शुक्रवार, 29 मार्च 2019

मैं भी चौकीदार लिखे कपों में ट्रेनों में परोसी चाय! वेंडरों पर कार्यवाही होगी* Indian Railways ने दी सफाई, आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप

Indian Railways ने IRCTC को चेतावनी दी है। ट्रेनों में 'मैं भी चौकीदार' का लेवल लगे कप में चाय-कॉफी बेची जा रही है। इस पर IRCTC ने भी संज्ञान लिया है। 

* ट्विटर पर लोगों ने इसे 'चुनाव आचार संहिता' का उल्लंघन बताया*


 29 मार्च 2019.

मैं भी चौकीदार’ लिखे कपों में बांटी जा रही ट्रेनों में चाय। भारतीय रेलवे ने लिया संज्ञान। IRCTC को मांगनी पड़ी माफी। 

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) के लिए चुनाव आचार संहिता लागू है, लेकिन रेलगाड़ियों में ‘मैं भी चौकीदार’ वाला चाय का कप धड़ल्ले से परोसा जा रहा है। IRCTC और भारतीय रेल विभाग (Indian Railway) ने इन कपों में चाय बेचने वाले वेंडरों के खिलाफ संज्ञान लिया है। गौरतलब है कि इन कपों के ट्रेन में परोसे जाने पर ‘चुनाव आचार संहिता’ के उल्लंघन की बात कही जा रही है। जब मामला प्रकाश में आया तब चाय-कॉफी के कपों की ट्विटर पर खूब चर्चा देखने को मिल। यूजर्स इन कपों के साथ भारतीय रेलवे और चुनाव आयोग को टैग करके ट्विट करने लगे। लोगों ने पूछा- ‘क्या यह चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है?’

ट्विटर यूजर पायल मेहता के एक ट्विट के बाद भारतीय रेलवे तुरंत हरकत में आया और IRCTC से इस संबंध में जवाब तलब किया। इस संबंध में IRCTC ने माफी मांगते हुए कहा, “परेशानी के लिए खेद है, आप हमें अपनी यात्रा की डिटेल और पीएनआर नंबर मुहैया कराइए, मामले में आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।” इसके जवाब में मेहता ने लिखा, “यह आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है!!!”

मुद्दा गरम होता देख IRCTC को बाकायदा एक सफाई लिखनी पड़ी। अपने ट्वीट में IRCTC ने लिखा, “मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ‘मैं भी चौकीदार’ नाम के लेबल लगे कपों का इस्तेमाल ट्रेनों में हो रहा है, मामले की जांच की जा रही है। कपों को तत्काल प्रभाव से सेवा से हटा दिया गया है। यह जानना होगा कि कुछ ही कप प्रयोग में लाए जा रहे हैं। मामले में पैंट्री इंचार्ज से सफाई मांगी गई है। सर्विस मुहैया कराने वाले पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।” इसं संबंध में भारतीय रेलवे ने भी माना कि शताब्दी ट्रेनों में भी ‘मैं भी चौकीदार’ वाले कप होने की बात सामने आई है। इसे तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए जा चुके हैं।

गौरतलब है कि ‘मैं भी चौकीदार’ नाम के लेवल से मार्केट में कई तरह के उत्पाद देखने को मिल रहे हैं। इनमें रोजाना घरेलू इस्तेमाल की चीजें भी शामिल हैं। लेकिन, सरकारी प्रतिष्ठानों (भारतीय रेल) में चुनाव प्रचार संबंधी सामग्री मिलने की चर्चा ट्विटर पर खूब है।

(साभार जनसत्ता ऑनलाइन)






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें