शनिवार, 6 अप्रैल 2019

राहुल गांधी के अलावा तीन गांधी भी हैं चुनाव की जंग में- कन्फ्यूज हो सकते हैं वोटर


* कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ केरल की वायनाड लोकसभा सीट से तीन और गांधी चुनाव मैदान में उतरे हैं। यहां 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे।*


6 अप्रैल 2019.


कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार अमेठी के अलावा केरल के वायनाड से भी लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। इस बार उन्हें वायनाड में अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के अलावा अपने जैसे नाम वाले उम्मीदवारों से भी चुनाव लड़ना होगा। 

वायनाड से कांग्रेस उम्मीदवार राहुल गांधी के अलावा 23 अप्रैल को मतदान से पहले राहुल गांधी, राघुल गांधी, केवी शिवप्रसाद गांधी जैसे नाम के उम्मीदवारों ने भी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर नामांकन पत्र भरा है।

कांग्रेस अध्यक्ष के बाद दूसरे राहुल गांधी केई ने किया नामांकन: दरअसल, गुरूवार को रिटर्निंग अधिकारी के सामने राहुल गांधी ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। इसके कुछ ही घंटे बाद राहुल गांधी केई (33) ने भी एक निर्दलीय उम्मीदवार तौर अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। कोट्टायम के एरुमेली गांव के निवासी राहुल गांधी केई लोक संगीत के शोधकर्ता हैं, उनके छोटे भाई का नाम राजीव गांधी केई है जो कि एक सीपीएम समर्थक हैं। इनके पिता दिंवगत कुंजुमोन एक कांग्रेसी थे और गांधी परिवार के प्रशंसकों में शामिल थे।

वायनाड से चुनाव लड़ रहे तीसरे गांधी:


 वायनाड से राघुल गांधी ने भी चुनावी मैदान में उतरने का मन बना लिया है। इसके मद्देनजर उन्होने नामांकन पत्र भी दाखिल कर दिया है। 30 वर्षीय राघुल तमिलनाडु के कोयम्बटूर से हैं। वह एआईएमके उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। राघुल के पिता कृष्णन पी एक स्थानीय कांग्रेस नेता थे जो कि बाद में अन्नाद्रमुक पार्टी में चले गए थे।  जब उनके पिता कांग्रेस में थे तब उन्होंने बेटे का नाम राघुल गांधी रखा था। इसके अलावा बेटी का इंदिरा प्रियदर्शिनी रखा गया था। 

बकौल राघुल ये उनका तीसरा चुनाव है। इससे पहले 2016 में उन्होंने तमिलनाडु विधानसभा चुनावों के दौरान कोयम्बटूर में सिंगनल्लूर सीट से चुनाव लड़ा था और 2014 में उन्होंने कोयंबटूर में निकाय का चुनाव भी लड़ा था।


वायनाड से शिवप्रसाद गांधी भी हैं उम्मीदवार: 

केरल की वायनाड सीट से केएम शिवप्रसाद गांधी भी चुनाव लड़ रहे हैं। 40 वर्षीय शिवप्रसाद त्रिशूर के रहने वाले हैं और पेशे से वो एक संस्कृत शिक्षक हैं। वे भारतीय गांधीवादी पार्टी (केरल में एक गैर-मान्यता प्राप्त पार्टी) के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं।

 उनके पिता केके मुकुंदन कांग्रेस कार्यकर्ता थे। शिवप्रसाद गांधी तीन साल पहले ही भारतीय गांधीवादी पार्टी में शामिल हुए और इसके बाद उपनाम गांधी को अपने नाम में जोड़ने का फैसला किया।

गौरतलब है कि समान नाम वाले उम्मीदवारों की वजह से अक्सर मतदाता भ्रमित हो जाता है। इसके मद्देनजर चुनाव आयोग ने पहली बार ईवीएम पर उम्मीदवारों की तस्वीरें लगाने का ऐलान किया है। बता दें कि वायनाड से 2004 के लोकसभा चुनावों में वरिष्ठ कांग्रेस नेता वीएम सुधीरन अलप्पुझा 1,009 वोटों से चुनाव हार गए थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें