सोमवार, 29 अप्रैल 2019

सूरतगढ़-हास्टल में रहने वाले 2 व संचालक गिरफ्तार-तीनों जेल भेजे गए

 ^^ करणीदानसिंह राजपूत ^^

सूरतगढ़ 29.04.2019.

महादेव पीजी हास्टल सूरतगढ़ के संचालक 1.अमित पुत्र प्रभूराम जाति जाट पूनियां उम्र 18 साल निवासी वार्ड नं. 18 सूरतगढ़ और हास्टल में रहने वाले 2.अमन पुत्र लाधूराम पूनियां जाति जाट उम्र 24 साल निवासी पंचकोसी थाना खुईया सरवर तहसील अबोहर हाल पुराना हाउसिंग बोर्ड सूरतगढ़ व

 3. सुखदेव पुत्र दलीप कुमार जाति जाट उम्र 21 साल निवासी पंचकोसी थाना सरवर खुईया तहसील अबोहर जिला फाजिल्का पंजाब  को पुलिस ने शांति भंग में गिरफ्तार किया व उपखण्ड मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया।  उपखण्ड मजिस्ट्रेट अदालत ने प्रत्येक को 6 माह तक शांति बनाये रखने तथा वर्तमान में लोकसभा चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया।


थानाधिकारी पुलिस थाना सूरतगढ़ शहर द्वारा तीनों के विरूद्ध इस्तगासा

अर्न्तगत धारा 107-116(3)151 सीआरपीसी प्रस्तुत किया गया जिसमें आरोप का बयौरा दिया गया था।

इस्तगासे के अनुसार ओमप्रकाश पुत्र धन्नाराम जाति स्वामी उम्र 45 वर्ष सा.वार्ड नं. 18 सूरतगढ़ ने थाने में परिवाद पेश किया कि 29.04.19 को रात 2 बजे हमारे घर के आगे ये घूम रहे थे। मैने रात्रि को घूमने का कारण पूछा तो मेरे साथ बदतमिजी करने लगे। शोर शराबा सुनकर पड़ौसी उठ गये। इनको डांटा तो ये गाली गलोज पर उतारू हो गये। 

रामेश्वरलाल उपनिरीक्षक मौके पर गए।तीनों को थाने लाया गया। उपनिरीक्षक ने परिवादी से जांच कर बयान लिखे एवं दोनों पक्षों को आमने सामने करवाया तब अमन पूनीयां ने खुद को महादेव पीजी हास्टल सूरतगढ़ का संचालक व सुखदेव व अमित को अपना साथी बताया।

ये तीनों थाना परिसर में ही उपनिरीक्षक के सामने ही परिवादी ओमप्रकाश को धमकाते हुए कहने लगे कि हम रात्रि को गली में ही खड़े थे। इससे तुम्हें क्या एतराज है। उक्त तीनों शख्स उपनिरीक्षक के सामने ही परिवादी को मारने के लिये लपके व धमकी देने लगे कि थाने से बाहर निकलने के बाद तेरे को देखेंगे। उपनिरीक्षक ने समझाने की कोशिश की परन्तु नहीं माने जिस पर उपनिरीक्षक ने तीनों जनों को दफा 151 सीआरपीसी में गिरफ्तार किया। यदि गिरफ्तार नहीं किया जाता तो कोई संज्ञेय अपराध करते। उपर्युक्त तीनों गैरसायल सूरतगढ़ में हास्टल में रह रहे है तथा बाहर के लोग है,तथा रात्रि 2 बजे घूम रहे थे। 

पुलिस द्वारा इनका मेडिकल करवाया गया मेडिकल रिपोर्ट अनुसार उक्त तीनों ने शराब पी रखी थी। 

सूरतगढ़ के हास्टलों के गैर कानूनी संचालन और उनमें रहने वालों पर हुड़दंग करने व अन्य आरोप लगते रहे हैं। उपखण्ड मजिस्ट्रेट रामावतार कुमावत की अध्यक्षता में 25-4-2019 को हुई बैठक में हास्टलों की अनियमितताएं सामने आई तब सभी को सख्त हिदायत दी गई थी कि शांति व कानून व्यवस्था बनाए रखेंगे लेकिन चौथे दिन की रात को ही ऐसे हालात सामने आए।

******************




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें