गुरुवार, 10 जनवरी 2019

वसुंधरा राजे, शिवराज चौहान और रमन सिंह को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया।

विधानसभा चुनाव में हार के बाद  राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के तीनों पूर्व मुख्यमंत्रियों को पार्टी में नई जिम्मेदारी दी गई है।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की टीम में तीनों को शामिल किया गया है।

अब यह साफ हो गया है कि राजस्थान में वसुंधरा राजे नेता प्रतिपक्ष नहीं होगी। पार्टी अब राजे के स्थान पर किसी अन्य नेता को यह जिम्मेदारी सौंपेगी। 

इसके साथ ही प्रतिपक्ष नेता को दौड़ तेज हो गई है। आपको बता दें इससे पहले नेता प्रतिपक्ष की दौड़ में वसुंधरा राजे सबसे आगे थी।


लेकिन अब राजे को नई जिम्मेदारी मिलने के बाद भाजपा के कई नेताओं के नाम सामने आ रहे है जिनमें अध्यक्ष कैलाश मेघवाल, विधायक राजेन्द्रसिंह राठौड़ और विधायक गुलाब चंद कटारिया का नाम है।

 शुक्रवार से दिल्ली में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो रही है। उससे ठीक पहले तीनों पूर्व सीएम को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी देकर पार्टी ने अपना रुख साफ कर दिया है। जहां तक नेता प्रतिपक्ष का नाम है तो दिल्ली में ही यह नाम तय होगा और 13 जनवरी को जयपुर में विधायक दल की बैठक में नेता प्रतिपक्ष के नाम के घोषणा होने की उम्मीद है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें