मंगलवार, 7 जनवरी 2020

कचरा निस्तारण स्थानीय निकायों को व चिकित्सीय संस्थानों को बायोवेस्ट निस्तारण के निर्देश

श्रीगंगानगर, 7 जनवरी 2020.

जिले में ठोस कचरा प्रबंधन, प्लास्टिक पर प्रतिबंध, बायोमेडिकल वेस्ट का निस्तारण करने तथा पर्यावरण की रक्षा के लिये राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव ने मंगलवार 7 जनवरी को विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ठोस कचरा प्रबंधन के लिये सभी स्थानीय निकायों को योजना बनाकर कार्य करना होगा तथा इसके लिये जिला स्तरीय प्लान तैयार करना होगा। 

उन्होंने कहा कि खादानों में अवैध कटाई के अलावा अवैध खनन् इत्यादि को रोकना है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के लिये सभी को संवेदनशील बनना होगा। उन्होंने खुले में प्लास्टिक व कचरा न जलाने तथा उपयोगी जल में सीवरेज का पानी न जाये, इसके लिये एसटीपी को कार्यशील बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्लास्टिक कैरीबैग का उपयोग न हो, इसके लिये कार्यवाही करें तथा जहां कहीं  प्लास्टिक कैरी बैग का उत्पादन हो रहा हो, ऐसे कारखानों को बंद करने की कार्यवाही की जाये। 

उन्होंने ठोस कचरा के ई-वेस्ट को अलग करने का सुझाव दिया।

 ग्राम स्तर पर भी बायोमास का प्रोपर संधारण करने के लिये पंचायत द्वारा प्रस्ताव लेने के निर्देश दिये। उन्होंने जिला स्तर के प्लान तथा पर्यावरण के क्षेत्र में हुई प्रगति की रिपोर्ट नियमित रूप से भेजने के निर्देश दिये। वीसी के माध्यम से उच्च अधिकारियों ने बताया कि बायो मेडिकल वेस्ट का विधिवत निस्तारण करवाना तथा नियमानुसार सेग्रीगेशन करना सभी चिकित्सीय संस्थाओं की जिम्मेदारी है। बायो वेस्ट के निस्पादन के साथ-साथ सभी राजकीय व निजी चिकित्सीय संस्थानों को बार कोडिंग से जुड़ना होगा। प्रत्येक संस्थान को बायो मेडिकल वेस्ट मेनेजमेंट रूल की पालना करनी होगी। 

 जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद एम नकाते ने बताया कि जिले में कई स्थानीय निकायों द्वारा घर-घर जाकर कचरा संग्रहित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकायों को कचरे का सेग्रीगेशन करने के निर्देश दिये गये है। उन्होंने बताया कि ठोस कचरे का सेग्रीगेशन करने तथा इसके निस्पादन के लिये जिला स्तर पर कार्यशाला का भी आयोजन करवाकर जानकारी दी गई। ठोस कचरा प्रबंधन के लिये अनूपगढ तथा पदमपुर में भूमि चिन्हित करने का कार्य किया जा रहा है। जिला स्तर पर ठोस कचरा प्रबंधन के लिये आमजन की सुनवाई की तिथि का निर्धारण जल्द किया जाकर आमजन को सुना जायेगा। 

वीसी में मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सौरभ स्वामी, नगरपरिषद आयुक्त श्रीमती प्रियंका, उपवन संरक्षक, उधोग केन्द्र में महाप्रबंधक श्री हरीश मित्तल सहित जिले की नगरपालिकाओं के अधीशाषी अधिकारी, चिकित्सा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। 

******



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें