सोमवार, 22 अप्रैल 2019

अमेठी सीट पर राहुल गांधी का नामांकन वैध पाया गया

22 अप्रैल 2019.

अमेठी
अमेठी सीट से लोकसभा चुनाव लड़ रहे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नामांकनसही पाया गया है। कुछ विपक्षी प्रत्याशियों ने राहुल पर नामांकन में गलत जानकारी देने का आरोप लगाते हुए आपत्ति जाहिर की थी। एक निर्दलीय प्रत्याशी ने राहुल की नागरिकता और शैक्षिक योग्यता पर सवाल उठाते हुए अमेठी से उनका नामांकन रद्द करने की मांग की थी। जांच के बाद आपत्तियों को खारिज कर दिया गया है। बता दें कि अमेठी सीट से राहुल गांधी के खिलाफ बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी को उतारा है। 
अमेठी के रिटर्निंग ऑफिसर (निर्वाचन अधिकारी) ने कहा है कि राहुल के नामांकन पत्र में कोई खामी नहीं है और उनका नामांकन वैध पाया गया है। अमेठी के रिटर्निंग ऑफिसर से राहुल के खिलाफ शिकायत की गई थी। राहुल गांधी की शैक्षिक योग्यता को लेकर उठे सवाल पर वकील केसी कौशिक का कहना है, 'मुझे नहीं पता कि राउल विंची कौन है और वह कहां से आते हैं। राहुल गांधी ने 1995 में यूनिवर्सिटी ऑफ कैंब्रिज से एमफिल किया था। मैंने उनके सर्टिफिकेट की एक कॉपी नामांकन के साथ सौंपी है।'
क्या है पूरा विवाद
निर्दलीय प्रत्याशी ध्रुवलाल ने जिला निर्वाचन अधिकारी से राहुल का नामांकन रद्द करने की मांग करते हुए आरोप लगाया था कि राहुल ने ब्रिटिश नागरिकता ली थी। उन्होंने ब्रिटेन में रजिस्टर्ड एक कंपनी के कागजातों के आधार पर यह दावा किया था। इसके साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष की शैक्षणिक योग्यता में त्रुटि का आरोप भी लगाया गया था। 
निर्दलीय प्रत्याशी ध्रुवलाल का कहना था कि उन्हें राहुल गांधी के निवास के बारे में कुछ जानकारियां मिली हैं कि वे भारतीय नहीं बल्कि दूसरे देश के नागरिक हैं। इस संबंध में काफी डॉक्युमेंट हैं। इसी पर उन्होंने आपत्ति जताई थी। राहुल गांधी के वकील राहुल कौशिक ने रिटर्निंग अधिकारी से जवाब देने के लिए समय मांगा था।
बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा राव ने सवाल उठाया कि राहुल किसी समय ब्रिटिश नागरिक बने थे या नहीं। राव ने कहा कि 2004 के चुनाव शपथपत्र के मुताबिक राहुल ने बैकऑफ्स लिमिटेड नाम की कंपनी में निवेश किया था। इस कंपनी के डॉक्युमेंट में कांग्रेस अध्यक्ष को ब्रिटिश नागरिक बताया गया है। यदि कोई भारतीय दूसरे देश की नागरिकता ग्रहण करता है तो उसकी भारतीय नागरिकता खुद समाप्त हो जाती है। इसके बाद वह भारत में चुनाव नहीं लड़ सकता।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें