मंगलवार, 16 अप्रैल 2019

सूरतगढ में संचालित हर होस्टल/पीजी की पुलिस जांच-जांच के बिंदु सख्त-3 दिन में जांच


^^^^^ संचालक व रहने वालों का पूरा विवरण^^^^^

^^ पुलिस सत्यापन नहीं कराने वालों पर बिजली गिरेगी^^


विशेष खबर - करणीदानसिंह राजपूत*


सूरतगढ़ में छोटे बड़े बीसियों हास्टल संचालित हैं जिनमें विद्यार्थी,कोचिंग लेने वाले और विभिन्न सरकारी गैर सरकारी संस्थानों में काम करनेवाले लोग रहते हैं। इसी तरह से पेईंग गेस्ट हाऊस भी हैं। बाहरी लोगों युवाओं की तरफ से अनेक बार दंगे फसाद हुए, मारपीट हुई, डीजे का शोर गुल हुआ। पुलिस जांच की मांग उठती रही।  पुलिस और प्रशासन को ज्ञापन दिए जाते रहे, मगर जांच सिरे नहीं चढी। बीट कांस्टेबल से जांच कराने की मांग सीएलजी की बैठकों में भी होती रही। हालांकि यह काम दो तीन दिन का होते हुए भी कभी संपन्न नहीं हुआ।

सूरतगढ़ सामरिक दृष्टि से संवेदनशील है और यहां अनेक विभाग हैं,लेकिन परवाह नहीं की गई। इस कारण यहां मनमाने तरीकों से होस्टल चलाए जाते रहे। 

अब उपखंड अधिकारी रामावतार कुमावत ने इस अति महत्वपूर्ण मामले पर गौर किया है और जांच के बिंदु तय कर 3 दिन में जांच रिपोर्ट मांगी है। उपखंड अधिकारी ने सूरतगढ़ के उप अधीक्षक पुलिस को  16-4-2019 को पत्र दिया है।


--- जांच के बिंदु ---

सूरतगढ में संचालित हर होस्टल/पीजी की पुलिस जांच-जांच के बिंदु सख्त-3 दिन में जांच

1. होस्टल/पीजी व संचालक नाम व पूर्ण पता, मो0नं0 मय प्रमाण।

2. होस्टल/पीजी में रहने वालों की संख्या एवं सूची (पूर्ण पता मो0नम्बर सहित)।

3. होस्टल/पीजी संचालक द्वारा अपने होस्टल/पीजी में रहने वाले व्यक्तियों के मूल निवास, पता, रेफरेन्स, रहने की अवधि, रहने का उद्देश्य।। अध्ययनरत है तो किस संस्थान में आदि संबन्धी रिकार्ड/रजिस्टर का संधारण किया जा रहा है अथवा नहीं। मालिक द्वारा पहचानस्वरूप लिये गये दस्तावेज की जानकारी। 

4. जांच के दौरान होस्टल/पीजी में कोई बाहर के प्रतिबंधित/अनाधिकृत व्यक्ति के गैरकानूनी रूप से निवासरत होना पाया गया अथवा नहीं। 

5. होस्टल/पीजी में रहने वाले व्यक्तियों के संबन्ध में होस्टल स्वामी द्वारा थाना हाजा में दी गई सूचना एवं पुलिस सत्यापन करवाया गया है अथवा नहीं, संबन्धी विवरण।

6. होस्टल संचालक/पीजी संचालक द्वारा संचालित होस्टल/पीजी के संचालन की अनुमति के संबन्ध में टिप्पणी। 

7. संचालक स्वयं भवन का मालिक है अथवा किराये पर लिया हुआ है। भवन के मालिकाना/किराये पर लिये जाने संबन्धी दस्तावेज की प्रति रिपोर्ट के संलग्न करें। 

8. पुलिस थाना में होस्टल/पीजी के संबन्ध में संधारित रिकार्ड अथवा किसी होस्टल/पीजी की किसी प्रकार से की गई जांच /शिकायत प्राप्ति पर की गई कार्यवाही एवं पाये गये तथ्य संबन्धी विवरण।

(समाप्त)


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें