बुधवार, 10 अक्तूबर 2018

रामप्रताप कासनिया की जन आशीर्वाद रैली: कासनिया की हुंकार

* करणीदानसिंह राजपूत *

चुनाव घोषणा के बाद प्रथम रैली पूर्व राज्य मंत्री रामप्रताप कसनिया की 10-10-2018 की  जन आशीर्वाद रैली मे भाजपा के झंडों से सजे पंडाल में आई भीड़ ने यह साबित किया कि अभी तक की जितनी रैलियां जहां आयोजित हुई है उसमें कहीं ज्यादा भीड़ इसमें रही।

आज तक जितनी रैलियां हुई उनमें चाहे कितने भी बड़े नेता आए हों पुरानी धानमंडी का यह परिसर चौथाई भरा और आधे से अधिक कभी नहीं भरा गया । 

जनसमर्थन रैली में आज लोगों का अनुमान था कि 3 या 4 हजार लोग आएंगे। लेकिन यह अनुमान धरा रह गया और इससे दो गुणी भीड़ इस पंडाल में दिखाई दी।

 इस रैली की महता का आकंलन इससे भी किया जाना चाहिए कि महिलाओं की काफी संख्या मौजूद थी और उन्होंने एकटक मंच की ओर देखते हुए राम प्रताप कासनिया के भाषण का एक एक शब्द सुना। 

मंच पर एक और आश्चर्य या कहें एकता नजर आई कि भारतीय जनता पार्टी के लगभग पुराने चेहरे मौजूद थे।.उनमें से कईयों ने अपने वक्तव्य में रामप्रताप कसनिया को साथ देने का नारा लगाया।

 रामप्रताप कसनिया का भाषण काफी विस्तृत था उसकी चर्चा अलग से करेंगे लेकिन खुद  कासनिया भीड़ को देख कर गदगद और उत्साहित थे। यह उत्साह  भाषण में और अधिक शक्ति भर कर हुंकार बना रहा था जो भाषण में प्रगट हो रही थी। 

लोगों का एक और संशय दूर हो गया। कासनिया।चुनावों ने भारतीय जनता पार्टी की टिकट की दावेदारी का बिगुल बजा दिया। 

इस भरे पंडाल में कासनिया ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के विकास को योगदान देने के लिए वह चुनाव में उतरना चाहते हैं औरउसमें जनता का कदम कदम पर सहयोग चाहते हैं। 

कासनिया ने कहा कि अभी तक जो सर्वे हुए हैं उनमें वे ऊपर हैं और आने वाले समय में जो सर्वे होगा उसमें सभी लोग उनका समर्थन करें जिससे दावा और अधिक मजबूत होगा। 

रामप्रताप कसनिया भारतीय जनता पार्टी की सूरतगढ़ सीट के इस समय वर्तमान विधायक राजेंद्र भादू को चुनौती देने वाले  सर्वाधिक ताकत वाले टिकटार्थी हैं।

इस रैली में कुछ खासियत भी रही। भारतीय जनता पार्टी के बहुत पुराने कार्यकर्ता पदाधिकारी जो जनता पार्टी के समय के हैं वे पंडाल के मंच पर मौजूद थे। 

नगर पालिका सूरतगढ़ की पूर्व अध्यक्ष श्रीमती आरती शर्मा,भाजपा नगर पालिका के पूर्व उपाध्यक्ष वरिष्ठ वकील एन.डी.सेतिया,देहात मंडल के पूर्व अध्यक्ष नरेंद्र घिंटाला,देहात मंडल के पूर्व अध्यक्ष गुमाना राम पूनिया,सूरतगढ़ नगर मंडल के पूर्व अध्यक्ष और पूर्व पार्षद किशन भार्गव मंच पर मौजूद थे।

इनमें से आरती शर्मा, नरेंद्र घिंटाला, गुमाना राम पूनिया, किशन भार्गव आदि ने वक्तव्य भी दिए। इस मंच पर वर्तमान पंचायत समिति प्रधान बिरमा देवी बिरमा ने भी अपना वक्तव्य दिया। सभा की अध्यक्षता हेतराम तरड़  की  जिसमें पुराने कार्यकर्ता बाबू सिंह खींची भी मौजूद थे। ग्रामीण क्षेत्र के अनेक नेता कार्यकर्ता मंच पर और पंडाल में उपस्थित थे।

कासनिया ने इस जन समर्थन  रैली में जो आशा की वह पूर्ण हो गई है। 

सबसे बड़ी बात यह रही कि लोगों का यह कयास था कि भीड़ जुटाने के लिए कासनिया सूरतगढ़ से बसों का प्रबंध करेंगे लेकिन यह कयास सही सिद्ध नहीं हुआ। यह भीड़ अपने साधनों से और बसों से अपना खर्चा करके पहुंची।  यह कासनिया की बहुत बड़ी जीत मानी जानी चाहिए।

 बस इस रैली में सूरतगढ शहर के लोग आशा के अनुरूप नहीं पहुंचे। शहर में करीब 1 लाख की आबादी में करीब 60 हजार मतदाता हैं। शहरी लोगों ने रूचि क्यों नहीं ली?

इस रैली का प्रभाव आगे कितना रहेगा और भाजपा टिकट दिलाने में कितना असरदार रहेगा यह समय बताएगा।

 बताएगा,क्योंकि अभी वर्तमान विधायक राजेंद्र भादू भी अपनी ताकत दिखलाएंगे। भादू भी रैली करेंगे यह चर्चा भी चल रही थी। 

इनके अलावा कोई तीसरा आने की चर्चा भी चल रही है जो बंद नहीं हो रही।





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें