, 25 अप्रैल 2020

शहरी क्षेत्रों में चिन्हित दुकानें स्वीकृति के बाद खुलेगी-नगर परिषद व नगरपालिकाएं देगी स्वीकृति


श्रीगंगानगर, 25 अप्रैल 2020.

* एक कतार में पूरा बाजार नही खुलेगा*शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में सामग्री विक्रय वाली दुकाने खुल सकेगी*


 जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने कहा कि कोविड-19 के दौरान लाॅकडाउन में राज्य सरकार के निर्देशानुसार श्रीगंगानगर जिले में नगरीय क्षेत्रों में स्थानीय निकाय की स्वीकृति के पश्चात चिन्हित दुकानें खोली जा सकेगी। नगर परिषद, नगर विकास न्यास एवं नगरपालिका क्षेत्र में दुकाने खोलने की स्वीकृति के लिए दुकानों का चिन्हिकरण किया जाकर संबंधित स्थानीय निकाय स्वीकृति देंगे।

जिला कलक्टर शनिवार को माननीय मुख्यमंत्री व उच्च स्तरीय अधिकारियों की वीसी के पश्चात आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि उन दुकानों का चिन्हिकरण होगा, जो उत्पाद का विक्रय करते है।

 सेवा प्रदाता जैसे सैलून, रेस्टोरेन्ट, ब्यूटीपार्लर, चाय, पकौडी, चाट की स्टाॅलें, फास्ट फूड, जिम इत्यादि नही

 खोले जाएंगे।

 उन्होने कहा कि नगर परिषद गंगानगर व न्यास क्षेत्र में शामिल गांव भी शहर में माने जाएंगे। एडीएम प्रशासन व आयुक्त नगर परिषद जिन दुकानों को स्वीकृति दी जानी है, का चिन्हिकरण करेंगे। एक कतार में बाजार नही खुलेंगे। 

* माॅल, मल्टीप्लेस, मार्केट काॅम्पलेक्स, व बडे़ बाजार नही खुलेंगे।*

आवश्यकता के अनुरूप चिन्हिकरण वाली अकेली दुकान, नुक्कड की दुकान इत्यादि स्वीकृति के बाद खुल सकेगी।

 विद्युत का सामान, मोबाईल रिचार्ज की दुकान भी मंजूरी से खुल सकेगी। विद्यार्थियों को पुस्तकें इत्यादि की पूर्ति की व्यवस्था होम डिलीवरी के माध्यम से करवाई जाएगी। 

तैयार भोजन भी होम डिलीवरी के माध्यम से विक्रय किया जा सकेगा।

जिला कलक्टर ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में संचालित दुकानें खुल सकेगी। ग्रामीण क्षेत्र में संचालित माॅल, मल्टीपलैक्स, रेस्टोरेन्ट नही खुलेंगे। वस्तुएं विक्रय वाली दुकान खुलेगी, लेकिन सेवा देने वाली दुकान सैलून, ब्यूटीपार्लर इत्यादि नही खुलेंगे।

श्री नकाते ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में निर्माण कार्य संचालित होंगे। शहरी क्षेत्र में सीमित स्थानों पर, जहां श्रमिकों की उपलब्धता है, के अनुसार कार्य होंगे। माल, सामग्री परिवहन करने वाले वाहनों को अनुमति रहेगी, जिसमें बजरी, ग्रिट के वाहन भी आ सकेंगे।

बिना जरूरत की दुकान खुलने पर बंद करवा दी जाएगी

पुलिस अधीक्षक श्री हेमन्त शर्मा ने कहा कि जिन दुकानों को खोलने की स्वीकृति दी जाएगी, उनमें से कोई दुकान की उपयोगिता नजर नही आती है, तो एसडीएम के माध्यम से संबंधित दुकान को बंद करवा दिया जाएगा। उन्होने कहा कि दुकानदार को सोशल डिस्टेंसिंग एवं मास्क लगाने की अनिवार्यता की पालना करवानी होगी। पालना नही करने पर दुकान सील कर दी जाएगी।


वीसी में एडीएम प्रशासन डाॅ0 गुंजन सोनी, एडीएम सतर्कता श्री अरविन्द जाखड, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री सहीराम, भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री मोहम्मद जुनैद, न्यास सचिव डाॅ0 हरीतिमा, एसडीएम श्री उम्मेद सिंह, सीएमएचओ डाॅ0 गिरधारी लाल, आरसीएचओ डाॅ0 एच.एस. बराड सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

नगरपालिका सूरतगढ़ का आयुर्वेदिक औषधालय- औषधियां निशुल्क-


* करणीदानसिंह राजपूत*

50 से अधिक सालों से सूरतगढ़ में नगर पालिका का आयुर्वेदिक औषधालय निरंतर और निशुल्क औषधियां देने और रोग मुक्त करने में लगा लगा हुआ है।

कोरो वायरस के बचाव में लॉक डाउन में अभी औषधालय पहुंचने वाले नर नारी बच्चों की संख्या कम है। लेकिन जो औषधालय पहुंचते हैं वे चिकित्सा से संतुष्ट होते हैं। 

वर्तमान में इस और औषधालय का संचालन वैद्य रतन लाल जोशी कर रहे हैं। वैद्य जोशी ने बताया कि लॉक डाउन के कारण आने वाले लोगों की संख्या कम हुई है। इस समय सामान्य खांसी जुकाम पेटदर्द दस्त आदि के रोगी आ रहे हैं। आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से परामर्श और औषधालय में उपलब्ध दवाइयां,चूर्ण, आसव आदि पूरी तरह से निशुल्क दिए जाते हैं। 

जोशी ने बताया कि वर्तमान में औषधालय खुलने का समय सुबह 8:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक है। औषधालय  रविवार और राजकीय घोषित अवकाश के दिन बंद रहता है जोशी ने कहा कि नगर पालिका औषधालय से परामर्श और औषधियां जो उपलब्ध है बे पूरी तरह से निशुल्क दी जाती है इसलिए रोगों से प्रभावित लोगों को इस औषधालय से लाभ उठाना चाहिए।**







शुक्रवार, 24 अप्रैल 2020

लॉक डाउन तोड़ने वालों का साथ दिया तो आपके चिपट सकता है कोरोना- चुनौती लेख -करणीदानसिंह राजपूत.


भगवान कुदरत नियम तोड़कर बेमौसम बरखा तूफान औले गिरा दे तो उसे कोसते हैं लेकिन यदि कोई नेता छोटू भैया नियम तोड़ देता है तो उससे पूछने में भी डरते हैं।
ईश्वर कुदरत सबसे बड़े को कोसने में डर नहीं लगता तो फिर मामूली से और कुछ काल के लिए लिए के लिए पद पर आए हुए से डर क्यों लगता है? सच कुछ और है।
वाह रे इंसान तू इतना स्वार्थी हो गया! भगवान को तो कोसता है मगर मामूली से आदमी से डर जाता है।
यह डर नहीं यह तेरा स्वार्थ है।
नेता या कोई अधिकारी नियम तोड़ता है और उसका असर किसी और पर होता है तो महसूस नहीं होता क्योंकि
उसके नजदीक चिपके हुए रहते हैं। लेकिन नियम तोड़ने का नुकसान कभी तुम्हारे तक आ गया तब क्या होगा ?
जंगल की आग का भरोसा नहीं होता कि दूर लगी हुई है और कब खुद तक पहुंच जाए।
उससे भी भयानक है कोरोना वायरस। नेताओं को नियम तोड़ने की छूट दी बोले नहीं। लॉक डाउन में नेता ने भीड़ की बोले नहीं।समारोह किया आप बोले नहीं।
यदि उस भीड़ से उपजा,नेता के चिपटा कोरोना तुम्हारे तक आ गया तुम्हारे चिपट गया तो क्या होगा?
जरा सोचो! नेताओं को और किसी भीअधिकारी को नियम तोड़ने की छूट नहीं है। वे लोग जो नियम तोड़ने वाले को बचाते हैं,जांच को दबाते हैं। वे किसी का भला नहीं कर रहे। असल में वे एक ऐसे खतरे को पैदा कर रहे हैं जो दिखाई नहीं देता।
उन्हें लगता है कि कोरोना वायरस दूर है। हमारे क्यों लगेगा?हमारे क्यों चिपटेगा? लेकिन कानून तोड़ने वाले नेताओं और अधिकारियों के साथ में जब मेल मिलाप होगा बातचीत होगी तो वहां से कोरोना आपके भी चिपट सकता है।
इस बात को याद रखना कि जो नियम तोड़ने वालों का साथ देते हैं। ईश्वर उनका भला कभी नहीं करता। उनका समय भी बदल सकता है। उनका संकट काल आ सकता है  जो अपने स्वार्थों के कारण नियम तोड़ने वालों का साथ देते हैं।
*पत्रकार,
राजस्थान सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क निदेशालय से अधिस्वीकृत*
सूरतगढ़. 94143 81356.*
======



गुरुवार, 23 अप्रैल 2020

प्रशासनिक अधिकारियों पर फेसबुक पर टिप्पणी करने पर सूरतगढ़ में गिरफ्तारी

सूरतगढ़ 23 अप्रैल 2020.

राजस्थान सरकार के सूरतगढ़ के प्रशासनिक अधिकारियों पर फेसबुक पर टिप्पणी लिखने के आरोप में मोनू दाधीच नामक युवक को सिटी थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया। मोनू दाधीच को शांति भंग करने के आरोप में सीआरपीसी धाराओं 107/151 में गिरफ्तार किया गया।

पुलिस ने आज 23 अप्रैल को राजियासर उप तहसील के मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया। मोनू को जमानत पर छोड़ने के लिए तस्दीक शुदा जमानत प्रस्तुत करने का आदेश हुआ है।

मोनू का पिता यहां चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है। मोनू के विरुद्ध किसने शिकायत की है यह मालुम नहीं हो पाया है। 

मोनू भाजपा और मोदी समर्थक है तथा फेसबुक में अधिकतर टिप्पणियां भाजपा कांग्रेस आदि को लेकर है। स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों पर क्या आपत्तिजनक टिप्पणी की है यह भी मीडिया में नहीं है।




श्रीगंगानगर जिले के बाहर पढ़ रहे विद्यार्थियों ओर लोगों की पीड़ा बताई- विधायक गौड़ की सीएम से वार्ता*


श्रीगंगानगर 23 अप्रैल 2020.
बाहरी राज्यों में पढ़ाई कर रहे श्रीगंगानगर जिले के विद्यार्थी और कार्य करने वाले लोग अब लॉकडाउन में फंस गये है। जिस कारण श्रीगंगानगर में निवास कर रहे उनके परिजन चिंता में हैं ओर उन्होंने विधायक श्रीराजकुमार गौड़ से उनके निवास पर मिलकर और दूरभाष से अपने परिवारिक सदस्यों की चिंता को साझा किया। जिस पर विधायक श्री राजकुमार गौड़ ने इस मामले पर राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत से बात की ओर श्रीगंगानगर के लोगों की समस्या उन तक पहुंचाई। उन्होंने सीएम श्री गहलोत को बताया कि श्रीगंगानगर जिले से बाहर अन्य जिले के छात्र पढ़ाई करने ओर लोग नौकरी के लिये गये हुए थे, जो अब लॉकडाउन के कारण फंस गये है। उन्हें अपने गृह जिला श्रीगंगानगर में आने के लिये काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इसलिये राज्य सरकार प्रयास करके बाहरी जिलों में फंसे छात्रों ओर नौकरीपेशा लोगों को अपने गृह जिले में पहुंचाने मेें सहायता प्रदान करें, जिससे शहरवासी अपने परिजनों को पाकर राहत महसूस कर सकें। वहीं श्रीगंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड़ के आग्रह को मानते हुए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने उचित कार्यवाही का भरोसा दिलाया।
***

श्रीगंगानगर जिला-कोविड-19- प्रशासन पुलिस व स्वास्थ्य विभाग नियंत्रण कक्ष फोन नं जहां सूचना दें



*एक अप्रेल 2020 के बाद जिले में आये व आने वालों की सूचना देवें
नजदीक के नियंत्रण कक्ष पर दी जा सकती है जानकारी*
श्रीगंगानगर, 23 अप्रैल 2020.
जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट व जिला आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने बताया कि ऐसे व्यक्ति जो श्रीगंगानगर जिले में बाहर के देशों, राज्यों, राजस्थान के अन्य जिलों से 1 अप्रेल 2020 के बाद यात्रा कर लौटे है या आगे भी लगातार आते रहेगें, की सूचना अपनी सम्पूर्ण जानकारी ग्राम पंचायत, ब्लाॅक मुख्य चिकित्सा अधिकारी, उपखण्ड मजिस्टेªट कार्यालय के कन्ट्रोल रूम नम्बर पर देना सुनिश्चित करेगें।
विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण को महामारी घोषित किया जा चुका है एवं गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की शक्तियों का प्रयोग करते हुए आदेश 15 अप्रेल 2020 द्वारा सम्पूर्ण देश में लाॅकडान की अवधि 3 मई 2020 तक घोषित की है। जिला प्रशासन द्वारा सम्पूर्ण जिले में धारा 144 लागू की जा चुकी है।
उन्होंने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा सम्पूर्ण जिले में करवाये गये घर-घर सर्वे के बावजूद भी कतिपय व्यक्तियों, जो विदेश, अन्य राज्य या राजस्थान के अन्य जिलों से यात्रा कर लौटे है, के द्वारा अपनी जानकारी छिपाई जा रही है, जिससे जिले में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति भी संभावित हो सकते है, कुछ लोगों द्वारा अपनी बीमारी के लक्षण होने, विदेशी, अन्य राज्य, अन्य जिलों से यात्रा की हिस्ट्री होने की जानकारी छिपाई जा रही है, जिससे उसके स्वयं की, परिवार के सदस्यों का एवं जिले के अन्य नागरिकों के कोरोना वायरस संक्रमित से होकर बीमार, मृत्यु होने की संभावना बढ़ जाती है।
जिला कलक्टर श्री नकाते ने बताया कि 1 अप्रेल 2020 के बाद बाहर से आये या आने वाले दिनों में जो भी नागरिक आपके आसपास के गांव, शहर, कस्बें में आये तो स्वयं या अन्य नागरिक नियंत्रण कक्ष में जानकारी दे सकते है।
जिला प्रशासन नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 0154-2440988, जिला स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के 0154-2445071 तथा जिला पुलिस नियंत्रण कक्ष के 0154-2443055 है। 

सूरतगढ ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 01509-220075, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 220638 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 220033 है।

सादुलशहर ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 01503-224261, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 222032 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 222038 है।

श्रीगंगानगर ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 0154-2440200, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 2445086 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 2443055 है।

अनूपगढ ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 01498-254971, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 252900 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 252062 है।

पदमपुर ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 01505-234050, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 232023 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 232029 है।

रायसिंहनगर ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 8114439451, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 01507-220131 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 220026 है।

घडसाना ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 01506-250110, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 251600 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 250100 है।

श्रीकरणपुर ब्लाॅक के स्वास्थ्य नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नम्बर 01501-228077, प्रशासन नियंत्रण कक्ष के 248434 तथा पुलिस नियंत्रण कक्ष के 226034 है।

इसके अलावा टोल फ्री नम्बर 104 व 108 पर भी सूचना दी जा सकती है। 

श्री नकाते ने बताया कि ऐसे व्यक्ति जो जानकारी छुपायेगा, के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 एवं राजस्थान ऐपीडेमिक एक्ट, भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 269, 270, 271 के साथ-साथ भारतीय दण्ड संहिता की अन्य सुसंगत धाराओं के अंतर्गत अभियोजन की कार्यवाही की जायेगी।
----------


बुधवार, 22 अप्रैल 2020

सूरतगढ़ में सख्ती नहीं - लोगों को लोकडाउन की परवाह नहीं-लोगों पर कार्यवाही हो.


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़ 22 अप्रैल 2020.

मुख्यबाजार में भी लोग लोकडाउन नियम से नहीं डर रहे। मोटर साइकिल पर दो तीन बैठे निकलते हैं। सीसीटीवी कैमरे सुभाष चौक और महाराणा प्रताप चौक पर लगे हैं जिनका निरीक्षण हर वक्त पुलिस थाने में किया जा सकता है। कोई बीमार को लेजाते वक्त 2 हों तो छूट हो सकती है। बीमार तो छुपा नहीं रह सकता। 

सुभाष चौक से दोपहर को एक मोटरसाइकिल निकली साथ में स्त्री बैठी। दोनों के मुंह भिड़े हुए साफ लग रहा कि आराम से निकल रहे हैं, कानून की कोई परवाह नहीं।

सूर्योदय नगरी मोहल्लों की सड़कें और उन पर बातें करते, मोटर साईकिल चलाते युवा। किसी के मास्क नहीं और कोई एक मीटर की दूरी भी नहीं।

शाम के समय तो टोलियां निकल पड़ती है। 

सुबह छोटे बच्चे बच्चियां रोटी मांगते। घरों के दरवाजों पर  पुराने लोको के आसपास।

रेलवे पुल से रेलवे कालोनी, शिवबाड़ी,आसपास के मोहल्लों की सड़कें लोकडाउन तोड़ते स्त्रियों और युवकों की टोलियां। 


इन इलाकों में शाम को सख्त चैकिंग की जरूरत है। सूरतगढ़ को सुरक्षित रखना है तो सख्ती की जरूरत भी है।

लोकडाउन की कार्यवाही नगरपालिका के कचरा उठाने वाले वाहनों पर लाउडस्पीकर प्रचार तक ही सीमित रह गई है।00




करणी प्रेस इंडिया क्लिक पाठक 14 लाख से पार.


* करणीदानसिंह राजपूत *

सूरतगढ़,22 अप्रैल 2020.
सच्च को सामने लाने, दबे पिछड़े हुए लोगों की आवाज को उठाने व समाज को जगाने के समाचारों विचारों के सामने लाने के प्रयास में करणी प्रेस इंडिया पाठकों की पसंद में शिखर पर है।
 पाठक 14 लाख से अधिक बार देख कर और आगे बढ चुके हैं। यह ऊंचाई पार करना प्रसन्नता पैदा करने वाली तो है ही और आगे बढने की प्रेरणा देने वाली भी है।
इस साइट को सीधेे ही देेखने या इसके लिंक को फेस बुक मेरे नाम करणीदानसिंह राजपूत पर तथा ऑल वर्ल्ड ब्लॉग संगठन की न्यूज में देख पढ़ कर तत्काल विचार प्रगट करने में पाठक गण भी आगे रहे हैं। ये कदम ऐसे प्रभावशाली रहे हैं कि इनसे निरंतर तेज गति मिली  है।
हमने विभिन्न विचारों को नया विस्तार दिया है जिसमें अनेक नए विषय शामिल किए हैं। व्यक्तियों के बजाय तथ्यों वाले कानून   एवं नियमों को सर्वाेपरि मानते हुए आगे बढे हैं।
महिलाओं व लड़कियों के साथ अपराध बढ़े हैं इसलिए सावधान व सतर्क रहने की जागरूकता के लिए भी पोस्टों को लिखा जा रहा है। कन्याओं को बचाने का अभियान हो  या नशा मुक्ति अभियान हो, उनके समाचार देने में आगे रहे हैं।
कई लोग व संगठन कानूनों से परिचित नहीं होते इसलिए उनको हमारा लिखा हुआ अनेक बार अच्छा नहीं लगता,लेकिन उनकी आलोचनाओं  व टिप्पणियों पर गौर किया जाता रहा है।
विशाल देश में नए नए समाचार तेजी से आते हैं। हमारे क्षेत्र में भी समाचारों का बाहुल्य है इसलिए किसी विषय को पकड़ कर नहीं रखा जा सकता। नए विषय पर भी आगे बढना होता है।
राजनीतिज्ञ​ सत्ताधारी धनबली और भ्रष्टाचारी सदा ही मीडिया को अपने विचारों से चलाना चाहते हैं लेकिन लोगों के साथ रहते हुए सच्चाई को ही आगे लाने के प्रयास में रहे हैं।
बड़े अखबार जिन समाचारों को रोकने में दबाने में व अपनी ईच्छानुसार बदल कर गोलमाल तरह से छापने में समय के अनुसार लगे हुए हैं। ऐसे समय में निर्भीक स्वतंत्र लेखन व समाचार देने का प्रयास रहा है। यही एक महत्वपूर्ण प्रमाण है कि अनेक समाचार बड़े अखबारों में नहीं मिलते जो करणी प्रेस इंडिया में पढ़ने को मिल जाते हैं। अखबारों में व चैनलों में आसपास के समाचार देने में आनाकानी होती है,लोग समाचार देखने को पढ़ने को आतुर रहते हैं लेकिन मिलते नहीं हैं। वे समाचार विचार करणी प्रेस इंडिया में देने का प्रयास रहता है।
राजनैतिक आपराधिक सामाजिक धार्मिक आर्थिक विषय शहरी व ग्रामीण,सरकारी व गैर सरकारी सभी में आगे रहने का प्रयास सदा सफल रहा है।
हमारे समाचार,विचार,टिप्पणियां,लेख कहानियां,कविताएं एवं
फोटो कवरेज आसपास और देश प्रदेश और विश्व में सभी वर्गों द्वारा सराहे जाते रहे हैं।
हमारे असंख्य पाठकों की आलोचनाओं समालोचनाओं ने ही इस ऊंचे शिखर पर पहुंचाया है। उनकी आलोचनाओं समालोचनाओं भरी राय से ही आगे और आगे बढने की प्रेरणा मिली है।

विश्व में कोरोना वायरस की महामारी के कहर में भारत भी शामिल है। हम जनता को इस महामारी से बचाने के हर सरकारी गैर सरकारी कदमों में साथ हैं।

उच्च कोटि की टिप्पणियों व समाचारों के लिए लोग इस साइट पर भरोसा करते हुए देखते हैं।
पाठकों से आग्रह है कि करणी प्रेस इंडिया को देखते रहें व फोलोवर बनें।

www.karnipressindia.com


Mail** karnidansinghrajput@gmail.com

^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^





सोमवार, 20 अप्रैल 2020

कोविड-19.जिला कलक्टर ने वीडियो से धार्मिक संगठनों से बातचीत की.


श्रीगंगानगर, 20 अप्रैल 2020.

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि देश में कोरोना महामारी के चलते हुए लाॅकडाउन की स्थिति में जिले में किसी भी प्रकार के धार्मिक, सामाजिक व सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नही होगें। इस प्रकार के कार्यक्रमों पर पूर्णतः प्रतिबंध रहेगा। 


जिला कलक्टर ने सोमवार को जिले के विभिन्न धार्मिक संगठनों के पदाधिकारियों, विभिन्न धर्मों के जागरूक नागरिकों से विडियो के माध्यम से बातचीत की। 

उन्होंने कहा कि आगामी दिनों में आखा तीज, परशुराम जयंती तथा रमजान का अवसर शुरू हो रहा है, ऐसे में किसी भी प्रकार के धार्मिक आयोजन नही होगें और न ही नागरिक इकठ्ठे होंगे। 

उन्होंने कहा कि अपने-अपने घरों में रहकर धारा 144 व लाॅकडाउन की अक्षरशः पालना सुनिश्चित की जाये। धार्मिक संगठनों के पदाधिकारी व विभिन्न धर्मों के अग्रणी नागरिक आमजन को भी बताये कि लाॅकडाउन के दौरान कोई धार्मिक आयोजन नही होगें और न ही किसी प्रकार की स्वीकृति दी जायेगी। 

उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग आवश्यक है। इसलिये सभी नागरिक अपने घरों में रहें। एक दुसरे के घर न जाना है और न ही दूसरे नागरिक को घर बुलाना है। उन्होंने कहा कि सामाजिक दूरी स्वयं के लिये, परिवार के लिये बहुत जरूरी है। जिला कलक्टर ने कहा कि समाज में किसी प्रकार की अफवाह न फैले, इस बात का भी ध्यान रखें। अगर कोई नागरिक अफवाह फैलाने का प्रयास करता है, तो उसके विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। कोई भी नागरिक बिना पास के बाहर नही निकलेंगें। 

श्री नकाते ने कहा कि विश्व व्यापी महामारी के खतरनाक संक्रमण से लड़ने के लिये सोशल डिस्टेंसिंग आवश्यक है। देश में लाॅकडाउन करने का उद्देश्य महामारी से आमजन को बचाना है। इसके पीछे देश की जनता को बचाने की गहरी सोच है। उन्होंने कहा कि रमजान के अवसर पर किसी प्रकार की दावत इत्यादि व सामूहिक भोज नही होगें। 

उन्होंने कहा कि एक अप्रैल के पश्चात कोई भी विदेशी, अन्य राज्यों एवं अन्य जिलों से नागरिक आये हैं तो उनकी सूचना संबंधित नियंत्रण कक्ष, एसडीएम, बीसीएमओ के नियंत्रण कक्ष में जरूर दें, जिससे उनमें कोई व्यक्ति बीमार है तो उसकी जांच की जा सके। वीसी के माध्यम से जिले के सभी उपखण्ड स्तर, जिला स्तर के धार्मिक संगठनों के पदाधिकारी व जागरूक नागरिकों ने भाग लिया। 

श्रीगंगानगर जिले में 1-4-2020 के बाद आए लोग सूचना दें-नहीं तो मुकदमा होगा



*विदेश, बाहरी राज्यों व अन्य जिलों से आये नागरिकों को देनी होगी जानकारी*


श्रीगंगानगर, 20 अप्रैल 2020.

 जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट व जिला आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने बताया कि ऐसे व्यक्ति जो श्रीगंगानगर जिले से बाहर के देशों, राज्यों, राजस्थान के अन्य जिलों से 1 अप्रेल 2020 के बाद यात्रा कर लौटे है या आगे भी लगातार आते रहेगें, की सूचना अपनी सम्पूर्ण जानकारी ग्राम पंचायत, ब्लाॅक मुख्य चिकित्सा अधिकारी, उपखण्ड मजिस्ट्रेट कार्यालय के कन्ट्रोल रूम नम्बर पर देना सुनिश्चित करेगें। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण को महामारी घोषित किया जा चुका है एवं गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की शक्तियों का प्रयोग करते हुए आदेश 15 अप्रेल 2020 द्वारा सम्पूर्ण देश में लाॅकडान की अवधि 3 मई 2020 तक घोषित की है। जिला प्रशासन द्वारा सम्पूर्ण जिले में धारा 144 लागू की जा चुकी है। 

उन्होंने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा सम्पूर्ण जिले में करवाये गये घर-घर सर्वे के बावजूद भी कतिपय व्यक्तियों, जो विदेश, अन्य राज्य या राजस्थान के अन्य जिलों से यात्रा कर लौटे है, के द्वारा अपनी जानकारी छिपाई जा रही है, जिससे जिले में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति भी संभावित हो सकते है, कुछ लोगों द्वारा अपनी बीमारी के लक्षण होने, विदेशी, अन्य राज्य, अन्य जिलों से यात्रा की हिस्ट्री होने की जानकारी छिपाई जा रही है, जिससे उसके स्वयं की, परिवार के सदस्यों का एवं जिले के अन्य नागरिकों के कोरोना वायरस संक्रमित से होकर बीमार, मृत्यु होने की संभावना बढ़ जाती है। 

श्री नकाते ने बताया कि ऐसे व्यक्ति जो जानकारी छुपायेगा, के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 एवं राजस्थान ऐपीडेमिक एक्ट, भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 269, 270, 271 के साथ-साथ भारतीय दण्ड संहिता की अन्य सुसंगत धाराओं के अंतर्गत अभियोजन की कार्यवाही की जायेगी। 

----------



रविवार, 19 अप्रैल 2020

लॉकडाउन में ई कॉमर्स कंपनियां गैर जरूरी सामानों की होम डिलीवरी नहीं कर सकेंगी- MHA की संशोधित गाइडलाइन्स।

*आज 19-4-2020 को गृह मंत्रालय ने इसे लेकर संशोधित गाइडलाइन जारी कर दीं*

*गृहमंत्रालय  के मुताबिक, लॉकडाउन में गैर-जरूरी सामानों की डिलीवरी बंद रहेगी।*


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच 14 मार्च को देशभर में 3 मई तक सख्त लॉकडाउन लगाने का ऐलान किया था। हालांकि, 20 अप्रैल से कृषि और कुछ अन्य क्षेत्रों में छूट की बात भी कही गई थी। 

पहले कहा जा रहा था कि 20 अप्रैल से ई-कॉमर्स कंपनियों को सामानों की डिलीवरी की छूट दी जाएगी। हालांकि, गृह मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि ई-कॉमर्स कंपनियां काम करती रहेंगी, लेकिन सिर्फ अहम सामानों की डिलीवरी के लिए।

गृह मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी कर कहा कि नॉन एशेंशियल गुड्स यानी जो भी सामान अहम या आवश्यक जरूरत के बाहर हैं, उनकी डिलीवरी लॉकडाउन के दौरान पूरी तरह बंद होगी। सरकार ने पिछले आदेश में साफ किया था कि ई-कॉमर्स कंपनी के वाहनों को जरूरी परमिशन के बाद ही आवाजाही की अनुमति होगी।



सरकार ने आदेश में किन सेवाओं को लॉकडाउन से छूट दी थी

सरकार ने 15 अप्रैल को जारी आदेश में किसानी से जुड़े उपकरणों की दुकानें, खाद-बीज, कीटनाशकों स्पेयर पार्ट्स की दुकानों को खोलने में छूट दी है। दिशा-निर्देश के मुताबिक फसल कटाई से जुड़ी मशीनों का एक राज्य से दूसरे राज्य लाया और ला जाया जा सकेगा। उसे पाबंदी से छूट रहेगी। सरकार ने सभी मॉल, सिनेमा हॉल, स्पोर्ट्स कम्प्लेक्स, स्वीमिंग पुल्स, मनोरंजन पार्क, बार एंड रेस्टोरेंट को बंद रखने का आदेश बरकरार रखा है। गाइडलाइंस में यह भी कहा गया है कि हॉटस्पॉट इलाकों में उन गतिविधियों पर भी रोक रहेगी जिसे इस गाइडलाइंस के जरिए अनुमति दी गई है।


सूरतगढ़ में भी नहीं खुल सकेंगे माल- जिला कलक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक के स्पष्ट निर्देश जारी

* करणीदानसिंह राजपूत *

भारत सरकार और राजस्थान सरकार से बड़ा कौन है जो सूरतगढ़ में लाक डाउन में माल खुलवा देगा।

कोरोना वायरस संक्रमण रोकने और बचाव के लिए लागू लोक डाउन में  20 अप्रैल से 3 मई तक की गाइडलाइन जारी हुई है।

भारत सरकार के गृह मंत्रालय और राजस्थान सरकार की ओर से  बनाए कानून दिशानिर्देश से जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक ने अलग अलग प्रेस नोट जारी किए हैं।

लोकडाउन में जो संस्थान खोले जाएंगे उनके नाम है और जो हर हालत में बंद रहेंगे उनके भी नाम है।


जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधीक्षक से बड़ा जिले का कोई अधिकारी नहीं होता।

दोनों द्वारा जारी अलग-अलग प्रेस नोट में मॉल बंद का ही स्पष्ट लिखा गया है।

जिला कलेक्टर की ओर से जारी सूचना में मॉल और शॉपिंग मॉल को बंद रखने की सूचना है।

ऐसी स्थिति में सूरतगढ़ में भी मॉल हो चाहे शॉपिंग मॉल हो, चाहे वे किसी भी किसी भी प्रकार के हों नहीं खोले जा सकते।

स्थानीय प्रशासन और पुलिस को आदेशों का ही पालन करवाना है।

००

20 अप्रैल से क्या खुलेंगे, क्या बंद रहेंगे- गृह मंत्रालय भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा जारी गाईडलाईन


* लाॅकडाउन की कड़ाई की पालना के साथ-साथ सार्वजनिक स्थलों पर मास्क का उपयोग जरूरी*
श्रीगंगानगर, 18 अप्रैल 2020.
गृहमंत्रालय भारत सरकार एवं राजस्थान सरकार ने कोरोना संक्रमण एवं बचाव को लेकर लाॅकडाउन की अवधि आगामी 3 मई 2020 तक बढ़ा दी है। लाॅकडाउन की पालना एवं धारा 144 की पालना करना प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है।
जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने बताया कि प्राप्त नई गाईड लाईन के अनुसार लाॅकडाउन की पालना एवं सोशल डिस्टेंसिंग की पालना कड़ाई से करनी होगी। आमजन को इस गंभीर महामारी से बचाने का एक ही रास्ता सोशल डिस्टेंसिंग है, जिसकी अक्षरशः पालना सुनिश्चित की जायेगी।
आम नागरिक अपने घरों में रहें, बिना अतिआवश्यक कार्य अपने घर से बाहर नही निकलें। सार्वजनिक स्थल पर जाने के अवसर पर मास्क का आवश्यक रूप से उपयोग करना होगा।
 जिला कलक्टर ने बताया कि रबी की फसल तैयार होने के कारण किसान को फसल कटाई एवं फसल को बेचने या कृषि उपकरणों की मरम्मत के संबंध में किसी प्रकार की परेशानी या पास के लिये कृषि विभाग की उपनिदेशक या एसडीएम को अधिकृत किया गया है। कृषि से संबंधित एग्रो इंडस्ट्री एवं रिको क्षेत्रा में संचालित नागरिक आपूर्ति से जुड़े उद्योगों के उद्यमियों एवं आवश्यक श्रमिकों के पास के लिये जीएमडीआईसी तथा रिको के अधिकारियों को अधिकृत किया गया है। किसान को अपनी कृषि जिन्स बेचने में या फसल को मंडी तक लाने में किसी प्रकार की समस्या न हो तो इसके लिये मंडी सचिव एवं संबंधित एसडीएम को अधिकृत किया गया है।
प्रतिबंध👌
नई गाईडलाईन के अनुसार दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के अंतर्गत 5 या 5 से अधिक व्यक्तियों का आवागमन एवं एकत्रित होने पर प्रतिबंध, सुरक्षा उपायों अथवा ग्रह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा अनुमत को छोड़कर सभी घरेलू व अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा, रेल में आवागमन व सार्वजनिक बसों में परिवहन निषेध रहेगा। इसी प्रकार मेट्रो रेल, चिकित्सीय कारणों को छोड़कर, सभी शैक्षणिक प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थान बदं रहेगें। आॅनलाईन अध्यापन को प्रोत्साहन, अनुमत गतिविधियों के अलावा ओद्यौगिक एवं व्यवसायिक गतिविधियां नही होगी।
अनुमत के अलावा आतिथ्य सेवाएं होटल आदि बंद रहेगें।
*टैक्सी, केब समूह, आॅटो रिक्सा, साईकिल रिक्शा, सिनेमा हाॅल, 👌माॅल, 👌शाॅपिंग माॅल, व्यायाम शालाएं, स्पोर्टस काॅम्पलेक्स, स्वीमिंग पुल, मनोरंजन पार्क, बार इत्यादि बंद रहेगें।*
सभी सामाजिक, राजनैतिक खेल, मनोरंजन अकादमी, सांस्कृतिक धार्मिक कार्यक्रम, अन्य समारोह, सभी धार्मिक स्थल जनता के लिये बंद रहेगें।
किसी प्रकार का धार्मिक सम्मेलन नही होगा।
अंतिम संस्कार के लिये 20 से अधिक व्यक्तियों के समूह को अनुमति नही दी जायेगी। 
👌सामान्य सावधानियां
सरकार द्वारा जारी नई गाईडलाईन के अनुसार सार्वजनिक स्थानों, कार्यालयों, कार्य स्थलों पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा एवं सामाजिक दूरी सुनिश्चित करेगें। सार्वजनिक स्थान पर कोई संगठन, प्रबंधक पांच से अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने की अनुमति नही होगी।
विवाह और अंतेष्टि जैसे कार्यक्रम जिला मजिस्ट्रेट की अनुमति से किये जायेगें। सार्वजनिक स्थल पर थूकना दण्डनीय होगा। शराब, गुटका, तम्बाकू की बिक्री पर प्रतिबंध रहेगा।
कार्यस्थल
कार्यस्थल पर सेनेटाइजर, विभिन्न पारियों के मध्य एक घंटे का अंतराल, सामाजिक दूरी, लंच बे्रक में समय का अंतराल, 65 वर्ष से उपर के व्यक्ति, बीमार व्यक्ति या ऐसे माता-पिता जिनके बच्चे पांच वर्ष से कम आयु के है, उन्हें वर्क फ्रोेम होम के लिये प्रोत्साहित किया जाये। सार्वजनिक व निजी कार्मिक आरोग्य सेतू एप्प का उपयोग करें। बड़ी सभाएं निषेध रहेगी।
जिला मजिस्ट्रेट वर्णित प्रतिबंधों एवं सामान्य सावधानियों को आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 में वर्णित जुर्माना एवं दाण्डिक कार्यवाहियों के माध्यम से लागू करना सुनिश्चित करेगें।
संशोधित लाॅकडाउन के दौरान अनुमत गतिविधियां (20 अप्रेल से 3 मई)
संशोधित लाॅकडाउन के दौरान प्राप्त गाईडलाईन में वर्णित कोई भी छूट हाॅटस्पोट के रोकथाम क्षेत्र व कलस्टर जैसे कर्फयू जैसे इलाकों में लागू नही होगें। अनुमत श्रेणी के सभी प्रतिष्ठान सेवाओं के लिये अलग से अनुमति की आवश्यकता नही होगी। अनुमत कार्य शर्तों के अध्याधीन संचालित होगें।
चिकित्सा
सभी राजकीय व निजी चिकित्सालय डिस्पेंसरी, लेबोटरी, क्लिनिक, नर्सिंग होम, आयुर्वेद युनानी, होम्योपैथिक पशु चिकित्सालय, औषधि अनुसंधान प्रयोगशालाएं पूरी तरीके से कार्यरत रहेगी। इनके लिये सरकारी पहचान पत्र राजकीय या निजी चिकित्सा संस्थान द्वारा जारी पहचान पत्र पर्याप्त होगा।
सरकारी कार्यालय
राज्य सरकार के कार्यालय स्वायतशासी, अधीनस्थ, निगम सहित आवश्यकता के आधार पर स्टाॅफ की संख्या बिना किसी प्रतिबंध के संचालित होगें। चिकित्सा, चिकित्सा शिक्षा, आयुर्वेद, पुलिस, होमगार्ड, सिविल डिफेन्स, वित्त, कोषालय, राजस्व अर्जित करने वाले कार्यालय, रसद, आपदा प्रबंधन, कृषि विपणन, सहकारिता, सूचना प्रोद्यौगिकी, विधुत, पेयजल, स्वायत शासन, समाज कल्याण, उद्योग, रिको, ग्रामीण विकास, वन विभाग, सूचना एवं जनसंपर्क व जिला प्रशासन के कार्यालय खुले रहेगें। जिला स्तर पर जिला स्तरीय अधिकारी एवं उनके तत्काल अधीनस्थ कार्मिक तथा शेष एक तिहाई आधार पर एवं जिला कार्यालयों के नीचे वर्क फ्रोेम होम को अपनायेगें तथा किसी समय कर्तव्य पर बुलाये जा सकेंगे। सक्षम अधिकारी की पूर्व अनुमति के बिना मुख्यालय नही छोड़ेगें और न ही अवकाश पर जायेगें।
भारत सरकार के कार्यालय
गृह मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार सभी राजकीय कर्मचारी एवं स्टाॅफ सरकारी वाहन, अनुबंधित वाहन या निजी वाहन से सरकारी पहचान पत्र प्रस्तुत करने पर घर से कार्य स्थल आ जा सकेगें। पृथक से पास की आवश्यकता नही होगी।
दुकानें
नई गाईड लाईन के अनुसार होम डिलीवरी पर जोर दिया जाये। अनुमत दुकानों में केमिस्ट, चिकित्सा उपकरण, पशु चिकित्सा दवाई, किराना प्रोविजनल स्टोर, सभी प्रकार के खाद्यानों (साॅस, पैकेज फूड आदि ) और खाद्य पदार्थों दैनिक आवश्यकताओं (स्वच्छता उत्पाद, हैण्डवास, बाॅडी वाश, शैम्पू, पाउडर, क्रीम, टूथपेस्ट, सेनेन्ट्री पैड्स, डाईपर, किटाणु नाशक, सरफेश क्लीनर, डिटर्जेंट, चार्जर एवं बैट्ररी सेल इत्यादि का विक्रय करते है), फल सब्जिया, दूध, डेयरी उत्पाद, अण्डे, मीट, चिकन, फिश, पशु एवं पशु आहार, मुर्गी दाना के डिपो तथा इनसे जुडे़ केन्द्र खुले रहेगें। कृषि एवं उधानिकी से संबंधित सामान बीज, उर्वरक, कीटनाशक, कृषि उपकरण एवं आपूर्ति श्रृंखला के उपकरण, कृषि मशीनरी यंत्रों, उपकरणों के विक्रय, स्पेयर पार्टस एवं मरम्मत की दुकानें खुली रहेगी। रेस्टोरेंट एवं भोजनालय आदि होम डिलीवरी करेगें। विशेष रूप से राजमार्गों पर ट्रकों की मरम्मत के लिये कार्यशाला, दुकानें, उचित दुरी पर टायर पंचर, रिपेयर की दुकानें, राजमार्ग पर भोजन हेतु उचित दूरी पर जैसे 40 किलोमीटर दूरी पर ढाबा, आउटडोर खाने की सुविधा दी जा सकती है। सभी प्रकार के वाहनों के लिये अधीकृत कम्पनी सेवा, मरम्मत केन्द्र, अनुमत परिवहन वाहनों के लिये स्पेयर पार्ट की दुकाने अनुमत है।
दुकानदार द्वारा किसी उपभोक्ता ने मास्क नही पहन रखा है, उसको बिक्री नही की जायेगी और न ही दुकान में प्रवेश दिया जायेगा। छोटी दुकान में दो व बड़ी दुकान में पांच से अधिक उपभोक्ताओं को प्रवेश की अनुमति नही होगी तथा सामाजिक दूरी की पालना करनी होगी।
पास की व्यवस्था
राजकीय सिटीजन ऐप या आॅनलाईन आवेदन करने पर https://epass.rajasthan.gov.in  पर आवेदन किया जा सकता है। ऐसी कम्पनियां जो राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर संचालित है, उन्हें खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग से अधिकार पत्रा दिये जायेगें। जिला स्तर पर संचालित को जिला प्रशासन द्वारा जारी किये जायेगें।
उपयोगी सुविधाएं
स्वरोजगार में लगे व्यक्ति एवं सुविधाएं इलैक्ट्रिशन, प्लम्बर, आईटी मरम्मत, मोटर और अन्य मैकेनिक, कारपेन्टर, मोची, लोन्डरी एवं धोबी आदि अपना पास राजकाॅपसिटीजन एवं आॅनलाईनhttps://epass.rajasthan.gov.in  पर आवेदन कर सकेगें।
निजी सुरक्षा सेवाएं
कार्यालय तथा रिहायशी काॅम्पलैक्स में सेवा देने वाला कार्मिक यूनिफाॅर्म में होना चाहिए तथा कम्पनी का पहचान पत्र लेकर चलेगा। अपना पास राजकाॅपसिटीजन एवं आॅनलाईनhttps://epass.rajasthan.gov.in  पर आवेदन कर सकेगें।
वाणिज्यिक प्रतिष्ठान
बैंक, बीमा कार्यालय, एटीएम, के लिये आईटी विक्रेता, बैंकिंग अभिकर्ता, एटीएम संचालन एवं नगदी प्रबंधन ऐजेंसी कुछ समय के लिये अधिकारिक पहचान पत्र पर्याप्त होगा। सामान पास के लिये राजकाॅपसिटीजन एवं आॅनलाईनhttps://epass.rajasthan.gov.in  पर आवेदन कर सकेगें।
प्रिन्ट एवं इलैक्ट्रानिक मीडिया
प्रिन्ट एवं इलैक्ट्रानिक मीडिया, प्रसारण, केबल सेवाओं के लिये व्यक्तिगत या राजकीय वाहन में अलग से पास की आवश्यकता नही रहेगी।
पैट्रोल पम्प, एलपीजी गैस के कार्मिक कम्पनी के पहचान पत्र, परिवहन सेवाओं एवं गोदाम से सामान आवागमन के लिये पास आॅनलाईनhttps://epass.rajasthan.gov.in  पर आवेदन कर सकेगें।
उद्योग एवं कार्यशालाएं
दवाईयां, औषधी उपकरण, कच्चा माल, उत्पाद, खाद्य पदार्थ संस्करण ईकाईयां, तेल मिल, चावल मिल, आटा दाल, चक्की एवं सभी प्रकार के खाद्य सामान उत्पादन ईकाईयां, केमिकल कारखानें, फार्म मशीनरी, उपकरण, स्पेयर पार्ट की इकाईयां एवं आपूर्ति श्रृंखला, खाद बीज, कीटनाशक उत्पादन इकाईया एवं आपूर्ति श्रृंखला, पशु आहार, मुर्गी दाना इकाईया व सप्लाई श्रृंखला, पैकेजिंग सामान, एम्बुलेंस निर्माण व बाॅडी बिल्डिंग, चिकित्सा वाहन, ग्रामीण क्षेत्र में सम्मिलित सभी उधोग जो नगरीय क्षेत्र की सीमा से बाहर, खादी कुटीर उधोग, सूचना तकनीकी हार्डवेयर, रिक्को ओधोगिक क्षेत्र, फूड पार्क, मसाला पार्क को अनुमत किया गया है।
निर्माण गतिविधियां
चिकित्सा, स्वास्थ्य भवनों के निर्माण ग्रामीण क्षेत्र में स्थानीय निकायों की सीमा से बाहर सड़क, सिंचाई परियोजनाओं, भवनों, औधोगिक परियोजनाओं, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम रिको एवं निजी औद्योगिक क्षेत्र की परियोजनाएं अनुमत है। अक्षय उर्जा, स्थानीय निकायों की सीमाओं में निर्माण परियोजनाओं के कार्यों की निरन्तरता जहां साईट पर श्रमिक उपलब्ध है, श्रमिक बाहर से लाने की आवश्यकता नही है, किये जा सकते है। महात्मा गांधी नरेगा में सिंचाई, जल संरक्षण को प्राथमिकता दी जायेगी।
कृषि उद्यानिकी व संबंद्ध गतिविधियां
कृषि उधानिकी से संबंधित खाद बीज कीटनाशक कृषि उपकरण एवं आपूर्ति श्रृंखला विक्रय की दुकान, कृषि कटाई एवं खेती संचालन, अनाज, सब्जी व फल मण्डियां, मधुमक्खी पालन, डेयरी में आपूर्ति श्रृंखला, अनुमत है। मत्स्य बिक्री और विपणन चारा संयंत्र, पाॅल्ट्री फार्म, पशुधन खेती, गौशाला एवं पशु आश्रय ग्रह से संबंधित कार्य अनुमत है।
माल एवं परिवहन सेवाएं
सभी चिकित्सा एवं पशु चिकित्सा कार्मिकों वैज्ञानिकों, पैरामेडिकल स्टाॅफ के आवागमन, माल कार्गों अन्तर जिला अंतर्राज्जीय में माल वाहनों के चलने की अनुमति होगी। रेलवे में पार्सल व माल का परिवहन, राहत का सामान, कन्टेनर डिपो, पैट्रोलियम उत्पाद, सभी प्रकार के माल वाहक ट्रकों तथा अन्य मालवाहकों को वाहन चालक व एक हैल्पर सहित आवागमन शर्त के साथ भरा व खाली की अनुमति होगी।
( पीआरओ. श्रीगंगानगर राजस्थान सरकार ।)

शनिवार, 18 अप्रैल 2020

सरकार की गाईडलाईन के अनुसार अनुमत कार्य करवाये जायेगें. कलक्टर की 18 अप्रैल की बैठक में निर्देश-दो दिवस में संभावित कार्यो व आवश्यकताओं की सूची दें।


* कार्य स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग की कड़ाई से पालना करवाई जाये*
श्रीगंगानगर, 18 अप्रेल 2020.
जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने कहा कि लाॅकडाउन के दौरान 20 अप्रेल के पश्चात भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा जारी गाईडलाईन एवं अनुमत कार्यों की सूचियां दो दिवस में तैयार कर लें। अनुमत कार्यों के कार्य स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, हाथ धोने के साबुन, सेनेटाइजर तथा श्रमिकों द्वारा भोजन अलग-अलग किया जाये, ऐसी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के साथ-साथ कड़ाई से पालना करवाई जाये।
श्री नकाते शनिवार को कलेक्ट्रेट सभाहाॅल में लाॅकडाउन के दौरान 20 अप्रेल के बाद कृषि पर आधारित उद्योगों, ग्रामीण क्षेत्र के निर्माण व विकास कार्यो को किस प्रकार से प्रारम्भ किया जाये, श्रमिकों की संख्या का निर्धारण इत्यादि तैयारियों को लेकर आयोजित बैठक में आवश्यक निर्देश दे रहे थे।
महात्मा गांधी नरेगा में व्यक्तिगत लाभ के अलावा प्रधानमंत्री आवास निर्माण के कार्य प्रारम्भ किये जायेगें। सिंचाई के क्षेत्र में नहरों व नहर वितरिकाओं की साफ-सफाई के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये है। 
ग्रामीण क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के निर्माण व विकास कार्यों में विद्युत पेयजल, ग्रामीण विकास तथा अन्य कार्यों के लिये राजकीय कार्मिकों के स्वयं के विभागीय पहचान पत्र मान्य होगें तथा श्रमिकों से संबंधित समस्या के संबंध में संबंधित तहसीलदार व एसडीएम से संपर्क किया जा सकता है।
श्रमिकों के लिये जो पास जारी किये जायेगें, उनकी सूची पुलिस विभाग को दी जायेगी तथा संबंधित क्षेत्र में सैक्टर आॅफिसर के माध्यम से भी कार्यों, श्रमिकों का भौतिक सत्यापन, सुरक्षा के उपाय इत्यादि की जानकारी ली जायेगी। कार्य स्थल पर जाने से पूर्व ग्राम पंचायत के नियंत्रण कक्ष एवं उपखण्ड स्तर के नियंत्रण कक्ष को जानकारी देवें, जिससे व्यवस्थाओं में मदद मिलेगी।
पेयजल विभाग तथा विद्युत विभाग के जिले के विभिन्न क्षेत्र में पाईपलाईन, विद्युत लाईन व विद्युत मरम्मत के कार्य नियमित रूप से किये जाते है, इसके लिये भी संबंधित एसडीएम से संपर्क कर कार्य किये जायेगें। जिन निर्माणाधीन कार्य स्थल पर सामग्री उपलब्ध है, ऐसे कार्यों को भी पूर्ण करवाया जायेगा। 
रबी फसल खरीद व्यवस्था संतोषजनक
जिला कलक्टर ने जिले में रबी फसल खरीद की जानकारी ली तथा वर्तमान व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया। गंगानगर अनाज मंडी में शनिवार को लगभग 30-35 हजार क्विंटल कृषि जिन्स की आवक हुई है। जिले में रिडमलसर के अलावा सभी मण्डियों में खरीद प्रारम्भ हो चुकी है तथा सभी जगह स्थिति सामान्य व प्रोटोकाॅल के अनुसार है। शुक्रवार को जिले की विभिन्न मण्डियों में 60 हजार क्विंटल कृषि जिन्स की आवक हुई, जो सोमवार 20 अप्रेल को बढ़कर लगभग 1 लाख क्विंटल जिन्स आने की उम्मीद है। जिला कलक्टर ने कहा कि अब तक 7 निजी क्रेताओं को अनुज्ञापत्र दिये है तथा निर्देश दिये कि जो भी क्रेता अनुमति मांगे उसे अनुमति दी जाये।
*नवीन लाईसेंस धारकों को स्टाॅक उपलब्ध करवाया जायेगा*
आबकारी विभाग द्वारा सरकारी गोदामों से नवीन लाईसेंस धारकों को स्टाॅक आवंटन कर उठवाने के संबंध में भी चर्चा हुई। जिला कलक्टर ने कहा कि गोदाम के पास अनावश्यक भीड़ नही हो तथा एक-एक करके विभागीय निर्देशों के अनुसार सामान की आपूर्ति की जा सकती है।
रिको में ऐग्रो इंडस्ट्री एवं आवश्यक ईकाइयों के श्रमिकों व स्वामियों के पास के संबंध में रिको व जीएमडीआईसी को आवश्यक निर्देश दिये गये। किसानों को अपने घर से कृषि कार्य के लिये अपने खेत में जाने में परेशानी न हो, इस पर भी चर्चा हुई। किसान को खाद, बीज, स्पेयर पार्टस व कृषि औजार मरम्मत की दुकानों की सुविधा मिलती रहें, इस पर भी चर्चा हुई। 
आबियाना शुल्क की राशि बैंकों में जमा होगी
जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि नहर अध्यक्षों के पास लगभग एक करोड़ रूपये की आबियाना राशि उपलब्ध है, जिन्हें चालान के माध्यम से बैंक में जमा की जानी है। जिला कलक्टर ने निर्देश दिये कि थोड़ी-थोड़ी संख्या में अध्यक्षों को बुलाकर सिंचाई शुल्क की राशि नियमानुसार चालान के माध्यम से बैंकों में जमा की जाये। 
बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन डाॅ. गुंजन सोनी, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री महावीर सिंह राजपुरोहित, अतिरिक्त जिला कलक्टर सर्तकता श्री अरविन्द जाखड़, भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी मोहम्मद जुनैद, न्यास सचिव डाॅ. हरितिमा, जिला आबकारी अधिकारी प्रतिष्ठा पिलानिया, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. गिरधारी लाल, प्रबंध निदेशक सहकारी श्री भूपेन्द्र सिंह, जिला परिवहन अधिकारी सुमन, पेयजल के अधीक्षण अभियंता श्री बलराम शर्मा, विधुत के अधीक्षण अभियंता श्री जे.एस.पन्नू सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
------------

आबकारी विभाग-नवीन लाईसेंस धारकों को स्टाॅक उपलब्ध करवाया जायेगा*

श्री गंगा नगर 18 अप्रैल 2020.

आज जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई अधिकारियों की बैठक में लोकडाउन के चलते विभिन्न कार्यों सहित मदिरा बाबत भी दिशा निर्देश हुए।

आबकारी विभाग द्वारा सरकारी गोदामों से नवीन लाईसेंस धारकों को स्टाॅक आवंटन कर उठवाने के संबंध में भी चर्चा हुई। जिला कलक्टर ने कहा कि गोदाम के पास अनावश्यक भीड़ नही हो तथा एक-एक करके विभागीय निर्देशों के अनुसार 

 सामान की आपूर्ति की जा सकती है।

शुक्रवार, 17 अप्रैल 2020

क्या यही है मेरा शहर? कविता-करणीदानसिंह राजपूत



मेरा शहर बोलता नहीं

मेरा शहर देखता नहीं
मेरा शहर सुनता नहीं

अजब है मेरा शहर

घटनाओं पर घटनाएं

कुछ भी हो जाए

मेरे शहर की आँखें नहीं

सुनाओ किसे  कान नहीं

बोले कैसे मुंह नहीं।

अरे। इसका यह रूप

ताकत का यह स्वरूप

कंकाल कैसे हो गया?

सुना है कहानियों में

कंकाल भी बोल उठते हैं।
--------------------

2-9-2016.

अपडेट 5-5-2017.

अपडेट 11-7-2017.

अपडेट 17-4-2020.

********************

करणीदानसिंह राजपूत,स्वतंत्र पत्रकार,सूरतगढ़।_*********************



गुरुवार, 16 अप्रैल 2020

प्रताप मॉल खुला है या बंद है. फोटो देख कर बताना. शिकायत भी पढ लेना.



* करणी दान सिंह राजपूत *
सूरतगढ़ 16 अप्रैल 2020.
कोरोना वायरस संक्रमण रोकने और बचाव करने के तहत  लागू लॉक डाउन में यहां प्रताप मॉल के खोले जाने और बिक्री करने सोशल डिस्टेंस का उल्लंघन करने का आरोप लगा।फोटो सहित समाचार 'ब्लास्ट की आवाज'में आया। करणी प्रेस इंडिया पर भी चला। सरकार की जो एडवाइजरी जारी की गई है उसमें मॉल को बंद रखा गया है अगर यह खुल रहा है तो गलत खुल रहा है।
आज 16 अप्रैल को शहर के करीब 1 लाख लोगों में से एक जागरूक नागरिक गुरु शिन्द्र सिंह ने इस प्रताप मॉल की शिकायत उपखंड अधिकारी सूरतगढ़ के मार्फत जिला कलेक्टर को करने की हिम्मत दिखाई।

इस मॉल के  सभी संचालक मालिक अच्छे पढ़े-लिखे लोग हैं लेकिन उन्होंने सरकार की एडवाइजरी क्यों नहीं मानी। यह तो वे लोग जानते हैं या प्रशासन जानता है। प्रशासन बाजार में घूमता है जांच करता है या केवल खानापूर्ति है।
शिकायत के बाद में आज ही फोटोग्राफ्स लिया गया जो यहां दिया जा रहा है। पाठक दर्शक ध्यान करें मॉल खुला है या बंद है?
यह भी विचारे कि गुरुशिन्द्रसिंह ह
की शिकायत में कोई शक्ति है या नहीं है? उसने शिकायत अपने लिए की या शहर की जनता के लिए की।
*सावधान रहें बड़ी दुकानों वाले जो तोड़ रहे हैं कानून*
सूरतगढ़ में कुछ बड़ी दुकानों जिनके पिछवाड़े में या साइड की सड़कों पर दरवाजे हैं वहां से भी अवैध रूप से बिक्री की जाने की शिकायतें आ रही है।
ऐसी बड़ी दुकानें हो चाहे अन्य कोई स्टोर कोशिश की जाएगी कि पिछवाड़े वाले गेट से लेन-देन बंद हो। जनता को बचाने के लिए बाकायदा कोशिश की जाएगी फोटोग्राफी वीडियोग्राफी की। 00

पीएम गरीब कल्याण योजना- जन-धन खातों में राशि सुरक्षित: सरकार वापस नहीं लेगी- जिला कलक्टर


श्रीगंगानगर, 16 अप्रैल 2020.

केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण कार्यक्रम एवं अन्य योजनाओं के तहत सहायता राशि लाभार्थियों के बैंक खातों  में जमा की जा रही है।

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने बताया कि जन-धन खातों में जमा राशि खाताधाक के बैंक खातों में जमा होने के बाद सरकार द्वारा वापस नही ली जाएगी। जमा की गई राशि लाभार्थियों के बैंक खातों में सुरक्षित जमा रहेगी, जिसका उपयोग खाताधारक आवश्यकतानुसार कर सकता है। खाताधारक किसी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान ना देते हुए जमा राशि को निकलवा कर उपयोग आवश्यकतानुसार बाद में कभी भी कर सकता है। इसलिए लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के लिए अतिआवश्यक हो तो ही बैंक से राशि प्राप्त की जाए, अन्यथा स्वयं की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए घर पर रहे और अपने व अपने परिवार को इस महामारी से सुरक्षित रखे। जमा की गई राशि बैंक खातों में सुरक्षित रहेगी।

----------

नगरपालिका/परिषद-सफाई व मच्छरों को मारने के प्रभावी कदम उठायें

श्रीगंगानगर, 16 अप्रेल2020.

 जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने जिले के नगरपरिषद सहित जिले की नगरपालिकाओं को लाॅकडाउन के दौरान सफाई व्यवस्था व आमजन को मच्छरों के प्रकोप से छुटकारा दिलाने के लिये प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिये हैं।


जिला कलक्टर ने नगरपरिषद आयुक्त को निर्देश दिये है कि शहर में मच्छरों को मारने के लिये चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से समन्वय रखते हुए एमएलओ का छिड़काव करने के साथ-साथ बड़े पैमाने पर फोगिंग की जाये। फोगिंग के दौरान जहां मच्छरों का ज्यादा प्रकोप तथा पनपने के स्थान नालियां, सैफ्टी टैंक इत्यादि को टारगेट करते हुए छिड़काव किया जाये। उन्होंने कहा कि मच्छरों के प्रकोप से विभिन्न प्रकार की बिमारियां पैदा होती है। इसलिये समय रहते एमएलओ व फोगिंग का छिड़काव करने के साथ-सफाई व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया जाये। 

इसी प्रकार जिले की नगरपालिकाएं भी अपने-अपने क्षेत्र में माकूल सफाई व्यवस्था, कचरे का उठाव व मच्छरों को मारने के लिये प्रभावी कदम उठायें। 

बुधवार, 15 अप्रैल 2020

बिजली के बिल कैसे मिलेंगे और कैसे भरे जाएंगे. -बिलों बाबत सूचना- जोधपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड


श्रीगंगानगर-जोधपुर, 14 अप्रैल 2020.
जोधपुर डिस्काॅम के प्रबंध निदेशक अविनाश सिंघवी ने लाॅकडाउन की विषम परिस्थितियों में विद्युत उपभोक्ताओं को राहत पहुुंचाने के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा लिए गए निर्णयों की पालना के डिस्काॅम अधिकारियों को निर्देश जारी किए है।
 प्रबंध निदेशक ने लाॅकडाउन के तहत आपातकालीन सेवाओं को सुचारू बनाए रखने के लिए विद्युत वितरण निगम जोधपुर 24 घंटे सेवारत है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा उपभोक्ताओं के लिए जो निर्णय लिए गए उनकी शत प्रतिशत पालना के निर्देश दिए गए है। प्रबंध निदेशक ने कहा कि कोरोना के संक्रमण के खतरे को देखते हुए कर्मचारियों को मीटर रीडिंग के लिए भेजा जाना संभव नहीं है, माह अप्रैल 2020 में सभी उपभोक्ताओं को औसत के आधार पर प्रोविजनल बिल जारी किए जा रहें है, जिनके उपयोग, बिल राशि का समायोजन मीटर रीडिंग उपलब्ध होने पर कर दिया जाएगा। प्रबंध निदेशक ने बताया कि कृषि उपभोक्ताओं के मार्च 2020 में जारी बिल अप्रैल व मई 2020 में जारी होने वाले बिल की राशि का भुगतान 31 मई 2020 तक स्थगित किया गया है। 31 मई तक भुगतान न करने पर कोई विलम्ब शुल्क नहीं लगेगा, न कनेक्शन काटा जाएगा।
 प्रबंध निदेशक ने बताया कि घरेलू श्रेणी के 150 युनिट माह तक उपभोग करने वाले उपभोक्ताओं के उपयोग माह मार्च-अप्रैल के बिल जो क्रमशः अप्रैल व मई माह में जारी होंगे उनकी राशि का भुगतान 31 मई 2020 तक स्थगित रहेगा, न तो अवधि के बिलों की राशि 31 मई 2020 तक भुगतान न करने पर कोई विलम्ब शुल्क नहीं लगेगा न ही कनेक्शन कटेगा। उन्होंने बताया कि 150 युनिट माह में अधिक उपभोग वाले उपभोक्त के बिल की राशि में यह छुट नहीं होगी। प्रबंध निदेशक ने बताया कि लाॅकडाउन से मुक्त औद्योगिक व व्यावसायिक (अघरेलू) प्रतिष्ठानों को छोड़कर शेष सभी औद्योगिक व्यावसायिक (अघरेलू) प्रतिष्ठानों के बिल में स्थाई शुल्क की राशि का भुगतान लाॅकडाउन अवधि के अनुपात में 31 मई 2020 तक स्थागित रहेगा, यह स्थगित (डेफर्ड) की राशि बिल में अंकित तो होगी, परंतु देय राशि में शामिल नहीं होगी। प्रबंध निदेशक ने बताया कि कृषि व अघरेलू उपभोक्ता द्वारा माह अप्रैल व मई के बिलों की जितनी राशि का भुगतान माह अप्रैल व मई में जमा करवाया जाएगा उतनी राशि पर 5 प्रतिशत छुट आगामी माह के बिल में समायोजित हो जाएगी।
 प्रबंध निदेशक ने बताया कि एमनेस्टी योजना में कृषि व घरेलू उपभोक्ता जिनमें कनेक्शन 31 मार्च 2019 से पूर्व कटे हुए है, उनके लिए एमनेस्टी योजना 30 जून 2020 तक बढ़ा दी गई है। ऐसे उपभोक्ता बिना ब्याज व बिना विलंब शुल्क मूल राशि आॅनलाइन नेट बैंकिग, पेटीएम, अजेजन-पे, जेडीवीवीएनएल कंजूमर एप, बिल डेस्क आदि द्वारा जमा करा सकते है या भुगतान योग्य राशि सहायक अभियंता कार्यालय में दे सकते है।
उपभोक्ताओं को यह सुविधा
प्रबंध निदेशक ने बताया कि विद्युत कर्मचारियों द्वारा मीटर पठन व वितरण के लिए लाॅकडाउन के चलते उपभोक्ता के यहां जाना संभव नहीं हो सकेगा, इससे बिल औसत के आधार पर बना कर आॅनलाइन, एसएमएस से भेजे जाएंगे, जबकि प्रिंटेड प्रति संबंधित एईएन कार्यालय में उपलब्ध रहेगा या निकटतम सब स्टेशन पर रखवा दी जाएगी। इन्होंने बताया कि उपभोक्ता को विकल्प होगा कि वह अपने मीटर की फोटो मय के नंबर खींच कर अपने जोन के संबंधित वरिष्ठ लेखाधिकारी को ई-मेल आईडी या मोबाइल नंबर पर भेजना चाहे तो बिल मीटर रीडिंग के आधार पर बन या ठीक कर भेज दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि जोधपुर जोन ई-मेल sraojdz@gmail.com मे मोबाइल नम्बर 9413359094, बाड़मेर जोन ई-मेलsraojdz@gmail.com  मे व मोबाइल नम्बर 9414031579 व बीकानेर जोन ई मेलsraojdz@gmail.com मे व मोबाइल नम्बर 9413359539 पर भेज सकते है। उन्होंनें बताया कि उपभोक्ता गुगल प्ले स्टोर से एड्राइंड, एप्पल मोबाइल फोन या कम्प्यूटर पर जेडीवीवीएनएल कंजूमर एप डाउनलोड कर बिल देख सकते है। डुप्लीकेट काॅपी निकाल सकते है, बिल का भुगतान कर सकते है।
उन्होंने बताया कि उपभोक्ता जिनके फोन नंबर, ईमेल आईडी विद्युत निगम में रजिस्टर्ड है उन्हें एसएमएस, ईमेल भी भेजा जाएगा। जिसमें बिल की राशि से संबंधित जानकारी उपलब्ध होगी। उपभोक्ता सेवा केंद्र टोल फ्री नं. 18001806045 या 1920 या 0291-2741912 पर काॅल करके भी अपने बिल की राशि जान सकता है व किसी प्रकार की विद्युत संबंधी जानकारी प्राप्त कर कर सकता है। उपभोक्ता अपने मोबाइल नंबर एवं ई-मेल आईडीhttps://bit.ly/3a48mie पर अपडेट कर सकते है व उक्त लिंक पर ईमेल पर  आईडी व मोबाइल नंबर होने पर बिल से संबंधित जानकारी ई-मेल व मोबाइल पर भेज दी जाएगी।
------------

यह ब्लॉग खोजें