बुधवार, 29 मई 2019

राजस्थान में पायलट को सीएम बनाने की मांग-कांग्रेस में भारी हलचल

May 29, 2019.

लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस पार्टी में हलचल काफी तेज है। पार्टी आलाकमान बड़े स्तर पर परिवर्तन की तैयारी में है। राजस्थान और मध्यप्रदेश में तो मौजूदा मुख्यमंत्री को पद से हटाने के चर्चा जोरों पर है। राजस्थान में उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट को सीएम बनाने की मांग हो रही है तो वहीं मध्य प्रदेश में मंत्रियों ने मांगा की है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को पार्टी की कमान सौंपनी चाहिए।

मध्य प्रदेश में महिला और बाल विकास मंत्री इमरती देवी और खाद्य मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर और रेवन्यू मिनिस्टर गोविंद सिंह राजपूत ने यह मांग की है। राज्य में पार्टी ने लोकसभा की 29 सीटों में से मात्र एक सीट ही जीती है। ऐसे में पार्टी में मतभेद खुलकर सामने आ रहे हैं। जिस एक सीट पर जीत मिली है वह मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुल नाथ ने हासिल की है। उन्होंने छिंदवाड़ा से चुनाव लड़ा था। लेकिन सिंधिया के करीबी मंत्री उनके समर्थन में खड़े हो चुके हैं। बता दें कि 48 वर्षीय सिंधिया ने गुना से चुनाव लड़ा था लेकिन वह हार गए।

गोविंद सिंह राजपूत ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा ‘अगर पार्टी हारे या जीते इसकी जिम्मेदारी प्रदेश अध्यक्ष की होती है। चुनाव के बाद अलग-अलग राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों ने इस्तीफा सौंप दिया है। ऐसे में कमलनाथ को भी ऐसा ही करना चाहिए। उन्होंने एक पद छोड़ना ही होगा।’

वहीं प्रद्युमन सिंह तोमर ने कहा ‘मुझे लगता है कि हमारे संगठन में राज्य का नेतृत्व करने और पार्टी का नेतृत्व करने के लिए अलग-अलग नेता होने चाहिए


राजस्थान में पायलट को सीएम बनाने की मांग


राजस्थान में सीएम गहलोत के खिलाफ पार्टी के भीतर ही आवाजें उठने लगी है। पार्टी नेताओं का मानना है सचिन पायलट को सीएम पद की जिम्मेदारी सौंपी जानी चाहिए। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सेक्रेटरी सुशील असोपा ने कहा है कि प्रदेश अध्यक्ष पायलट को सत्ता की कमान सौंपी जानी चाहिए। वहीं अपनी हार के लिए जयपुर की पूर्व मेयर ज्योति खंडेलवाल ने कमजोर बूथ मैनेजमेंट को जिम्मेदार बताते हुए शीर्ष पद पर बदलाव की बात कही है।

बता दें कि मंगलवार को सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात भी की है। राजस्थान में पार्टी ने एक भी सीट हासिल नहीं की है। वह भी तब जब कांग्रेस ने कुछ महीने पहले ही विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की है।

सुशील असोपा ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए कहा ‘आप राजस्थान में जहां पर जाएंगे आपको सिर्फ कांग्रेस ही सुनने को मिलेगा। अगर पार्टी सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाती तो चुनाव परिणाम कुछ और ही होते। जो कि उनकी पिछले पांच साल की कड़ी मेहनत को दर्शाते।’

उन्होंने कहा ‘पार्टी ने विधानसभा चुनाव में इसलिए बेहतर किया क्योंकि उन्होंने बीते कुछ सालों में पार्टी के लिए कड़ी मेहनत की। इसी का नतीजा है कि हमें विधानसभा चुनाव में जीत हासिल हुई। युवा सोचते हैं कि एक युवा को ही सीएम पद मिलना चाहिए।

बता दें कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में महज 52 सीटों पर जीत हासिल की है। राजस्थान और मध्य प्रदेश में परिणाम उनकी उम्मीद के मुताबिक नहीं रहे। कांग्रेस अध्यक्ष पार्टी के प्रदर्शन ने बेहद नाराज हैं। उन्होंने इस्तीफे तक की पेशकेश कर दी थी।

जनसत्ता ऑनलाइन



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें