सोमवार, 1 अप्रैल 2019

राजेंद्र छाबड़ा का निधन:दिल्ली एम्स में अंतिम सांस ली:


-- करणीदानसिंह राजपूत -

एपेक्स मल्टीस्पेशलिटी हास्पीटल सूरतगढ़ के सुप्रसिद्ध डा.राजेंद्र छाबड़ा का करीब 62 वर्ष की उम्र में 1 अप्रैल को दिल्ली के एम्स हास्पीटल में निधन हो गया।

डॉक्टर राजेंद्र छाबड़ा पिछले कुछ महीनों से गंभीर रोग से ग्रस्त थे। सूरतगढ़ इलाके में करीब 35 सालों से चिकित्सक के रूप में अपनी सर्वोत्तम सेवाएं देने में लगे हुए थे। 

करीब 35 वर्ष पहले सूरतगढ़ की मेन बाजार की  सब्जी मंडी के पीछे उन्होंने अपना बीकानेर हॉस्पिटल शुरू किया जो कुछ वर्ष तक वहां चलाया और उसके बाद रेलवे स्टेशन के मुख्य द्वार के पास उनके निजी भूखंड स्थल पर स्थानांतरित हुआ। कुछ वर्ष वहां रहने के बाद बीकानेर रोड पर सिद्धु सदन के पीछे बीकानेर हॉस्पिटल स्थानांतरित हुआ। 

उन्होंने अन्य चिकित्सकों के साथ मिल कर अनेक चिकित्सा सुविधाओं का एपेक्स मल्टीस्पेशलिटी हास्पीटल सूरतगढ़ शुरू किया और वहीं से अपनी सेवाएं देने लगे। बीकानेर हॉस्पिटल नाम से संस्थान बंद कर दिया गया। 

इलाके में डॉक्टर राजेंद्र छाबड़ा का महत्वपूर्ण स्थान रहा है। उनके  निधन से इलाके को बहुत बड़ी क्षति हुई है, जिसकी पूर्ति नहीं की जा सकती। सूचना है कि उनका अंतिम संस्कार कल 2 अप्रैल को सूरतगढ़ में किया जाएगा। वे निरंकारी पंथ के मानने वाले थे। वे इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पदों पर भी रहे। एक कलरफुल मेडिकल बुलेटिन भी काफी समय तक निकालते रहे थे।

राजेंद्र छाबड़ा के निधन के समाचार से सूरतगढ़ शहर में शोक की लहर है। चिकित्सालय मेडिकल स्टोर अन्य सभी जगह राजेंद्र छाबड़ा के निधन की ही चर्चाएं हैं। 

लोग सोशल साइटों पर इस दुखद समाचार पर नमन कर रहे हैं।

 डॉ राजेंद्र छाबड़ा की चिकित्सा सेवाओं को याद करते हुए हम नमन करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें