सोमवार, 21 जनवरी 2019

विविधा का 25 वें स्थापना दिवस पर काव्य गोष्ठी

विविधा संस्था के 25 वें स्थापना दिवस पर रविवार 20-1-2019 शाम को नई धान मंडी स्थित लक्ष्मी नारायण मंदिर पार्क में एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया।



 गोष्ठी की अध्यक्षता प्रसिद्ध गजल गायक परमानंद दर्द ने की। 

काव्य गोष्ठी में मुख्य धूप से हिंदी और राजस्थानी की विभिन्न रसों की कविताओं का वाचन किया गया।

काव्य गोष्ठी में आकाशवाणी के कार्यक्रम अधिकारी रमेश शर्मा ने कुछ कविताएं प्रस्तुत की। उनकी एक कविता के शब्द थे 'हद हद में थी,यही बात हद को खा गई, हद बेहद सचेत थी कि इस हद को बेहद कर दें '।

परमानंद दर्द ने कविता पढ़ते हुए कहा देखिए ,'पतंगों को जो रोशनी में जलते हैं,आप तो उजालों से खामखा ही जलते हैं।,'

 इस काव्य गोष्ठी में करणी दान सिंह राजपूत,डॉ हरिमोहन सारस्वत, नंदकिशोर सोमानी, राजस्थानी के प्रसिद्ध साहित्यकार मनोज स्वामी सतीश छिंपा आदि ने कविताएं प्रस्तुत की। संस्था के अध्यक्ष योगेश स्वामी ने आभार व्यक्त किया। 

कवि गोष्ठी में डॉ जितेंद्र सिंह राठौड़ रामेश्वर दयाल तिवारी के स्वामी अन्य लोग उपस्थित थे गोष्ठी का संचालन मनोज स्वामी ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें