गुरुवार, 14 नवंबर 2019

आलू ने प्याजी को प्रपोज किया-तुम कितनी सुंदर हो- ० प्रेम गीत०


*आलू ने प्याजी को प्रपोज किया।
*बोला,प्याजी तुम कितनी सुंदर हो!
*तुम्हारा मुखड़ा बहुत सुंदर है।
*सेव भी, तुम्हारे आगे पानी भरता है। *जी चाहता है,
*तुम्हारे इन सेव जैसे गालों को छू लूं। *चूम लूं, सच तुम बहुत सुंदर हो। *तुम्हारे होंठ कितने सुंदर हैं!
* तुम्हारे कानों के झुमके,मुझे बहुत अच्छे लगते हैं।
*प्याजी, तुम्हारा गोरा रंग बहुत सुंदर है!
*गुलाबी चेहरा और तुम्हारा गुलाबी रंग!
*मुझे प्यार करने को जोश भर रहा है! *प्याजी,ओ मेरी प्याजी!
*तुम्हारी गरदन के नीचे जो तिल है, *उस तिल में मेरा अटका दिल है!
*मैं तुम्हारे इस तिल पर कुर्बान हूं। *जब जब नजर पड़ जाती है तिल पर,
*तब तब 'आई लव यू' 'आई लव यू' निकल पड़ता है!
*प्याजी, तुम सच में बहुत ही सुंदर हो! *आई लव यू, मैं तुम्हें प्यार करता हूं! *प्याजी,दुनिया भर में मेरा नाम मशहूर है!
*हर रसोई में संसार की औरतें मुझे पसंद करती हैं!
*मगर सच कहूं, मैं तुम्हें प्यार करता हुं!
*प्याजी,आई लव यू !
*तुम्हारा गोरा रंग!
*तुम्हारे गोरे मुखड़े पर मैं मर मिटा हूं। *और तुम्हारे होंठ,तुम्हारी ठुड्डी,सच में मस्त कर रही है!
* मेरा दिल बार-बार तुम्हारे दिल को देखना चाहता है!
*आई लव यू प्याजी!
*मैं सच में तुम्हें प्यार करता हूं!
*इसलिए मैंने आई लव यू कह कर प्रपोज कर दिया!
*प्याजी, प्यार बड़े और छोटे घर नहीं देखता!
*महलों वाली भी झोपड़ी में रहने वाले से प्यार करने लगती है!
*शहर वाली भी गांव वाले से प्यार कर सकती है!
*मैं तो संसार भर में प्रसिद्ध हूं!
*प्यार का कोई मोल नहीं होता!
*मोल भाव देखने वाले सच्चा प्यार नहीं करते!
*प्याजी, 'आई लव यू' प्याजी,आई लव यू!
*सच में मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं।
*आलू की यह कविता,
*यह प्यार गीत सुन प्याजी मस्त हो गई!
*प्याजी, आलू को दिल दे बैठी!
*प्याजी बोली,सच में तुम मुझे बहुत प्यार करते हो!
*तुम्हारा दिल मेरे तिल पर नजरें लगाए रहता है!
*प्रीतम, तुम चाहे जितना मेरा यह सुंदर तिल देखो!
*अपना दिल मेरे दिल से मिला दो! *प्याजी बोली, मैं तुम्हारे प्यार पर कुर्बान हो गई!
मैं भी तुम्हारे से प्यार करने लगी!
*आई लव यू,आलू!
^^^^
प्रेम गीत!
करणीदानसिंह राजपूत,
सूरतगढ़।
14-11-2019.
( आलू सस्ता और प्याज अति महंगा। ऐसी स्थिति में आलू ने प्याज को प्रेम का प्रदर्शन किस तरह किया!)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें