बुधवार, 1 मई 2019

पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ पाएंगे तेज बहादुर यादव, नामांकन रद्द-कारण जानेंं

पीएम नरेन्द्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से मैदान में सपा प्रत्याशी का नामांकन खारिज हो गया है। 

1 म ई 2019.

सपा (समाजवादी पार्टी) के प्रत्याशी के तौर पर नामांकन करने वाले बीएसएफ के बर्खास्त सिपाही तेज बहादुर यादव मैदान में उतरे थे। लेकिन बुधवार को उनका नामांकन खारिज कर दिया गया।


क्या है कारण**

मंगलवार (30 अप्रैल) को प्रेक्षक प्रवीण कुमार की मौजूदगी में नामांकन पत्रों की जांच शुरू हुई। जांच में जिला निर्वाचन अधिकारी सुरेन्द्र सिंह यादव ने बीएसएफ से बर्खास्तगी के संबंध में दो नामांकन पत्रों में अलग अलग जानकारी पाई। इस पर तेजबहादुर को नोटिस देकर 24 घंटे में बीएसएफ से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेकर मौजूद होने को कहा था। जिसके बाद बुधवार को तेज बहादुर अपने समर्थकों के साथ जिला निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय पहुंचे।


जिला निर्वाचन अधिकारी ने दिया आदेश:

गौरतलब है कि जिला निर्वाचन अधिकारी की ओर से तेज बहादुर को कहा था कि वो बीएसएफ से प्रमाणपत्र लेकर आएं जिसमें यह स्प्ष्ट हो कि उन्हें नौकरी से किस वजह से बर्खास्त किया गया था।

*नामांकन जांच में सामने आया था।*

1.पहले नामांकन में ‘भारत सरकार या राज्य सरकार के अधीन पद धारण करने के दौरान भ्रष्टाचार या अभक्ति के कारण पदच्युत किया गया’ के सवाल पर हां में जवाब दिया और विवरण में 19 अप्रैल, 2017 लिखा है।’ 

2.दूसरे शपथ पत्र में लिखा था कि तेज बहादुर यादव को 19 अप्रैल 2017 को बर्खास्त किया गया था लेकिन भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा पद धारण के दौरान भ्रष्टाचार एव अभक्ति के कारण पदच्युत नहीं किया गया।

 

सपा की ओर से शालिनी यादव मैदान में: बता दें कि तेज बहादुर यादव का नामांकन खारिज होने के बाद से अब सपा की ओर से शालिनी यादव मैदान में हैं। 

वहीं नामांकन पत्र के नोटिस का जवाब देने के दौरान तेज के समर्थक और पुलिस के बीच बहस भी हो गई। जिसके बाद पुलिस ने तेज के समर्थकों को परिसर से बाहर कर दिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें