बुधवार, 6 नवंबर 2019

नामांकन निरस्त होना गंभीर मुद्दा:खामियां क्यों रह गई?

* करणी दान सिंह राजपूत *

राष्ट्रीय राजनीतिक दल इंडियन नेशनल कांग्रेस व भारतीय जनता पार्टी और इसके साथ ही बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशियों के नामांकन निरस्त होने का कोई भी कारण रहा हो मगर यह बहुत गंभीर स्थिति मानी जानी चाहिए। 

जब पार्षद प्रत्याशियों को नामांकन पत्र ही भरना नहीं आता हो या उनमें कमी रही है। तो मान करके चलें कि चूक हुई और लापरवाही भी रही।

 फार्म नामांकन भरा जाता है तो पार्टी के नेतागण और अधिवक्ता भी होता 

है। वे सभी भली-भांति जांच करते हैं और उसके बाद में वह फार्म नामांकन का निर्वाचन अधिकारी को प्रस्तुत किया जाता है। 

खारिज होने के कारणों का खबरों में अभी खुलासा तो नहीं हुआ है लेकिन हालात गंभीर है। 

यदि प्रोफॉर्मा बिल्कुल सही भरा हुआ है तो उसमें निश्चित रूप से कोई दस्तावेज कम रहे हैं या अन्य प्रस्तावक अनुमोदक आदि के अंदर कोई न कोई त्रुटि रही है।कोई तकनीकी से निरस्त हुए हैं। अभी केवल समाचार प्राप्त हुआ है।  कल तक समाचार पत्रों में इसका पूरा विवरण भी आ जाएगा लेकिन स्थिति को गंभीर माना जाना चाहिए। 

श्री गंगानगर जिले मुख्यालय पर नगर परिषद के चुनाव के लिए भरे गए नामांकन में इंडियन नेशनल कांग्रेस के तीन प्रत्याशियों के नामांकन और एक भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी का नामांकन और सूरतगढ़ में बहुजन समाज पार्टी के प्रमुख नेता का नामांकन निरस्त किए जाने की सूचना खबरों में है। ०००

*****





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें