शनिवार, 13 जुलाई 2019

ईओ राकेश मेंदीरत्ता सस्पेंड- हनुमानगढ़ डाक मतपत्र मामला

 विधानसभा चुनाव 2018 में हनुमान गढ डाक मतपत्रों पर स्टांप लगाने संबंधी प्रकरण की विभागीय जांच के चलते राकेश मेंदीरत्ता को  निलंबित किया गया है। राकेश मेंहदीरत्ता हनुमानगढ़ नगर परिषद में आयुक्त पद पर नियुक्त थे। स्वायत शासन विभाग ने शुक्रवार 12-7-2019 को आदेश जारी किया था। विधानसभा चुनाव 2018 के दौरान अनाधिकृत रूप से डाक मतपत्रों पर स्टांप लगाने संबंधी शिकायतें 10 दिसंबर 2018 को जिला निर्वाचन अधिकारी हनुमान गढ को मिली थी जिसकी उपखंड मजिस्ट्रेट एवं रिटर्निंग अधिकारी ने जांच की थी। उसमें प्रथम दृष्टया तत्कालीन आयुक्त राकेश मेहता को लिप्त पाए जाने पर निलंबित कर दिया गया था। 

राकेश मेंहदीरत्ता ने उक्त आदेश को अधिकार क्षेत्र से बाहर बताते हुए जोधपुर हाई कोर्ट में याचिका लगाई।  उच्च न्यायालय ने 10 दिसंबर 2018 के जिलाधिकारी के आदेश को अधिकार क्षेत्र से बाहर बताते हुए 6 फरवरी 2019 को अपास्त कर दिया था। 

इस प्रकरण का स्वायत शासन विभाग के विधि विशेषज्ञों ने परीक्षण कर किसी प्रत्याशी के पक्ष में मतदान कराने के गंभीर आरोपों को देखते हुए मेंदीरत्ता को निलंबित करने की राय दी। इसके आधार पर हनुमानगढ़ नगर परिषद के तत्कालीन आयुक्त राकेश मेंदीरत्ता हाल अधिशासी अधिकारी नगर पालिका राजगढ़ जिला चुरु को स्वायत्त शासन विभाग ने निलंबित कर दिया।

विदित रहे कि 10 दिसंबर 2018 को हनुमानगढ़ टाउन की धान मंडी स्थित दुकान पर डाक मतपत्र मिले थे। जिसको लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि आयुक्त राकेश मेहदीरत्ता ने भाजपा उम्मीदवार के पक्ष में मतदान कराने के लिए डाक मतपत्र वहां मंगवा कर स्टांप लगाए। जहां डाक मतपत्र मिले थे वह दुकान राकेश मेंदीरत्ता के पुत्र की थी। इस मामले में टाउन थाने में मामला दर्ज कराया गया था। 

******




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें