सोमवार, 19 अगस्त 2019

अलगाववादी को पाबंदी में दी फोन-इंटरनेट की सर्विस! बीएसएनएल के दो अधिकारी सस्पेंड


नई दिल्ली | 19 अगस्त 2019.

जम्मू और कश्मीर प्रशासन ने राज्य में पाबंदी के दौरान अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी को फोन व इंटरनेट सर्विस उपलब्ध कराने के मामले में बीएसएनएल के दो अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है।

 खबरों के अनुसार हुर्रियत नेता गिलानी के पास राज्य में पाबंदी के दौरान 4 दिन तक इंटरनेट सेवा उपलब्ध थी।

केंद्र सरकार की तरफ से जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किए जाने और केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने की घोषणा के एक दिन पहले ही राज्य में सभी प्रकार की संचार सेवाओं पर रोक लगा दी गई थी। इन तमाम पाबंदियों के बावजूद कट्टरपंथी नेता सैयद अली शाह गिलानी का लैंडलाइन के साथ ही ब्रॉडबैंड सुविधा 8 अगस्त की सुबह तक बहाल थी।


जब गिलानी ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया तब प्रशासन को इस बात की जानकारी मिली कि अलगावादी नेता सैयद अली शाह का इंटरनेट कनेक्शन बहाल है।  केंद्र सरकार का कहना था कि इन ट्विटर अकाउंट के जरिये घाटी में नफरत फैलाई जा रही है।

प्रशासन की तरफ से इस बात की जांच की जा रही है कि जब किसी के लिए भी इंटरनेट उपलब्ध नहीं था तब गिलानी को इंटरनेट एक्सेस कैसे मिला। इस संबंध में कार्रवाई करते हुए सरकारी दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनी बीएसएनएल ने अपने दो अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है।

लूपहोल सामने आने के बाद गिलानी का इंटरनेट कनेक्शन बंद कर दिया गया था। 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें