रविवार, 8 मार्च 2020

होळी री मसखरी 2020 हंसो हंसाओ: खेलो रंग गुलालः



होली: हंसी मजाक चुटकियों से भरी ठिठोली
बुरा ना मानो होली है
================
नरेन्द्र भाई- बाजतो डंको
अमित शाह- लट्ठ राज
अरविंद केजरीवाल - सगलां रो बाप
सोनिया गांधी- कार्यकारी.
भाजपा - स्टेट इलेक्शन मांय जीत जोवती
शिव सेना -राज जिकै रो आज.
कांग्रेस-बीमार
बसपा-बीती बातां
आप- सबनै नचावै.

अशोक गहलोत- घिसटती सरकार.
सचिन पायलट- ताबै कोनी आवै.
वसुंधरा- पूठी आवैला

रामप्रताप कासनियां-म्हारी सरकार कोनी.
अशोक नागपाल - कहां हो.
राजेन्द्र भादू - राजा राज रो सीज इतिहास.
अमित भादू - उडीकतो नेतो.
गंगाजल मील - पब्लिक पावरफुल.
हनुमान मील-पब्लिक उडा दियो.
डूंगर राम गेदर - माड़ा दिन कठैई नांव नहीं.
हरचंदसिंह सिद्धु- मील री आफत.

बलराम वर्मा-आच्छे टेम री उडीक.
महेश सेखसरिया- दिन लद् या
पृथ्वीराज मील -यादां तेरियां.
राकेश-टिब्बा रो नेतो.
राजाराम गोदारो- जे सूंई पड़ती

ओमप्रकाश कालवा-गुरू री बातां
लालचंद सांखला- ला' ला'. सबका लाला.
काजल छाबड़ा- झकाझक सफेद.
सुनील छाबड़ा -  राज में रह्या ठाट.
श्रीमती राजेश सिडाना - जैपर
श्रीमती रजनी मोदी - विहार
मुरली पारीक -खुड्डे लाईन.
प्रेमप्रकाश राठौड़- आएगा टेम.
गौरव बलाना-खख भी नहीं मिल्या.
बाबूसिंह खीची- भाजपा रो कूकड़ो.
अशोक आसेरी -भगवान भी रुस्यो हो.

सुरेश मिश्रा- सेवा से मेवा.
राजेन्द्र तनेजा- सदा बहार.
पीताम्बरदत्त शर्मा-सब साफ.
शरणपालसिंह-कैमरे की नजर.
परमजीतसिंह बेदी- ऐतकी पार नीं पयी
एन.डी.सेतिया - सबका साथी.
विष्णु शर्मा - गरीब का साथी.
श्याम मोदी- समय गया.

परसराम भाटिया-साल को इंतजार.
वली मोहम्मद - कैपिटलिस्ट.        
इकबाल कुरैशी-चुपचाप.

बनवारीलाल  मेघवाल- तड़पती आत्मा.
लक्ष्मण शर्मा-पालिका बोर्ड सूं बाहर
मदन औझा-नाको लाग्यो.
महावीर भोजक-  भासण क्रांति.
ओम पुरोहित- राज मांय बखत लागसी.

प्रवीण अरोड़ा- कबाड़ी री छबि खत्म
राजकुमार गर्ग-शिक्षा में बणिया
सुशील जेतली- अब फिट.
सचिन जेतली-अब उड़ान पर.
महावीर सैनी-दौड़ भाईड़ा,दौड़

प्रवीण भाटिया-आजकाल कांई बणावै.
घनश्याम शर्मा-दूर दृष्टि.
सुखवंत-बसंत सुख.
रवि खुराना-गंजू रा ठाट.

सूरतगढ़-मल-कचरे में खूशबू लेता शहर.
एडीएम पद- नेता बतावै खाली क्यूं?

साहित्यकार
मनोज स्वामी-राजस्थानी रो सपूत.
हरिमोहन रूंख - हणै तो ठूंठ.
करणीदानसिंह राजपूत-कवितावां रा तीरिया.
परमानन्द दर्द-बस दो शेर.
राजेश चड्ढा -बा अंदर कविता बारै.
रामेश्वर दयाल तिवाड़ी-हाको
एन.के.सोमाणी-सुंवा दिन.


खबरां रा धणी-पत्रकार.

करणीदानसिंह राजपूत-तगड़ी मार.
ब्रह्मप्रकाश-दादा
हरिमोहन सारस्वत- ओनलाईन.
जितेन्द्र - ठीकठाक.
हनुमंत-अपना मत.
मनोज स्वामी-हाथ रो हूनर.
मालचंद जैन -बिड़ी रो बैरी.
राजेन्द्र पटावरी-ब्लॉग शुरू.
विजय स्वामी- कुणसो चैनल.
प्रवीण डी जैन-उतराखंड से वापसी.
शिव सारड़ा-शयाणप.
नवल भोजक-जठै हुवै कमाई.
सुभाष राजपूत-टींगर.
गोविंद भार्गव-समझे बडो पत्रकार.
राजेन्द्र उपाध्याय-दूजा मार लावै.
प्रेमसिंह सूर्यवंशी-सगळा साथी.
महेन्द्र जाटव-धमाकेदार
कैलाश सोनी-तेज
सुरेन्द्र निराणियां - एसबीटी.
प्रेम सुथार-कभी कभी.
प्रेस क्लब- खिंडता मोती.

डाक्टरां रो टोळौ

एपेक्स-वेंटीलेटर पर टिकी लाईफ.
मनोज अग्रवाल -  बेहोशी री कमाई
विजय भादू- हड्डियां जोड़.
ललित राठी,विजय बेनीवाल,अरविंद बंसल, संजय बजाज- एपेक्स की दुकान
के.एल.बंसल-  आच्छो नाम आच्छो काम.
पर्वतसिंह-    गळा कान सगला साफ करदै.
जी.डी.शर्मा-गौड री गिफ्ट
अक्षय भंसाली - आंख्यां देखे दिखावे.
इन्द्र चुघ-टाबर टिंगरां री सेवा.
राहुल छाबड़ा - आगे बढते
जे.एम.डे.  - ठीक .
विशाल छाबड़ा - दांत उखाड़ै.
अनिल पैंसिया-  दांतां सूं खेलै.
हरप्रीतसिंह - चंगी दवा.
सतीष मिश्रा   - ईलाज रै सागै बातां.
रतनलाल जोशी- चूरण फाकै.
*******
बाकी रैया गेलसफा!
आगली होली मांय बियां नै भी कीं न कीं जरूर देस्यां।
**********



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

यह ब्लॉग खोजें