शुक्रवार, 4 जनवरी 2019

कृषि मेला श्री गंगा नगर के रामलीला मैदान में 28-29 जनवरी 2019.



* किसानों को नवीन तकनीक, मार्केटिंग की जानकारी दी जायेगी*

श्रीगंगानगर, 4 जनवरी। जिला कलक्टर श्री शिवप्रसाद मदन नकाते ने कहा कि किसानों को माईक्रो ईरीगेशन के साथ-साथ विपणन की सुविधाएं देने के प्रयास किये जाये, जिससे किसान अपनी उपज का उचित मूल्य हासिल कर सकें। 

जिला कलक्टर शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में 28 व 29 जनवरी को रामलीला मैदान में लगने वाले कृषि मेला 2019 की पूर्व तैयारियों की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि किसान फसल उत्पादन के साथ-साथ डेयरी उधोग को भी अपना सकता है। माईक्रो ईरीगेशन से अधिक क्षेत्र में सिंचाई कर अच्छा उत्पादन लिया जा सकता है। जल व जमीन सीमित है। हमें अभी से ही प्रयास करने होगें कि कम पानी से अधिक उत्पादन कैसे लिया जा सकता है। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को लक्ष्य दिया कि प्रत्येक तहसील से 20-20 काश्तकारों का चयन किया जाये जो आधुनिक तकनीक के साथ-साथ भंडार प्रोसेसिंग, डेयरी, विपणन इत्यादि के कार्यों में रूचि रखते हो। 

उन्होंने कहा कि भंडारण की व्यवस्था के लिये नाबार्ड द्वारा अनुदान दिया जा रहा है। कोईकिसान आगे आकर कार्य करना चाहता है तो उसकी हर तरफ से मद्द की जायेगी। मार्केट भी उपलब्ध करवाया जायेगा तथा वितीय संसाधन भी दिये जायेगे। उन्होंने डेयरी उधोग को भी किसानों के लिये लाभकारी बताया। 

आगामी 28 व 29 जनवरी को लगने वाले कृषि मेले में किसानों को नवीनतम बीज की जानकारी देने के लिये वैज्ञानिकों को बुलाया जायेगा। जैविक खेती पर अधिक ध्यान देने, किसानों को जैविक खेती के लिये तैयार करने के प्रयास किये जाये। मेले में कृषि वैज्ञानिक गोष्ठी का आयोजन होगा, वही पर महिला काश्तकारों की भागीदारी सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये। जिले में संचालित कृषि महाविधालयों के विधार्थियों को भी एक स्टॉल दी जाये, जहां वे कृषि शोध व विस्तार की अपनी सोच को प्रदर्शित कर सकेगें। 

कृषि मेले में लगभग 90 से 100 स्टॉले लगेगी। अच्छी प्रदर्शनी वाले विभाग को पुरस्कृत किया जायेगा। मेले में फल व सब्जी की प्रतियोगिताएं होगी। उन्नत नस्ल के पशुओं की प्रतियोगिताएं होगी। प्रतिभागियों को पुरस्कृत करने के लिये विशेषज्ञों की समिति बनाई जायेगी। 

बैठक में आत्मा के परियोजना अधिकारी डॉ. जीआर मटोरिया, उपनिदेशक कृषि श्री सतीश शर्मा, कृषि अनुसंधान केन्द्र के डॉ. उम्मेद सिंह, सरस डेयरी से आरके शर्मा सहित कृषि, उद्यान, सहकारी व पशुपालन से जुडे विभागों के अधिकारियों व कृषकों ने भाग लिया। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें