मंगलवार, 16 अप्रैल 2019

सूरतगढ़ स्टेशन- नये निर्माण में खोट:


^^ करणीदानसिंह राजपूत ^^

उत्तर पश्चिम रेलवे के माडल स्टेशन 'सूरत गढ' पर इंजीनियरों की देखरेख में  करोड़ों रूपये खर्च करने के बाद भी अनेक निर्माण कार्य बेहद घटिया हुए हैं।

निर्माण सही नहीं होने, लेवल सही नहीं होने और टूट जाने के प्रमाण हैं।

मुंह तो सुंदर होना चाहिए और उसका रखरखाव भी उच्च स्तरीय होना चाहिए। लेकिन मुख्य द्वार जहां से लोगों का प्रवेश व निकास है वहां आंगन समतल के बजाय नीचे धंस चुका है।टाईल्स इंटरलॉकिंग से पहले मिट्टी को दबाया नहीं गया। अब मामूली वर्षा होने पर पानी भरता है। यात्रियों को मजबूरी में उस पानी में से गुजरना पड़ता है। सवाल यही है कि जूते चप्पल भी क्यों भीगे।

इसी प्रवेश द्वार पर ऊपर देखें तो नाम पट्ट भी टूटा हुआ दिखाई देता है। सूरतगढ़ की यह सूरत निर्माण इंजीनियरों ने और ठेकेदारों ने बना दी है। 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें