शुक्रवार, 10 मई 2019

सूरतगढ़ में गैंगरेप करने वाले 2राउंडअप- 8 दिन मुकदमा दर्ज नहीं किया-SHO गुलाम नबी सस्पेंड


* एसपी के आदेश से मुकदमा दर्ज हुआ*

*27 अप्रैल की घटना,1 मई काे दिनभर जसरासर थाने में रही पीड़िता, 8 काे एसपी के हस्तक्षेप से दर्ज हुआ मुकदमा*


पुलिस की लापरवाही का मामला बीकानेर के नाेखा तहसील में भी सामने आया है। पीड़िता से  सूरतगढ़, अजमेर ब्यावर में ले जाकर गैंगरेप किया गया। महिला की ओर से जसरासर पुलिस थाने में दुष्कर्म की शिकायत के बावजूद 8 दिन तक मुकदमा नहीं किया गया। लापरवाही मानते हुए एसपी ने एसएचओ अाैर एएसआई काे निलंबित कर दिया है। 


एक मई 2019 काे पीड़िता अपने परिजनों के साथ जसरासर पुलिस थाने पहुंची सूरतगढ़ में गैंगरेप करने वाले 2राउंडअप- अशोक राज में 8 दिन मुकदमा दर्ज नहीं किया-SHO गुलाम नबी सस्पेंड पुलिस काे दुष्कर्म की जानकारी दी। इसके बावजूद पुलिसकर्मियों ने मुकदमा दर्ज नहीं किया सूरतगढ़ में गैंगरेप करने वाले 2 राउंडअप- अशोक राज में 8 दिन मुकदमा दर्ज नहीं किया-SHO गुलाम नबी सस्पेंड ना ही उच्च अधिकारियों काे मामले की जानकारी दी। 

आठ मई काे पीड़िता एसपी ऑफिस पहुंची औैर परिवाद दिया तब 3 आरोपियों 1.नाेखा में थावरिया गांव निवासी महेन्द्र मेघवाल 2. श्रीडूंगरगढ़ में बिजासर निवासी रामनिवास मेघवाल और 3. चूरू में सुजानगढ़ के कातर गांव निवासी राजूराम मेघवाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

मामले की गंभीरता काे देखते हुए एसपी प्रदीपमाेहन शर्मा, एएसपी ग्रामीण राजकुमार चाैधरी 9-5-2019 काे जसरासर पुलिस थाने पहुंचे अाैर पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली।

 एसपी शर्मा ने बताया कि पीड़िता की और से दुष्कर्म की जानकारी देने के बावजूद मुकदमा दर्ज नहीं कर मामले काे दबाने का प्रयास करने पर एसएचओ गुलाम नबी और  एएसआई लूणाराम की गंभीर लापरवाही मानते हुए दाेनाें काे निलंबित कर दिया है। पीड़िता का मेडिकल बाेर्ड से मुआयना करवाया गया है। 

आराेपी रामनिवास और राजूराम काे राउंडअप कर पूछताछ की जा रही है। महेन्द्र फरार है। उसके ठिकानाें पर दबिश दी गई है। पूरे मामले की गहराई से जांच की जाएगी। 



महिला की ओर से पुलिस काे दी गई रिपोर्ट में बताया गया है कि 27 अप्रैल काे सुबह पांच बजे तीनाें आरोपियों ने उसका अपहरण कर बाेलेराे गाड़ी में डाला और पानी में नशा देकर बेहोश कर दिया। उसे अजमेर के एक हाेटल में ले गए और तीनों ने डरा-धमकाकर दुष्कर्म किया। उसके पहने हुए जेवरात भी छीन लिए। बाद में उसे ब्यावर और श्रीगंगानगर के सूरतगढ़ ले गए और हाेटलाें में रखकर दुष्कर्म किया। 

30 अप्रैल की देर रात काे उसे नौरंगदेसर में पीहर वाले मकान के बाहर पटककर फरार हाे गए। इस दौरान उसके लापता हाेने पर परिजनों की और से जसरासर पुलिस थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाई गई थी। 

********


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें