रविवार, 29 मार्च 2020

श्रीगंगानगर जिले की सीमाएं पूरी तरह सील रहेगी-महत्वपूर्ण खबरें

*श्रमिकों का पलायन न हो, इसके लिए सुविधाएं दी जाएगी*

श्रीगंगानगर, 29 मार्च 2020.

जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट श्री शिवप्रसाद एम. नकाते ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण एवं बाचव को लेकर गृह मंत्रालय के निर्देशानुसार जिले की अन्तर्राज्यीय  एवं राज्य के अन्य जिलों की सीमाए पूरी तरह से सील रहेगी।

जिले का कोई भी नागरिक बाहर नही जा सकेगा और न ही बाहरी नागरिक को जिले में आने दिया जाएगा। 

जिला कलक्टर ने रविवार को जिले के एसडीएम के साथ वीसी एवं चिकित्सा विभाग के ब्लाॅक सीएमएचओ के साथ आयोजित बैठक में आवश्यक निर्देश दिए।

 उन्होने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार के निर्देश है कि जो नागरिक जहान है, वहीं रहे, गरीब व जरूरतमंद को रहने व भोजन इत्यादि की आवश्यकता हो तो, इसकी व्यवस्थाएं करवाई जाएगी। 

उन्होंने कहा कि श्रमिकों, कार्मिकों का पलायन लाॅकडाउन के निर्देशों का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि विश्वव्यापी महामारी से निपटने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है। ब्लाॅक स्तर पर व जिला स्तर पर क्वारटाइन सेंटर पूरी तरह से तैयार रखे जाएं तथा जो भी संदिग्ध है, उन्हे कम से कम 14 दिन का क्वारटाइन किया जाए। 

जिला सहित ब्लाॅक पर भी किराणा की मोबाईल वैन सेवा शुरू

जिला कलक्टर ने बताया कि जिला मुख्यालय तथा खण्ड स्तर पर भी मोबाईल वैन से किराणा आमजन को उपलब्ध करवाया जा रहा है। समस्त एसडीएम को निर्देश दिए गए है कि आवश्यकता के अनुसार मोबाईल वैन संख्या बढा दी जाए। विभिन्न मोबाईल नम्बर पर भी अपनी आवश्यकताएं बताई जा सकती है, उसी के अनुरूप अनावश्यक भीड न हो, आसानी से राशन सुविधा मिल सकेगी। 

+किराणा व आवश्यक खद्य वाले वाहन नही रोके जाएंगे+

जिला कलक्टर ने कहा कि आमजन को घर बैठे ही किराणा, दूध, फल सब्जियां मिलती रहे, इसके लिए इस कार्य में लगे वाहनों को नही रोका जाएगा। ग्रामीण क्षेत्र के छोटे दुकानदार जो नजदीक के शहर से किराणा का सामान क्रय करते है, ऐसे गुड्स के वाहनों को भी नही रोका जाएगा। ग्रामीण क्षेत्र में पशु पालकों  को पशु व पक्षियों के फीड के वाहनों को भी नही रोका जाएगा। 

+बाहर से आने वाले हर नागरिक की स्क्रीनिंग जरूरी+

जिला कलक्टर ने चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए है कि जिले में जो नागरिक आए है, उनकी स्क्रीनिंग जरूरी है तथा नये चिकित्सकों को कोविड-19 का प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आने वाले समय की परिस्थितियों को देखते हुए जहां-जहां आईसोलेशन सेंटर बनाए गए है, उस क्षेत्र के निजी चिकित्सालयों के चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाॅफ की सूचियां तैयार रखी जाए। कटेगरी ए  और बी के जो नागरिक हैं उनकी स्क्रीनिंग की जाए। 

चिकित्सालयों को सेनेटाइज करे, स्टाॅफ अपनी सुरक्षा का ध्यान रखे

जिला कलक्टर ने कहा कि चिकित्सा विभाग के किसी कार्मिक को अवकाश नही दिया जाएगा। स्टाॅफ अपनी सुरक्षा का विशेष ध्यान रखे तथा डब्ल्यूएचओ के प्रोटोकाॅल की पालना की जाए। जिला कलक्टर ने चिकित्सा संस्थानों को सेनेटाइज करने के निर्देश दिए। ब्लाॅक स्तर पर 150-150 लीटर सोडियम हाईपोक्लोराइड तथा 1000-1000 हैण्ड सेनेटाइजार तथा मास्क उपलब्ध करवाए गए है। उन्होंने कहा कि जो स्टाॅफ सर्वे में व नाकों पर है, वहां पर हैण्ड सेनेटाइजर अवश्य रखे। सीमा के नाकों पर लगाए गए दल के अलावा 5-5 अतिरिक्त टीमें  तैयार रखी जाए। 


मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ0 गिरधारी लाल ने बताया कि अब तक 30 नमूने लिए गए थे, उनमें 27 की रिपोर्ट नेगेटिव है तथा 3 की रिपोर्ट आनी शेष है तथा 10 अन्य रोगियों के नमूने आज भेजे गए है।

इस अवसर पर भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री मोहम्मद जुनैद, न्यास सचिव डाॅ0 हरीतिमा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ0 गिरधारी लाल, डाॅ0 करण, डाॅ0 पवन सैनी, डाॅ0 मुकेश मेहता सहित जिले के ब्लाॅक सीएमएचओ उपस्थित थे। 

---------





कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें