शनिवार, 9 नवंबर 2019

गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाई-जेड+ सुरक्षा दी गई


नई दिल्ली: 9-11-2019.
भारत सरकार ने गांधी परिवार के सदस्यों सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा की सुरक्षा में लगे विशेष सुरक्षा दल (एसपीजी) को हटाने का निर्णय लिया है और अब उन्हें केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के कमांडों की निगरानी में जैड प्लस सुरक्षा दी जाएगी।
गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने आज यहां बताया कि गांधी परिवार के सदस्यों की सुरक्षा व्यवस्था और उनकी जान को खतरे की समीक्षा के आधार पर यह निर्णय लिया गया है। सुरक्षा और खुफिया एजेन्सियों से भी इस बारे में जानकारी हासिल की गयी है। समीक्षा में इस बात पर भी गौर किया गया कि गांधी परिवार को अभी किसी तरह का सीधा खतरा नहीं है। उन्होंने बताया कि अब गांधी परिवार के सदस्यों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआरपीएफ के कमांडो दस्ते को सौंपी जाएगी और उन्हें जैड प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी जाएगी।    
उल्लेखनीय है कि इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की प्रधानमंत्री रहते हुए हत्या की गयी थी। एसपीजी का गठन प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्रियों और उनके परिवारों की सुरक्षा के लिए विशेष बल के तौर पर किया गया था। एसपीजी में लगभग 3000 अधिकारी हैं। इस निर्णय के लागू होने के बाद एसपीजी के पास संभवत केवल प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी बच जाएगी। गृह मंत्रालय ने हाल ही में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा वापस लेकर उन्हें जैड प्लस श्रेणी की सुरक्षा दी थी।
जानिए क्या होती है Z+ और SPG सुरक्षा
SPG सुरक्षा
अक्तूबर 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1985 में एसपीजी की स्थापना की गई थी। यह सुरक्षा प्रधानमंत्री, पूर्व और उनके परिवार को दिया जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गांधी परिवार को एसपीजी की सुरक्षा प्राप्त है। यह सुरक्षा का सबसे ऊंचा स्तर होता है। इसमें तैनात कमांडो के पास अत्याधुनिक हथियार और संचार उपकरण होते हैं।
Z+ कैटेगरी सिक्योरिटी
Z+ कैटगरी की सुरक्षा देश की सबसे बड़ी सुरक्षा मानी जाती है। इसके तहत 36 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं। इसमें एनएसजी, एसपीजी कमांडो, आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं। इस सुरक्षा में पहले घेरे की जिम्मेदारी एनएसजी और दूसरे घेरे का जिम्मा एसपीजी कमांडो के पास होता है। देश में 15 लोगों को जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा दी गई है।०००

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें