मंगलवार, 25 जून 2019

आपातकाल लोकतंत्र सेनानी सम्मान फाईलों पर कलक्टर गंगानगर कार्रवाई नहीं करता, लोकतंत्र रक्षकों के प्रति अलोकतांत्रिक रवैया।


सूरतगढ़ 25 जून 2019.
आपातकाल 1975 का विरोध कर देश में फिर से संविधान और लोकतंत्र स्थापित करने वाले देशभक्तों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकतंत्र रक्षक बताते हुए सराहना की है,वहीं श्री गंगानगर के जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने अपनी मनमर्जी और अलोकतांत्रिक रवैया अपनाते हुए लोकतंत्र सेनानियों की फ़ाइलें काफी महीनों से रोक रखी है जिससे उन्हें लोकतंत्र सेनानी का सम्मान मिलने में बाधा आ रही है। 
लोकतंत्र रक्षा सेनानी संघ राजस्थान के संयोजक करणी दान सिंह राजपूत ने आरोप लगाया है कि जिला कलेक्टर को बार-बार पत्रों से आग्रह करने के बावजूद भी फाइलों के निस्तारण के लिए बैठक आयोजित नहीं की जा रही है।
राजपूत ने कहा कि श्रीगंगानगर कलेक्टर के पास केवल 10 पत्रावलिया हैं,जिसमें एक आवेदक का सम्मान लिए बिना निधन हो गया है और इनमें भी 4 आवेदन महिलाओं के हैं, जिनके पति संसार छोड़ गए। आवेदकों की आयु भी 70 से 85 साल की है। 
पिछले 6 माह में एक बार भी इन पत्रावलियों पर जिला कलेक्टर ने गौर नहीं किया। 
राजपूत ने कहा है कि आपातकाल में लोकतंत्र की रक्षा करने वालों के दस्तावेजों में जेल अवधि का प्रमाण पत्र और पुलिस का वेरिफिकेशन हो चुका है। इसके बाद में केवल जिला कलेक्टर को बैठक आयोजित करनी है जिसमें दो अन्य सदस्यों में जेल अधीक्षक और समाज कल्याण अधिकारी हैं। यह कुछ दिनों में सम्पन्न होने वाला कार्य है तथा फाईलें भी कम हैं।
जिला कलेक्टर को अनेक पत्र दिए जा चुके हैं लेकिन उन्होंने किसी भी पत्र का उत्तर भी नहीं दिया है। 
राजपूत ने कहा कि लोकतंत्र सेनानियों में सीआरपीसी में बंद रहे लोगों को भी शामिल किए जाने की अधिसूचना  राजस्थान की भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने सन दो हजार अट्ठारह में की उसके बाद अनेक जिलों में लोकतंत्र सेनानी सम्मान और सम्मान निधि मिलने लगी है। श्रीगंगानगर कलेक्टर ने अपने अलोकतांत्रिक रवैया से फाइलें रोक रखी है,जबकि वर्तमान सरकार कांग्रेस की है और उसने किसी भी प्रकार की रोक नहीं लगाई है और ना ही फाइल रोकने का कोई निर्देश जिला कलेक्टर आदि को दिया है। कांग्रेस के राज में भी अन्य जिलों में कार्य हुआ है लोकतंत्र सेनानी सम्मान और सम्मान निधि प्रदान की गई है अन्य जिलों के दस्तावेज आदि के फोटो व सूचनाएं जिला कलेक्टर श्री गंगानगर को भिजवाई जाती रही है, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने लोकतंत्र सेनानी सम्मान की पत्रावलियों को आगे कार्यवाही करते हुए निस्तारित नहीं किया।
राजपूत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व अनेक नेता गण लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करते हैं इसी तरह से श्रीगंगानगर जिला कलेक्टर को भी प्रजातंत्र का सम्मान करते हुए आपातकाल लोकतंत्र सेनानियों की पत्रावलियों पर कार्यवाही करते हुए सम्मान दिया जाना चाहिए, ताकि जिला मुख्यालय के स्वतंत्रता दिवस समारोह 2019 में वे भी ससम्मान भाग ले सकें। 
******
मैं आपातकाल में जेल में सवा चार माह तक रहा था। अखबार सेंसर, जब्त हुआ।
सूरतगढ़ में 26 -6-1975 को विरोध में सभा हुई।
****
करणी दानसिंह राजपूत,
पत्रकार,
सूरतगढ़।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें