मंगलवार, 12 मार्च 2019

लोकसभा चुनाव 2019: शस्त्र जमा करवाएं: असामाजिक तत्वों को पाबन्द करवाएं- जिला निर्वाचन अधिकारी

श्रीगंगानगर, 12 मार्च 2019.

जिला कलक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि चुनाव कार्यों में सभी स्तर पर बेहतर समन्वय से सफलता सुनिश्चित की जा सकती है। चुनाव जैसे महत्वपूर्ण कार्य में समयबद्ध व टीम के रूप में कार्य करना होता है। 

जिला कलक्टर मंगलवार को जिला परिषद सभाकक्ष में पुलिस अधिकारियों व चुनाव में लगे अधिकारियों की संयुक्त बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि एसडीएम व थानाधिकारी के अच्छे समन्वय से आने वाली समस्याओं का आसानी से निदान किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि चुनाव जैसे कार्यों में सभी की बराबर की जिम्मेदारी होती है। उन्हांने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जो कार्य व समय निर्धारित किया गया है, उसकी पालना करना प्रत्येक चुनाव अधिकारी का कर्तव्य है। अपने कर्तव्यों में जरा सी भी चूक से बड़ा नुकसान हो सकता है। 

उन्होंने बताया कि गंगानगर जिले की अनूपगढ विधानसभा बीकानेर संसदीय क्षेत्रा में है। अनूपगढ की ईवीएम यही तैयार होगी तथा जमा बीकानेर में होगी। इसी प्रकार गंगानगर लोकसभा में हनुमानगढ जिले की विधानसभा हनुमानगढ, संगरिया व पीलीबंगा की ईवीएम मतदान के पश्चात गंगानगर मुख्यालय पर जमा होगी। 

जिला निर्वाचन अधिकारी ने निर्देश दिये कि अधिकारियों व पुलिस के अधिकारियों को अपने क्षेत्रा के मतदान केन्द्रों का दौरा करना चाहिए। मतदान केन्द्र पर आवश्यक सुविधाएं देखनी होगी तथा संवेदनशील क्षेत्रा पर विशेष निगरानी की जरूरत रहेगी। उन्होंने कहा कि संयुक्त रूप से सघन निरीक्षण किया जाये। जिले की 6 विधानसभाओं में 1520 मतदान केन्द्र है। एक सैक्टर में टच एण्ड गो के अनुसार एक घंटे से अधिक का समय नही लगना चाहिए। अगर कही अधिक समय लगता है तो उसकी जानकारी दें। क्षेत्रा में भ्रमण के दौरान आमजन से बातचीत करें। कोई मतदाता दवाब महसूस कर रहा है तो उसको सुरक्षा देना तथा प्रभावशाली व असमाजिक तत्वों के विरूद्ध कार्यवाही की जाये। ऐसी ढाणी या परिवार, समूह के लोग किसी प्रकार का दवाब महसूस कर रहे हो, उन्हें चिन्हित करना है। 

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि लोकसभा आम चुनाव के दौरान जिले में अनुज्ञापत्र वाले हथियार शत-प्रतिशत जमा करने की कार्यवाही की जाये। बैंकों के सुरक्षागार्ड व सुरक्षा ऐजेंसियों के शस्त्राजमा नही किये जायेंगे। राजनैतिक दलो व उम्मीदवारों द्वारा किसी प्रकार की स्वीकृति के लिये तीन दिन पूर्व ऑनलाईन आवेदन करने की जानकारी दी जाये। ऑफलाईन व तत्काल परिस्थितियों में भी आवेदन पत्र लिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान सहायक रिटर्निंग अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में उम्मीदवारों को समान रूप से होर्डिंग्स साईट्स उपलब्ध करवायेंगे।

उन्होंने बताया कि अधिकारी धारा 144 की पालना सुनिश्चित करवायेंगे। मतदान केन्द्र से 200 मीटर की दूरी तक कोई भी राजनैतिक कार्यालय या पार्टी का बूथ नही होगा। पोलिंग ऐजेंट का पुलिस वेरीफिकेशन होना चाहिए। कोई भी असमाजिक तत्व को पोलिंग ऐजेंट नही बनाया जायेगा। भारत निर्वाचन आयोग ने मतदाता पर्ची को पहचान के रूप में नही माना है। मतदाता परिचय पत्र के अलावा 11 ऐसे दस्तावेज है, जो पहचान पत्र के रूप में काम में लिये जा सकते है।

जिला पुलिस अधीक्षक श्री हेमन्त शर्मा ने कहा कि चुनाव में लगे अधिकारी अतिसंवेदनशील केन्द्रों का चिन्हिकरण करेंगे। सैक्टर ऑफिसर तथा पुलिस दल का अच्छा तालमेल होना चाहिए। प्रत्येक मतदान केन्द्र पर कोई न कोई अधिकारी पहुंचता रहें, इसके लिये सभी अधिकारी एक साथ न चलें तथा रिसपोंस टाईम कम से कम होना चाहिए। थानाधिकारी इसी माह के अंत तक शस्त्रा जमा करने की कार्यवाही करेंगे। असमाजिक तत्वों को पाबन्द करने के साथ-साथ गुण्डा एक्ट के तहत असमाजिक तत्वों को जिले से बाहर भेजने की कार्यवाही की जाये, जिससे चुनाव शान्तिपूर्वक सम्पन्न हो सकें। 

बैठक में एडीएम प्रशासन श्री ओ.पी.जैन, एडीएम सर्तकता श्री राजवीर सिंह, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सौरभ स्वामी, राजस्व अपील अधिकारी डॉ. राकेश कुमार, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुश्री हरितिमा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री सुरेन्द्र सिंह, एसडीएम श्री मुकेश बारहठ सहित जिले के सहायक रिटर्निंग अधिकारियों, जिले के समस्त थानाधिकारियों ने भाग लिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें