सोमवार, 16 सितंबर 2019

मुख्य बाजार और सूर्योदय नगरी को जोड़ने वाला रेलवे फुट ओवर ब्रिज ऊंचा होगा

 

^^  करणीदानसिंह राजपूत ^^in

 सूरतगढ़ 16 सितंबर 2019.

बिजली से गाड़ियां चलाना अभियान के तहत चल रहे विभिन्न निर्माण f haiमें अब मुख्य बाजार और सूर्योदय नगरी को जोड़ने वाले फुट ओवर ब्रिज को 5 फुट ऊंचा उठाया जाएगा।

 सूर्योदय नगरी रेल संघर्ष समिति के संयोजक प्रेम सिंह सूर्यवंशी की रेल अधिकारियों से हुई वार्ता के अनुसार यह कार्य 18 सितंबर को मशीनों के द्वारा किया जाएगा। 

इस कार्य के प्रारंभ में कार्य कुछ दिन से चल रहे हैं। सूर्योदय नगरी की ओर वर्तमान में यह पुल प्लेटफार्म नंबर चार पर चढ़ता उतरता है।


पुल के नवनिर्माण ऊंचा करने में पुल को प्लेटफार्म  नं 4 से कट कर दिया जाएगा। पुल का यह लेग सूर्योदय नगरी की ओर उतारा जाएगा जहां पूर्व में आधार का निर्माण हो चुका है।

 सूरतगढ में पटरियों के साथ बिजली लाइनों से जोड़ने का कार्य चल रहा है और जल्दी ही पूरा होने के बाद बठिंडा सूरतगढ़ के बीच रेलवे गाड़ियां बिजली से संचालित होगी और उनकी स्पीड भी बढ़ाई जाएगी।

 रेल संघर्ष समिति के अध्यक्ष प्रेम सिंह सूर्यवंशी ने बताया कि पुल का यह निर्माण होने से दोनों ओर के नागरिकों को आने-जाने की सुविधा कायम रहेगी। सूर्यनगरी की ओर से रेलवे के मुख्य द्वार पर पहुंचकर भी टिकट प्राप्त कर गाड़ी में बैठने की सुविधा मिलेगी

**************




शुक्रवार, 13 सितंबर 2019

एसडीएम रामावतार कुमावत का स्थानांतरण। कहां गए,कौन आएगा?

सूरतगढ़ 13-9-2019.

उपखंड अधिकारी रामावतार कुमावत का यहां से नोहर स्थानांतरण हुआ है।

सूरतगढ़ एसडीएम पद पर जयपुर से मनोज कुमार मीणा स्थानांतरित हुए हैं। 

रामावतार कुमावत यहां पर करीब 6 माह रहे।  उन्होंने 6 मार्च 2019 को सूरतगढ़ एसडीएम का पद ग्रहण किया था।

०००००००००००



बालिका किसकी है? गंगानगर में मिली है


श्रीगंगानगर, 13 सितम्बर 2019.
पुलिस थाना कोतवाली श्रीगंगानगर को एक मूक बधिर बालिका जिसकी उम्र लगभग 16 वर्ष, रंग काला, उंचाई लगभग 5 फुट मिली है, जिसे बाल कल्याण समिति (न्याय पीठ) श्रीगंगानगर के समक्ष पेश किया गया। इस बालिका के बारे में अभी तक कोई जानकारी नही मिली है। उक्त बालिका के संबंध में किसी प्रकार की जानकारी व सूचना के लिये मोबाईल नम्बर 94143-29438 पर संपर्क किया जा सकता है***

बुधवार, 11 सितंबर 2019

गांधी जयंती पर ग्राम सेवा सह. समितियों पर विशेष आमसभा होगी


*राजस्थान में 6500 समितियां हैं* नागरिकों को मिलेगी ई-मित्र की सेवाएं*बनाये जाएंगे नये सदस्य, वितरित होंगे नये ऋण*


श्रीगंगानगर/जयपुर, 11 सितम्बर। रजिस्ट्रार, सहकारिता डाॅ.नीरज के. पवन ने मंगलवार को बताया की 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयन्ती के अवसर पर प्रदेश की सभी 6500 गा्रम सेवा समितियों पर विशेष आम सभा आयोजित की जायेगी। समिति में इस दिन नये सदस्य बनाये जाएंगेए, ऋण आवेदन प्राप्त करने के साथ-साथ ऋण वितरण का भी कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस संबंध में आदेश जारी कर दिये गये है।

डाॅ. नीरज के. पवन ने बताया कि वर्तमान में 1851 ग्राम सेवा सहकारी समितिया ई-मित्र का कार्य कर रही है। अब शेष सभी समितियों को ई-मित्र की सेवाओं से जोड़ा जायेगा ताकि ई-मित्र के रूप में कार्य कर समितिया सहकारिता की भावना को प्रबल कर सके। उन्होंने बताया कि आम सभा में ई-मित्र की शुल्क सूची का प्रकाशन, समिति के वार्षिक लेखे प्रस्तुत करना, आॅडिट रिपोर्ट की अनुपालना, नो-ड्यूज प्रमाण पत्र जारी करना, वृक्षारोपण करना एवं महात्मा गाधी स्वच्छता अभियान को चलाकर सहकारिता की भावना को जन-जन में पहुंचाया जायेगा।

डाॅ. पवन ने बताया की सहकारिता ग्रामीण क्षेत्रों में वंचित काश्तकार, पिछड़े वर्गों, अनुसूचित जाति, जनजाति, मजदूर एवं अल्पसंख्यक वर्गों में सहकारिता आंदोलन की पहुंच बनाने एवं सहकारिता के माध्यम से संचालित विभिन्न योजनाओं देने एवं समितियों के माध्यम से ई.मित्र की सेवाऐं प्रदान करने के उद्देश्य से ग्राम सेवा सहकारी समितियों के मुख्यालयों पर विशेष आमसभा का आयोजन कराये जाने का निर्णय लिया गया है।   

अभियान के पर्यवेक्षण के लिए गठित की कमेटियां

उन्होंने बताया कि इस अभियान के पर्यवेक्षण के लिए राज्य स्तर पर रजिस्ट्रार को अध्यक्ष, प्रबन्ध निदेशक शीर्ष बैंक को सदस्य एवं महाप्रबन्धक को सदस्य सचिव बनाया गया है। खण्डीय स्तर पर अतिरिक्त रजिस्ट्रार को अध्यक्षएक्षेत्रीय अंकेक्षण अधिकारी को सदस्य एवं शीर्ष बैंक क्षेत्रीय प्रबन्धक को सदस्य सचिव बनाया गया है। जबकि जिला स्तर पर केन्द्रीय सहकारी बैंक के प्रबन्ध निदेशक अध्यक्ष, उप रजिस्ट्रार व विशेष लेखा परीक्षक  को सदस्य एवं सी.सी.बी. के ईओ को सदस्य सचिव बनाया गया है। उन्होंने बताया की मोनेटरिंग के लिए विभाग स्तर से जिला प्रभारियों को नियुक्त की जाने का निर्णय लिया गया है जो अपने-अपने जिलो को न्यूनतम 05 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के आयोजन में भाग लेंगे।

उन्होंने बताया कि सभी बैंक के प्रबन्ध निदेशको को निर्देश दिये गय है कि वे यह सुनिश्चित करें कि सभी सहकारी समितियां आवश्यक आई.टी. संसाधनों से लेस हो जाये। उन्होंने बताया की अपैक्स बैंक प्रतिदिन कितनी पैक्स ई-मित्र बन गये है इसकी सूचना विभाग को उपलब्ध करायेगा तथा समय-समय पर इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु दिशा-निर्देश अपने स्तर से जारी कर समस्त समितियों को ई-मित्र बनाया जाना सुनिश्चित करेंगे।

--------------


सूरतगढ़ गंगानगर में वार्ड सभाएं 14 व 15 सितम्बर को- बूथ खुले रहेंगे

श्रीगंगानगर, 11 सितम्बर 2019.

राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार नगरपरिषद गंगानगर एवं नगरपालिका सूरतगढ क्षेत्र के माह नवम्बर में होने वाले चुनावों के मध्य निर्वाचन नामावली तैयार करने का कार्य चल रहा है। निर्वाचक नामावलियों को अद्यतन करने के लिये नगरपरिषद श्रीगंगानगर व नगरपालिका सूरतगढ में 14 व 15 सितम्बर को वार्ड सभाएं आयोजित की जायेंगी तथा इस दिन सभी बूथ खुले रहेंगे। 

अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन एंव उप जिला निर्वाचन अधिकारी श्री ओ.पी.जैन ने बताया कि नगरपरिषद श्रीगंगानगर के 65 वार्डों हेतु 147 बूथ तथा नगरपालिका सूरतगढ के 45 वार्डों हेतु 52 बूथ बनाये गये हैं । इन मतदान केन्द्रों की निर्वाचन नामावली वार्ड परिसीमन एवं लोकसभा चुनाव 2019 में प्रपत्र वोटर लिस्ट के आधार पर तैयार की गयी है, जिसका प्रगणक घर-घर भ्रमण कर भौतिक सत्यापन कर रहे हैँ। इस तैयार मतदाता सूची का प्रारूप प्रकाशन मतदान केन्द्र वार 14 सितम्बर 2019 को किया जायेगा। 

*****

इसी दिन दोपहर 3 बजे प्रत्येक वार्ड में वार्ड सभा का आयोजन किया जायेगा। प्रत्येक वार्ड में जितने मतदान केन्द्र है, उन समस्त मतदान केन्द्रों की प्रारूप मतदाता सूची का वार्डसभा में पठन किया जायेगा। यदि किसी मतदाता की प्रविष्टि में कोई अशुद्धि है तो वह उसे ठीक करवा सकता है तथा यदि किसी मतदाता का नाम छूट रहा है तो वह फार्म भरकर प्रगणक को नाम जोड़ने का आवेदन कर सकता है। वार्ड सभाएं सायं 3 बजे से 6 बजे तक नगरपरिषद द्वारा मुकरर स्थान पर आयोजित होगी। 

जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा मतदाताओं एवं आमजन का आह्वान किया है कि वे अधिकाधिक इन वार्ड सभाओं में भाग लें। इसी कड़ी में 15 सितम्बर 2019 को नगरीय चुनावों हेतु निर्धारित समस्त मतदान केन्द्र खुले रहेगें। जहां प्रगणक, बीएलओ प्रातः 9 बजे से सायं 6 बजे तक मतदान केन्द्र पर मतदाता सूची के साथ उपस्थित रहेगें। यहां भी कोई भी व्यक्ति नाम जुड़वाने, संशोधन करवाने, हटाने संबंधी कार्यवाही, आवेदन कर सकता है। 

मंगलवार, 10 सितंबर 2019

क्या बोले गंगानगर विधायक -गांधी विचार एवं ग्रामीण विकास पर संगोष्ठी




* ग्रामीण विकास का सपना था गांधीजी का* गंगानगर विधायक

श्रीगंगानगर, 10 सितम्बर 2019.

 महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला में मंगलवार को चौथे दिन नोजगे पब्लिक स्कूल के ओडिटोरियम में गांधी विचार एवं ग्रामीण विकास विषय पर संगोष्ठी का आयोजन हुआ, जिसमें विभिन्न वक्ताओं ने अपने विचार व्यक्त किये। संगोष्ठी व समापन कार्यक्रम में पिछले कई दिनों से आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया। 

संगोष्ठी में बोलते हुए गंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड ने कहा कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर प्रदेश में लगभग 2 वर्ष तक प्रत्येक जिले में विभिन्न कार्यक्रम करवाये जायेगें। इसके लिये प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत आभार के पात्रा है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार गंगानगर जिले में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये गये, कार्यक्रमों में भारी जन जुड़ाव यह दर्शाता है कि गांधी जी की आज भी प्रासंगिकता है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा तीन दिन का कार्यक्रम निर्धारित था, जबकि गंगानगर जिले में इसे चार दिवस का किया गया, जो सराहनीय है। उन्होंने कहा कि मानव श्रृंखला ने भी इतिहास रचा है तथा इस मानव श्रृंखला की चर्चा जयपुर तक हुई है। 

श्री गौड ने कहा कि आजादी के बाद जिन बच्चों ने जन्म लिया है, उन्हें गांधीजी के बारे में बताना बहुत जरूरी है कि किस प्रकार गांधी जी ने अफ्रीका में रंगभेद के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्हें लगा कि आम आदमी के साथ व्यवहार अच्छा नही है। उनका सपना था कि देश आजाद हो, वह भी अंहिसा के बल पर और उन्होंने वैसा ही कर दिखाया। गांधीजी का ग्राम विकास का सपना था। उनका कहना था कि ग्राम का विकास होने से देश का विकास स्वयं हो जायेगा। 

विधायक गौड ने कहा कि आजादी से पूर्व की परिस्थितियां ज्यादा अच्छी नही थी। उत्पादन कम था, गंगानगर में 1927 में नहर आने के बाद अच्छी फसले होने लगी, उत्पादन बढा तथा यहा का जीवन स्तर अच्छा हुआ। गंगानगर से बीकानेर जाने में पूरा एक दिन लग जाया करता था, जबकि आज मात्र 4 घंटे में बीकानेर पहुंच सकते है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी के अंहिसा आंदोलन में इतनी ताकत थी, कि आज पूरा विश्व अंहिसा दिवस मनाता है। महात्मा गांधी ने स्वराज व हथकरघा की परिकल्पना की थी। उन्होंने कहा कि पंचायती राज का सपना गांधीजी का था, जिसकी शुरूआत राजस्थान के नागौर जिले से हुई। उन्होंने कहा कि भारत के चन्द्रयान की ताकत पूरी दूनिया देख रही है। ये सभी उंचाईयां निरन्तर प्रयासों से प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि सरकार गांवों को विकसित करना चाहती है, इसके लिये ग्राम पंचायतों को सीधे ही विकास राशि दी जा रही है, जिससे वे अपने गांव की जरूरतों के अनुसार विकास कार्य करवा सकें। 

एडीएम प्रशासन श्री ओपी जैन ने कहा कि ग्रामीण विकास में गांधीजी की प्रासंगिकता क्या है, उसे समझने की आवश्यकता है। गांधीजी के जीवन से ग्राम विकास को देखा जा सकता है। गांधीजी सदैव विकेन्द्रीकरण पर विश्वास करते थे। ग्राम विकास के लिये ग्राम पंचायत सबसे बड़ी पंचायत है, जो स्वयं के निर्णय ले सकती है। आजादी के बाद निति निर्धारकों ने ग्राम विकास के लिये अनेक प्रकार की योजनाएं प्रारम्भ की। ग्राम विकास के लिये त्रि-स्तरीय पंचायत व्यवस्था की शुरूआत हुई तथा 73वां संविधान संशोधन किया गया। गांधीजी का ग्राम स्वराज का सपना था, जिसे मूर्तरूप दिया जा रहा है। 

करणपुर एसडीएम श्रीमती रिना छिम्पा ने कहा कि आजादी की लम्बी लड़ाई लड़ी गई। आजादी के बाद ग्रामीण विकास, ग्राम स्वरोजगार पर जोर दिया गया। महात्मागांधी ने अपनी आत्मकथा में सपनों का भारत बताया है। गांव में पूर्ण गणराज्य हो, कि परिकल्पना की गई थी। ग्रामीण विकास में फसल उत्पादन बढे, सार्वजनिक भवन हो, गांव में पाठशालाएं हो तथा पांच व्यक्तियों की पंचायत ग्राम में विकास के कार्य करवाएं। श्रीमती रिना छिम्पा ने आर्य काल से लेकर अब तक के पंचायत तंत्र पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि मुगल शासकों व अंग्रेजों के शासन काल में पंचायत व्यवस्था नष्ट हुई थी। उन्होंने 64 व 73वां संविधान संशोधन पर प्रकाश डाला। उन्होंने गुड गर्वनेंस, गांव में उत्पादक व गांव में उपभोक्ता, कौशल विकास, श्रमदान, शिक्षा जो रोजगार से जोड़े इत्यादि पहलुओं पर विचार व्यक्त किये। ग्राम स्वराज के साथ समाज में व्याप्त कुरीतियों, बुराईयों, अस्पर्शता को समूल नष्ट करने के संबंध में विचार व्यक्त किये। 

श्री संदेश त्यागी ने कहा कि गांधीजी की 150वीं जयंती के अवसर पर हमें संकल्प लेना चाहिए कि सड़कों की गंदगी के साथ-साथ मन की गंदगी को भी साफ किया जाये। महात्मागांधी जी ने जो आजादी का सपना देखा था, वह पूरा हुआ लेकिन आजाद भारत में अशिक्षा, गरीबी को खत्म करना, समय-समय पर गुलामी के खतरों को भांपना व उसी के अनुरूप व्यवस्थाओं में बदलाव की आवश्यकताओं पर बल दिया। उन्होंने ग्रामीण विकास पर बोलते हुए कहा कि वर्तमान में ग्रामीण संस्कृति को बचाना है। हमारी सबसे बड़ी धरोहर संस्कृति है, जिसे नष्ट नही होने देना। ग्राम पंचायतें लोकतंत्र की पहली कड़ी है। ग्राम पंचायतों के माध्यम से ही ग्राम विकास संभव होगा। 

आयोजित समापन समारोह में गत तीन दिवस से आयोजित की जा रही विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रथम तीन स्थान, सांत्वना पुरूस्कार, विभिन्न कार्यालयों मे साफ-सफाई प्रतिस्पर्धा तथा पोस्टकार्ड प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरूस्कृत किया गया। जिले के प्रभारी श्री प्रवीण गौड ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप गत चार दिनों से जिले भर में अनेक गांधीजी के जीवन पर आधारित कार्यक्रम व प्रतियोगिताएं आयोजित करवाई गई, जिसमें हजारों-हजारों की भागीदारी यह दर्शाती है कि गांधीजी आज भी कितने लोकप्रिय है। 




आयोजित संगोष्ठी व समापन समारोह के अवसर पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सौरभ स्वामी ने कार्यक्रम की सफलता पर सभी का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर एडीएम सर्तकता श्री राजवीर सिंह, भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री मोहम्मद जुनैद, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी श्री विष्णुदत्त स्वामी, श्री हरचन्द गोस्वामी, जिला रसद अधिकारी श्री राकेश सोनी, सहायक निदेशक उद्यान श्रीमती प्रीती गर्ग, राजकीय कन्या महाविधालय के श्री प्रदीप मोदी सहित विभिन्न गांवों के जनप्रतिनिधियों, शहर के जागरूक नागरिकों, विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के प्रधानाचार्यों व विधार्थियों ने भाग लिया। कार्यक्रम का सफल संचालत श्री लक्ष्मीनारायण शर्मा व श्रीमती शीतल सैन ने किया। ००

चालानों पर गुस्सा-दिल्ली-NCR के 34 संगठनों का विरोध में बड़ा एलान


* दिल्ली-एनसीआर के 34 संगठनों ने 19 सितंबर को चक्का जाम की धमकी दी है इसके पहले 16 सितंबर को संसद मार्ग स्थित परिवहन भवन का घेराव करने की चेतावनी दी है।*
नई दिल्ली, 10-9-2019.
New Motor Vehicle Act 2019: संशोधित मोटर वाहन अधिनियम -2019 के खिलाफ जनाक्रोश सड़क पर दिख सकता है। इसके खिलाफ दिल्ली-एनसीआर के 34 संगठनों ने 19 सितंबर को चक्का जाम की धमकी दी है, इसके पहले 16 सितंबर को संसद मार्ग स्थित परिवहन भवन का घेराव करने की चेतावनी दी है। घेराव में 1000 सार्वजनिक वाहनों के जुटाने का दावा किया गया है। इसमें ट्रक, टेंपो, ऑटो, कैब समेत सभी प्रकार के सार्वजनिक व व्यावसायिक वाहन शामिल होंगे।
चैम्सफोर्ड क्लब में यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (यूएफटीए) के पदाधिकारियों ने पत्रकार वार्ता की। इसके पहले पदाधिकारियों ने संबंधित मंत्रालय को मांग पत्र भी सौंपा है।

 जिसमें नए मोटर वाहन अधिनियम में जुर्माने की राशि को कम करने समेत चार मांगे हैं, जिसमें चालान का अधिकार सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार एसीपी और एसडीएम स्तर के ही अधिकारी को देने, चालान में पारदर्शिता व आधुनिकीकरण को अपनाने, दुर्घटना बीमा में तृतीय पक्ष दायित्व को और स्पष्ट करना भी शामिल है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कहा कि वह सड़क दुर्घटना रोकने के लिए की जा रही सख्ती के विरोध में नहीं हैं, लेकिन जुर्माने की राशि अधिक है। वहीं, यह पूरी तरह से एकपक्षीय है। वाहन मालिकों का भी पक्ष रखा जाना चाहिए था।
इस बारे में यूएफटीए के संयोजक व ट्रांसपोर्टर राजेंद्र कपूर ने कहा कि भारी-भरकम जुर्माने से ट्रांसपोर्टरों का बुरा हाल है। पहले से ही ट्रांसपोर्ट उद्योग मंदी की चपेट में है। अब उनका आर्थिक के साथ मानसिक शोषण बढ़ गया है। अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो चक्काजाम निश्चित है। इसमें सभी छोटे-बड़े वाहन शामिल होंगे।
वहीं, महासचिव श्याम लाल गोला ने कहा कि वे लोग सड़क दुर्घटना रोकने के सवाल पर मंत्रालय के साथ हैं। पर इतने अधिक जुर्माने से गरीब लोगों का तो दिवाला ही निकल जाएगा। इसलिए इसको कम करने की आवश्यकता है। ट्रांसपोर्टरों से वर्ष 2004 से लेकर अब तक दिल्ली नगर निगम ने 1100 करोड़ रुपये वसूल चुके हैं, लेकिन एक इंच भी पार्किग मुहैया नहीं कराई गई है। एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राजेंद्र सोनी ने कहा कि हड़ताल में फरीदाबाद, गुरुग्राम, नोएडा, गाजियाबाद समेत अन्य शहरों की गाड़ियां भी शामिल होंगी।
हड़ताल
इस बीच नए मोटर वाहन अधिनियम को लेकर ही दिल्ली के कुछ ऑटो, टैक्सी संगठनों ने सोमवार को हड़ताल की। हल्के वाहनों की संघर्ष समिति के प्रवक्ता संजय बाटला ने कहा कि आधे दिन के लिए ही हड़ताल की घोषणा की थी। इसका असर लक्ष्मी नगर, खजूरी, द्वारका समेत अन्य इलाकों में दिखा।
यह है नया मोटर व्हीकल एक्ट-2019
बिना ड्राइविंग लाइसेंस के वाहन चलाने पर 5000 रुपये का चालान ट्रैफिक पुलिस काटेगी, पूर्व में यह महज 500 रुपये था।अगर कोई नाबालिग वाहन चलाता है तो अब 500 रुपये की जगह 1000 रुपये का चालान कटेगा। इसके साथ ही वाहन से किसी भी ट्रैफिक नियम को तोड़ने पर वाहन मालिक के खिलाफ केस चलाने का प्रावधान है।नए नियमों के मुताबिक शराब पीकर गाड़ी चलाने पर 6 महीने तक की कैद या 10000 रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है। अगर दूसरी बार ऐसा किया तो 2 साल तक की कैद या 15000 रुपये का जुर्माना किया जा सकता है।अगर गाड़ी तेज चलाई तो ओवरस्पीडिंग पर 1000 रुपये से 2000 रुपये तक का चालान काटा जाएगा। एलएमवी के लिए जुर्माना 400 रुपये से बढ़ाकर 1000 रुपये और मीडियम पैसेंजर व्हीकल के लिए 2 000 रुपये किया गया है।बिना सीट बेल्ट गाड़ी चलाने पर 100 रुपये की जगह 1000 रुपये का चालान कटेगा।मोबाइल पर बात करते हुए ड्राइविंग करने पर 1000 रुपये की जगह 5000 रुपये तक फाइन लगेगा।सड़क नियमों को तोड़ने पर 100 रुपये की जगह 500 रुपये का चालान कर दिया गया है।दुपहिया वाहन पर ओवरलोडिंग करने पर 100 रुपये की जगह 2000 का चालान और 3 साल के लिए लाइसेंस निलंबित करने का प्रावधान है।बिना इंश्योरेंस के ड्राइविंग पर 1000 की जगह 2000 रुपये का चालान कटेगा।इमरजेंसी व्हीकल को रास्ता न देने पर एक हजार रुपये का चालान कटेगा और ओवरसाइज्ड व्हीकल पर 5 हजार रुपये का चालान कटेगा।

रविवार, 8 सितंबर 2019

चांद की सतह पर गुम विक्रम लैंडर का पता चला-दुनिया की बड़ी खबर


चांद की सतह पर लैंडर विक्रम की लोकेशन का पता चल गया है. ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर की एक थर्मल इमेज क्लिक की है. हालांकि लैंडर विक्रम से अभी तक संपर्क नहीं हो पाया है. इसरो प्रमुख के. सिवन ने कहा है कि टीम लैंडर विक्रम से कम्युनिकेशन स्थापित करने की लगातार कोशिश कर रही है और जल्द ही संपर्क स्थापित हो जाएगा. वैज्ञानिकों के मुताबिक उनके पास विक्रम से संपर्क साधने के लिए 12 दिन हैं.क्योंकि अभी लूनर डे चल रहा है. एक लूनर डे धरती के 14 दिनों के बराबर होता है. इसमें से 2 दिन बीत चुके हैं. यानी अगले 12 दिनों तक चांद पर दिन रहेगा. उसके बाद चांद पर रात हो जाएगी, जो पृथ्वी के 14 दिन के बराबर होती है. रात में उससे संपर्क करने में दिक्कत होगी. फिर इसरो वैज्ञानिको को इंतजार करना पड़ेगा.

इस बीच, इसरो प्रमुख के. सिवन ने भी बताया कि हमें विक्रम लैंडर के बारे में पता चला है, वह चांद की सतह पर देखा गया है. ऑर्बिटर ने लैंडर की एक थर्मल पिक्चर ली है. लेकिन अभी तक कोई संचार स्थापित नहीं हो पाया है. हम संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं। ये भी खबर है कि विक्रम लैंडर लैंडिंग वाली तय जगह से 500 मीटर दूर पड़ा है. चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर में लगे ऑप्टिकल हाई रिजोल्यूशन कैमरा ने विक्रम लैंडर की तस्वीर ली है.

अब इसरो वैज्ञानिक ऑर्बिटर के जरिए विक्रम लैंडर को संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैं ताकि, उसका कम्युनिकेशन सिस्टम ऑन किया जा सके. बेंगलुरु स्थित इसरो सेंटर से लगातार विक्रम लैंडर और ऑर्बिटर को संदेश भेजा जा रहा है ताकि कम्युनिकेशन शुरू किया जा सके.

डेटा एनालिसिस से पता चलेगी स्थिति

भविष्य में विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर कितना काम करेंगे, इसका तो डेटा एनालिसिस के बाद ही पता चलेगा. इसरो वैज्ञानिक अभी यह पता कर रहे हैं कि चांद की सतह से 2.1 किमी ऊंचाई पर विक्रम अपने तय मार्ग से क्यों भटका. इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि विक्रम लैंडर के साइड में लगे छोटे-छोटे 4 स्टीयरिंग इंजनों में से किसी एक ने काम न किया हो. इसकी वजह से विक्रम लैंडर अपने तय मार्ग से डेविएट हो गया. यहीं से सारी समस्या शुरू हुई, इसलिए वैज्ञानिक इसी प्वांइट की स्टडी कर रहे हैं.


शनिवार, 7 सितंबर 2019

नगरपालिका चुनाव-आपने क्या किया है जो पार्षद चेयरमैन बनना चाहते हैं-खरी खरी.

*पशु,सड़कें, सफाई, रोशनी पर बताएं अपने काम*


*  करणी दान सिंह राजपूत*


नगर पालिका चुनाव अब कुछ दिनों में होने वाले हैं और अध्यक्ष तथा वार्ड पार्षदों के लिए हर कहीं हलचल मची है। लोग स्वतंत्र और पार्टियों के नाम पर चुनाव में खड़े होंगे जिनके कुछ प्रचार सामाजिक सेवाओं की सूचनाएं खूब बढाचढा कर  सोशल नेटवर्क पर लगातार ग्रुपों  में आ रही है।  समाचार पत्रों में भी कुछ न कुछ छप रहा है। लोग कहीं ज्ञापन देते हुए कहीं मांग करते हुए कहीं पौधा रोपण करते हुए कहीं कन्याओं की शादी में कुछ भेंट करते हुए फोटो खिंचा रहे हैं। यह प्रचार लगातार कुछ महीनों से हो रहा है। क्या इन लोगों ने नगरपालिका संबंधित कार्य करवाएं हैं?

नगर पालिका के  मुख्य कार्य जो आम जनता से जुड़े हुए हैं उनमें सड़कें सफाई रोशनी, गलियों में किसी न किसी को चोटिल करते हुए पशुधन से बचाव की व्यवस्था, निर्माण कार्य मैं गुणवत्ता आदि हैं। जो लोग खड़े होने का सपना ले रहे हैं,अपनी विजय श्री भी मान रहे हैं वे कम से कम अपने पिछले 5 साल का आकलन स्वयं करें कि उन्होंने अपने वार्ड में क्या करवाया है?

 यदि आप खुद की समीक्षा में खरे उतरते हैं तो बहुत अच्छी बात है। 

चुनाव लड़ने के लिए काबिल माने जाने से पहले भी समीक्षा से पहले कुछ सवाल हैं जिनके उत्तर आप दे सकते हैं। समझ सकते हैं। 

वार्ड वासी भी आपसे जानकारी मांग भी सकते और सवाल भी कर सकते हैं।

आप जिस वार्ड में चुनाव के लिए इच्छुक हैं। क्या उस वार्ड में अभी भी कोई 1-2,5-10 या 20-25 पशुधन जिन्हें आवारा कहते हैं वह घूम रहे हैं? जब गौशालाएं हैं नंदी शाला भी बनाई जा चुकी है,तब सड़कों पर अभी भी पशुधन आपके वार्ड में क्यों घूम रहा है? आपने फिर क्या किया? कितने पशुधन को आपने अपने स्तर पर गौशाला या नंदी शाला में पहुंचाने के लिए कार्य किया। 

आपके वार्ड में सीवरेज नालियां सड़कें क्या इनकी सफाई निरंतर हो रही है? कचरा छुट्टी के दिन रविवार के दिन सड़ांध मारता रहता है? क्या आपके वार्ड में स्ट्रीट लाइट समुचित है या उसमें गड़बड़ है? क्या आपके वार्ड में सड़कें अच्छी बनी हुई है या टूटी फूटी है? क्या नगर पालिका द्वारा करवाए गए निर्माण कार्य मजबूत हैं बिखर गए या टूटे-फूटे हैं?

आपने 5 साल में चाहे सरकार किसी की रही हो चाहे वार्ड पार्षद कोई भी रहा हो आपने स्वयं अपने अपने स्तर पर इन कार्यों के लिए क्या-क्या किया? 

यदि इन कार्यों में आपका उत्तर नहीं आता है, वार्ड के नागरिकों की ओर से सवाल होने पर आप जवाब नहीं दे पाते हैं तो आप नगर पालिका के पार्षद पद का चुनाव लड़ने के लिए स्पष्ट रूप से काबिल नहीं हैं। 

5 साल का वक्त बहुत होता है। इसका मतलब यह हुआ कि आपने प्रचार तो विभिन्न कार्यों का किया लेकिन असल में जहां आपकी आवश्यकता थी वहां पर आप पूर्णतया गैरहाजिर रहे।  

नगर पालिका में नागरिकों के कार्य कराने के लिए आप कितना सक्रिय रहे?वृद्धावस्था पेंशन, योजनाओं मेंआवासीय पट्टे बनाने के कार्य, अन्य कार्यों के लिए कितने लोगों को सहयोग दिया,आगे बढ़ कर के काम किया। 

इसका उत्तर भी आप स्वयं खोजें। 5 साल के अंदर वार्ड भर में आपने ऐसे 10-12 कार्य भी नहीं करवाए तब आप किस मुंह से पार्षद का चुनाव लड़ना चाहते हैं?

नगर पालिका के चुनाव में राजनीतिक दल विशेषकर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी व अन्य कुछ दल अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारेंगे। वह भी इन प्रश्नों का उत्तर उम्मीदवार के तय करने से पहले खोजें तो उचित रहेगा।  राजनीतिक दल प्रभाव से टिकट वितरित करते हैं चाहे व्यक्ति वार्ड में कोई उपस्थिति रखता है या नहीं रखता। नेताओं के नजदीक होना जरूरी होता है।  ऐसे व्यक्ति जीतने चाहिए या नहीं जीतने चाहिए? इसका निर्धारण तो जनता ही करेगी।

जो लोग राजनीतिक पार्टियों से टिकट नहीं चाहते कि दोनों पार्टियों का कहीं ना कहीं विरोध होगा तब निर्दलीय खड़ा होना ज्यादा उचित है। ऐसे लोगों को लोग वोट भी दे देते हैं और जिता भी देते हैं लेकिन नगरपालिकाओं के पिछले चुनावों को ध्यान से देखें समीक्षा करें कि जिन लोगों को निर्दलीय जिताया वे 1 दिन का इंतजार भी नहीं किया और 2- 4 घंटों में ही सत्ताधारियों में मलाई खाने को जा मिले। इस प्रकार के मलाई खाने वाले व्यक्तियों ने कभी भी जनता का सहयोग नहीं किया और जनता के काम करवाने में पीछे रहे।  जहां-जहां फर्जीवाड़े से धन कमाने की बातें आई उनमें इस प्रकार से जीते हुए निर्दलियों ने भी कमाई करने में स्वयं को पीछे नहीं रखा। इस प्रकार के लोग अब अन्य दूसरे वार्डों में भी घूमने लगे हैं।  लोगों से मेलजोल बढ़ाने लगे हैं ताकि वहां से खड़े होकर फिर से नगरपालिका में पहुंच जाएं लेकिन वे चाहे किसी भी वार्ड से खड़े हो उनसे सवाल जवाब तो होने ही चाहिए कि क्या-क्या किया है?

 लेकिन यह सच्चाई भी है कि सवाल करने वाले 1- 2 व्यक्ति ही होते हैं इसलिए भ्रष्टाचारियों और दोगले लोगों की खराब गाड़ियां भी निकल जाती हैं। 

नगरपालिका का नया नियम है अध्यक्ष या सभापति का चुनाव सीधे जनता द्वारा किया जाएगा। अब ऐसे लोगों में जो चेयरमैन का चुनाव लड़ेंगे कितनी काबिलियत वाले होने चाहिए? शहर के लिए उन्होंने क्या कुछ किया है और आगे क्या करने वाले हैं?

 इसके अलावा वर्तमान में नगर पालिकाओं में जो भ्रष्टाचार हुए घपले हुए निर्माण कार्यों में अनियमितताएं हुई उन पर कितने लोगों ने विरोध प्रकट किया? किस किसने संबंधित विभागों को सूचना दी या भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो में तथा पुलिस मेें कोई शिकायत की?  स्वायत शासन निदेशालय में क्या कोई पत्र लिखा?यदि कुछ भी नहीं किया है तो वे लोग अध्यक्ष पद के लिए काबिल कैसे माने जा सकते हैं? 

यहां पर एक और कार्य है जो नगरपालिका का तो नहीं है लेकिन जनता के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है उसमें महानुभावों ने क्या किया है?  जलदाय विभाग जो पानी गंदा दे रहा है उसको रोकने रुकवाने के लिए संबंधित चुनाव लड़ने वाले व्यक्ति ने कभी कुछ किया है या नहीं किया है? 

यहां पर अनेक लोग अपनी समाज सेवा का बखान कर सकते हैं लेकिन उन सेवाओं का नगर पालिका के पार्षद और चेयरमैन चुनाव से किसी प्रकार का संबंध नहीं होना चाहिए? आजकल पर्यावरण के नाम पर भी लोग 2-4 पौधे लगा कर फोटो खिंचा कर खुश हो रहे हैं कि नगर पालिका चुनाव में अपनी हिस्सेदारी किसी न किसी तरीके से पेेश कर चुनाव लड़ेंगे।  बहुत से ऐसे कार्य हैं जिनमें फोटो खिंचवाने और प्रचार करना आसान है वे सभी कार्य किए हैं लेकिन मुख्य कार्य नगरपालिका के जो उपर वर्णित हैं उनमें कितने कार्य किए गए हैं?००

तुम्हारी एक झलक ही लुभा गई- कविता-करणीदानसिंह राजपूत.


तुम्हारी एक झलक ही लुभा गई,
फिर से आओ,उस रूप में तुम।


लाल टी शर्ट अच्छा फबता है,
गुलाबी भी तुम पर जचता है,
हरे की हरियाली भाती है।
तुम्हारे गौर वर्ण पर ।
निखर जाते हैं हर रंग
तुम टीशर्ट में स्टुडेंट लगती
दिल में चली आती हो।


काला टीशर्ट नहीं लगता
बदन पर अच्छा,
गौरे रंग पर काला तिल
नजर लगने से बचाता है।
ठोड़ी गाल गर्दन पर
कहीं बनाती रहो तिल।


तुम अभिनय करो
तुम गीत गाओ
तुम नृत्य में लुभावो
मुझे हर रूप सुहाना लगता है
आओ, देरी न करो
दिल में समाओ।


झुलसाती गर्मी में
पसीना पोंछती और
सर्दी की शीत लहर में
टोपी लगाई तुम सुंदर
दिख ही जाती हो।


ऊंची छत पर तुम
चहलकदमी करती
चांदनी में जब
नजर आती हो
सुंदर बहुत सुंदर।


तुम्हारी एक झलक ही लुभा गई,
फिर से आओ,उस रूप में तुम।


*****

करणीदानसिंह राजपूत,
विजयश्री करणीभवन, सूर्यवंशी स्कूल के पास,मिनी मार्केट, सूर्योदय नगरी।
सूरतगढ़ ( राजस्थान)
9414381356.
************

शुक्रवार, 6 सितंबर 2019

सूरतगढ़ व गंगानगर निर्वाचन नामावली के संबंध में दिशा निर्देश

श्रीगंगानगर, 6 सितम्बर 2019.

जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा नगरीय निकायों के निर्वाचन संबंधी निर्वाचन नामावली के संबंध में विभिन्न गतिविधियों के लिये दिशा निर्देश जारी किये गये हैं।

 निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी  गंगानगर व सूरतगढ द्वारा 6 से 10 सितम्बर तक प्रगणन द्वारा भौतिक सत्यापन व वंचित व्यक्तियों के नाम जोड़ने, 11 सितम्बर को भौतिक सत्यापन के आधार पर प्रपत्र  अ  शुद्ध करके ई-सूची पर अपलोड करना, 12 सितम्बर को प्रमाण पत्र डीईओ को भेजना, 14 सितम्बर को निर्वाचन नामावली का प्रारूप प्रकाशन, इसी दिन 11 बजे नोटिस बोर्ड पर चस्पा करना, 3 बजे तक मतदान केन्द्र एवं वार्ड वाईज सूची चस्पा करना तथा प्रगणक मतदाता सूची के साथ उपस्थित रहकर पठन करना, 15 सितम्बर को विशेष अभियान के दिन प्रातः 9 से सायं 6 बजे तक मतदान केन्द्र खुला रहेगा तथा प्रगणक मतदाता सूची व आवश्यक फार्मों के साथ उपस्थित रहने के निर्देश दिये है। 23 सितम्बर तक दावे पेश करने की अंतिम तिथि, 30 सितम्बर तक दावे व आक्षेपों का निस्तारण , 30 सितम्बर से 14 अक्टूबर तक पूरक सूची की तैयारी तथा 18 अक्टूबर को अंतिम प्रकाशन किया जायेगा। 



मंगलवार, 3 सितंबर 2019

राजस्थान:निजी वाहनों पर नहीं होगा कोई नाम,पद,जाति,चिन्ह आदि.आदेश जारी

*राजस्थान के गृह विभाग ने आदेश पर*

सभी जिला SP को राजस्थान पुलिस मुख्यालय से आदेश जारी हुए।

यह प्रतिबंध संगठन, पद, भूतपूर्व पद, स्वयं का नाम, गांव का नाम, विभिन्न चिन्ह आदि के इस्तेमाल पर लगाया गया है।

नागरिक अधिकार संस्था की मांग पर यह आदेश जारी हुए हैं। पुलिस ट्रेफिक पुलिस कैसे पालन करेगी। इसकी प्रतीक्षा रहेगी। 


(विदित रहे कि मोटर व्हीकल एक्ट में पहले से ही है। वाहनों पर नम्बरों के अलावा कुछ भी नहीं लिखा जा सकता। लाल पट्टी भी नहीं। कानून की मानें  तो वाहन रखने का स्थान हो तभी रजिस्ट्रेशन नं होता है। लेकिन सच्च कुछ और है। वाहन सड़कों पर खडे़ किए जाते हैं। 16 फुट तक की सड़क पर तो खड़ा ही नहीं कर सकते।)




 


सोमवार, 2 सितंबर 2019

राजस्थानी रामलीला मंचन सारू भूमि पूजन अर धजा थरपणा


सूरतगढ़ 2 सितंबर 2019.

सूरतगढ  मायड़ भासा राजस्थानी लोककला रंगमंच री ओर सू खेलीजण वाळी राजस्थानी रामलीला रै मंचन सारू भूमि पूजन अर धजा थरपणा करीजी ।   

वार्ड 4 में करणीमाता मिंदर परिसर मांय गणेश चौथ रे मौके पर ओ आरोजन हुयो । इण मौके पर समिति रा संरक्षक रामेश्वरदास स्वामी , ओम प्रजापत , पार्षद सुरेन्द्रसिघ राठौड़ , अध्यक्ष ओम साबणिया , अशोक बतरा , इमीलाल प्रजापत , कृष्णशर्मा , कमला गोदारा , गंगादेवी स्वामी , मोहनी शर्मा , इंदरादेवी , डूंगरराम गेदर ,  पवन सोनी , राजस्थानी रामलीला के सृजक मनोजकुमार स्वामी , अमित कल्याणा , रवि देरासरी , अंकित साबणिया , निखिल स्वामी , कमल , प्रदीप , प्रशान्त , सोनू नायक , हनुमान पुरी आदि वार्डवासियो सहित मंच के कलाकारो नें भाग लिया । ध्वज थरपणा पं महावीर भोजक नें पूजा अरचना कर करवाई । राजस्थानी साहित्यकार मनोजकुमार स्वामी बतायो कै , देस मांय मायड़ भासा रै आन्दोलन री कड़ी मांय राजस्थानी रामलीला रै मंचन रो ओ लगोतार चौथो बरस है । आज से रामलीला रो अभ्यास सरू हुगयो अर 29 सितम्बर नें रामलीला रो मंचन सरु हुसी । जिको दसहरै तांई चालसी ।


रविवार, 1 सितंबर 2019

पत्रकार करणीदानसिंह राजपूत के पुत्र व पुत्रवधु रवि-साक्षी अमेरिका पहुंचे


*रविप्रतापसिंह और पत्नी साक्षी अमेरिका पहुंचे.*

सूरतगढ़ 2 सितंबर 2019.सीनियर सोफ्टवेयर इंजीनियर रविप्रतापसिंह एक प्रोजेक्ट पर अध्ययन के लिए अमेरिका गए हैं। रवि Fiserv (इंडिया) में सीनियर सोफ्टवेयर इंजीनियर हैं। अमेरिका के न्यूजर्सी स्टेट के शानदार लोकेशन  पारसीपैनी में रहेंगे। रवि की पत्नी साक्षी अरोरा भी अमेरिका साथ गई हैं। साक्षी भी सोफ्टवेयर इंजीनियर है।

*************

बदले गए कुछ राज्यों के राज्यपाल,कलराज को मिला राजस्थान का कार्यभार

1 सितंबर क्ष2019.


* देश के कुछ राज्यों में राष्ट्रपति ने बड़ा फेर बदल करते हुए  राज्यपालों का तबादला कर दिया गया है*

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कई राज्यपालों का तबादला किया है साथ ही कुछ को नया नियुक्त किया गया है।

 राजस्थान में कलराज मिश्र को राज्यपाल नियुक्त किया गया है। इससे पहले तक वह हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल हुआ करते थे।


हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के रूप में नियुक्त होने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय: मैं पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का आभारी हूं। उन्होंने मुझे हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल के रूप में यह जिम्मेदारी दी है और मैं संविधान के अनुसार काम करूंगा।


 महाराष्ट्र में भगत सिंह कोश्यारी को राज्यपाल बनाया गया है। 

 आरिफ मोहम्मद को केरल का राज्यपाल बनाया गया हैं। 

तमिलसाईं सौदरराजन को तेलंगाना के राज्यपाल के तौर पर कमान सौंपी गई है।

इससे पहले सौंदरराजन तमिलनाडु भाजपा की प्रदेश अध्यक्ष थी। 


कांग्रस छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे आरिफ खान

 आरिफ खान ने तीन तलाक को गौरकानूनी घोषित करने के फैसले पर केंद्र सरकार के फैसले का समर्थन किया था साथ ही अनुच्छेद 370 पर भी उन्होंनें केंद्र सरकार के फैसले का साथ दिया था।आरिफ खान कांग्रेस में दो बार, जनता दल और बसपा से एक-एक बार लोकसभा सदस्य रह चुके हैं। 2004 में वह भाजपा में शामिल हो गए थे। 2007 में उन्होंने भाजपा छोड़ दी थी। इसके बाद उन्होंने संसदीय राजनीति से दूरी कर ली थी।  


कौन है कलराज मिश्र ?

कलराज मिश्र कुछ समय पहले तक हिमाचल के राज्यपाल हुआ करते थे। कलराज राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ पूर्णकालिक प्रचारक भी रह चुके हैं। केंद्र और यूपी सरकार में वह कैबिनेट मंत्री भी थे। वर्ष 2010 से 2012 तक वह प्रदेश भाजपा के प्रभारी रहे। पिछले लोकसभा चुनाव के वक्त भाजपा के प्रभारी थे। वह तीन बार राज्यसभा सांसद और एक बार देवरिया से लोकसभा सदस्य भी रहे। 


भगत सिंह कोश्यारी 

भगत सिंह कोश्यारी का जन्म 17 जून 1942 को उत्तराखंड के बागेश्वर जिले स्थित नामती चेताबागड़ गांव में हुआ था। वह उत्तराखंड के बड़े नेता हैं। जब उत्तर प्रदेश से अलग होकर उत्तराखंड़ बना तो कोश्यारी को ही राज्य का पहला प्रदेशाध्यक्ष बनाया गया था। 2001 से लेकर 2002 तक वह राज्य के मुख्यमंत्री रहे। फिर 2002 से लेकर 2007 तक उन्होंने विपक्ष के नेता के तौर पर जिम्मेदारी निभाई थी। बता दें कि वह पत्रकार और शिक्षक भी रहे हैं। 2008 से 2014 तक वह राज्यसभा सांसद भी रहें। 


कौन हैं बंडारू दत्तात्रेय 


बंडारू दत्तात्रेय भारतीय जनता पार्टी की संयुक्त आंध्र प्रदेश इकाई के अध्यक्ष रह चुके हैं। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान वह श्रम और रोजगार मंत्री थे। वर्ष 1965 में उन्होंने आरएसएस ज्वाइन कर ली थीं। आपातकाल के वक्त वह जेल भी गए थे। 


यह ब्लॉग खोजें