रविवार, 18 अगस्त 2019

महिला जनप्रतिनिधि स्वयं कार्य करें - पटवारी व ग्रामविकास अधिकारी मुख्यालय पर 9 से 6-30 तक काम करें



20 सूत्री कार्यक्रम के लक्ष्यों को पूरा करे : शिक्षा राज्यमंत्री


श्रीगंगानगर, 17 अगस्त 2029. शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि ग्राम स्तर पर सेवारत पटवारी व ग्राम विकास अधिकारियों को मुख्यालय पर रहकर प्रतिदिन प्रातः 9 बजे से सायं 6.30 बजे तक कार्यालयों में उपस्थित रहना होगा। उन्होने कहा कि ग्राम स्तर के कर्मिक एक प्रमुख कड़ी हैं। 

श्री डोटासरा ने कलैक्ट्रेट सभाहॉल में 20 सूत्री कार्यक्रम की समीक्षात्मक बैठक में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर के कार्मिक मुख्यालय पर नही रहेंगे तो, जो विकास का सपना हम देख रहे हैं वह पूरा नहीं  होगा। उन्होने कहा कि ग्राम स्तर के कार्मिकों का नियमित निरीक्षण किया जाए तथा ग्राम पंचों से उपस्थिति के संबंध में फीडबैक लिया जाए। उन्होंने कहा कि चुनी हुए महिला जनप्रतिनिधियों तथा राजकीय सेवा में सेवारत महिला कार्मिक स्वयं ही अपने कार्य को पूरा करें तथा वे सक्षम भी है, लेकिन कई स्थानों पर महिलाओं के पति कार्य करते हैं  या कार्य में दखलांदाजी करते हैं जो उचित नही है। उन्होने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा में मेट को रोटेशन के अनुसार लगाए, अगर प्रशिक्षण की आवश्यकता है, तो उन्हे प्रशिक्षित किया जाए। 

राज्यमंत्री श्री डोटासरा ने कहा कि सम्बल ग्राम योजना के तहत जो 1409 गांव चिन्हित है, उनमें योजना के अनुसार मूलभूत सुविधाएं विकसित की जाए। ये वो गांव है, जिनमे सर्वाधिक अनुसूचित जाति के परिवार निवास करते है। उन्होंने  कहा कि अधिकारी जनप्रतिनिधियों के सम्पर्क में रहे तथ विकास से संबंधित कार्यो में किसी तरह का विलम्ब नहीं  होना चाहिए। उन्होने पर्यावरण की रक्षा के लिए अधिक से अधिक पौधे लगाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के इस कार्य में आमजन की भागीदारी भी होनी चाहिए। उन्होने कहा कि जिन वृद्धजनों की पैंशन बंद है, उसे चालू की जाए तथा जो पात्र है, उनके नये आवेदन प्राप्त किए जाएं।  उन्होंने जिले में संचालित वृद्धाश्रम का लगातार निरीक्षण करने व उनकी सुविधाओं का ध्यान रखने के निर्देश दिए। 

उन्होंने कहा कि इन केन्द्रों में पीड़ित मानव की सेवा होती है , उन्हें और उसे और बेहतर बनाना है।

श्रीर डोटासरा ने जिले में विद्युत आपूर्ति नियमित रखने, खराब मीटरों को बदलने तथा विद्युत छिजत में कमी लाने के निर्देश दिए। 

उन्होंने कहा कि शिक्षण कार्य में लगे शिक्षकों, प्रधानाचार्यो से शिक्षा का कार्य ही लिया जाए। किसी कार्यालय में कार्मिकों के अभाव में कार्य प्रभावित हो रहा हो तो मंत्रालयी कार्मिकों  की सेवा ली जाए। उन्होंनेे कहा कि माननीय मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप अधिकारी जनता की समस्याओं को सुने तथा उसका समाधान करने का पूरा प्रयास करें।  हमारा दायित्व है कि हम जनता की आशाओं पर खरे उतरें।  उन्होने स्वीकृत विकास कार्यो को पूर्ण करने तथा पूर्ण कार्यो की यूसी व सीसी जारी करने में विलम्ब न करने के निर्देश दिए। 

गंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड़ ने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा में श्रमिकों को पूरी मजदूरी मिले, इसके लिए अधिकारी उनसे टॉस्क पूरा करवाए। उन्होंने शहर में सीवरेज कार्यो में तेजी लाने का सुझाव दिया। श्री गौड ने कहा कि सीवरेज के अधूरे कार्यो से आमजन को परेशानी हो रही है, जो सड़के, नालियां अधूरी है, उन्हे पूरा किया जाए। 

सादुलशहर विधायक श्री जगदीश जांगिड ने सुझाव दिया कि महात्मा गांधी नरेगा में जो मेट लम्बे समय से चल रहे है, उन्हे बदला जाए। मेट के नये पेनल के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाए। उन्होने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत राशन गांव में ही बांटने का आग्रह किया। उन्होने विद्युत आपूर्ति तथा विद्युत ट्रिपिंग की समस्या भी बैठक में रखी। 

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने बताया कि 20 सूत्री कार्यक्रम में रोजगार सृजन के लिए 22 लाख के  विरूद्ध 45 लाख रूपये की राशि युवाओं को उपलब्ध करवाई गई है। जिले में महिला समूहों का गठन किया जाकर उन्हें बैंको से वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई गई है। जिले में आयोजित रात्रि चौपालों में पात्र  नागरिकों को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा का लाभ दिया जाता है। जो आवेदन पत्र लम्बित हैं उनका निस्तारण विकास अधिकारियों के माध्यम से करवाया जाएगा। प्रधानमंत्री आवास निर्माण में जिला राज्य में प्रथम स्थान पर है। 

जिला कलक्टर ने बताया कि वृक्षारोपण के कार्यक्रम आयोजित कर पौधे लगाने का कार्य वन विभाग के अलावा शिक्षा विभाग तथा अन्य विभागों द्वारा किया जा रहा है। गरीब परिवारों को बिजली उपलब्ध करवाने के 1071 के लक्ष्य के विपरित 1462 गरीब परिवारों को बिजली दी गई है।

पुलिस अधीक्षक हेमन्त शर्मा ने जिले की कानून व्यवस्था की जानकारी दी। 

बैठक में सूरतगढ विधायक  रामप्रताप कासनिया, मुख्य कार्यकारी अधिकारी सौरभ स्वामी, एडीएम प्रशासन  ओ.पी. जैन, एडीएम सतर्कता राजवीर सिंह, उपवन संरक्षक पयोंग शशि, विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियन्ता  के.के. कस्वा, सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियन्ता सुशील बिश्नोई, पेयजल विभाग के अधीक्षण अभियन्ता बलराज शर्मा सहित विभिन्न विभागों अधिकारी उपस्थित थे। 

----------




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें