बुधवार, 21 अगस्त 2019

ईमित्रा पर 10 हजार रू.जुर्माना-अधिक वसूली पर कार्रवाई

* जिला प्रशासन ने किया इसे स्थायी रूप से किया बंद*

श्रीगंगानगर, 21 अगस्त 2019.

जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद नकाते ने एक आदेश जारी कर ई-मित्रा सेवाओं के बदले निर्धारित से अधिक राशि वसुलने एवं आमजन को गुमराह करने पर दण्ड स्वरूप 10000 रूपये की राशि व शास्ति आरोपित करते हुए जे.के. कमर्शियल ई-मित्रा केन्द्र कियोस्क को स्थाई रूप से बंद कर दिया गया।

श्रीगंगानगर शहर की एक छात्रा द्वारा जिला कलक्टर को प्रार्थना पत्र देकर जे.के. कमर्शियल ई-मित्रा केन्द्र के विरूद्ध एम.ए का आवेदन पत्र भरते समय ओबीसी प्रमाण-पत्र की गलत जानकारी भरना तथा स्पोटर्स कोटे का प्रमाण पत्र न लगाने का आरोप लगाते हुये शिकायत दर्ज करवायी गई। 

        जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने शिकायत की जांच एसीपी (उपनिदेशक) सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग द्वारा करवाई गई। विभाग द्वारा जिला कलक्टर को जानकारी उपलब्ध करवाई गई जिसके तहत जे.के.कमर्शियल ई-मित्रा केन्द्र द्वारा ऑनलाईन फार्म भरने के प्रति फार्म 100 रूपये लिये जा रहे थे, जबकि इसकी निर्धारित शुल्क राशि 40 रूपये प्रति आवेदन पत्र है, साथ ही दस्तावेज की जांच करने पर कियोस्क संचालक द्वारा शिकायतकर्ता के ओबीसी के पुराने प्रमाण पत्र के जारी करने की तिथि को बदल कर भरा गया, जिसके कारण शिकायतकर्ता छात्रा को महाविद्यालय में एडिमिशन नही मिल पाया। इसके अलावा कियोस्क द्वारा बिजली के बिलों को तुरंत ऑनलाईन भरकर रसीद देने के बजाय मोहर लगाकर दिया जा रहा था, जिसे विभाग द्वारा जब्त कर लिया गया। 

       सूरतगढ़ में अधिक वसूली और बिजली बिलों की ओन लाईन नहीं भरने और मोहर लगाकर देने वालों पर कार्यवाही की आवश्यकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें