रविवार, 19 मई 2019

श्रीगंगानगर-निहाल चंद की जीत पक्की- क्यों और कैसे-


-- करणीदानसिंह राजपूत --

श्रीगंगानगर संसदीय क्षेत्र में 2014 से 2019 की अवधि में सांसद निहाल चंद द्वारा अनेक विकास कार्य करवाने, रेलों  का विस्तार करवाने के बावजूद अनेक लोग नाराज रहे। सन 2019 के चुनाव में विरोध के बावजूद भाजपा की टिकट मिली और अब जीत पक्की होने की उम्मीद भी पक्की मानी जा रही है। अखबारों में समाचार और अनेक वरिष्ठ पत्रकारों ने भी जीत पक्की मानली। निहालचंद के नजदीकी पूरी पक्की जीत एक लाख वोटों से मान रहे हैं लेकिन साथ में यह चर्चा भी जोड़ते हैं कि जीत इससे कहीं अधिक वोटों से होगी।

एक और पकायत मानी जा रही है और खास नजदीकी लोगों द्वारा खास खास लोगों को चर्चा में बताया जा रहा है कि इस बार जीत के साथ मंत्री मंडल में भी आना फिर से होगा।

निहालचंद खुद अपनी जीत के लिए पूर्ण आश्वस्त हैं। चुनाव परिणाम से पहले किसी की भी जीत की घोषणा करना खांडे की धार पर चलना होता है। प्रत्याशी और उसकी पार्टी जीत की घोषणा करती है तो वह अलग बात होती है, लेकिन चुनाव की स्थिति से आकलन किया जाता है। श्री गंगानगर सीट पर भी जो अनुमान हैं वह भाजपा के निहाल चंद की जीत के हैं।

निहाल चंद की जीत 1 लाख से अधिक की मानी जा रही है, लेकिन वह और अधिक ही होगी।


सन 2014 में भाजपा के निहाल चंद को  6,58,130 वोट 38 % इंडियन नेशनल कांग्रेस के भंवरलाल मेघवाल को 3,66,389 वोट 21% मिले और जीत का अंतर 2,91,741 का रहा था। उस चुनाव में शिमला देवी नायक को भी 1,06,585 वोट 6% मिले थे।


इस बार 2019 के चुनाव में मोटे तौर पर 14,44,000 वोट डाले गए हैं। कुल 9 प्रत्याशी हैं जिनमें मुख्य टक्कर भाजपा और इंडियन नेशनल कांग्रेस के बीच ही रही है। निहाल चंद के विरुद्ध आवाजें तो चंद लोगों ने लगाई मगर उनमें अधिक दम नहीं था। वैसे भी चुनाव में निहाला कम मोदी ही हावी रहे। लोग कहते भी रहे की मोदी को फिर से पीएम बनाना है। भाजपा भी कहती रही और देश में भी यही प्रचारित किया गया कि कमल चिन्ह पर दिया वोट सीधा मोदी के खाते में जाएगा।इसलिए यह जीत मोदी की होगी। लोगों का अनुमान 1 लाख से अधिक का है, लेकिन यह जीत पिछली जीत जैसी हो सकती है।***

19-5-2019( मतदान 6-5-2019.)


 







कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें