रविवार, 9 फ़रवरी 2020

एग्जिट पोल नतीजों के बाद भाजपा में हलचल, अमित शाह ने की बड़ी बैठक


*मीनाक्षी लेखी ने कहा, "हमारे मतदाता दिन में देर से निकले और शाम तक मतदान किया" उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भाजपा दिल्ली में सरकार बनाएगी।*


9 फरवरी 2020.


दिल्ली चुनाव के लिए मतदान खत्म होते ही एक्जिट पोल ने नतीजे बीजेपी के खिलाफ बताए तो पार्टी में हलचल बढ़ गई।

 गृहमंत्री अमित शाह ने शनिवार रात पार्टी सांसदों और दिल्ली यूनिट के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की और एक्जिट पोल के नतीजों पर चर्चा की। उन्होंने एक्जिट पोल को गलत बताया और कहा कि परिणाम इससे उलटा होगा। पार्टी की नेता मीनाक्षी लेखी ने कहा कि एक्जिट पोल्स पर नहीं एग्जैक्ट पोल पर भरोसा है।

मीनाक्षी लेखी ने संवाददाताओं से कहा, “एग्जिट पोल की अपनी गणित सही नहीं है। इसके अलावा डेटा केवल शाम 4 या 5 बजे तक ही एकत्र किया जाते हैं। एग्जिट पोल पहले भी गलत पाए गए हैं।” कहा कि बैठक में एक्जिट पोल के परिणामों पर चर्चा की गई थी। उन्होंने कहा, “हमारे मतदाता दिन में देर से निकले और शाम तक मतदान किया” उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भाजपा दिल्ली में सरकार बनाएगी।


 सर्वे: सिर्फ आठ महीने में 48% वोटर बीजेपी से आप में हो गए शिफ्ट, 2% से ज्यादा लोगों को नहीं लुभा सका राम मंदिर, तीन तलाक, 370 का मुद्दा

‘अगर आप चाहते हैं भारत के लिए करें काम तो हिन्दुओं के लिए कुछ करें, वही देश के दिल’, RSS के भैयाजी जोशी बोले

बीजेपी ने जो रणनीति तय की थी, उसके मुकाबले वोटर देर से निकले। बुधवार को एक बैठक में अमित शाह ने लोगों से आग्रह किया था कि दिल्ली और देश को सुरक्षित बनाने के लिए सुबह 10.30 बजे से पहले अपने परिवारों के साथ वोट करने के लिए निकलें। उन्होंने कहा, “मैं आपका फैसला जानता हूं। 11 फरवरी को आने वाले नतीजे सभी को चौंका देंगे।”


बीजेपी नेता मनोज तिवारी ने दावा किया कि 11 फरवरी को जब मतगणना होगी तब परिणाम पार्टी के पक्ष में आएगा। एक्जिट पोल गलत साबित होंगे।

उन्होंने कहा कि दिल्ली की जनता ने बीजेपी की सरकार बनाने के लिए वोट दिया है। ऐसी ही बातें और दावे पार्टी के अन्य नेता कर रहे हैं। 

दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी का कहना है कि आप की सरकार में दिल्ली में बहुत काम कराए गए हैं। विकास कार्यों पर सरकार ने पूरा ध्यान दिया है। इसकी वजह से जनता सिर्फ आम आदमी पार्टी की सरकार को ही वोट दी है।

*साभार जनसत्ता ओनलाइन*

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें